देवर खडोरा : आयोजित शिविर में डीएम स्वाति एस भदौरिया ने सुनी लोगों की समस्याएं

रिपोर्ट- संतोष नेगी

मुख्यमंत्री त्वरित समाधान सेवा कार्यक्रम (सीएम क्यूआरटी) के तहत शनिवार को प्राथमिक विद्यालय देवर-खडोरा में आयोजित शिविर में जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने फरियादियों की समस्याएं सुनी। जिसमें 39 में से 34 शिकायतों का मौके पर निस्तारण किया गया और शेष शिकायतों के शीघ्र निस्तारण हेतु अधिकारियों को निर्देशित किया गया। जिलाधिकारी ने कहा कि जनता की शिकायतों के निस्तारण में किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नही की जाएगी।

क्षेत्रवासियों ने शिविर में सड़क, शिक्षा, पेयजल, क्षतिग्रस्त पैदल रास्ते व पुलिया, आवास, शौचालय, गौशाला, पंचायत भवन निर्माण एवं आर्थिक सहायता से जुड़ी समस्याएं जिलाधिकारी के समक्ष रखी। जिनका जिलाधिकारी ने मौके पर ही समाधान किया। कुछ गांव तोकों में पेयजल आपूर्ति की समस्या पर जिलाधिकारी ने बताया कि जल जीवन मिशन के तहत हर घर नल से जल सरकार की योजना के तहत प्रत्येक परिवार को पेयजल कनेक्शन दिया जा रहा है। इस योजना के तहत कोई भी परिवार पेयजल से वंचित नही रहेगा चाहे उसका नाम पोर्टल में दर्ज है या नही। सभी को पानी मिलेगा। देवर खडोरा गांव के नीचे बने तालाब से पानी निकासी की समस्या पर जिलाधिकारी ने निकासी के लिए नाली की सफाई कराने तथा यहाॅ पर मत्स्य पालन हेतु तालाब निर्माण का प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए। देवर खडोरा से पनार एवं तोली ताल तक सुगम्य पैदल मार्ग निर्माण की मांग पर जिलाधिकारी ने वन विभाग को शीघ्र प्रस्ताव उपलब्ध कराने की बात कही। कहा कि इसके लिए धनराशि की व्यवस्था भी की जाएगी। डुग्री मोटर मार्ग में डामरीकरण क्षतिग्रस्त होने की शिकायत पर जिलाधिकारी ने लोनिवि को मोटर मार्ग पर 10 फरवरी तक नाली निर्माण कार्य पूरा कराने के निर्देश दिए।

पीएम आवास से जुड़ी शिकायतों का समाधान करते हुए जिलाधिकारी ने बताया कि आवास के लिए जिन लाभार्थियों का नाम सूची में है भारत सरकार से धनराशि मिलने पर उनकों आवंटित की जाएगी और जो पात्र लोग छूट गए है उनका नाम भी सूची में जोड़ा जाएगा। वही नैल कुडाऊ में अनाथ बच्चे की परवरिश की समस्या पर जिलाधिकारी ने बच्चों की पेंशन लगाते हुए परवरिश करने वाले परिजनों को देने को कहा। राइका कुजौं मैकोट में साइंस लैब एवं लब्रोटरी उपकरण के लिए जिला शिक्षा अधिकारी को प्रस्ताव उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। इस दौरान पैदल रास्ते, क्षतिग्रस्त पुलिया निर्माण, पंचायत भवन निर्माण, आर्थिक सहायता से जुड़ी समस्याओं का भी निराकरण किया गया। जिलाधिकारी ने ग्राम प्रधानों को गांव क्षेत्रों में छोटी-छोटी समस्याओं को दूर करने के लिए 14वें तथा 15 वें वित्त की धनराशि के साथ मनरेगा से कन्वर्जेन्स कर कार्य करने पर जोर दिया। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी हंसादत्त पांडे, सीएमक्यूआरटी के नोडल अधिकारी अर्षित गोदवाल, डीडीओ सुमन बिष्ट सहित जिला स्तरीय, ब्लाक एवं तहसील स्तरीय अधिकारी एवं क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि व ग्रामीण मौजूद थे।

जिले में मुख्यमंत्री त्वरित समाधान सेवा कार्यक्रम (सीएम क्यूआरटी) के तहत 1 अक्टूबर से कार्य शुरू हुआ। तब से लेकर अब तक शिविरों के जरिए विभिन्न विभागों से संबधित 265 शिकायतें प्राप्त हुई। जिनमें से से अधिकांश शिकायतों का निस्तारण किया जा चुका है। जिले में सड़क, बिजली, पानी, शिक्षा जैसी मूलभूत सुविधाओं के लिए आमजन को परेशानी का सामना न करना पड़े, इसके लिए बीते वर्ष अक्टूबर में क्यूआरटी का गठन किया गया। जो शिकायतों का त्वरित समाधान कर रही है।

वही दूसरी ओर जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने दशोली ब्लाक के देवर खडोरा गांव का भ्रमण कर अतिकुपोषित बच्चे अमित कुमार के घर पर जाकर उसका हालचाल जाना। इस बच्चे को जिलाधिकारी ने गोद ले रखा है। उन्होंने अति कुपोषित बच्चे को पौष्टिक आहार हेतु काजू, बदाम, छवारे, अखरोट, वाॅर्नबिटा, घी सहित विविध पौष्टिक सामग्री उपलब्घ कराते हुए उसके माता पिता को बच्चे का विशेष ध्यान रखने की सलाह दी। साथ बच्चे की बेसिक शिक्षा के लिए किशोरी किट भी प्रदान की। बाल विकास अधिकारी ने बताया कि यह बच्चा पहले अति कुपोषित श्रेणी में था जो अब कुपोषित श्रेणी में आ गया है। वही मुख्य विकास अधिकारी हंसादत्त पांडे ने भी अति कुपोषित बच्चे वैभव को पोषण आहर किट उपलब्ध कराई गई। इस दौरान डीपीओ संदीप कुमार एवं अन्य अधिकारी मौजूद थे।

Leave a Reply