मरूई गांव में बिना परमिट काटे गए सैकड़ों पेड़, वन क्षेत्राधिकारी ने शुरू की जांच

बिस्मिल्लाह खान कुमारगंज-अयोध्या।कुमारगंज वन रेंज में हरे भरे पेड़ों की अवैध कटान थमने का नाम नहीं ले रही है। विभागीय उच्चाधिकारियों की सख्ती के बावजूद भी हरे-भरे सागौन के सैकड़ों पेड़ों को ठेकेदार ने किसान की मदद से कटवा डाला है। ग्रामीणों की शिकायत पर उप प्रभागीय वन अधिकारी कुमारगंज ने विभागीय कार्रवाई शुरू कर दी है।

सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे बीट प्रभारी ने आरोपी कृषक को गिरफ्तार कर न्यायालय भेज दिया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार कुमारगंज वन रेंज अंतर्गत कुमारगंज थाने की पुलिस चौकी चिलबिली क्षेत्र के मरूई गनेशपुुुर गांव निवासी कृषक रामनाथ पुत्र स्व सीताराम के खेत के मेढ़ पर सैकड़ों से अधिक सागौन के पेड़ लगे थे। किसान के बेचने पर रायबरेली जनपद के लकड़ी ठेकेदार मुकेश कुमार ने बिना वन विभाग व पुलिस विभाग को सूचना दिए ही प्रतिबंधित पेड़ो का कटान कर दिया था।

इसी बीच टास्क फोर्स प्रभारी अयोध्या रविशंकर प्रसाद को सूचना दिया। सूचना पाकर मौके पर पहुंचे डिप्टी रेंजर राजेश कुमार यादव, बीट प्रभारी दिलीप श्रीवास्तव ने बताया कि बीतेे सोमवार को उक्त ठेकेदार द्वारा बिना अनुमति के 18 पेड़ सागौन के काटे गए थे। जिसका जुर्माना 1 लाख 20 हजार रुपए हुआ था जिसमें से 30 हजार रुपए तत्काल वसूल भी किया गया था और ठेकेदार को हिदायत दी गई थी कि बिना अनुमति के यदि पेड़ काटा जाएगा तो तुम्हारे खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाएगी। इसके बाद भी ठेकेदार द्वारा 108 पेड़ कटवा डाला गया।

दोबारा पेड़ों के काटे जाने की जानकारी पाकर वन विभाग की टीम मौके पर पहुंच गई थी तथा पेड़ मालिक तिलकराम को पकड़कर वन रेंज लाई थी। बुधवार को अवैध कटान कराने के आरोपी पेड़ मालिक तिलकराम के विरुद्ध विभागीय मुकदमा कायम करते हुए बीट प्रभारी दिलीप कुमार श्रीवास्तव ने हिरासत में लिए गए पेड़ मालिक को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट फैजाबाद के न्यायालय में पेश किया। वहीं दूसरी ओर अब बड़े पैमाने पर काटे गए हरे भरे पेड़ों के मामले को लेकर चर्चाओं का बाजार पूरी तरह से गर्म हो गया है ।

Leave a Reply