अयोध्या में बना विश्व रिकॉर्ड, जलाए गए 3 लाख 1 हज़ार 152 दीपक, Guinness book की टीम ने की पुष्टि
46

रुपेश श्रीवास्तव। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम की धरती अयोध्या में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का तीन दिवसीय दीपोत्सव धार्मिक आध्यात्मिक और सामाजिक सरोकार का अनूठा गवाह बन गया,जिसमें 3 लाख से अधिक दीयो के एक साथ प्रज्ज्वलित होने पर जहां अद्भुत रोशनी से राम की पैड़ी नहा उठी,जो विश्व कीर्तिमान स्थापित करते हुए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हो गई,वहीं कोरिया गणराज्य की प्रथम महिला लेडी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के संयुक्त रूप से किए गए राम राज्याभिषेक को देख उपस्थित जनसमूह भाव विभोर हो उठा,रामायण के प्रसंगों पर आधारित 15 झांकियां निकाली गई और वाटर शो के साथ ही लेजर शो के माध्यम से धार्मिक आकृतियों के सृजन ने सबका मन मोह लिया,सरयू नदी के उस पार से की गई आतिशबाजी विशेष आकर्षण का केंद्र रही,सभी आयोजनों में लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया |

मुख्यमंत्री की घोषणा के बाद फैजाबाद का नाम अयोध्या हो गया।और इसी के साथ मुख्यमंत्री ने 137 करोड़ के विकास की योजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण भी किया जिसमें नमामि गंगे योजना के अंतर्गत शामिल कर के पावन सलिला सरयू को अविरल और निर्मल बनाया जाएगा इसके अतिरिक्त निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेज का नाम भगवान राम के पिता दशरथ के नाम होगा और विस्तारित होने वाले एयरपोर्ट का नाम भगवान राम के नाम से होगा मुख्यमंत्री ने दृढ़ता पूर्वक कहा कि अयोध्या को ऐसा सुंदर और वैभवशाली बनाएंगे कि यहां के निवासियों के साथ ही आने वाले पर्यटक भी गर्व महसूस करें

भगवान श्री राम के राज्याभिषेक कार्यक्रम और दीपोत्सव आयोजन में शामिल होने के लिए दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला किम जोंग सुक 50 सदस्य कोरियाई प्रतिनिधिमंडल के साथ राम नगरी अयोध्या पहुंचीं| जहां पर उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ मिलकर संयुक्त रूप से अयोध्या में सरयू तट के किनारे स्थित महारानी हो के पार्क की विस्तारीकरण योजना का शिलान्यास किया | इस दौरान कोरिया और अयोध्या के कलाकारों ने अपनी संस्कृति से जुड़ी हुई लोक कलाओं का प्रदर्शन किया | जिसके बाद आयोजन के मुख्य अतिथि दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला किम जोंग सुक ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ राम कथा पार्क में स्थित भगवान श्री राम के राज्याभिषेक कार्यक्रम में शिरकत की | इस दौरान अयोध्या के संतों ने मुख्य अतिथि के रूप में अयोध्या दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला किम जोंग सुक का स्वागत किया |

अपने संबोधन में कोरियाई भाषा के हिंदी भाषा अनुवाद के जरिये दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला किम जोंग सुक ने भारत में मिले सम्मान और अयोध्या में मिले प्यार के लिए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को धन्यवाद ज्ञापित किया | अपने भाषण के दौरान किम जोंग सुक ने कहा कि दीपावली के मौके पर भारत में आकर और इस आयोजन में शामिल होकर उन्हें बेहद खुशी हुई है | भारत और अयोध्या वासियों से मिले प्यार से अभिभूत हूं | किम जोंग सुक ने आगे कहा कि अयोध्या और दक्षिण कोरिया के संबंध बहुत प्राचीन है। दक्षिण कोरिया भारत के साथ उज्जवल भविष्य के लिए हर कदम पर साथ है और हर योजना पर साथ काम करने को तैयार है और ये एक नए युग की शुरुआत है | कार्यक्रम की मुख्य अतिथि ने कहा कि दीपावली के मौके पर सभी के चेहरे इस तरह से चमक रहे हैं जैसे दीपक जगमगा रहे हों | दिवाली पर हर घर में जल रहे दीपों से सारे विश्व का अंधकार दूर हो रहा है | मैं कामना करती हूं कि दीपोत्सव के मौके पर मां लक्ष्मी की कृपा सभी पर हो | अपने संबोधन के दौरान कार्यक्रम के मुख्य अतिथि दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला किम जोंग सुक ने न सिर्फ भारत और दक्षिण कोरिया के संबंधों पर प्रकाश डाला बल्कि भविष्य में इन संबंधों को और मजबूत करने की वकालत करते हुए इस दिशा में हर संभव प्रयास करने की बात कही

कार्यक्रम के दौरान उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नायक ने जय श्रीराम के उद्घोष के साथ अपना संबोधन शुरू किया और इस आयोजन के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री को बधाई दी | वहीं बिहार के राज्यपाल लालजी टंडन ने अपने संबोधन के दौरान राम मंदिर मुद्दे को लेकर इशारे में कहा कि वह समय बहुत जल्द आने वाला है जिसका सभी को इंतजार है | हम उम्मीद करते हैं कि अगली दिवाली हम उसी स्थान पर मनाएंगे जहां पर सभी की कामना है | वहीं मुख्यमंत्री ने माल्यार्पण कर और शॉल उढ़ाकर मंच पर मौजूद अयोध्या के संतों का स्वागत करते हुए उन्हें कुंभ में आमंत्रित किया मुख्यमंत्री ने रामकथा संग्रहालय में लगे राम बाजार का लोकार्पण भी किया |

मंच पर विदेश राज्य मंत्री अवकाश प्राप्त जनरल वीके सिंह ,उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक, बिहार के राज्यपाल लालजी टंडन, प्रदेश की पर्यटन मंत्री रीता बहुगुणा जोशी, प्रभारी मंत्री सतीश महाना ,चौधरी लक्ष्मी नारायण सहित कई मंत्री सांसद विधायक उच्चा अधिकारी रहे मौजूद ।

तीन दिवसीय आयोजन के आखिरी दिन राम की पैड़ी की सीढ़ियों पर एक साथ 3 लाख 1 हजार 152 दीपक जलाए गए| यह पहला मौका है जब इतनी बड़ी मात्रा में एक साथ इतने दीपक जलाए गए हों| इससे पूर्व यह विश्व रिकॉर्ड डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख राम रहीम के नाम से दर्ज था, जिन्होंने अपने आश्रम पर करीब डेढ़ लाख दीपक जलाए थे, लेकिन उस रिकॉर्ड को तोड़ते हुए डेरा सच्चा सौदा से करीब दुगनी संख्या में राम नगरी अयोध्या के सरयू तट के किनारे राम की पैड़ी परिसर में दीपक जलाए गए| इस पूरे आयोजन की मॉनिटरिंग करने के लिए 3 दिन पूर्व से ही गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स की टीम अयोध्या में मौजूद थी और उसकी देखरेख में यह पूरा कार्यक्रम संपन्न हुआ| इसमें पहले से घोषित आंकड़ों के मुताबिक 3 लाख से अधिक दीपक एक साथ जलाए गए हैं, जिनकी गिनती भी पूरी की जा चुकी है|

यह सभी दीपक सरयू तट के किनारे स्थित राम की पैड़ी की सीढ़ियों पर जलाए गए और इसे जलाने के लिए करीब 6000 से अधिक वॉलिंटियर्स ने अपनी भूमिका निभाई | दीपक जलाने का जिम्मा फैजाबाद की डॉ राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय को सौंपा गया था | जिनके कुलपति प्रोफेसर मनोज दीक्षित के निर्देशन में विभिन्न स्कूल कॉलेजों के बच्चों ने बीते 24 घंटे की कड़ी मेहनत से यह सफलता पाई है|

दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला व सीएम योगी बने इस विश्व रिकार्ड के गवाह-

विश्व रिकॉर्ड बनाने वाले कार्यक्रम के आयोजन के समय प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने मंत्रिमंडल सहित कार्यक्रम के मुख्य अतिथि दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला किम जोंग सुक के साथ सरयू तट के किनारे बने राम की पैड़ी के परिसर में मौजूद थे | प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रिमोट से एक विशालकाय दीपक जलाकर इस रिकॉर्ड को कायम करने में अपनी भूमिका निभाई | इस दौरान बिहार के राज्यपाल लालजी टंडन सहित प्रदेश के उपमुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा केशव प्रसाद मौर्य के अलावा योगी मंत्रिमंडल के कई अन्य मंत्री मौजूद रहे | इससे पूर्व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सरयू तट पर मां सरयू की आरती उतारी और उसके बाद कार्यक्रम के मुख्य अतिथि दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला किम जोंग सुक की उपस्थिति में दीपोत्सव के कार्यक्रम को संपन्न कराया गया| इस आयोजन को देखने के लिए लाखों की संख्या में लोग सरयू तट के किनारे मौजूद रहे|

 

Leave a Reply