योगी के सबसे बड़े बजट को विपक्ष ने बताया बकवास

मनोज श्रीवास्तव/लखनऊ।सरकार का चौथा बजट अन्तिम बजट माना जाता है! उत्तर प्रदेश की जो छवि पहले थी उसे इस सरकार ने बदला है आज उत्तर प्रदेश गोली और बोली से जाना जा रहा है! माँ गंगा की जितनी सफाई हुई है वो दिखाई पड़ रही है बजट मे आज सबसे पहले लिखा है कि यहा गंगा यमुना है लेकिन दोनो का हाल बुरा है।किसानो की आय कई बार दुगुना करनी की बात कही लेकिन अभी तक एक गुना भी नही बढ़ी है! इस सरकार ने किसी के लिये कुछ भी नही हुआ।सरकार ने सभी को सिर्फ धोखा दिया है। नौजवानो को नौकरी नही, शिक्षा विभाग मे दो लाख भर्ती होनी चाहिये थी लेकिन भर्ती नही हुई। सरकार को आज अपना काम बताना चाहिये था लेकिन वो नही बताया। पिछ्ले बजट मे जो कहा गया था वो तक अभी तक नही हुआ। अखिलेश ने पूछा कि सरकार बतावे की बाइस करोड़ पेड़ कहां लगे है? स्मार्ट सिटी कहां -कहां बने हैं? मुख्यमंत्री ने स्मार्ट समझ कर सेल्फी भी ले ली। यूपी मे सैनिक स्कूल, सरकार ने किसानो के लिए कुछ भी नही किया। किसानो के साथ छल किया उनका कर्ज माफ नही किया,किसान आत्म हत्या करने के लिये मजबूर है। नेेता  प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने कहा कि यह बजट नहीं थोथा बकवास है। आगे क्या होगा?, पूरा प्रदेश निराश है। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने बजट पर अपनी प्रतिक्रिया टियूट करते हुए कहा है कि ये बजट जनता की आशाओं, आकांक्षाओ के साथ छलावा है। इतना जनविरोधी बजट बीजेपी की कमजोर इच्छा शक्ति का परिणाम है। केंद्र की तरह ही प्रदेश सरकार का बजट भी जमीनी हकीकत से परे है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि पहली बार बजट में किसान, नौजवान, महिला, व्यापारी, मजदूर, कर्मचारी, अल्पसंख्यक सब ठगा सा महसूस कर रहे हैं। किसान आत्महत्या कर रहे हैं, सांड फसल चर रहे हैं। हर कोई हताश है। हम इस बजट से निराश हैं।

Leave a Reply