योगी राज का नया विकास – पाए अफसर गुन्डे खास – राम गोविन्द चौधरी

लखनऊ। आज मोदी सरकार की निरर्थक नीतियों की वजह से प्रति व्यक्ति औसत आय के मामले में भारत अब बंग्लादेश से भी पीछे है। हम विकासशील देश की जगह दुनियां के गरीब देशों की कतार में खड़े हैं। किसी भी पड़ोसी देश से हमारे रिश्ते अच्छे नहीं हैं।फ्रांस में राफेल खरीददारी में हुई अनियमतिता और उसकी जांच की वजह से पूरी दुनियां में हम लोगों की थू थू हो रही है।
     उक्त बातें उत्तर प्रदेश विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता रामगोविन्द चौधरी ने प्रेस को जारी अपने बयान में कही।
   नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि मोदी सरकार का विकास शब्द देश के कुछ धन्नासेठों की तिजोरी में सिमट गया है। जिसमे से दो की तिजोरी  तो अथाह धन से भर गई है।इधर, बैंक दिवालिया हो रहे हैं। महंगाई चरम पर  है। भ्रष्टाचार कार्यप्रणाली का आवश्यक अंग हो गया है।
    रामगोविन्द चौधरी ने कहा कि देश की तीस फीसदी आबादी रोजगार बिहीन हो गई है। इससे ध्यान भटकाने के लिए राज्यों को तोड़ने की साजिश रची जा रही है।और सरकार समस्याओं का मुकाबला करने की जगह केवल हिन्दू मुसलमान  कर लोगों का ध्यान भटकाने में लगी है। इससे परेशान उत्तर प्रदेश की जनता ने ग्राम प्रधान, बीडीसी और जिला पंचायत सदस्य चुनाव में भाजपा को धूल चटा दिया।इससे बौखलाई योगी सरकार ने गुंडों और प्रशासन की मदद से जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लाक प्रमुख चुनाव में जनता का जनादेश लूट लिया। इस लूट के दौरान सरेआम चीरहरण भी हुआ। इसे लेकर जो वीडियो आम हैं, उसे देखकर साफ प्रमाणित है कि जनादेश की लूट और चीरहरण का कुकृत्य पुलिस व प्रशासन की देखरेख में हुआ है।
मुख्यमंत्री  योगी आदित्य नाथ को इसे देखकर जनादेश लूट और चीरहरण में शामिल अफसरों और गुंडों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए थी। इसकी निंदा करने करनी चाहिए थी। हो क्या रहा है ?कार्रवाई और निंदा की जगह मुख्यमंत्री खुद इसका श्रेय ले रहे हैं। इसे लेकर प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेन्द्र मोदी भी चुप्पी साधे हैं।
इसलिए यह प्रमाणित है कि जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लाक प्रमुख  चुनाव में हुई जनादेश की लूट और चीर हरण में यूपी की सरकार के साथ साथ भारत की सरकार भी शामिल है।

News Reporter
पंकज चतुर्वेदी 'नमामि भारत' वेब न्यूज़ सर्विस में समाचार संपादक हैं। मूल रूप से गोंडा जिले के निवासी पंकज ने अपना करियर अमर उजाला से शुरू किया। माखनलाल लाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय से पत्रकारिता में परास्नातक पंकज ने काफी समय तक राष्ट्रीय राजधानी में पत्रकारिता की और पंजाब केसरी के साथ काम करते हुए राष्ट्रीय राजनीति को कवर किया है। लेकिन मिट्टी की खुशबू लखनऊ खींच लाई और लोकमत अखबार से जुड़कर सूबे की सियासत कवर करने लगे। 2017 में पंकज ने प्रिंट मीडिया से इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की तरफ रुख किया। उत्तर प्रदेश के प्रतिष्ठित चैनल न्यूज वन इंडिया से जुड़कर पंकज ने प्रदेश की राजनीतिक हलचलों को करीब से देखा समझा। 2018 से मार्च 2021 तक जनतंत्र टीवी से जुड़े रहें। पंकज की राजनीतिक ख़बरों में विशेष रुचि है इसीलिए पत्रकारिता की शुरुआत से ही पॉलिटिकल रिपोर्टिंग की तरफ झुकाव रहा है। वह उत्तर प्रदेश की राजनीति की बारीक समझ रखते हैं।

Leave a Reply