अपवित्र सरयू नदी को दुग्धाभिषेक कर संतों ने किया पवित्र,मुस्लिमों पर लगाया था ये आरोप
233

दीपक श्रीवास्तव/फैजाबाद। क्या माँ सरयू अपवित्र हो सकती हैं.क्या मुस्लिम महिलाओं के सरयू नदी में वजू करने से सरयू अपवित्र हो सकती हैं अगर हाँ तो आज अयोध्या के कुछ संतो ने 51 किलो गाय के दूध से माँ सरयू दुग्धाभिषेक कर पवित्र करने का प्रयास क्यों किया। संतो का मानना है कि मुस्लिमों के सरयू में वजू करने से माँ सरयू अपवित्र हो गयी हैं। दरअसल 12 जुलाई को मुस्लिम राष्ट्रिय मंच के कार्यक्रम के दौरान 3 मुस्लिम महिलाओं ने सरयू नदी में वजू कर लिया था जिसके चलते आज अयोध्या के कुछ संतो ने दुग्धाभिषेक कर सरयू को पवित्र करने की कोशिश की।

राम नगरी अयोध्या में राम मंदिर निर्माण में आने वाली बाधाओं को दूर करने और मंदिर निर्माण के मार्ग में अवरोध उत्पन्न करने वाले लोगों को सद्बुद्धि आने को लेकर अयोध्या के संतो द्वारा बुद्धि शुद्धि कार्यक्रम कर माँ सरयू का दुग्धाभिषेक किया गया और पूजा अर्चन की गयी।

इस विशेष कार्यक्रम में गाय के 51 लीटर दूध से माँ सरयू का दुग्धाभिषेक संतो ने पुन्य सलिला सरयू की पवित्र निर्मल धारा में खड़े होकर किया। अनुष्ठान के दौरान माँ सरयू से प्रार्थना की गई कि अयोध्या की पवित्रता सुचिता बनी रहे और अयोध्या में राम मंदिर निर्माण में जो अवरोध उत्पन कर रहे है उन सभी को भगवान सद्बुद्धि प्रदान करे।

इस कार्यक्रम के आयोजक महंत दिलीप दास ने कहा कि राम मंदिर निर्माण में आ रही बाधा को दूर करने के लिए माँ सरयू के पवित्र धारा में दुग्धाभिषेक किया गया जिससे अयोध्या में खडयंत्र करने वाले लोगो की बुद्धि शुद्ध हो और अयोध्या में जल्द राम मंदिर का निर्माण किया जा सके.संतों ने कहा माँ सरयू की पवित्रता को समाप्त करने का षडयंत्र रचने वालो को अयोध्या के संत कभी बर्दास्त नहीं करेंगे।

Leave a Reply