; अखिलेश सरकार में विकास का नहीं परिवारवाद और अपराध का एजेंडा चलता था: योगी - Namami Bharat
1win1.az luckyjet.ar mines-games.com mostbet-casino-uz.com bible-spbda.info роскультцентр.рф
अखिलेश सरकार में विकास का नहीं परिवारवाद और अपराध का एजेंडा चलता था: योगी

लखनऊ। यूपी में विधानसभा चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है सियासी पारा चढ़ता जा रहा है। अब यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने सहारनपुर में अखिलेश यादव पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों में एक परिवार के विकास को ही विकास का मानक मान लिया जाता था। इनके पास विकास का कोई एजेंडा नहीं था। वहां तो परिवारवाद और अपराध हावी रहा। पलायन, दंगे, अराजकता के अलावा बेटियां अपराधियों से डरकर स्कूल नहीं जा पाती थीं। प्रदेश की तस्वीर बदरंग हो गई थी। आजादी में जो राज्य अग्रणी था वह पिछड़कर बीमारू राज्य में शामिल हो गया। 

सीएम योगी आदित्यनाथ ने माइक्रो-ब्लॉगिंग ऐप Koo पर पोस्ट कर कहा कि पिछली सरकारें विकास के नाम पर बंदरबांट करतीं थीं। हमारी आस्था पर प्रहार होता था। सावन के महीनों में कहा जाता था कि कांवड़ यात्रा नहीं निकलेगी। बेटियों की सुरक्षा के मामले को अनसुना कर दिया जाता था। मुजफ्फरनगर के दंगाइयों को लखनऊ के मुख्यमंत्री आवास में सम्मानित किया जाता था। सहारनपुर में सिखों की दुकानों में आग लगाकर उन्हें भी आग में झोंकने का काम किया जाता था। वर्ष 2017 से सरकार बदलते ही प्रदेश में दंगा नहीं बल्कि कांवड़ यात्रा गाजे-बाजे के साथ निकाली जा रही है। दीपावली, होली और सभी पर्व और त्योहार बिना डर के मनाए जा रहे हैं। पांच सौ वर्षों के इंतजार को खत्म करके मोदी सरकार ने अयोध्या में भव्य श्रीराममंदिर के निर्माण कार्य को तेजी से आगे बढ़ाया है। 

उन्होंने कहा कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में विकास को गति दी गई है। वर्ष 2017 से पहले सहारनपुर से दिल्ली पहुंचने में सात से आठ घंटे लगते थे, अब हाईवे बनने के बाद केवल दो घंटे में ही दिल्ली पहुंचा जा सकता है। किसानों के गन्ने का मूल्य का भुगतान समयबद्ध तरीके से किया जा रहा है। हमारी पौने पांच वर्ष की सरकार में एक लाख 44 हजार करोड़ रुपये गन्ने का मूल्य किसानों के खाते में पहुंचाया जा चुका है। चीनी मिलों का विस्तारीकरण किया जा रहा है, एक्सप्रेसवे, एयर कनेक्टविटी, विश्वविद्यालय, सड़क, मेडिकल कॉलेज के साथ अन्य विकास के काम कराए जा रहे हैं।

News Reporter
पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना करियर बनाने वाली निकिता सिंह मूल रूप से उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ से ताल्लुक रखती हैं पिछले कुछ सालों से परिवार के साथ रांची में रह रहीं हैं और अब देश की राजधानी दिल्ली में अपनी सेवा दे रहीं हैं। नेशनल ब्रॉडकास्टिंग अकादमी से पत्रकारिता में स्नातक करने के बाद निकिता ने काफी समय तक राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के न्यूज़ पोर्टल्स में काम किया। उन्होंने अपने कैरियर में रिपोर्टिंग से लेकर एंकरिंग के साथ-साथ वॉइस ओवर में भी तजुर्बा हासिल किया। वर्त्तमान में नमामि भारत वेब चैनल में कार्यरत हैं। बदलती देश कि राजनीती, प्रशासन और अर्थव्यवस्था में निकिता की विशेष रुचि रही है इसीलिए पत्रकारिता की शुरुआत से ही आम जन मानस को प्रभावित करने वाली खबरों पर पैनी नज़र रखती आ रही हैं। बेबाकी से लिखने के साथ-साथ खाने पीने का अच्छा शौक है। लोकतंत्र के चौथे स्तंभ में योगदान जारी है।
error: Content is protected !!