; एमसीडी ने भ्रष्टाचार छुपाने के लिए लगाई सदन की कार्यवाही रिकॉर्ड करने पर रोक - Namami Bharat
एमसीडी ने भ्रष्टाचार छुपाने के लिए लगाई सदन की कार्यवाही रिकॉर्ड करने पर रोक

*भाजपा शासित एमसीडी ने काले कारनामों को छुपाने के लिए सदन की कार्यवाही को रिकॉर्ड करने पर लगाई रोक*

*- लोकसभा और दिल्ली विधानसभा तक अपनी कार्यवाही लाइव दिखाते हैं, लेकिन भाजपा शासित साउथ और ईस्ट एमसीडी नए इस पर रोक लगा दी है- सौरभ भारद्वाज*

*- एमसीडी का यह फैसला लोकतंत्र और पारदर्शिता के मूल नियमों के खिलाफ है- सौरभ भारद्वाज*

आम आदमी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता एवं विधायक सौरभ भारद्वाज ने कहा कि भाजपा शासित एमसीडी ने काले कारनामों छुपाने के लिए साउथ और ईस्ट एमसीडी ने सदन की कार्यवाही को रिकॉर्ड करने या लाइव चलाने पर रोक लगा दी है। लोकसभा और दिल्ली विधानसभा तक अपनी कार्यवाही लाइव दिखाते हैं, लेकिन भाजपा शासित एमसीडी ने इस पर रोक लगा दी है। सौरभ भारद्वाज ने एमसीडी के फैसले को लोकतंत्र और पारदर्शिता के मूल नियमों के खिलाफ बताया। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी एमसीडी के इस फैसले की आलोचना करती है। भाजपा शासित एमसीडी अपने काले कारनामों को जनता से छुपाने के लिए ऐसे फैसले ले रही।

आम आदमी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता और ग्रेटर कैलाश से विधायक सौरभ भारद्वाज ने गुरुवार को पार्टी मुख्यालय में प्रेसवार्ता को संबोधित किया। सौरभ भारद्वाज ने कहा कि मुझे यह जानकर काफी हैरानी हुई है कि कल साउथ एमसीडी ने एक तुग़लकी फरमान जारी किया है। उन्होंने कहा है कि दक्षिणी दिल्ली नगर निगम की सदन की बैठक की कार्यवाही को अब कोई भी पत्रकार रिकॉर्ड नहीं कर सकता है। कोई भी पत्रकार उसका लाइव वीडियो नहीं चला सकता है। 

इसी तरह का तुग़लकी फरमान ईस्ट एमसीडी ने भी निकाला है कि कोई भी पत्रकार सदन की कार्यवाही की न तो रिकॉर्डिंग कर सकता है और न ही लाइव कर सकता है। यह काफी हैरान करने वाली बात है।

उन्होंने कहा, चाहे लोकसभा हो, चाहे विधानसभा हो, इनकी जो कार्यवाही होती है, हम सभी जानते हैं कि उसको लाइव दिखाया जाता है। लाइव करने का सबसे बड़ा जो कारण है, वह यह है कि सदन में जो भी कार्यवाही हो रही है वह लोगों द्वारा चुने हुए प्रतिनिधियों की कार्यवाही है। और लोगों द्वारा चुने गए प्रतिनिधि उनकी किन-किन समस्याओं को उठा रहे हैं, किन समस्याओं पर चर्चा कर रहे हैं, क्या विकास की योजनाओं पर चर्चा हो रही है, उनका प्रतिनिधि उस पर क्या कह रहा है, लोग यह सब कुछ जानना चाहते हैं। 

भाजपा शासित दिल्ली नगर निगम कार्यवाही की कोई भी रिकॉर्डिंग या लाइव को न तो खुद कर रहा है और न ही किसी पत्रकार को करने दे रहा है। इसका मतलब दाल में कुछ काला है। इसका मतलब है कि वहां पर जरूर कुछ ऐसे काम हो रहे हैं, जिनको भाजपा के लोग नहीं चाहते हैं कि लोगों तक पहुंचे और लोगों तक उनकी सच्चाई पहुंचे।

सौरभ भारद्वाज ने कहा, हम इस कदम की आलोचना करते हैं। यह संभव नहीं है। ऐसा नहीं हो सकता है। किसी भी सदन के पास इस तरह की इजाजत नहीं है कि आप वहां की कार्यवाही को रिकॉर्ड करने से रोक दें। दिल्ली विधानसभा की पूरी की पूरी कार्यवाही वेबसाइट के माध्यम से और यूट्यूब के माध्यम से लाइव दिखाई जाती है। लोकसभा की कार्यवाही टीवी पर लाइव दिखाई जाती है। तो यह दिल्ली नगर निगम के जो फैसले हैं, वह पूरी तरह से लोकतंत्र के खिलाफ हैं और पारदर्शिता के जो मूल नियम हैं उनके खिलाफ हैं।

News Reporter
पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना करियर बनाने वाली निकिता सिंह मूल रूप से उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ से ताल्लुक रखती हैं पिछले कुछ सालों से परिवार के साथ रांची में रह रहीं हैं और अब देश की राजधानी दिल्ली में अपनी सेवा दे रहीं हैं। नेशनल ब्रॉडकास्टिंग अकादमी से पत्रकारिता में स्नातक करने के बाद निकिता ने काफी समय तक राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के न्यूज़ पोर्टल्स में काम किया। उन्होंने अपने कैरियर में रिपोर्टिंग से लेकर एंकरिंग के साथ-साथ वॉइस ओवर में भी तजुर्बा हासिल किया। वर्त्तमान में नमामि भारत वेब चैनल में कार्यरत हैं। बदलती देश कि राजनीती, प्रशासन और अर्थव्यवस्था में निकिता की विशेष रुचि रही है इसीलिए पत्रकारिता की शुरुआत से ही आम जन मानस को प्रभावित करने वाली खबरों पर पैनी नज़र रखती आ रही हैं। बेबाकी से लिखने के साथ-साथ खाने पीने का अच्छा शौक है। लोकतंत्र के चौथे स्तंभ में योगदान जारी है।
error: Content is protected !!