बलरामपुर में हाथरस से भी बड़ा कांड गैंगरेप के बाद युवती की हत्या,दो गिरफ्तार

लगातार हो रही घटनाओं ने योगी सरकार की नींद उड़ा दी है हाथरस में हुई गैंगरेप की घचना के बाद बलरामपुर जिले में भी हाथरस जैसी गैंगरेप की घटना सामने आई है. यहां एक 22 वर्षीय छात्रा को अगवा कर गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया गया है. यह घटना उस वक्त हुई जब छात्रा एक कॉलेज में एडमिशन के लिए पचपेडवा गयी हुई थी. 

घटना स्थानीय थाना कोतवाली गैसड़ी के ग्राम मझौली की है। 22 वर्षीय बंदना29 सितम्बर को सुबह करीब 10 बजे घर सेे वी काम मे एडमीशन कराने के लिए पचपेड़वा गई थी शाम 4 बजे तक जब वह घर वापस तक नही लौटी तब परिजनों ने युवती को फोन मिलाया लेकिन फोन रिसीब न होने पर परिजनों मे सनसनी मच गई बन्दना पानी संस्थान एनजीओ मे भी काम करती थी / 

रात करीब 8 बजे युवती को एक रिक्शा चालक के द्वारा उसके घर के पास पहुंचाया गया। रोते बिलखते युवती घर पहुची और पेट मे अधिक दर्द होने की बात कहकर कराहने लगी गंभीर हालात देखकर परिजन इलाज के लिए अस्पताल के लिए भागे लेकिन रास्ते मे ही युवती की मौत हो गई 

खबरों के अनुसार युवती की मृत्यु से पूर्व शाम करीब 5:20 बजे शाहिल नाम का युवक एक प्राइवेट चिक्तसक को लडकी के इलाज के लिए बुलाने आया था जब चिक्तसक घटनास्थल पर पहुंचे तो देखा कि शाहिद के दुकान के पीछे कमरे मे सोफे पर युवती अचेत अवस्था मे पड़ी थी जिस पर चिकित्सक ने परिजनों को बुलाने की बात कहकर इलाज से इन्कार कर दिया। 

अंधेरा होने के बाद अपराधियों ने पीड़िता को पीछे के रास्ते से एक रिक्शा चालक द्वारा रिक्शे से उसके गाँव मझौली के पास तक भिजवा दिया। जिस रिक्शे से युवती को लाया गया वह रिक्शा खून से लथपथ था। रास्ते में युवती के जूती भी पाई गयी। परिजनों ने लडकी के साथ सामुहिक दुराचार होने का आरोप लगाया है। 

आरोप है कि इस मामले को कोतवाली गैंसड़ी पुलिस और जिले के आलाधिकारियों ने दबाने का खूब प्रयास किया लेकिन परिजनों के सामने आने का बाद मामले का खुलासा हो गया. फिलहाल अब परिजनों की तहरीर पर 2 अभियुक्तों पर एफआईआर दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है। 

मृतका की मां का आरोप है कि उसकी लड़की को पहले नशीला इंजेक्शन लगा कर बेहोश किया गया. फिर गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया गया है. मृतका की मां का यह भी आरोप है कि जिन लोगों ने उसके साथ गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया उन्होंने न केवल उसका कमर तोड़ दिया बल्कि उसकी टांग भी तोड़ दी. इससे लड़की न तो खड़ी हो पा रही थी न ही बोल पा रही थी. उसकी जुबान से एक शब्द भी नहीं निकल रहा था. उसने बस इतना कहा कि उसके पेट मे तेज जलन हो रही है और वह मर जाएगी । हलांकि पुलिस ने युवती की कमर और पैर की हडडी टूटने की बात से इंकार किया है। लेकिन यहां पर भी यूपी पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठ रहा है क्योंकि हाथरस की घटना की तरह ही बलरामपुर पुलिस ने भी आनन फानन में युवती का अंतिम संस्कार करवा दिया।

कन्हैयालाल यादव नमामि भारत बलरामपुर

Leave a Reply