; यूपी रेरा का असर: कैलीप्सो कोर्ट की 156 यूनिट्स के OC के लिए जयप्रकाश एसोसिएट्स ने किया आवेदन
1win1.az luckyjet.ar mines-games.com mostbet-casino-uz.com bible-spbda.info роскультцентр.рф
यूपी रेरा का असर: कैलीप्सो कोर्ट की 156 यूनिट्स के OC के लिए जयप्रकाश एसोसिएट्स ने किया आवेदन

गौतमबुद्ध नगर / लखनऊ, जून 4, 2022: यू.पी. रेरा द्वारा धारा – 8 के तहत पुनर्वासित परियोजना कैलिप्सो कोर्ट के 2 टावर में कब्ज़ा देने हेतु प्रोमोटर, मेसर्स जयप्रकाश एसोसिएट्स लिमिटेड, द्वारा सम्बन्धित विकास प्राधिकरण में अधिभोग प्रमाण पत्र (ओसी) का आवेदन किया गया है। प्रोमोटर द्वारा नोएडा के सेक्टर 128 स्थित कैलिप्सो कोर्ट परियोजना के टावर सँख्या 11 व 12 के 156 इकाईयों में मौजूदा आवंटियों व नए घर खरीदारों को ओसी प्राप्त कर कब्ज़ा देने की तैयारी की जा रही है। यू.पी. रेरा की निर्माण प्रगति की समीक्षा बैठक के दौरान प्रोमोटर ने प्राधिकरण के “परियोजना सलाहकार और निगरानी समिति” (पीएएमसी) को इसकी जानकारी दी।

परियोजना से संबंधित संक्षिप्त तथ्य यह है कि कैलिप्सो कोर्ट लगभग पाँच वर्षों से रुका हुआ था और यूपी रेरा के साथ इसका पंजीकरण भी समाप्त हो गया था। परिणामस्वरूप, परियोजना के निर्माणाधीन 4 टावरों, टावर न. 7, 8, 11 एवं 12, में आवंटियों के अपने आवंटित इकाइयों का कब्जा प्राप्त करने की संभावना अधर में पड़ गई थी। “रेरा अधिनियम की धारा 8” के तहत कैलिप्सो कोर्ट के 51% आवंटियों की सहमति से प्रोमोटर, मेसर्स जयप्रकाश एसोसिएट्स लिमिटेड, को शेष निर्माण व विकास कार्य पुनः प्रारम्भ करने के सन्दर्भ में यूपी रेरा द्वारा 29 जुलाई, 2020 को “परियोजना पुनर्वास” का आदेश पारित किया गया था। परियोजना के वित्तीय व निर्माण कार्यों की निगरानी तथा यू. पी. रेरा द्वारा गठित पीएएमसी की सामयिक समीक्षा बैठकों में परियोजना प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत करने की जिम्मेदारी थर्ड पार्टी निर्माण सलाहकार मेसर्स करी एंड ब्राउन को दी गयी थी।

बैठक में निर्माण सलाहकार द्वारा अवगत कराया गया कि प्रमोटर ने टावर 11 और 12 की फायर, लिफ्ट, इलेक्ट्रिकल व स्ट्रक्चरल एनओसी के लिए मार्च व अप्रैल माह में आवेदन किया था। निर्माण सलाहकार के अनुसार वर्तमान में परियोजना के क्लब हाउस और भू-निर्माण के शेष कार्यों का निर्माण अंतिम चरण में है तथा अन्य सामान्य सुविधाओं को विकसित करने का कार्य प्रगति पर है। प्रोमोटर दोनों टावर के 156 इकाइयों के आवंटियों को शीघ्र उनकी आवंटित इकाईयां दे सकता हैं।

इससे पूर्व सभी आवश्यक मानदंडों को पूरा करने के बाद परियोजना के टावर 7 और 8 के लिए अधिभोग प्रमाणपत्र (ओसी) हेतु आवेदन जा चुका है जिसमें कुल 148 इकाइयां कब्जे के लिए तैयार है। इस प्रकार, यू.पी. रेरा के विशेष प्रयासो के परिणामस्वरूप, कैलिप्सो कोर्ट परियोजना के चारों टावर के 304 इकाईयों में लंबे समय से इंतजार कर रहे आवंटियों को कब्ज़ा दिया जा सकता है।

उ.प्र. रेरा द्वारा रेरा अधिनियम की धारा 8 के प्राविधानों के तहत किसी बंद पड़े परियोजना को रेरा के देख रेख में पुनर्वास का अधिकार देकर प्रोमोटर व आवंटियों या आवंटियों संघों द्वारा निर्माण पूर्ण कराया जाता है। वर्तमान में उत्तर प्रदेश में 13 रियल एस्टेट परियोजनाओं का पुनर्वास किया जा रहा हैं जिनमे गौतम बुद्ध नगर व गाज़ियाबाद में सम्पदा लिविया, नाईट कोर्ट, कैलिप्सो कोर्ट, एप्पल 7, नोविना ग्रीन्स, यूनीबेरा, ला-कासा अंसल एक्वापोलिस, कासा ग्रांड, ला-पैलेसिया, ला-गैलेक्सिया, स्प्रिंग व्यू हाइट्स, वसुन्धरा ग्रैंड तथा लखनऊ में प्लूमेरिया होम्स परियोजना शामिल है।

यह, संभवत:, अपने तरह का प्रथम प्रयास है जो रेरा अधिनियम के प्रावधानों के तहत देश के किसी भी राज्य द्वारा पहली बार किया जा रहा है। ऐसी परियोजनाओं, जो या तो रुकी हुई हैं या जिनका पंजीकरण समाप्त हो गया है या जिनका पंजीकरण रद्द कर दिया गया है, का शेष कार्य का विकास और निर्माण पूरा करना रियल एस्टेट सेक्टर के लिए एक पथ-प्रदर्शक कदम है। निस्संदेह, ऐसी अटकी परियोजनाओं के पुनर्वास से घर खरीदारों के हितों की रक्षा होगी और उत्तर प्रदेश के रियल एस्टेट क्षेत्र में हितधारकों का विश्वास बढ़ेगा।
यूपी रेरा की “परियोजना सलाहकार और निगरानी समिति” (पीएएमसी) द्वारा माननीय सदस्य, यूपी रेरा की अध्यक्षता में धारा – 8 के तहत पुनर्वासित परियोजनाओं की समीक्षा बैठक की जाती है। बैठक में श्री डी के सिंह, प्रोजेक्ट मैनेजमेंट कंसल्टेंट, करी एंड ब्राउन के प्रतिनिधि, यूपी रेरा द्वारा नियुक्त कंस्ट्रक्शन कंसल्टेंट, प्रमोटर और आवंटियों के संघ के प्रतिनिधि भी उपस्थित रहते है। बैठकों में यूपी रेरा की समिति द्वारा प्रोमोटर द्वारा की जा रही निर्माण व विकास कार्यों की समीक्षा करके अतिरिक्त संसाधनों को तैनात करने और प्रस्तावित योजना के अनुसार परियोजना को पूरा करने के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश दिये जाते है जिससे निर्माण कार्य समयबद्ध तरीके से पूर्ण हो एवं आवंटियों को कब्ज़ा दिया जा सके।

News Reporter
यज्ञ विजय चतुर्वेदी ने पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी करने के बाद नोएडा में वर्ष 2008 में आजाद न्यूज़ चैनल के साथ बतौर इंटर्न अपने कैरियर की शुरुआत की। इंटर्न करने के बाद आज़ाद न्यूज में इन्हें पहली नौकरी मिली। यहां पर इनके कैरियर की शुरआत पहले इंटरटेनमेंट डेस्क से हुई उसके बाद स्पोर्ट्स डेस्क देखने लगे। आज़ाद न्यूज़ के बाद, tv100, साधना न्यूज़ मध्यप्रदेश छत्तीसगढ़, कोबरापोस्ट, हरियाणा न्यूज़, NNIS न्यूज़ एजेंसी के साथ काम किया। इसके अलावा कई एजेंसियों के साथ सर्वे और रिसर्च का भी कार्य भी किया। 2016 में निजी कारणों से अपने होम डिस्ट्रिक्ट लौट आए और पत्रकारिता से एक वर्ष तक विराम लिया। उसके बाद अपने जिले से न्यूज़ वन इंडिया, सूर्या समाचार के लिए रिपोर्टिंग की। इस समय यज्ञ चतुर्वेदी अपने होम डिस्ट्रिक्ट में नेशलन स्तर कई बड़े मीडिया संस्थानों व वेबसाइटों के साथ फ्रीलांस जर्नलिस्ट के तौर जुड़कर काम कर रहे है।
error: Content is protected !!