देश का जवान और किसान दोनों ही बदहाल- शिवपाल
95

समाजवादी पार्टी से अलग हो अपनी अलग पार्टी बनाने वाले शिवपाल यादव ने भाजपा सरकार को आड़े-हाथों लिया। पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के जन्मदिवस पर उन्होंने कहा की समाजवादी सेक्युलर मोर्चा किसानों का मोर्चा है और किसान समाजवादी सेक्युलर मोर्चा की प्राथमिकता के क्रम में सर्वोच्च हैं। आज “जय जवान-जय किसान“ के उद्घोषक लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर दिल्ली कूच कर रहे किसानों पर हुए पुलिस के बर्बर बल प्रयोग की कड़ी निंदा करता हूँ एवं किसानों का और उनकी मांगों का समर्थन करता हूँ। किसान देश का अन्नदाता है और उसका बेटा जवान देश का रक्षक, पर इस सरकार में जवान सीमा पर मर रहा है और किसान हर तरह से बदहाल है। इस मुश्किल राजनैतिक परिप्रेक्ष्य में समाजवादी सेक्युलर मोर्चा दृढ़ता से किसानों के साथ खड़ा है।

उन्होंने अपनी बात बढाते हुए कहा की पिछले दो दशकों से कृषि को लेकर सरकारी पंचवर्षीय योजनाओं में उपेक्षा का भाव देखा जा रहा है। उर्वरक, कीटनाशकों के दाम में होने वाली बढ़ोत्तरी से कृषि उत्पादन की लागत बढ़ती जा रही है और उसकी अपेक्षा किसानों को वाजिब दाम नहीं मिल रहा है, अपितु लागत मूल्य निकालने में भी समस्या हो रही है। आज देश में हर 24 घंटे में देश में 35 किसान आत्महत्या कर रहा है। किसानों को लेकर सरकार के रवैये में बदलाव की जरूरत है और इसके लिए समाजवादी सेक्युलर मोर्चा किसानों के हर संघर्ष में उनके साथ है।

 

Leave a Reply