योगी ने यूपी में कोरोना-20 जिलों में दो प्रशासनिक अधिकारी तैनात किये

मनोज श्रीवास्तव/लखनऊ। कोरोना पर टीम “11” के साथ हुई बैठक के बाद नियमित ब्रीफिंग में अपरमुख्य सचिवगृह अवनीश अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 20 से अधिक कोविड केस वाले जिलों में दो प्रशासनिक अधिकारियों को तैनात करने के निर्देश दिए हैं। कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ी जा रही लड़ाई में उत्तर प्रदेश हर दिन नई उपलब्धि हासिल कर रहा है। बुधवार को यूपी ने कोरोना टेस्टिंग में भी नई इबारत लिखी है। एक दिन में 3 हजार से अधिक कोरोना सैंपलों की टेस्टिंग करने वाला यूपी देश में तीसरा राज्य बन गया है। इतना ही नहीं बड़ी जनसंख्या और उसके अनुपात में सीमित संसाधानों के बाद भी देश में कोविड केस इंडेक्स में यूपी 7वें स्थान पर है।उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने 20 से अधिक कोविड केस वाले जिलों की विशेष रूप से समीक्षा की है और इन जिलों में 1 प्रशासनिक अधिकारी और 1 स्वास्थ्य विभाग का वरिष्ठ अधिकारी भेजने का निर्देश दिया है। वर्तमान में 20 या 20 से अधिक कोरोना केस वाले 15 जिले हैं। जिनमें इन अधिकारियों को भेजने की तैयारी है। ये अधिकारी 7 दिन तक इन जिलों में कैंप कर लॉकडाउन, मेडिकल व प्रशासनिक क्वारंटीन सेंटर, कम्यूनिटी किचन और शेल्टर होम सहित हालात की समीक्षा करेंगे। जिन जिलों में मंडल स्तर पर आईजी और डीआईजी स्तर के अधिकारी की तैनाती नहीं है वहां एक डीआईजी स्तर का पुलिस अधिकारी भी जाएगा। लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों के साथ सख्ती से निपटा जाए। सप्लाई चेन में काम कर रहे लोगों की मेडिकल जांच कराने और सप्लाई चेन का दुरूपयोग न हो इसको सुनिश्चित किया जाय। मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिया है कि यमुना एक्सप्रेस—वे, नेशनल हाईवे—2 और मध्य प्रदेश बार्डर से कोई भी व्यक्ति आता है तो उन्हें तुरंत पकड़कर क्वारंटीन कराया जाए। साथ ही ऐसे कार्य में लगे वाहनों को जब्त कर लिया जाए। योगी ने विशेष निर्देश दिया है कि पुराने राशन कार्ड धारकों के साथ ही नए राशन कार्ड धारकों को हर हालत में खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाए। 1 मई से शुरू होने वाले निशुल्क खाद्यान्न वितरण के कार्यक्रम में अंत्योदय लाभार्थियों को 20 किलो गेहूं और 15 किलो चावल प्रति कार्ड वितरित किया जाए। इसके साथ ही मनरेगा, ठेला खोमचा, ई—रिक्शा, पंजिकृत श्रमिक, मजदूरों को 3 किलो गेहूं और 2 किलो चावल देने का आदेश हुआ है।उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देशन में प्रदेश स्तर पर ई—शिक्षा व लर्निंग के क्षेत्र में वृहद काम हुआ है। प्रदेश के विश्वविद्यालयों ने अबतक 93 हजार 65 हजार ई—कंटेंट मुहैया कराया है।जिसको 12 हजार 159 टीचरों ने 2 लाख 65 हजार 442 क्लास के माध्यम से 6 लाख 80  हजार छात्रों को लाभ दिया है। उन्होंने बताया कि इन ई—क्लास में हर रोज 1 लाख 68 हजार से अधिक छात्र शामिल हो रहे हैं। सीएम ने प्रदेश के हर क्षेत्र में अध्ययनरत छात्रों से अपील की है कि वे ई—लर्निंग का भरपूर लाभ लेकर अपनी शिक्षा का विस्तार करें।उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर प्रदेश के बड़े निर्माण प्रोजेक्टों को शुरू कर दिया है। जिसमें यूपीडा के तीन बड़े प्रोजेक्ट शामिल हैं। 11 हजार 200 करोड़ की लागत से बन रहे पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के निर्माण में 4835 श्रमिकों लगे हैं। इसमें 2122 मशीनें काम कर रही हैं, जो अबतक का रिकार्ड है। इसके अलावा बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे में 4481 और गोरखपुर लिंक एक्सप्रेसवे में 428 श्रमिक निर्माण कार्य में लगे हैं। पीडब्ल्यूडी में भी 2 हजार 858 करोड़ रूपये के 161 कार्य शुरू कर दिए गए हैं। 

Leave a Reply