UK की अदालत ने भारत सरकार के सभी आरोप सही बताए, Nirav Modi को भारत वापस लाने की तैयारी शुरू!

भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी के प्रत्यर्पण के मामले में भारतीय अधिकारियों को ब्रिटेन की अदालत में बड़ी जीत मिली है। नीरव मोदी प्रत्यर्पण के खिलाफ अपना केस हार गया है। इसके बाद भारत ने कहा है कि नीरव मोदी के मामले में ब्रिटेन के कोर्ट के फैसले के बाद उसके प्रत्यर्पण के लिए जल्द संपर्क किया जाएगा। फिलहाल अदालत ने मामला वहां के होम सेक्रेटरी के पास भेजा है। उनके अप्रूवल पर आगे की स्थिति निर्भर करेगी। फिलहाल इसके लिए दो महीने का वक्त मिल सकता है। विदेश मंत्रालय ने इस मामले में प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि नीरव मोदी पंजाब नेशनल बैंक फ्रॉड मामले में भारत में वांछित है। सीबीआई और ईडी के अनुरोध पर ब्रिटेन से उसका प्रत्यर्पण अगस्त, 2018 में मांगा गया था।

प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने बताया कि 20 मार्च, 2019 को वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत में वरिष्ठ जिला न्यायाधीश के समक्ष नीरव को गिरफ्तार किया गया था। तब से उन्हें न्यायिक हिरासत में रहते हुए प्रत्यर्पण की कार्यवाही का सामना करना पड़ रहा है। विदेश मंत्रालय ने बताया कि इस मामले में अंतिम सुनवाई 7-8 जनवरी 2021 को हुई थी। प्रवक्ता ने कहा कि गुरुवार को लंदन में वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत ने फैसला सुनाया है। प्रवक्ता ने आदेश का हवाला देते हुए बताया कि न्यायाधीश ने कहा है कि नीरव मोदी ने सबूतों को नष्ट करने और गवाहों को डराने के लिए साजिश रची। वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत ने यूके के गृह सचिव को नीरव मोदी के प्रत्यर्पण की सिफारिश की है, इसलिए भारत सरकार प्रत्यर्पण के लिए यूके अधिकारियों के साथ संपर्क करेगी।

प्रत्यर्पण से बचने के लिए नीरव मोदी ने कोर्ट में कहा कि वह मानसिक रूप से बीमार है। साथ ही उसने भारत की जेल में सुविधाएं न होने का दावा किया। उसके वकीलों ने कहा कि मामला विवादित है। नीरव मोदी पर गलत आरोप लगाए गए हैं।

कोर्ट ने नीरव की मानसिक स्वास्थ्य की चिंता को खारिज कर दिया। कहा कि अगर नीरव को भारत भेजा जाता है तो उसके आत्महत्या करने का कोई खतरा नहीं है क्योंकि उसे ऑर्थर रोड जेल में उचित चिकित्सकीय सहायता मिलेगी।
नीरव मोदी लंदन की वांड्सवर्थ जेल में बंद है। लंदन कोर्ट में जज सेमुअल गूजी के फैसले के बाद मामला अब ब्रिटेन के गृह मंत्रालय के पास जाएगा। प्रत्यर्पण को लेकर कोर्ट के फैसले पर गृह मंत्री प्रीति पटेल आखिरी मोहर लगाएंगी। इसके बाद भारत के इस वांटेड भगोड़े को मुंबई जेल लाए जाने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

Leave a Reply