सी.एम.एस. के विभिन्न कैम्पस में  आॅनलाइन मनाया गया ‘विश्व पर्यावरण दिवस’

लखनऊ, 5 जून। सिटी मोन्टेसरी स्कूल के सभी 18 कैम्पसों में आज आॅनलाइन ‘विश्व पर्यावरण दिवस’ मनाया गया। इसी कड़ी में सी.एम.एस. अलीगंज (प्रथम कैम्पस) द्वारा जूम एप पर वेबिनार का आयोजन सम्पन्न हुआ, जिसका विषय था ‘अर्थ, इन्वार्यनमेन्ट एण्ड कोविड-19’। इस इण्टरएक्टिव सेशन में विशिष्ट अतिथि के तौर पर पर्यावरण एक्टिविस्ट एवं इण्टरनेशनल चिल्ड्रेन्स पीस प्राइज-2016 की विजेता सुश्री कहकशाँ बासु भी टोरंटो, कनाडा से शामिल हुई। इसके साथ ही, सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी, सी.एम.एस. अलीगंज (प्रथम कैम्पस) की वरिष्ठ प्रधानाचार्या श्रीमती ज्योति कश्यप, प्रधानाचार्या श्रीमती शिवानी सिंह एवं 100 से अधिक छात्रों ने आॅनलाइन प्रतिभाग किया। इस वेबिनार में ‘विश्व पर्यावरण दिवस’ की इस वर्ष की थीम ‘सेलिब्रेटिंग बायोडायर्सिटी’ पर चर्चा-परिचर्चा सम्पन्न हुई।
इस अवसर पर सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी ने पर्यावरण संरक्षण हेतु विद्यालय के शिक्षकों व छात्रों की आॅनलाइन मुहिम की भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए कहा कि प्रकृति प्रदत्त धरती के संसाधनों एवं इस धरती के अनुपम धरोहर पेड़-पौधों का संरक्षण प्रत्येक नागरिक का कर्तव्य है। सिटी मोण्टेसरी स्कूल एक ऐसी शिक्षण संस्था है जो छात्रों, अभिभावकों व समाज के अन्य वर्गों में ‘पर्यावरण बचाओ – धरती को सजाओ’ का संदेश देता आ रहा है एवं सी.एम.एस. के सभी 56,000 छात्रों, उनके माता-पिता व अभिभावकों के माध्यम से समस्त लखनऊवासियों को पर्यावरण संरक्षण हेतु प्रेरित कर रहा है।
सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने बताया कि ‘विश्व पर्यावरण दिवस’ के अवसर पर सी.एम.एस. के विभिन्न कैम्पसों में भी आज आॅनलाइन ‘विश्व पर्यावरण दिवस’ मनाया गया। इस अवसर पर सी.एम.एस. छात्रों ने अपने-अपने घरों एवं पास-पड़ोस में वृक्षारोपण कर एवं पोस्टर व कार्ड बनाकर घरती को हरा-भरा बनाये रखने का संदेश दिया। सी.एम.एस. शिक्षकों ने आज विशेष आॅनलाइन कक्षाओं का संचालन कर छात्रों को पर्यावरण संवर्धन की महत्ता से अवगत कराया एवं जलवायु परिवर्तन व पर्यावरण के दूषित होने के कारणों पर प्रकाश डालते हुए भावी पीढ़ी को पर्यावरण संवर्धन के प्रति जागरूक किया।
श्री शर्मा ने बताया कि सामाजिक जागरूकता के प्रयासों में सी.एम.एस. सदैव ही अग्रणी रहा है एवं सी.एम.एस. छात्रों ने पढ़ाई में सर्वोच्च कीर्तिमान बनाने के साथ ही साथ सामाजिक जागरूकता की भी अनूठी मिसाल प्रस्तुत की है। सी.एम.एस. का प्रयास है कि पर्यावरण संवर्धन के महत्व को समझकर न केवल आज की पीढी सुख शान्ति से रहे बल्कि आने वाली पीढियां भी हरे भरे शुद्ध वातावरण में सांस ले सकें व सुरक्षित रहें।

Leave a Reply