कृषि विज्ञान केंद्र में मशरूम उत्पादन तकनीकी पर प्रशिक्षण कार्यक्रम का किया गया आयोजन

पीपीगंज/गोरखपुर।पवन पाण्डे

महायोगी गोरखनाथ कृषि विज्ञान केंद्र, चौकमाफी, पीपीगंज, गोरखपुर द्वारा मशरूम उत्पादन तकनीकी पर प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया l प्रशिक्षण की शुरुआत तथा संचालन करते हुए डॉ. संदीप प्रकाश उपाध्याय ने मशरूम का परिचय, इसका महत्व तथा लाभ के बारे में बताया साथ ही मशरूम के प्रकार एवं उसकी तकनीक तथा मशरूम उत्पादन में प्रयोग होने वाली बीज (स्पॉन) तथा माध्यम (खाद) बनाने के बारे में जानकारी प्रदान की l

किसानों को आय बढ़ाने के लिए मशरूम उत्पादन को व्यवसायिक स्तर पर पहुंचाने के बारे में बताया साथ ही ओयस्टर मशरूम, मिल्की मशरूम तथा पैड़ी स्ट्रॉ मशरूम के बारे में जानकारी दी एवं पूर्वांचल में मशरूम उत्पादन को बढ़ावा देने के बारे में किसान बंधुओं को अवगत कराया तथा बताया कि मशरूम उत्पादन तकनीकी की प्रशिक्षण कार्यक्रम पिछले 3 वर्षों से महायोगी गोरखनाथ कृषि विज्ञान केंद्र पर दिया जा रहा है l

पिछले वर्ष सितंबर माह में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण रोजगार अभियान के अंतर्गत दिए गए मशरूम उत्पादन प्रशिक्षण के उपरांत कई किसानों ने मशरूम उत्पादन की शुरुआत की है तथा अतिरिक्त आय प्राप्त कर रहे हैं एवं मशरूम उत्पादन पर गोरक्षनाथ किसान उत्पादक संगठन की स्थापना भी की जा रही है जिससे सैकड़ों किसान संयुक्त होकर मशरूम उत्पादन कर एवं उसके अन्य उत्पाद बनाकर अतिरिक्त आय कर सकेंगे । डॉ उपाध्याय ने विभिन्न प्रकार के मशरूम के आर्थिक विश्लेषण के बारे में भी विस्तृत जानकारी दी l कार्यक्रम में किसानो को संबोधित करते हुए श्रीमती श्वेता जी ने मशरूम के प्रकार एवं मशरूम में उपलब्ध पोषक तत्व मशरूम के विभिन्न व्यंजन एवं मूल्य संबंधित उत्पाद के बारे में जानकारी दी l प्रशिक्षण में डॉ अजीत कुमार श्रीवास्तव के द्वारा किसानों को मशरूम के प्रकार एवं मशरूम में उपलब्ध पोषक तत्व मशरूम के विभिन्न व्यंजन एवं मूल्य संबंधित उत्पाद के बारे में जानकारी दी l डॉ राहुल कुमार सिंह ने किसानों को आय बढ़ाने के लिए मशरूम उत्पादन को व्यवसायिक स्तर पर पहुंचाने के बारे में बताया l

प्रशिक्षण मे ई. देवाँग शुक्ला जी ने मशरूम उत्पादन, मशरूम मे लगने वाले कीटो, रोगो के बारे मे अपने अनुभव को साझा किया । प्रशिक्षण में डॉ अवनीश सिंह ने प्रवासी मजदूरों को विभिन्न प्रकार के मशरूम के आर्थिक विश्लेषण के बारे में विस्तृत जानकारी प्रवासियों को दी । डॉ संदीप प्रकाश उपाध्याय, श्री जितेंद्र सिंह, बृजेश प्रजापति तथा चंद्रकेश प्रजापति के द्वारा ओयस्टर मशरूम उत्पादन के लिए प्रयोगात्मक क्रिया कराई गई l

कार्यक्रम में डॉ अवनीश कुमार सिंह, डॉ विवेक प्रताप सिंह, श्री गौरव सिंह एवं हिंदुस्तान उर्वरक एंड रसायन लिमिटेड से राजकुमार के साथ-साथ चरगवां, भटहट, जंगल कौड़िया, भरोहिया और गोला के 21 किसानो ने प्रतिभाग किया l

Leave a Reply