बार एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष की गिरफ्तारी, आक्रोशित अधिवक्ताओ ने की नारेबाजी
34
बार एसोसिएशन के जिला अध्यक्ष की गिरफ्तारी के बाद वकीलों का गुस्सा फूट पड़ा।  आशीष मिश्र ने योगी और मोदी सरकार का आह्वान किया कि वह वकीलों के सम्मान के लिए आगे आये दोषियों को दण्डित करे नही तो “योगी जी मोदी जी मैं आप के दर पर आने वाले है वहीँ पर भूखे प्यासे रहेगे और न्यायिक जाँच नही हुई दोषियों को दण्डित नही किया गया तो वहीँ पर हम लोग अपने प्राण त्याग देगे ।” सीतापुर जनपद में पुलिस अधिवक्ता विवाद में उस समय एक और नया मोड़ आ गया जब बार एशोसिएशन के जिलाध्यक्ष हरीश त्रिपाठी को गिरफ्तार करके पुलिस एक बड़ी कामयाबी मान रही है ।
 उत्तर प्रदेश के सीतापुर जनपद में पुलिस अधिवक्ता विवाद में उस समय एक और नया मोड़ आ गया जब जिलाध्यक्ष बार एसोसिएशन हरीश त्रिपाठी को गिरफ्तार करके पुलिस एक बड़ी कामयाबी मान रही है । आपको बताते चले कि पुलिस को काफी समय से आरोपी वकीलों की तलाश थी पुलिस लगातार वकीलों की गिरफ्तारी के लिए सम्भावित जगहों पर छापेमारी कर रही थी। इसके लिए वकीलों के घर पर 82 की नोटिस भी चस्पा कर दी थी और मुनादी द्वारा भी आगाह कर दिया था बीती रात पुलिस को आरोपी हरीश त्रिपाठी जिलाध्यक्ष बार एसोसिएशन सीतापुर को गिरफ्तार करके पुलिस बड़ी सफलता मान रही है । हरीश त्रिपाठी की गिरफ्तारी को पुलिस एक बड़ी कामयाबी के रूप में देख रही है।
 बताते चले कि लगभग एक माह पूर्व अवैध जमीनों से कब्जे हटवाने के दौरान पुलिस और अधिवक्ताओं के बीच विवाद हो गया था और कुछ अधिवक्ताओं ने एक सब इंस्पेक्टर की पिटाई भी कर दी थी और पुलिस अधीक्षक से से भी मोबाइल छीनने की कोशिश की थी। तभी से पुलिस और अधिवक्ताओं के बीच विवाद चल रहा है । दिनों दिन यह विवाद बढ़ता गया सुलझने के बजाय और गहराता गया। पुलिस और अधिवक्ताओ दोनो ने इस अपनी नाक का सवाल बना लिया। बदले की भावना के कारण पुलिस ने आरोपी वकीलों के खिलाफ ताबड़तोड़ कार्यवाही करते हुए राष्ट्रद्रोह और डकैती जैसी संगीन धाराओं में केस पंजिकृत कर दिया। इतना ही नही आरोपी वकीलों पर 25000 से बढ़ाकर 50000 रूपये का इनाम भी घोषित कर दिया था । उसके बाद से आरोपी वकील लगातार फरार चल रहे थे, वही बार ऐशोसियेशन अधिवक्ता संगठन और पुलिस आपस में मामले को सुलझाने के बजाय पुलिस द्वारा अधिवक्ताओं का उत्पीडन का आरोप लगाते हुए न केवल आंदोलन कर रहे थे बल्कि सरकार से न्याय की गुहार भी लगाते रहे लेकिन मामला सुलझने के बजाय उलझता ही जा रहा है  ।
बार एशोसियेशन अध्यक्ष हरीश त्रिपाठी की गिरफ्तारी से आज आक्रोशित अधिवक्ताओं ने एक शांतिपूर्ण मार्च निकाला, यह शन्तिपूर्ण मार्च लालबाग़ चौराहे से नारेबाजी करता हुआ पुलिस अधीक्षक कार्यालय पर पहुंचा जहां वकीलों ने जमकर नारेबाजी करके विरोध प्रदर्शन व्यक्त किया। मीडिया से बातते हुए कार्यकारी बार एशोसिएशन अध्यक्ष आशीष मिश्र ने कहा कि अधिवक्ताओं के स्वाभिमान और सम्मान की लड़ाई जारी रहेगी। उन्होंने योगी और मोदी सरकार का आह्वान किया कि वह वकीलों के सम्मान के लिए आगे आये दोषियों को दण्डित करे नही तो “योगी जी मोदी जी मैं आप के दर पर आने वाले है वहीँ पर भूखे प्यासे रहेगे और न्यायिक जाँच नही हुई तथा दोषियों को दण्डित नही किया गया तो वहीँ पर हम लोग अपने प्राण त्याग देगे ।” ऐसे मार्मिक शब्दों से केंद्र सरकार के मुखिया मोदी जी तथा प्रदेश सरकार के योगी जी से शान्तिपूर्ण पुलिस अधीक्षक कार्यालय पर नारेबाजी की ।
रिपोर्ट – नैमिष शुक्ल
News Reporter

Leave a Reply