महिला आयोग की सदस्य ने महिला अस्पताल का किया औचक निरीक्षण
23

नैमिष शुक्ल। उत्तर प्रदेश जनपद सीतापुर मैं राज्य महिला आयोग की सदस्य सुनीता बंसल ने अचानक जिला अस्पताल व जिला महिला अस्पताल पहुंचकर पूरे महकमे में हड़कंप मचा दिया। सुनीता बंसल ने सबसे पहले जिला महिला अस्पताल पहुंचकर औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्हें पूरे परिसर में खामियां खामियां ही मिली। उन्होंने महिला मरीजों से बातचीत कर केंद्र सरकार द्वारा दी जाने वाली विभिन्न योजनाओं के बारे में भी जानकारी हासिल की । सरकार द्वारा संचालित योजनाओं के अभाव को देखकर सुनीता बंसल ने सीएमएस सुषमा कर्णवाल को जमकर फटकार लगाई। उन्होंने अल्ट्रासाउंड कक्ष, महिलाओं को दिया जाने वाला पोषाहार, साफ सफाई, वार्डों की स्थिति का वारीखी से निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान अल्ट्रासाउंड कक्ष बन्द मिलने पर उन्होंने कड़ी नाराजगी जाहिर की। साथ ही पता चला कि करीब 2 महीने से डॉक्टर न होने के कारण इस कक्ष में ताला जड़ा रहता है।

इतना ही नही प्रसूताओं को दी जाने वाली अनुदान राशि की महिलाओं को जानकारी न होने पर सीएमएस को फटकार लगाते हुए कहा कि मरीजों को सरकार द्वारा दी जाने वाली योजनाओं की जानकारी का अभाव दिख रहा है। जिसको लेकर सीएमएस सफाई देना चाहा तो उन्होंने सफाई सुनने से साफ मना कर दिया। जिसके बाद वह जिला अस्पताल पहुंची। जहां उन्होंने आइसोलेशन वार्ड, हार्ट यूनिट, साफ सफाई, शौचालय आदि का गहनता से निरीक्षण किया। जहां भयंकर गंदगी मिलने पर उन्होंने नाराजगी जाहिर की।तथा सीएमओ की गैर मौजूदगी के बारे में भी जानकारी हासिल की । जिला अस्पताल के सीएमएस भी निरीक्षण के दौरान नदारत मिले। पता चला कि वह ओटी में है। सुनीता बंसल ने इसके बाद जिला अस्पताल में बने रैन बसेरा को देखने पहुँची जहां पर उन्हें मात्र गद्दे पड़े मिले।जिस पर धूल और गंदगी की मोटी परत जमा मिली ।

 

जिससे रैन बसेरा में चादर व रजाइयां न होने पर भी उन्होंने आक्रोश जाहिर किया। निरीक्षण के दौरान उन्हें पता चला कि अस्पताल परिसर में मरीजो को उनकी बीमारी के उपचार हेतु दवाइयों का भी टोटा बना रहता है। साथ ही प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र पर भी दवाएं पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नही है । जिसको लेकर उन्होंने इस बारे में जानकारी हासिल करने की बात कही। उन्होंने फटकार लगाते हुए कहा कि इससे पहले भी उन्होने कई बार अस्पताल का निरीक्षण किया। हर बार खामियों को दुरुस्त करने के लिए निर्देश भी दिए गए । लेकिन सुधार होता कभी भी नजर नही आ रहा है। लेकिन यह लापरवाही किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नही की जाएगी। निरीक्षण के बाद राज्य महिला आयोग की सदस्य सुनीता बंसल पीडब्लूडी गेस्ट हाउस पहुंची। जहां पर उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं व अधिकारियों के साथ बैठक कर जानकारियां हासिल की। साथ ही पीड़ित महिलाओं से मिलकर उनकी समस्याओं के निराकरण के लिए भी संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया।

Leave a Reply