उच्चायुक्त की दावत में पहुंची अनुष्का शर्मा के बचाव पर बीसीसीआई ने दिया ये जवाब
437

तृप्ति रावत/ भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली और अनुष्का शर्मा को लेकर सोशल मीडिया में बीसीसीआई वालों को खूब खरी खुटी सुननी पड़ी। लेकिन अब अनुष्का शर्मा के बचाव में बीसीसीआई वालों नेजवाब दिया है। बीसीसीआई ने कहा है कि हाई कमीशन और उनकी पत्नी अनुष्का शर्मा को डिनर के लिए आमंत्रित किया गया था।

वहीं इस सूत्र ने यह भी कहा कि रहाणे को पीछे की पंक्ति में खड़े होने के लिए नहीं कहा गया था। रहाणे खुद अपनी मर्जी से पीछे खड़े हुए। उन्होंने कहा कि अनुष्का शर्मा भारतीय टीम को दिए गए भोज में हाई कमीश्नर और उनकी पत्नी के निमंत्रण पर शामिल हुई थीं। इस भोज का आयोजन उच्चायुक्त और उनकी पत्नी द्वारा दिया गया था, उच्चायोग द्वारा नहीं। सूत्र ने कहा कि इस भोज का आयोजन हाई कमिश्नर के घर पर था न कि कार्यालय पर।

दूसरी ओर, बीसीसीआई के सूत्र ने कहा कि जब भी भारतीय टीम विदेशी दौर पर जाती है, तो भारतीय उच्चायोग डिनर पर मुलाकात के लिए बुलाती है जो एक तरह से सामान्य बन गया है। भारतीय उच्चायोग खिलाड़ियों को अपने परिवार और रिश्तेदारों के साथ निमंत्रण देता है। और यह पूरी तरह से खिलाड़ी पर है कि वह अपने साथ किसे लेकर जाता है या नहीं लेकर जाता है। लंदन में भी खिलाड़ियों को अपने परिवार के साथ आमंत्रित किया गया और यहां भी प्रोटोकॉल का कोई उल्लंघन नहीं हुआ है।

बता दें कि लॉर्ड्स में होने वाले दूसरे टेस्ट से पहले टीम इंडिया ने लंदन में भारतीय हाई कमीशन से मुलाकात की थी। जिसके बाद बीसीसीआई ने अपने ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट पर इसकी तस्वीर शेयर की। इस तस्वीर में विराट के साथ अनुष्का शर्मा भी नजर आ रही हैं। अनुष्का के अलावा किसी भी क्रिकेटर की पत्नी वहां मौजूद नहीं थी। जिसके चलते भारतीय फैंस नाराज होने लगे।

साथ ही फैंस ने उपकप्तान अजिंक्य रहाणे के तस्वीर में सबसे पीछे खड़े होने को लेकर भी विराट-अनुष्का पर निशाना साधा। हालांकि अब इस बात को लेकर खुलासा हो गया है कि आखिर क्यों टीम इंडिया के साथ अनुष्का भी वहीं मौजूद थीं।

टीम इंडिया के इंग्लैंड दौरे की टी20 और वनडे सीरीज खत्म होने के बाद टेस्ट मैचों के लिए रोहित शर्मा को नहीं चुना गया है। रोहित ने पहले ही टी20 सीरीज के आखिरी मैच में शतक लगाया और उसके बाद पहले वनडे में भी शानादार शतक लगाया। इसके बावजूद रोहित का टेस्ट टीम में चयन न होना एक नजर में तो चौंका ही सकता है।

वहीं बीसीसीआई ने एक नया नियम भी लागू किया है। यानी की अब मैच के शुरुआती 14 दिन क्रिकेटर्स की पत्नियों का आना मना होगा। इसके बाद के दो हफ्तों यानी 14 दिन के लिए पत्नियां अपने क्रिकेटर पतियों के साथ रह सकती हैं। हालांकि, बीसीसीआई ने अभी यह तय नहीं किया है कि ये 14 दिन कौन से होंगे। इसका फैसला क्रिकेट खिलाड़ियों और उनकी पत्नियों पर छोड़ दिया है। बता दें कि भारतीय टीम को इंग्लैंड में अभी 45 से 50 दिन गुजारने हैं।

 

Leave a Reply