मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने चमोली में जिला स्तरीय अधिकारियों की समीक्षा बैठक की

संतोष नेगी/चमोली/ मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने चमोली में जिला स्तरीय अधिकारियों की समीक्षा बैठक ली। इस दौरान मुख्यमंत्री ने जिला योजना, राज्य सेक्टर, केन्द्र पोषित सहित विभिनन विकास योजनाओं की समीक्षा करते हुए सड़क निर्माण कार्यो में तेजी लाने एवं स्वरोजगार योजनाओं से अधिक से अधिक लोगों को लाभान्वित करने पर जोर दिया।

चमोली जनपद में जिला योजना की अच्छी प्रगति पर मुख्यमंत्री ने संतुष्टि व्यक्त की। साथ ही जिला योजना के तहत किए गए विकास कार्यो की भी सराहना की। वही इस वित्तीय वर्ष में समय की कमी को देखते हुए मुख्यमंत्री ने राज्य सेक्टर और केन्द्र पोषित योजनाओं के क्रियान्वयन में तेजी लाने के निर्देश अधिकारियों दिए। कहा कि इस वित्तीय वर्ष में मात्र दो माह शेष रह गए है। इसलिए राज्य सेक्टर व केन्द्र पोषित योजनाओं के तहत प्रस्तावित कार्यो को भी समय से पूरा करना सुनिश्चित करें।

विद्यालयों में गुणवत्तापरक शिक्षा देने पर जोर देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि विद्यालयों को क्लब किया जाना नितांत आवश्यक है। ताकि अध्यापकों की कमी दूर हो और बच्चों को गुणवत्ता युक्त अच्छी शिक्षा मिल सके। उन्होंने विद्यालयों को क्लब करने हेतु सर्वेक्षण करने को कहा।
मुख्यमंत्री ने विकास कार्यो को गुणवत्ता के साथ समय से पूरा करने के लिए अधिकारियों को फिल्ड विजिट करने एवं विकास कार्यो की रेग्यूलर माॅनिटरिंग करने के निर्देश दिए। कृषि, उद्यान, पशुपालन, मत्स्य विभागों को क्लस्टर एप्रोज के साथ ही मल्टी लेयर फार्मिंग पर फोकस करने को कहा। वही ग्रामीण क्षेत्रों में वर्ग-5 और वर्ग 7 ‘क’ की भूमि से जुड़ी समस्याओं के समाधान के लिए जिलाधिकारी को अलग से टीम गठित करने को कहा।

जिला अस्पताल में हरमोनियल और थाइराइड टेस्ट की व्यवस्था शुरू कराने पर मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन की सराहना की। सीएम ने कहा कि उनकी सरकार का फोकस विशेष रूप से प्रदेश में स्वास्थ्य चेन को मजबूत करना है। साथ ही पर्यटन व सोलर ऊर्जा क्षेत्र को भी मजबूती देने पर फोकस किया जा रहा है।

जल संरक्षण पर जोर देते हुए मुख्यमंत्री ने जलस्रोतों के रिचार्ज हेतु सभी को मिलकर ठोस कार्ययोजना के साथ कार्य करने को कहा। ताकि जलस्रोतों को संरक्षित रखा जा सके।
मुख्यमंत्री ने जिला स्तर पर हेरिटेज स्ट्रीट विकसित करने की बात कही। कहा कि हर जिले में हेरीटेज स्ट्रीट बने ताकि यहाॅ आने वाले पर्यटकों को राज्य के संस्कृति एवं परम्पराओं की झलक मिल सके। इस दौरान मुख्यमंत्री ने विभिन्न योजनाओं के तहत लाभार्थियों को चैक वितरित किए और न्याय पंचायत स्तर पर पुस्तकालय स्थापना हेतु किताबें व जरूरी सामग्री का वितरण भी किया गया।

बैठक में जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने मुख्यमंत्री को जनपद में विकास कार्यो की प्रगति से अवगत कराया। जिले में नवचारी एवं विकास कार्यो की जानकारी देते हुए जिलाधिकारी ने बताया कि 60 विद्यालयों में ई-लर्निंग व्यवस्था शुरू की गई है। इसके अलावा स्कलों में स्मार्ट क्लास, माॅडल पेपर, कैरियर मार्गदर्शिका, संन्देशपरक वाॅल पेन्टिंग कराई गई है तथा 120 आंगनबाडी केन्द्रों में सभी संशाधन उपलब्ध कराते हुए माॅडर्न बनाया गया है। वही मेधावी युवाओं के लिए जिले में निःशुल्क प्रेरणा कोचिंग सेंटर का संचालन किया जा रहा है।

जनपद के 9 स्वास्थ्य केन्द्रों में लेबर रूम को भी माॅर्डन बनाया गया और जिला अस्पताल में तिमारदारों के ठहरने के लिए गेस्ट हाउस का निर्माण कार्य प्रगति पर है। किसान समूहों को 80 प्रतिशत सब्सिडी पर फार्म मशीनरी बैंक उपलब्ध कराकर लाभान्वित किए गए है। काश्तकारों के उत्पादों के विपणन के 7 ग्रामीण हाॅट, किसान बाजार एवं आउटलेट बनाए गए है। जिलासू एवं लंगासू को आयुर्वेदा सर्किट के रूप में विकसित किया जा रहा है। इस दौरान जिलाधिकारी ने विभिन्न नवाचारी एवं विकास कार्यो की पावर प्वाइंट प्रजेन्टेशन के माध्यम से विस्तृत जानकारी दी।

कलेक्ट्रेट परिसर में पहाडी संग्रहालय में परम्परागत पहाडी आभूषण, पुरानी प्रचलित मुद्राएं और वर्तनों आदि हेरीटेज वस्तुओं की झलक देख मुख्यमंत्री अभिभूत हुए और इसे जिला प्रशासन की एक बेहतरीन पहल बताया। कहा की हमारी आने वाली पीढ़ी को इस हेरिटेज संग्रहालय से निश्चित ही एक नई सोच और दिशा मिलेगी। वही वेस्ट टू वंडर पार्क का निरीक्षण करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जिला प्रशासन ने जिस तरह से यहां पर अनुपयोगी वस्तुओं का इस्तेमाल कर एक खूबसूरत पार्क तैयार किया है वह सभी के लिए प्रेरणादायक और लाभाकारी है।

इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने पीजी कॉलेज गोपेश्वर में जिला प्रशासन द्वारा संचालित निशुल्क प्रेरणा कोचिंग सेंटर में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे युवाओं से संवाद किया। मुख्यमंत्री ने प्रेरणा कोचिंग सेंटर को युवाओं के भविष्य के लिए जिला प्रशासन की एक अच्छी पहल बताते खूब प्रशंसा की। कहां की यहां से 29 युवा अपने-अपने क्षेत्रों में सफल हुए हैं जोकि जिला प्रशासन की सराहनीय और सकारात्मक सोच को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि युवाओं की प्रतिभा को पहचान कर उनकी प्रतिभा के अनुसार कोचिंग दी जाए तो बेहतर परिणाम मिल सकते है।

इस दौरान मुख्यमंत्री ने पीजी काॅलेज गोपेश्वर में माॅडर्न स्मार्ट क्लास का उद्घाटन भी किया। जिला प्रशासन के माध्यम से जिले के गोपेश्वर, जोशीमठ, पोखरी तथा कर्णप्रयाग महाविद्यालयों में माॅर्डन स्र्माट क्लास बनाए गए है। इसमें प्रोजेक्टर, माइक सिस्टम, फर्नीचर सहित सभी आधुनिक उपकरण लगाए गए है। ताकि काॅलेज के छात्रों को आॅडियो-विजुअल मैथड से पढाया जा सके।

इससे पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पीजी कॉलेज गोपेश्वर में पार्टी कार्यकर्ताओं से भेंटवार्ता की। और पुलिस मैदान गोपेश्वर में स्वर्गीय दिनेश जोशी मेमोरियल क्रिकेट टूर्नामेंट का उद्घाटन भी किया।

इस दौरान बद्रीनाथ विधायक महेन्द्र प्रसाद भट्ट, थराली विधायक मुन्नी देवी शाह, कर्णप्रयाग विधायक सुरेन्द्र सिंह नेगी, भाजपा जिला अध्यक्ष रघुवीर सिंह बिष्ट, जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष गजेन्द्र सिंह रावत, जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया, पुलिस अधीक्षक यशवंत सिंह चैहान, सीडीओ हंसादत्त पांडे सहित आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply