मंदसौर में रेप के आरोपियों को नहीं मिलेगी कब्रिस्तान में जगह
223

ज़ेबा ख़ान/ दिन व दिन बलात्कार की घटनाएं भारत में देखने को मिलने लगी है। मध्य प्रदेश के मंदसौर में एक 7 साल की बच्ची के साथ गैंगरेप किया गया इस घटना ने पूरे देश को हिला दिया है। 26 जून को छुट्टी के बाद स्कूल के बाहर से नाबालिग बच्ची का अपहरण किया गया।उसके साथ बलात्कार कर उसे जान से मारने की कोशिश करते हुए उसे झाड़ियों में फेंक दिया गया था। इस के खिलाफ मंदसौर में हजारों लोग आरोपियों के लिए फांसी की सजा की मांग को लेकर सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं। उनकी मांग है आरोपियों को जल्द से जल्द फाँसी कि सज़ा दी जाए।मंदसौर में लोगों ने इस घटना के खिलाफ 28 जून को शहर बंद रखा था।  

फिलहाल बच्ची आईसीयू में भर्ती है। जनआक्रोश को देखकर इस मामले में पुलिस में काफी मुस्तैदी से काम करते हुए अभी तक दो आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है।आरोपियों की पहचान इरफान और आसिफ के नाम से हुई है । इरफान को पुलिस ने गुरूवार की शाम को अजाक थाने में बनाई गई स्पेशल कोर्ट ने दो जुलाई तक की पुलिस रिमांड पर भेज दिया है। और दूसरे आरोपी आसिफ को पुलिस ने बीते शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया है।

रेप की शिकार नाबालिग लडकी एक प्राइवेट स्कूल में तीसरी क्लास में पढ़ती थी जब इसके अपहरण की खबर पर एक तलाशी अभियान चलाया गया। इस दौरान वो शहर के बस स्टैंड के पास लक्ष्मण दरवाजे के झाड़ियों में घायल अवस्था में पड़ी मिली थी। बच्ची को मंदसौर में इलाज के बाद इंदौर रेफर किया गया है जहां उसकी हालत खतरे से बाहर बताई गई है। मेडिकल के जांच में नाबालिग से रेप की पुष्टि हुई है।पीड़ित बच्ची इंदौर के शासकीय महाराजा यशवंतराव चिकित्सालय (एमवायएच) के बाल शल्य चिकित्सा विभाग के वॉर्ड में भर्ती है।बच्ची के इलाज में कोई कोताही ना बरती जाए इस मामले पर खुद सीएम शिवराज सिंह चौहान नज़र रख रहे हैं। सीएम शिवराज ने कहा है कि सरकार आरोपियों को फाँसी की सजा दिलाने की पूरी कोशिश करेगी.

वहीं दूसरी तरफ इस घटना के बाद मंदसौैर के लोग आक्रोशित हैं। मंदसौर के स्थानीय मुस्लिम समुदाय ने भी घटना की कड़ी निंदा करते हुए आरोपी युवक को फाँसी की सजा देने की मांग की है। इस घटना से मुस्लिम ने ये तक मांग की है कि आरोपी को फाँसी की सजा दिया जाने के बाद उसे कब्रिस्तान में ना दफन किए जाए। इस घटना से आहत होकर शहर के बार एसोसिएशन ने ये फैसला किया है कि आरोपी की तरफ से मंदसौर का कोई भी वकील पैरवी नहीं करेगा। पूरे शहर में पुलिस बल तैनात है।

Leave a Reply