; वेतन की मांग को लेकर दक्षिणी दिल्ली लोक सभा के पुजारियों ने किया केजरीवाल आवास पर विरोध प्रदर्शन - Namami Bharat
1win1.az luckyjet.ar mines-games.com mostbet-casino-uz.com bible-spbda.info роскультцентр.рф
वेतन की मांग को लेकर दक्षिणी दिल्ली लोक सभा के पुजारियों ने किया केजरीवाल आवास पर विरोध प्रदर्शन

अरविंद केजरीवाल वोट बैंक की राजनीति से कब बाहर आएंगे-रमेश बिधूड़ी

भाजपा सांसद श्री रमेश बिधूड़ी ने कहा कि एक तरफ अरविंद केजरीवाल अपने ट्वीटर हैंडल पर लिखते हैं कि ‘सब इंसान बराबर हैं चाहें वो किसी भी धर्म या जाति के हों, हमे ऐसा भारत बनाना है जहां सभी धर्म व जाति के लोगों में भाईचारा और मोहब्बत हो, न कि नफरत और बैर हो’ और दूसरी तरफ मौलवियों को अगर तनख्वाह दी जाती है तो मन्दिरों में पुजारियों को, गुरूद्वारों में ग्रन्थियों को और चर्च के पादरियों को तनख्वाह क्यों नहीं? भारत के संविधान में व्यवस्था है कि धर्म के आधार पर किसी को कोई रिजवेर्शन नही मिलेगी फिर संविधान को ताख पर रखकर अरविंद केजरीवाल इस तरह की वोट बैंक की राजनीति कर रहे हैं।

दक्षिणी दिल्ली सांसद श्री रमेश बिधूड़ी के नेतृत्व में दक्षिणी दिल्ली लोक सभा के 700 मन्दिर के पुजारी अपनी मांग को लेकर केजरीवाल निवास पर पहॅुंचे। उन्होंने केजरीवाल सरकार की दोहरी नीति का विरोध करते हुए  मांग की कि जब इमामो को प्रतिमाह 16000 व 18000 रूपये वेतन दिया जाता है तो हिन्दू पुजारी जो मन्दिरों में पूजा पाठ करते हैं तो उनको वेतन क्यों नहीं? उनके साथ ये भेदभाव क्यों? इस विरोध प्रदर्शन में प्रदेश मीडिया प्रमुख श्री नवीन कुमार जिंदल, जिला अध्यक्ष श्री जगमोहन महलावत, प्रदेश मन्दिर पुजारी प्रकोष्ठ संयोजक श्री करनैल सिंह जोगी सहित अन्य भाजपा पदाधिकारी मौजूद थे।  

श्री रमेश बिधूड़ी ने कहा कि अगर केजरीवाल माइनोरिटी की बात करते हैं तो बौद्ध, सिख और पादरी भी माइनोरिटी में हैं और बहुसंख्यक समाज देश में रहता है तो उसको तनख्वाह क्यों नहीं? यह एक तरह से संविधान में अनुच्छेद 14 का और संविधान की मूल भाषा का सीधा-सीधा उल्लंघन है। उन्होंने कहा कि एक गिरगिट प्रवृत्ति से कार्य करने वाले केजरीवाल रंग बदलकर पिछले 7 सालों से दिल्ली की जनता को ठगते आए हैं और अब उत्तर प्रदेश, पंजाब व उत्तराखण्ड के निवासियों को भी इसी प्रकार लुभावनी घोषणाएं कर ठगने का प्रयास कर रहे हैं। आज उनकी कथनी और करनी का खामियाजा दिल्ली की जनता भुगत रही है। उनकी भेदभाव की कायर्प्रणाली से राजनैतिक स्वार्थ साफ दिखाई देता है।

News Reporter
पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना करियर बनाने वाली निकिता सिंह मूल रूप से उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ से ताल्लुक रखती हैं पिछले कुछ सालों से परिवार के साथ रांची में रह रहीं हैं और अब देश की राजधानी दिल्ली में अपनी सेवा दे रहीं हैं। नेशनल ब्रॉडकास्टिंग अकादमी से पत्रकारिता में स्नातक करने के बाद निकिता ने काफी समय तक राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के न्यूज़ पोर्टल्स में काम किया। उन्होंने अपने कैरियर में रिपोर्टिंग से लेकर एंकरिंग के साथ-साथ वॉइस ओवर में भी तजुर्बा हासिल किया। वर्त्तमान में नमामि भारत वेब चैनल में कार्यरत हैं। बदलती देश कि राजनीती, प्रशासन और अर्थव्यवस्था में निकिता की विशेष रुचि रही है इसीलिए पत्रकारिता की शुरुआत से ही आम जन मानस को प्रभावित करने वाली खबरों पर पैनी नज़र रखती आ रही हैं। बेबाकी से लिखने के साथ-साथ खाने पीने का अच्छा शौक है। लोकतंत्र के चौथे स्तंभ में योगदान जारी है।
error: Content is protected !!