; गोपाल राय पड़ोसी राज्यों के पर्यावरण मंत्री की संयुक्त बैठक बुलाने के लिए केंद्रीय पर्यावरण मंत्री को पत्र लिखा - Namami Bharat
1win1.az luckyjet.ar mines-games.com mostbet-casino-uz.com bible-spbda.info роскультцентр.рф
गोपाल राय पड़ोसी राज्यों के पर्यावरण मंत्री की संयुक्त बैठक बुलाने के लिए केंद्रीय पर्यावरण मंत्री को पत्र लिखा

केजरीवाल सरकार अपने स्तर पर प्रदूषण कम करने के लिए हर संभव कार्य कर रही है- गोपाल राय

*- केंद्रीय पर्यावरण मंत्री से एक माह से निवेदन कर रहा हूं कि पड़ोसी राज्यों के पर्यावरण मंत्री की बैठक बुलाकर एक ज्वाइंट एक्शन प्लान बनाया जाए- गोपाल राय

*- जब तक आसपास के राज्यों के प्रदूषण को कम करने के लिए संयुक्त एक्शन प्लान नहीं बनेगा, तब तक ज्यादा प्रभावी असर होना मुश्किल है- गोपाल राय

पर्यावरण मंत्री श्री गोपाल राय  ने आज पड़ोसी राज्यों के पर्यावरण मंत्रियों की संयुक्त बैठक बुलाने के लिए केंद्रीय पर्यावरण मंत्री को पत्र लिखा है। दिल्ली के पर्यावरण मंत्री श्री  गोपाल राय ने कहा कि केंद्रीय पर्यावरण मंत्री से एक माह से निवेदन कर रहा हूं कि पड़ोसी राज्यों के पर्यावरण मंत्रियों की बैठक बुलाकर एक ज्वाइंट एक्शन प्लान जाया जाए। केजरीवाल सरकार अपने स्तर पर प्रदूषण कम करने के लिए हर संभव कार्य कर रही है। जब तक आसपास के राज्यों के प्रदूषण को कम करने के लिए संयुक्त एक्शन प्लान नहीं बनेगा। तब तक ज्यादा प्रभावी असर होना मुश्किल है।

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री श्री गोपाल राय ने केंद्रीय पर्यावरण मंत्री श्री भूपेंद्र यादव को आज पत्र लिखा है। इसमें एनसीआर क्षेत्र के सभी राज्यों के पर्यावरण मंत्रियों की बैठक बुलाने का निवेदन किया गया है। इस संबंध में गोपाल राय ने कहा कि दिल्ली के अंदर बहुत सारे आपातकालीन कदम उठाए गए हैं। दिल्ली में इस समय निर्माण-डिमोलिशन के कार्य बंद है। इसके अलावा रेड लाइट ऑन गाड़ी ऑफ अभियान चल रहा है। दिल्ली के बाहर से जो ट्रक आते हैं उन पर रोक है। सिर्फ अत्यावश्यक वस्तुओं से जुड़े ट्रक ही दिल्ली के अंदर आ रहे हैं। पीयूसी सर्टिफिकेट की जांच का अभियान चारों तरफ चल रहा है। पानी का छिड़काव किया जा रहा है और एंटी ओपन बर्निंग अभियान भी चलाया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि आईआईटीएम के डाटा के आधार पर सीएसई ने रिपोर्ट जारी की है। रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली के प्रदूषण स्तर में  31 फ़ीसदी दिल्ली के अंदर के स्रोतों का प्रदूषण है। इसके अलावा 69 फी‌सदी प्रदूषण एनसीआर के  राज्यों के स्रोत  की भागीदारी है। इसलिए सभी प्रयासों के बावजूद दिल्ली में प्रदूषण की स्थिति बनी हुई है। जिसको देखते हुए आज तीसरी बार  केंद्रीय पर्यावरण मंत्री को चिट्ठी लिखी है। उनसे एक माह से निवेदन कर रहा हूं कि पड़ोसी राज्यों के पर्यावरण मंत्रियों की बैठक होनी चाहिए। पर्यावरण मंत्रियों के साथ बैठकर एक ज्वाइंट एक्शन प्लान जाया जाए।

उन्होंने कहा कि दिल्ली में हम लगातार कार्रवाई कर रहे हैं। लेकिन बाहर के स्त्रोत से  69 फ़ीसदी प्रदूषण में जब तक कमी नहीं आएगी, तब तक दिल्ली में प्रदूषण कम नहीं होगा। इसलिए जो आज स्थिति है और सरकारें जो प्रयास कर रही हैं, उसका भी विश्लेषण किया जाए। विशेषज्ञों के साथ बातचीत करके क्या कदम उठाए जा सकते हैं, उसके ऊपर संयुक्त एक्शन प्लान बने। जिससे कि प्रदूषण की स्थिति को जल्दी नियंत्रित किया जा सके।

श्री गोपाल राय ने कहा कि हम लगातार एक ही निवेदन कर रहे हैं कि बैठक बुलाई जाए। मुझे लगता है कि व्यस्तता की वजह से नहीं बुलाई जा रही है। लेकिन जो स्थिति दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान के एनसीआर क्षेत्र में बनी हुई है, उसे देखते हुए बैठक बुलाने की जरूरत है। दिल्ली सरकार अपने स्तर पर कार्य कर रही है। लेकिन जब तक संयुक्त एक्शन प्लान नहीं बनेगा, तब तक ज्यादा प्रभावी असर होना मुश्किल है। इसलिए बार-बार निवेदन कर रहे हैं कि बैठक बुलाई जाए। उसमें विशेषज्ञों को भी शामिल किया जाए। उनके विचार जानकर आगे की कार्रवाई की जा सके।

News Reporter
पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना करियर बनाने वाली निकिता सिंह मूल रूप से उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ से ताल्लुक रखती हैं पिछले कुछ सालों से परिवार के साथ रांची में रह रहीं हैं और अब देश की राजधानी दिल्ली में अपनी सेवा दे रहीं हैं। नेशनल ब्रॉडकास्टिंग अकादमी से पत्रकारिता में स्नातक करने के बाद निकिता ने काफी समय तक राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के न्यूज़ पोर्टल्स में काम किया। उन्होंने अपने कैरियर में रिपोर्टिंग से लेकर एंकरिंग के साथ-साथ वॉइस ओवर में भी तजुर्बा हासिल किया। वर्त्तमान में नमामि भारत वेब चैनल में कार्यरत हैं। बदलती देश कि राजनीती, प्रशासन और अर्थव्यवस्था में निकिता की विशेष रुचि रही है इसीलिए पत्रकारिता की शुरुआत से ही आम जन मानस को प्रभावित करने वाली खबरों पर पैनी नज़र रखती आ रही हैं। बेबाकी से लिखने के साथ-साथ खाने पीने का अच्छा शौक है। लोकतंत्र के चौथे स्तंभ में योगदान जारी है।
error: Content is protected !!