केन्द्र व राज्य सरकार ने नौजवानों व आमजन को धोखा दिया-शिवपाल
174

स्वतंत्रता का मूल अर्थ है कि हम अपने सीमित संसाधनों का प्रयोग किस तरह, किनके लिए, किन मूल्यों व मान्यताओं के लिए करें, और इसका अधिकार किन हाथों में दें। अहम सवाल यह है कि लाखों लोगों के बलिदान से हासिल इस आजादी का उद्देश्य किस तरह और किसका विकास करना है। गरीब मजलूम, किसान, नौजवानों के साथ ही लघु व मझोले व्यवसायी सरकार की  नीतियों से संकट में हैं। सामान्य मान्यता है कि भ्रष्टाचार ऊपर से नीचे की ओर जाता है लेकिन प्रदेश में मुख्यमंत्री ईमानदार हैं, लेकिन बाकी मंत्री व अधिकारी की नीयत व आम आदमी को मदद पहुंचाने की मंशा में खोट है। भ्रष्टाचार कई गुना बढ़ चुका है। यह बातें 72 वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर इटावा के तकिया चौराहे से 18 वीं विशाल श्रद्धांजली यात्रा को हरी झंडी दिखाते हुए पूर्व लोक निर्माण मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने कही। उन्होंने कहा कि जल्द ही केंद्र व राज्य सरकार की नीतियों के खिलाफ वे नौजवानों व आम जन के संग हल्ला बोलेंगे। और इस कड़ी में प्रदेश भर की यात्राएं करें।

श्री यादव ने यह भी कहा कि जब आजादी मिली थी तो महात्मा गांधी बहुत दूर नोआखाली के दंगों को शांत करने में लगे थे, वे आजादी के जश्न में शामिल नहीं हुए। उन्होंने कहा था कि जब तक किसी के आंखों में आंसू हो मैं जश्न कैसे मना सकता हूं। दुःखद है कि आज के शासक ऐसा नहीं सोचते। देश में साम्प्रदायिक विभाजन लगातार बढ़ता जा रहा है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने अपना कोई भी वादा पूरा नहीं किया। दो करोड़ रोजगार देने का वादा करने वाले मोदी रोजगार सहित तमाम वादों को पूरा करने में विफल रहें हैं। युवाओं में निराशा है। न ही सार्वजनिक क्षेत्र में और न ही निजी क्षेत्र में रोजगार उपलब्ध कराया जा सका है। उन्होंने समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं को यह सलाह दिया कि विपक्ष के समय में आपका जन समर्थन में स्वर मुखर व सशक्त होने चाहिए। यह संघर्ष का सबसे महत्वपूर्ण समय होता। संघर्ष की कोख से ही आम लोगों का ध्यान रखने वाली सत्ता व नेतृत्व का जन्म होता है।

72वें स्वतंत्रता दिवस पर आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों की इस कड़ी में श्री यादव ने चौधरी चरण सिंह पीजी कॉलेज, हैंवरा, डिस्ट्रिक्ट कोआपरेटिव बैंक सहित विभिन्न संस्थानों में ध्वजारोहण किया साथ ही अन्य कई कार्यक्रमों में सम्मिलित हुए। इसी कड़ी में श्री यादव ने एक पौधा भी लगाया। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि तर्क, सहिष्णुता, मानवता की उर्वर जमीन पर हमारे लोकतंत्र का पौधा भी फले-फूले, स्वतंत्रता, समानता व बंधुत्व के मूल्य इसकी जड़ों को उर्वरता दें, ऐसी शुभकामना।

इस अवसर पर पूर्व मंत्री रामसेवक जी, पूर्व इटावा सपा जिलाध्यक्ष सुनील यादव, पूर्व विधायक व पूर्व सांसद रघुराज सिंह शाक्य, पूर्व विधायक सुखदेवी वर्मा, जिला पंचायत सदस्य बबलू यादव, ब्लॉक प्रमुख मोंटी यादव , ब्लॉक प्रमुख हरिओम यादव उपस्थित थे । और सभी ने अपने विचार रखे।

News Reporter

Leave a Reply