मुख्यमंत्री ने दिए कोविड-19 के 01 लाख 50 हजार टेस्ट प्रतिदिन करने के निर्देश

लखनऊ: 02 सितम्बर, 2020। उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह श्री अवनीश कुमार अवस्थी ने आज यहां लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री जी ने बताया कि कोविड-19 के संक्रमण को नियंत्रित करने में टेस्टिंग की महत्वपूर्ण भूमिका है। इसके दृष्टिगत प्रदेश में प्रत्येक दशा में कोविड-19 के 01 लाख 50 हजार टेस्ट प्रतिदिन किए जाएं। उन्होंने जनपद कानपुर नगर, वाराणसी, प्रयागराज तथा गोरखपुर में मेडिकल टेस्टिंग में वृद्धि करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि सभी जनपदों में वेंटीलेटर्स/एच0एफ0एन0सी0 (हाई फ्लो नेजल कैन्युला) को क्रियाशील रखा जाए। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने निर्देश दिये है कि अस्पतालों मंे जो भी नये उपकरण लगाये गये है उन्हें तत्काल क्रियाशील किया जाए। इस सम्बन्ध में आज शाम तक शासन को रिपोर्ट उपलब्ध कराई जाए। उन्होंने कोविड अस्पतालों में डायलिसिस मशीन की उपलब्धता सुनिश्चित किए जाने के निर्देश देते हुए कहा है कि हेपेटाइटिस-बी के मरीजों के लिए प्रत्येक जनपद में डेडिकेटेड डायलिसिस मशीन की व्यवस्था की जाए।


श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कोविड तथा नाॅन कोविड अस्पतालों में आॅक्सीजन के कम से कम 48 घण्टे के बैकअप की व्यवस्था रखने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि स्वास्थ्य विभाग तथा चिकित्सा शिक्षा विभाग चिकित्सालयों में कम से कम 48 घण्टे की आॅक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित करें। उन्होंने होम आइसोलेशन में रह रहे लोगों से जनपदीय स्तर के साथ-साथ मुख्यमंत्री हेल्प लाइन के माध्यम से भी उनके स्वास्थ्य की निरन्तर जानकारी प्राप्त करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पर्याप्त कोविड बेड की व्यवस्था है यदि किसी को कोरोना संबंधी लक्षण दिखने पर कमांड कंट्रोल संेटर्स से सम्पर्क कर अपने स्वास्थ्य की जांच कराएं।

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने स्वच्छता एव सेनिटाइजेशन के कार्य को प्रभावी ढंग से संचालित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि सितम्बर माह में वेक्टरजनित रोगों के प्रकोप की अधिक सम्भावना रहती है। इसके दृष्टिगत स्वच्छता एवं सेनिटाइजेशन की कार्यवाही में पूरी तत्परता बरती जाए। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने निर्देश दिये है कि नगर विकास विभाग, पंचायतीराज और स्वास्थ्य विभाग स्वच्छता एवं सेनेटाइजेंशन की उचित व्यवस्था सुनिश्चित करायें। उन्होंने राजकीय कर्मियों की कार्यालयों में समय से उपस्थिति सुनिश्चित कराने के निर्देश देते हुए कहा है कि इस सम्बन्ध में प्रभावी पर्यवेक्षण के साथ-साथ निरीक्षण किए जाएं। समय से उपस्थित न होने पर सम्बन्धित के खिलाफ कार्यवाही की जाए। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी के निर्देश पर सरकारी कार्यालयों एवं अनुभागों का लगातार निरीक्षण किया जाए। बिना कारण अनुपस्थित पाये जाने वाले कर्मचारियों पर कड़ी कार्यवाही सुनिश्चित की जाए।

Leave a Reply