देश में पुरुष आयोग के स्थापना की जरुरत : अंशुल वर्मा

नई दिल्ली, 28.09.2019 : नई दिल्ली के इंडियन सोसाइटी फॉर इंटरनेशनल लॉ में अपनी तरह का अनोखा पुस्कार समारोह आयोजित किया गया। इस पुरस्कार समारोह का नाम पुरुषार्थ महोत्सव रखा गया था। अब तक गुमनामी के अंधेरे में रहकर समाज की भलाई के लिए बढ़-चढ़कर योगदान देने वाले वाले पुरुषार्थियों को यह पुरस्कार दिया जाएगा। इस पुस्कार समारोह का आयोजन टीम पुरुषार्थ ने सेव इंडियन फैमिली फाउंडेशन (एसआईएफएफ) के सहयोग से किया। एसआईएफएफ की लीड या प्रतिनिधियों में श्री रूपांशु प्रताप सिंह, श्री विक्रम बिस्यार और श्री कुमार एस. रतन शामिल थे।

राज्यसभा सदस्य श्री के.टी.एस तुलसी, ने कहा , “ सिर्फ कानून बनाने से समाज की बुराइया नहीं खत्म होती है , बुराई खत्म होती है जब लोग अपने आदर्शपूर्ण व्यव्हार का उदाहरण पेश करते हैं , 1995 में दहेज़ प्रताड़ना के केसों की संख्या 4668 थी जो बढ़ कर 2005 में 6776 और 2015 में 7638 रिकॉर्ड किया गया | इसके अलावा झूठे केसों की संख्या दिन प्रतिदिन बढती गयी है , जहां कानून का दुरूपयोग कर महिलाएं अपने विशेषाधिकार का फायदा उठाती रही हैं | मैंने संसद में एक प्रस्ताव रखा है की यौन उत्पीड़न की सज़ाएं जेंडर न्यूट्रल हो| जिससे कानून का दुरूपयोग ना हो और समाज में संतुलन बना रहे | श्री के.टी.एस तुलसी ने कहा की पुरुषार्थी महोत्सव 2019 की यह पहल हर पीड़ित पुरुष को न्याय दिलाने की पहल है| मै कामना करता हूँ की यह शुरुआत समाज मैं सकारात्मक बदलाव लाएगी |”

पूर्व सांसद श्री अंशुल वर्मा ने कहा,” समाज का कल्याण करना ही पुरुषार्थ है , लोगो को शिक्षित करने से ही समाज में बदलाव आएगा क्यों की शिक्षा ही आपको स्वतंत्र सोच देती है | भारत एक युवा देश है जहा युवाओं को एक सही मार्गदर्शन की जरूरत है जो उन्हें मानसिक तौर पर मजबूत व स्वतंत्र बनाये , पुरुषार्थ महोत्सव आगाज़ है समाज में नई सोच के प्रादुर्भाव का | “

Sri Anshul Verma, added that “भगवान के भरोसे मत बैठिये हो सकता है भगवान हमारे भरोसे बैठा हो, dashrath manjhi एक प्रमाण हैं इसके”

आयोजकों ने सामूहिक रूप से कहा, “हम अपनी तरह का देश का पहला इवेंट आयोजित कर काफी उत्साहित हैं। इस पुरस्कार समारोह में ऐसे व्यक्तियों को पुरस्कार दिया जाएगा, जिन्होंने समाज की भलाई के लिए एक से बढ़कर एक प्रयास किए। हमने प्लेटफॉर्म बनाया है, जो हमें ऐसे लोगों की पहचान में मदद करेगा, जिन्होंने समाज के हित में अपना स्वार्थ नहीं देखा। बिना किसी लालच के निस्वार्थ भाव से जरूरतमंदों की मदद की। उनके अच्छे कार्यों को किसी ने नहीं सराहा, इसीलिए उन्हें समाज में पहचान भी नहीं मिली। कहीं से भी किसी तरह की मदद न मिलने पर भी वह लोगों की भलाई से पीछे नहीं रहे। समाज की भलाई के लिए गए कार्यों ने ऐसे लोगों को पुरुषार्थी पुरस्कार के काबिल बनाया है। यह पुरस्कार समाज की भलाई के लिए काम करने की इच्छा और मानवता के कल्याण के लिए किए गए किए गए कार्यों को पहचान देता है।

कुमार एस रतन ने कहा “The sky is not pink, it’s blue. आज महोत्सव का मूल उद्देश्य है कि, आप सब पुरूषार्थीयों के हर पुरुष किसी ना किसी सामाजिक कार्यों से जुड़े और देश, परिवार, समाज को बेहतर से और बेहतर बनाने में योगदान दे.”

विक्रम बिसयार ने कहा , ” पुरुषों द्वारा समाज सुधार के लिए किये गए कार्य को सराहना कीजानी चाहिए और उन्हें समाज पे पहचान मिलनी चाहिए

रूपेंश सिंह ने कहा, की पुरुषार्थ समाज की शक्ति है , जो समाज के परदे के पीछे के हीरो को प्रोत्साहित करती है. पुरुषार्थ आज सिर्फ धर्म ग्रंथो में ही रह गया है, पर, इस समारोह में पुरूषार्थीयों का ही मेला, अनगिनत हैं.

इस पुस्स्कार समारोह में राज्यसभा के नामांकित सदस्य श्री के.टी.एस तुलसी मुख्य अतिथि थे। यूपी के हरदोई से पूर्व सांसद श्री अंशुल वर्मा समारोह के सम्मानित अतिथि थे। इस कार्यक्रम में एक शार्ट फिल्म “एक्यूस्ड” की स्क्रीनिंग की गई, जिसका निर्देशन श्री जतिन चानना ने किया है। “एक्यूस्ड” में पुरुषों की रोजमर्रा की जिंदगी की दुख, तकलीफ और समस्याओं को दिखाया गया है। इस अवसर पर एक अन्य डॉक्यूमेंट्री फिल्म निर्माता ओर जेंडर राइट्स सपोर्टर मिस दीपिका नारायण भारद्वाज की डॉक्युमेंट्री फिल्म “इंडिया” सन के ट्रेलर की स्क्रानिंग की गई। इसके बाद समाज के विभिन्न वर्गों से आए विशेषज्ञों ने पैनल डिस्कशन किया। उन्होंने वहां आए लोगों से बातचीत की और उनके सवालों के जवाब दिए।

Advocate KTS Tulsi supreme court

इस पुरस्कार समारोह में इनाम जीतने वाले लोगों के नाम इस प्रकार हैं –

श्री आर .के .सोलंकी ( लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड)
श्री डॉ. जे.एस. यादव
श्री वरुण खुल्लर
श्री राजेश गोयल
श्री पुत्तु लाल गुप्ता
श्री लक्ष्मी चंद्र
श्री इंद्रसेन कुमार
श्री अमित शर्मा
श्री अमिताव दास
श्री देशराज भट्ट
श्री हरबंस दुनकल
श्री अमनदीप सिंह जौहर
श्री पारुल शर्मा
श्री चौधरी बी. सी. प्रधान
श्री अनूप खन्ना

* डॉ जेएस यादव ( इंटरनेशनल अवार्ड )
डॉ जेएस यादव वर्तमान में प्रबंध निदेशक, हरियाणा अंतर्राष्ट्रीय बागवानी विपणन निगम, चंडीगढ़ / पंचकूला में हरियाणा सरकार और भारतीय कृषि विपणन बोर्ड, नई दिल्ली (एक्स ऑफिसियो) के प्रबंध निदेशक के रूप में काम कर रहे हैं। इसके साथ वे डायक्टर वर्ल्ड यूनियन ऑफ होलसेल मार्केट्स, हेग, नीदरलैंड में लगातार चौथी बार तथा बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में आठ साल तक लगातार रहने वाला भारत और दुनिया का पहले व्यक्ति है ! इसके अलावा,वे चेयरमैन, कृष्णा फाउंडेशन फॉर ऑल (KFA) एक धर्मार्थ ट्रस्ट के कर्तव्यों का निर्वहन भी कर रहे है ! उन्हें कनाडा की स्थायी रेजिडेंसी मिली है और उन्होंने अफ्रीका, यूरोप, उत्तरी अमेरिका, दक्षिण अमेरिका, एशिया, प्रशांत- पैसिफिक छेत्र के 50 से अधिक देशों में व्यापक रूप से यात्रा की है और दुनिया के लगभग 100 देशो के प्रमुख थोक बाजारों की खुद जाकर देखा है ।
Dr. JS Yadav is currently working as Managing Director, Haryana International Horticultural Marketing Corporation. He is the first person in India and the world to live for the fourth consecutive time in the Director World Union of Wholesale Markets. Shri. JS Yadav is known throughout India for his contribution in the field of agricultural marketing as an expert.

* श्री Varun Khullar
Born in a Delhi family of engineers, this young music producer and disc jockey is breaking barriers and establishing himself in the world of music. THIS 26-year-old Varun Khullar, popularly known as DJ Aamish Underground, is a source of inspiration to the millennials who leave no stone unturned to chase their dreams

* श्री पुत्तु लाल गुप्ता काShri Puttu Lal Gupta was born on 01 January 1943, he was employed as a technical staff in a unit of the I.A.F located in Kanpur city. Since 1976, he is actively working to promote Hindi use in Official work in all Govt and Private sector. He is working selflessly without any financial support and even after his retirement since 2003. However, this great person who never wanted the award was given by: Central Secretariat Hindi Council, International World Peace Enlightenment Maha Sangha, Kanpur was awarded

श्री लक्ष्मी चंद्र
In pursuit of right to education, Shri. Laxmi Chandra is helping 300 underprivileged children beneath a metro bridge in the Yamuna Bank. He has been educating underprivileged over eight years without any assistance neither from the government nor any NGOs. `The Free School Under The Bridge’, where hundreds of children living in shacks get an education, is run by its founder Rajesh Kumar Sharma.

Mr Anoop Khanna : Dadi ki Rasoi’ is an initiative that was started by MR. Anoop Khanna (social activist). It aims at providing quality food to poor and needy people at just Rs 5.  Dadi ki Rasoi serves food to more than 500 people per day, which is simple amazing. In today’s scenario of inflation, serving food to so many people at just Rs 5 .

Amit Sharma, he started his career as a journalist, Except for 15-16 years of journalism career, nowadays teaches journalism to students. In his journalism career, he felt that there was a lack of sharp correspondent and decided that he would make such a correspondent. He did not care about his career, left journalism and moved towards education

Leave a Reply