छुट्टा पशुओं से त्राहि-त्राहि कर रहे यूपी के किसान-कांग्रेस

मनोज श्रीवास्तव/लखनऊ। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार”लल्लू” ने कहा कि प्रदेश के समस्त जनपदों में आवारा गौवंश किसानों की फसल को नुकसान पहुंचा रहे हैं। किसान छुट्टा पशुओं से त्राहि-त्राहि कर रहे हैं। प्रदेश सरकार गोवंश संरक्षण के नाम पर खानापूर्ति कर किसानों की फसलें बर्बाद कर देने पर तुली है। स्थिति यहां तक आ गयी है कि अवारा पशु कई जनपदों में किसानों की मौत का कारण बन चुके हैं। गोण्डा के परशपुर में एक किसान को छुट्टा सांड़ ने पटक-पटक कर मार डाला और इस प्रकार की घटनाएं आये दिन समाचारपत्रों की सुर्खियां बन रही हैं। परेशान किसान सरकारी स्कूलों और कार्यालयों में छुट्टा जानवरों को कैद कर धरना-प्रदर्शन करने पर मजबूर हैं क्योंकि सरकार छुट्टा जानवरों से अपनी फसलों को बचाने के लिए तार के बाड़ लगाने की अनुमति नहीं दे रही है। एक किसान का पूरा जीवन उसके द्वारा उत्पादित फसल पर ही आधारित होता है उसी से वह अपने परिवार का पालन-पोषण, दवाई और बच्चों की पढ़ाई और हर जरूरतों की पूर्ति करता है। वही फसल छुट्टा जानवरों की भेंट चढ़ रही है ऐसे में हमारे उ0प्र0 का किसान खुद को बहुत ही निराश और हताश महसूस कर रहा है। ज्ञात हो कि इस सम्बन्ध में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा जी भी सरकार को सचेत कर चुकी हैं। लल्लू ने कहा है कि रबी सीजन में किसानों के लिए आवारा पशु तबाही का कारण बन गए हैं। प्रदेश सरकार से मांग की है कि जब तक समुचित गौशालाओं का बेहतर प्रबंधन नहीं हो पाता तब तक सरकार छुट्टा पशुओं से पीड़ित किसानों को रखवाली भत्ता दे। लल्लू ने सोशल मीडिया पर वायरल हो रही उस पत्र की कड़ी निन्दा की है जिसमें पढ़े लिखे ऊर्जावान युवा इंजीनियरों को छुट्टा जानवरों को पकड़ने और उन्हें नियंत्रित करने में लगाया गया है। उन्होने कहा कि यह हमारे देश के युवा प्रतिभाओं की योग्यता और प्रतिभा का अपमान है। 

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा है कि प्रदेश सरकार ने किसानों की फसलों को अवारा पशुओं से बचाने के लिए जो योजना बनायी और बजट का जो प्राविधान किया है वह बहुत नाकाफी है क्योंकि उसके मुकाबले में प्रदेश का क्षेत्रफल और छुट्टा जानवरों की तादाद सरकार के अनुमान से कहीं बहुत ज्यादा है। यही कारण है कि सरकार की तमाम घोषणाओं के बाद हमारे परेशान हाल किसानों को कहीं से भी राहत नहीं मिल पा रही है और यह समस्या दिनों-दिन और अधिक विकराल होती जा रही है। उन्होंने कहा कि गौ संरक्षण और समुचित व्यवस्था के लिए प्रदेश की योगी सरकार कांग्रेसशासित राज्यों खासकार छत्तीसगढ़, राजस्थान एवं मध्य प्रदेश आदि प्रदेशों से प्रेरणा ले और गौ वंश के संरक्षण और छुट्टा जानवरों से फसलों की बर्बादी को रोकने के लिए तत्काल कदम उठाये और किसानों को समुचित आर्थिक मदद मुहैया कराते हुए फसलों को बचाने के लिए किसानों को तारों का बाड़ लगाने की तत्काल अनुमति प्रदान करे।

Leave a Reply