शबरीमाला मंदिर : हिन्दू धर्म को अर्बन नक्सली और मैकाले पुत्र कर रहे हैं बदनाम

शबरीमाला मंदिर : हिन्दू धर्म को अर्बन नक्सली और मैकाले पुत्र कर रहे हैं बदनाम

On

37नई दिल्ली, 26 नवम्बर। शबरीमाला मंदिर में युवतियों के प्रवेश को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले की आड़ में केरल सरकार अय्यप्पा भक्तों पर जुल्म ढा रही है। उनके धार्मिक और मानव अधिकारों का हनन कर रही है। केरल सरकार इस बात…

शारदा लिपि पर फरीदाबाद में कार्यशाला का हुआ आयोजन

शारदा लिपि पर फरीदाबाद में कार्यशाला का हुआ आयोजन

On

48शारदा कोर कमेटी की ओर से आयोजित शारदा लिपि पर कार्यशाला में सेव शारदा कमेटी कश्मीर ने भाग पर भाग लिया। शारदा लिपि के संरक्षण के लिए इस कार्य़शाला का आयोजन हरियाणा के फरीदाबाद में  किया गया था। कार्यशाला का आयोजन शारदा कोर…

झूठे रेप केस मामलों पर खट्टर के बयान का “मेंस राइट्स एक्टिविस्ट” ने किया समर्थन

झूठे रेप केस मामलों पर खट्टर के बयान का “मेंस राइट्स एक्टिविस्ट” ने किया समर्थन

On

208नई दिल्ली। सेव इंडियन फैमिली फाउंडेशन के समन्वयक कुमार एस रतन ने सीएम मनोहरलाल खट्टर की सराहना करते हुए की वो सच्चाई के साथ खड़े हैं और सच बोलने की हिम्मत दिखाई है।उन्होंने युवा पुरुषों के मानवाधिकारों की रक्षा करने के लिए…

बाल दिवस-क्यों बदहाल एवं उपेक्षित है बचपन ? 

बाल दिवस-क्यों बदहाल एवं उपेक्षित है बचपन ? 

On

48संपूर्ण विश्व में ‘सार्वभौमिक बाल दिवस’  20 नवंबर को मनाया गया। उल्लेखनीय है कि इस दिवस की स्थापना वर्ष 1954 में हुई थी। बच्चों के अधिकारों के प्रति जागरूकता तथा बच्चों के कल्याण को बढ़ावा देने के लिए यह दिवस मनाया जाता…

भाजपा जिस मुकाम पर है, वहाँ पहुँचाने में अनन्त कुमार की भूमिका अग्रणी है

भाजपा जिस मुकाम पर है, वहाँ पहुँचाने में अनन्त कुमार की भूमिका अग्रणी है

On

72केन्द्रीय मंत्री अनन्त कुमार का अचानक अनन्त की यात्रा पर प्रस्थान करना न केवल भाजपा बल्कि भारतीय राजनीति के लिए दुखद एवं गहरा आघात है। उनका असमय  देह से विदेह हो जाना सभी के लिए संसार की क्षणभंगुरता, नश्वरता, अनित्यता, अशाश्वता का…

जलियांवाला बाग कांड पर क्यों चुप रहे थे मोहम्मद इकबाल ?

जलियांवाला बाग कांड पर क्यों चुप रहे थे मोहम्मद इकबाल ?

On

85शायर मोहम्मद इकबाल को महिमामंडित करने का रिवाज काफी अर्से से चलाया जा रहा है। ज्ञान दिया जाता है कि उन्होंने “सारे जहां से अच्छा हिन्दुस्तान हमारा” जैसा अमर तराना लिखा। हर रामनवमी के मौके पर यह भी बताने की कोशिश की जाती है…