मंत्री ने स्वास्थ्य सुविधाओं की बारीकी से की समीक्षा

मा0 राज्य मंत्री, उच्च शिक्षा, सहकारिता, प्रोटोकाॅल, दुग्ध विकास एवं जनपद के प्रभारी मंत्री डा0 धन सिंह रावत ने बुधवार को कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए जनपद के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक लेते हुए मौजूदा व्यवस्थाओं की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि सरकार कोरोना वायरस को लेकर काफी गम्भीर है और इससे बचाव के लिए सारे उपाया करने में जुटी है।

उन्होंने अस्पतालों में सभी रिक्त पदों पर स्थानीय स्तर से तीन महीने के लिए शीघ्र नियुक्ति करने के निर्देश दिए। कहा कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए सभी अस्पतालों को पर्याप्त धनराशि उपलब्ध कराई जाएगी। इस दौरान प्रभारी मंत्री ने जिले में संचालित कोबिड कन्ट्रोल रूम एवं जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्डो का निरीक्षण कर चमोली में कोरोना से बचाव के लिए संचालित गतिविधियों पर संतोष व्यक्त किया।

मा0 प्रभारी मंत्री ने जिले में मौजूदा स्वास्थ्य सुविधाओं की बारीकी से समीक्षा की। उन्होंने कोरोना मरीजों के ईलाज हेतु अस्पतालों में पीपीई किट, एन-95 मास्क, थर्मामीटर, वैटिलेंटर, आईसीयू, आइसोलेशन फेसेलिटी एवं अन्य जरूरी व्यवस्थाएं की जानकारी ली। अस्पतालों में स्वीपर, बार्डबाय, नर्श, चिकित्सकों के रिक्त पदों पर तीन महीने के लिए तत्काल नियुक्ति कराने के निर्देश दिए।

जिला अस्पताल में फिजीसियन न होने की समस्या पर उन्होंने कहा कि इसके लिए जल्द वैकल्पिक व्यवस्था कराई जाएगी। उन्होंने सीएमओं को निर्देश दिए कि स्वास्थ्य सुविधाओं में कोई कोताही न बरते। स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए धन की कोई कमी नही होने दी जाएगी। उन्होंने फ्रंट लाईन पर कोरोना से बचाव में लगे चिकित्सकों, स्वास्थ्य कर्मियों, सफाई कर्मियों, पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारियों एवं कार्मिकों को भी जरूरी सुरक्षा सामान उपलब्ध कराने को कहा। आमजन को कोरोना संक्रमण के प्रति जागरूक करने के निर्देश दिए।

जिले में लाॅक डाउन की स्थिति पर अधिकारियों से चर्चा करते हुए मा0 प्रभारी मंत्री ने लाॅक डाउन का सख्ती से लागू करने को कहा। सभी थानों, चैकियों को अलर्ट कर जनपद की सीमाओं पर कडी चैकसी रखने और बाहर से आने वाले प्रत्येक व्यक्ति को अनिवार्य रूप से 14 दिनों तक फेसेलिटी क्वारेन्टाइन में रखने को कहा। लाॅक डाउन से गरीब एवं जरूरतमंद लोगों को खाद्यान्न की समस्या न हो इसका विशेष ध्यान रखने की बात कही।

कहा कि ऐसे लोगों की जनपद स्तर पर सूची तैयार कर जरूरी खाद्यन्न सामग्री बांटी जाए। उन्होंने क्षेत्रीय विधायकों से भी अपने क्षेत्रों में बने रहने और जरूरतमंद लोगों तक राशन पहुॅचाने में मदद करने की बात कही। कहा कि गांव में कोई भी भूखा ना रहे इसके लिए सरकार ने भोजन माताओं के माध्यम से भी भोजन कराने की व्यवस्था की है। इस दौरान उन्होंने राशन की दुकानों में उपलब्ध खाद्यन्न स्टाॅक एवं वितरण की जानकारी भी ली। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जिला प्रशासन द्वारा किए गए पुख्ता इतेजामों पर प्रभारी मंत्री ने संतोष व्यक्त किया।

जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने मा0 प्रभारी मंत्री को जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए की गई व्यवस्थाओं से अवगत कराया। बताया कि जिला अस्पताल गोपेश्वर को पूरी तरह से कोरोना पाॅजेटिव मरीजों के इलाज के लिए तैयार किया गया है इसमें 85 आइसोलेशन वार्ड बनाए गए है तथा आर्मी हास्पिटल में 45 बैड तथा आईटीबीपी में 10 बैड कन्टीजेंन्सी प्लान में रखे गए है। क्वारेन्टाइन फेसेलिटी के लिए भी 167 बैड तैयार है।

लाॅक डाउन का जिले में सख्ती से अनुपालन कराया जा रहा है और बाहर से आने वाले लोगों को 14 दिनों के लिए फेसेलिटी क्वारेन्टाइन में ही रखा जा रहा है। नगर निकायों एवं गांवों को लगातार सेनेटाइज्ड किया जा रहा है। तहसील स्तर पर गरीब एवं जरूरमंद लोगों को चिन्हित कर फूड पैकेट बांटे जा रहे है। उन्होंने बताया कि जिले में अभी तक कोरोना का कोई भी मरीज नही है लेकिन चार संदिग्ध लोगों के ब्लड सैंपल लेकर परीक्षण के लिए हल्द्वानी भेजा गया है। इस दौरान जिलाधिकारी ने खाद्यान्न स्टाॅक एवं वितरण तथा लाॅक डाउन में की जा रही कार्यवाही से भी प्रभारी मंत्री अवगत कराया।

इस दौरान बद्रीनाथ विधायक महेन्द्र भट्ट, कर्णप्रयाग विधायक सुरेन्द्र सिंह नेगी, जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया, पुलिस अधीक्षक यशवंत सिंह चैहान, सीडीओ हंसादत्त पांडे, एडीएम एमएस बर्निया, सीएमओ डा0. केके सिंह, एसीएमओ एमएस खाती, जिला पूर्ति अधिकारी केएल शाह आदि उपस्थित थे।

संतोष नेगी/चमोली

Leave a Reply