मृतक हशनैन के दोस्त के बाद मां और भाइयों की रिपोर्ट पॉजीटिव आने से बढ़ी दहशत!

मनोज श्रीवास्तव/बस्ती। कोरोना संक्रमण से उत्तर प्रदेश में पहली मौत सोमवार को बस्ती जिले निवासी हशनैन की गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में हुई थी। हशनैन की मृत्यु के उपरांत उसके रक्त के नमूने की रिपोर्ट में कोरोना संक्रमण पॉजीटिव मिला था। कल गुरुवार को उसके दोस्त 21 वर्षीय शेराज अहमद 29 की ब्लड रिपोर्ट भी कोरोना पॉजीटिव निकला था।

शुक्रवार को बस्ती जिले के 3 और कोरोना संदेह में भर्ती हुए लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है। अब बस्ती में कुल 5 लोगों को अब तक कोरोना की पुष्टि हो चुकी है। तीन दिन पहले हशनैन की मौत हुई थी। अब हसनैन की मा रोशन जहाँ45, उसके दोनों भाई साबिर अली 30 और हशन अली 21 के ब्लड में कोरोना संक्रमण की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है।

हॉस्पिटल सूत्रों की मानें तो हसनैन ने बीमारी छिपाकर अपना इलाज कराया था।हसनैन को छूने वाले भी अब कोरोना के चपेट ने आ रहे। ज्यों-ज्यों हशनैन को छूने वालों की रिपोर्ट पॉजीटिव निकलती जा रही है त्यों-त्यों हशनैन के संपर्क में आये और उसके जनाजे में शामिल लोगों की चिंता बढ़ती जा रही है। हालांकि बस्ती प्रशासन ने उसके पूरे मोहल्ले को शीज के उसके संपर्क में आये लोगों को चिन्हित कर कोरेनटाइन में डाल रहा है।

बस्ती के जिला अस्पताल में जनरल वार्ड और गोरखपुर मेडिकल कॉलेज के जिस वार्ड में वह भर्ती हुआ था उसका इलाज करने वाली मेडिकल टीम के लोगों की चिंता बढ़ गयी है। बस्ती जिला अस्पताल गेट पर एक मेडिकल स्टोर पर काम करने वाले उसके दोस्त शेराज की ब्लड रिपोर्ट पॉजीटिव आने के बाद पूरे क्षेत्र में दहशत का माहौल हो गया है। क्यों कि अधिकतर अपने अस्पताली पहचान के कारण हशनैन को वार्ड में चाय-पानी व दवाई शेराज ही पहुंचता था।

इस संदर्भ में जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने दोका सामना को बताया कि शहर के गांधीनगर स्थित हशनैन के मुहल्ले तुरकहिया को चारों ओर से शील कर दिया गया है। सभी रास्तों को केमिकल से धुलाई कराया गया है। रामप्रसाद की गली की ओर से जाने वाले जामा मस्जिद मार्ग को पूरी तरह ब्लाक कर दिया गया है। मुहल्ले के सभी लोगों को उनके घरों में कोरेनटाइन कर दिया गया है। जो भी प्रतिवंध तोड़ेगा उस पर कड़ीं कार्यवाई की जाएगी।

Leave a Reply