गोरखपुर की धरती पर लहलहाने लगी है पीले एवं बैगनी रंग की गोभी

रिपोर्ट- पवन पाण्डेय

महायोगी गोरखनाथ कृषि विज्ञान केंद्र चौक माफी पीपीगंज गोरखपुर के विशेषज्ञ डॉ विवेक प्रताप सिंह बताते है कि किसान के प्रक्षेत्र पर पीले और बैगनी रंग के फूल गोभी उगाई जा रही है जो फूल गोभी की तरह होगी परंतु यह कई पोषक तत्वों से भरपूर है।

इसकी जानकारी देते हुए डॉ विवेक प्रताप सिंह ने बताया कि इसमें फाइटो केमिकल्स और एंटी ऑक्सीडेंट भी होता है जो बीमारी और बॉडी इंफेक्शन से लड़ने में सहायक होता है, इसमें कैल्शियम फॉस्फोरस मैग्नीशियम और जिंक होता है जो हड्डियों को मजबूत बनाता है यह बुजुर्ग और गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत फायदेमंद है डॉक्टर सिंह ने बताया कि इसकी खेती के लिए ठंडी एवं आंद्र जलवायु की आवश्यकता होती है ।

इसकी खेती के लिए बलुई दोमट मिट्टी काफी उपयुक्त मानी जाती है, इसको लगाने का सही समय सितंबर से अक्टूबर है शेष अन्य सभी सस्य क्रियाएं फूलगोभी की खेती की तरह ही किया जाता है। यह गोभी विष्णु प्रताप सिंह ने अपने खेत में लगाए हुए हैं ये एक अभिनव किसान है इन्हें जिले प्रदेश एवं राष्ट्रीय स्तर पर कृषि के क्षेत्र में अग्रणी कार्य हेतु पुरस्कृत एवं सम्मानित भी किया जा चुका है.

इनकी इस सराहनीय पहल से किसानों में काफी उत्साह है कि ऐसी नवीनतम किस्म के पौधों को कृषक प्रक्षेत्र पर फैलाया जा रहा है श्री सिंह ने बताया कि इसको लगाकर सब्जी उत्पादक किसान काफी लाभान्वित हो सकते हैं केंद्र के वैज्ञानिक डॉ विवेक प्रताप सिंह ने बताया कि इस तरह के नवीनतम चीजों को देखने कई प्रगतिशील किसान पहुंच रहे हैं। इस तरह की नई नई तकनीकों प्रजातियां इत्यादि को किसानों तक पहुंचाने में आने वाले समय में कृषि विज्ञान केंद्र मील का पत्थर साबित होगा ।

Leave a Reply