अमेठी : पंचायत चुनाव से पहले अवैध असलहा बनाने वाली फैक्ट्री का भंडाफोड़

कृष्ण कुमार

उत्तर प्रदेश में अपराधी लगातार पुलिस को चुनौती देते नजर आ रहे हैं । ऊपर से सन्निकट त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के चलते लगातार अपराधों का ग्राफ बढ़ता ही जा रहा है। जिसमें कहीं ना कहीं अवैध असलहों की भरमार सी दिखाई पड़ रही है । जिसके चलते आए दिन अवैध असलहो से अपराधियों के द्वारा अपराधिक घटना को अंजाम दिया जा रहा है।

उत्तर प्रदेश में होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव से पहले आज अमेठी पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है । जिसमें जिले की जगदीशपुर पुलिस ने अवैध शस्त्र बनाने वाली फैक्ट्री का पता लगाकर उसका भंडाफोड़ किया है । 26 जनवरी को नई दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर रैली में किसान आंदोलन के दौरान हुए उपद्रव को दृष्टिगत रखते हुए जगदीशपुर कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक राजेश कुमार सिंह अपने हमराहियों के साथ तलाश वांछित में व्यस्त थे । तभी मुखबिर खास की सूचना पर जगदीशपुर कस्बे में स्थित शांति मार्केट में पहुंच कर अभियुक्त रियासत अली पुत्र अब्दुल रहमान के मकान से रात्रि में करीब 8:25 पर छापा मारते हुए अवैध रूप से चल रही शस्त्र फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया ।

इस दौरान 2 अभियुक्तों जिसमें रियासत अली पुत्र अब्दुल रहमान तथा सोहराब अली उर्फ चांद पुत्र मोहर्रम अली को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार हुए अभियुक्त सोहराब अली उर्फ चांद के कब्जे से 1 अदद सिंगल बैरल बंदूक 12 बोर और 1 अदद जिंदा कारतूस 12 बोर व अभियुक्त रियासत अली के कब्जे से 1 अदद अवैध तमंचा और 4 अदद जिंदा कारतूस 315 बोर बरामद हुआ । इसी के साथ तलाशी लेने पर घर में बने कमरे से 112 जिंदा कारतूस और 138 खोखा कारतूस 12 बोर तथा अवैध कारतूस बनाने और भरने की मशीन तथा ड्रिल मशीन, 26 सपोर्टर, हथौड़ी, रॉड, रेती अन्य उपकरण सहित कारतूस के अंदर प्रयोग किए जाने वाले 3998 छर्रे, बारूद, रांगा, 39 टिकली, टोपी 139 टिकिया बरामद किया।

पूछताछ के दौरान अभियुक्त रियासत अली ने बताया कि हम लोग सामान लाकर अपने यहां बारूद भरकर उपकरण वह मशीन से तैयार कर असलहो तथा कारतूस को बेचते हैं इसी के साथ हम लोग खराब तमंचा वा बंदूक की मरम्मत भी करते हैं। इस मामले का खुलासा आज अमेठी के अपर पुलिस अधीक्षक दयाराम सरोज ने पुलिस कार्यालय गौरीगंज में करते हुए गिरफ्तार किए अभियुक्तों को सुसंगत धाराओं में निरूद्ध कर जेल भेज दिया।

Leave a Reply