संसद भवन पर मंडरा रहा है खालिस्तानी आतंकियों का खतरा
176

ज़ेबा ख़ान/देश पर आए दिन आतंकी हमला होने का खतरा मंडरता रहता हैं। ये खतरा तब ज्यादा बढ़ जाता है जब देश में कोई त्यौहार हो या फिर 15 अगस्त या 26 जनवरी का सेलिब्रेशन हो। इसबार 15 अगस्त के मौके पर एक बार फिर आतंकियो ने संसदभवन पर हमले की साजिश रची है। आपको बता दें इस बार संसद पर हनले क् लिए दो खालिस्तानि आतंकी नापाक मंसूबे के साथ दिल्ली की ओर बढ़ रहे हैं। खुफिया एजेंसियों से मिले इनपुट के बाद सेंट्रल और न्यू दिल्ली जिलों में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। सूचना मिली है कि आतंकी उत्तर प्रदेश के रजिस्ट्रेशन नंबरवाली विस्फोटकों से लदी कार में आ रहे हैं।

मिली जानकारी के अनुसार दोनो आतंकियों की पहचान  लखविंदर सिंह और परमिंदर सिंह से हुई है। ये दोनों  नेपाल बॉर्डर से एक सफेद इनोवा कार में सबार हैं। सूचना है भी मिली है कि दोनो की उम्र लगभग 40 साल की और साथ ही दोनों IED बनाने में माहिर हैं।

खुफिया एजेंसियों को मिली इस खबर को काफी गंभीरता से मिला जा रहा है। आपको बता दें ये खबर खुफिया एजेंसियों से मिलने के साथ ही एक अज्ञात शख्स ने भी फोन कर दिल्ली पुलिस को ये खबर दी है।दिल्ली पुलिस ने उस नंबर की पूरी जानकारी इक्काट्टा करके एक टीम को वहां रवाना दिया गया है जिससे इस खबर की पूरी छानबीन कर सके।

देश में 15अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मानया जाना इस मौके पर ऐसा अर्लट मिला काफी चिंताजनक है। ऐसी खबरें हैं कि इस समारोह के समय IED विस्फोटकों से लदी गाड़ी से आतंकी हमला कर सकते हैं और इसके लिए किसी चुराई गई गाड़ी या सरकारी वाहन का इस्तेमाल किया जा सकता है। अधिकारियों ने बताया है कि खबरी ने जिन दो लोगों की जानकारी दी है, वे नवंबर 2016 में नाबा जेलब्रेक मामले में वांछित दोनों संदिग्ध ही हैं।

इसके साथ ही आपको ये भी बता दें एक सुरक्षा अधिकारी ने बताया, ‘जिन लोगों के नाम सामने आ रहे हैं, वे खालिस्तान लिबरेशन फोर्स हरमिंदर सिंह मिंटू के करीबी हैं, जिसकी अप्रैल में दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई थी। उसे पाक खुफिया एजेंसी ISI का समर्थन मिल रहा था और वह आतंकी संगठन में शामिल करवाने के लिए युवाओं को उकसा रहा था।’

आपको बता दें इससे पहले भी भारत के संसद पर एक बार हमला हो चुका है एक बार फिर से आतंकियों ने संसदभवन को दहलाने के लिए टारगेट किया जा रहा है। देश में 27 दिन के बाद आज़ादी का जश्न मानाया जाना इसी दौरान आतंकी संसद को दहलाने की नपाक कोशिश कर सकते हैं।

Leave a Reply