जम्मू-कश्मीर के गवर्नर के रूप में सत्यपाल मलिक ने ली शपथ
551

नई दिल्ली: सत्यपाल मलिक ने गुरुवार को जम्मू-कश्मीर के गवर्नर के रूप में शपथ ली थी। मलिक ने एन एन वोहरा की जगह ली, जिसका राज्य राज्य के राज्यपाल के रूप में कार्यकाल समाप्त हो गया था। मलिक एक साल से भी कम समय के लिए बिहार के गवर्नर थे।वहीं बिहार के राज्‍यपाल के लिए लालजी टंडन को चुना गया है।

जम्मू-कश्मीर में गवर्नर की नियुक्ति इस बिंदु पर महत्व रखती है क्योंकि बीजेपी और पीडीपी ने जून में गठबंधन तोड़ने के बाद राज्य राज्यपाल शासन के अधीन है। नई नियुक्ति सुप्रीम कोर्ट में अनुच्छेद 35-ए की सुनवाई से कुछ दिन पहले हुई है।मलिक केंद्रीय संसदीय कार्य और पर्यटन राज्यमंत्री भी रह चुके हैं. वह केंद्र एवं उत्तर प्रदेश सरकारों में महत्वपूर्ण पदों पर रहे हैं।

मेरठ विश्वविद्यालय में सोशलिस्ट नेता के तौर पर अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत करने वाले सतपाल मलिक1974 में उत्तर प्रदेश के बागपत से चौधरी चरण सिंह के भारतीय क्रांति दल से वह विधायक बने. फिर वो 1984 में कांग्रेस में शामिल हो हए थे और पार्टी से राज्यसभा सदस्य बने लेकिन बोफोर्स घोटाले की पृष्ठभूमि में तीन साल बाद इस्तीफा दे दिया।

वह 1988 में वे जनता दल में शामिल हो गए और 1989 में पार्टी के टिकट पर अलीगढ़ से सांसद बने।वर्ष 2004 में सतपाल मलिक भाजपा में शामिल हो गए और अजित सिंह के खिलाफ चुनाव लडे लेकिन उनको हार का सामना करना पड़ा। फिर उन्होंने भाजपा के किसान मोर्चा के प्रभारी के रुप में काम किया।  4 अक्टूबर 2017 को वो बिहार के राज्यपाल बनाए गए थे। उन्होंने बोफोर्स घोटाले के बाद राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया था।

सतपाल मलिक के ऊपर जम्मू कश्मीर में सिविक चुनाव कराने की जिम्मेदारी होगी जो काफी समय से विलंब में है। सतपाल मलिक ने कहा है कि वो जम्मू कश्मीर के लोगों का दिल जीतने की कोशिश करेंगे।

Leave a Reply