निर्मित शौचालय के जियो टैगिंग में लापरवाही पर होगी कार्यवाई
93

स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के अंतर्गत निर्मित कराए गए शौचालयों के सापेक्ष शत-प्रतिशत जियो टैगिंग 5 फरवरी 2019 तक अनिवार्य रूप से किया जाना है जिस हेतु जनपद में 76998 शौचालयों का फोटो अभी भी जियो टैग नहीं हुआ है जिसमें जनपद में औसतन 85.42% फोटो अपलोडिंग किया गया है जो प्रदेश में जनपद गोरखपुर 50 वें स्थान पर है जनपद गोरखपुर में सबसे खराब फोटो अपलोडिंग वाले विकासखंड भरोहियां, कैंपियरगंज, जंगल कौड़िया, विकासखंड है जिसमें जंगलकौड़िया विकासखंड 17 वे स्थान पर है जिसमें जंगलकौड़िया विकासखंड के जंगल कौड़िया ग्राम पंचायत में निर्मित शौचालयों का सत्यापन बच्चा सिंह, जिला परियोजना समन्वयक, स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण द्वारा किया गया जिसमें पाया गया कि कुल 1113 परिवार हैं जिसके सापेक्ष 694 घरों में शौचालय की सुविधा उपलब्ध कराई जा चुकी है अवशेष 419 घरों में शौचालय निर्माण हेतु अभी भी बाकी हैं जंगल कौड़िया ग्राम पंचायत में फोटो अपलोडिंग मात्र 62.35% ही हुआ है ग्राम पंचायत में सत्यापन के दौरान कुछ ऐसे भी परिवार मिले जो अभी भी 2012 बेसलाइन के अलावा भी छूटे हुए परिवारों का जो सर्वे हुआ है उसमें भी उनका नाम नहीं है जैसे आशा देवी पत्नी अनमोल प्रसाद, श्रीमती पत्नी बलराम, किशोरी पत्नी लालचंद, सरस्वती पत्नी सुग्रीम साहनी, रीता पत्नी श्याम नारायन, ममता पत्नी राम जन्म, सोनी पत्नी राम ललित, राम दरस पत्नी बृजलाल, का नाम शौचालय हेतु LOB (छुटे हुए परिवार) छूट गया है जिनके द्वारा सत्यापन के समय शिकायत की गई। ग्राम पंचायत जंगलकौरिया में तैनात स्वच्छाग्रही श्री सूर्यभान सिंह से पूछे जाने पर अवगत कराया गया कि सत्यापन सर्वे के दौरान उनके द्वारा अपना आधार कार्ड न उपलब्ध कराए जाने के कारण इनका नाम LOB से छूट गया, सत्यापन में अधिकांश शौचालय जैसे माला पत्नी राममिलन, लीलावती पत्नी राम भवन, पानमती पत्नी छेदीलाल, इंदू पत्नी अनिल के शौचालय के कमरे की ऊंचाई कम पाई गई साथ ही सीट दरवाजा एवं छत अभी भी नहीं लगाए गए हैं ग्राम पंचायत में मात्र 5 राजमिस्त्री मोबीन, अहमद, रामअचल, रमाशंकर, संजय द्वारा शौचालयों का निर्माण किया जा रहा है ग्राम पंचायत में राजमिस्त्रीयों की उपलब्धता हेतु ग्राम पंचायत में तैनात ग्राम पंचायत सचिव श्री उमा शंकर मिश्रा को निर्देशित किया गया कि शीघ्र ही अत्यधिक मात्रा में राजमिस्त्री उपलब्ध कराकर अन्य अवशेष 419 शौचालयों को शीघ्र 1 सप्ताह के भीतर पूर्ण कराया जाए ग्राम प्रधान श्री ओम प्रकाश भगत मौके पर सत्यापन में अनुपस्थित पाए गए जिस हेतु शीघ्र ही जिलाधिकारी के माध्यम से नोटिस उपलब्ध कराई जाएगी साथ ही अपूर्ण शौचालय हेतु भी कारण बताओ नोटिस निर्गत किया जाएगा ग्राम पंचायत में लगभग अभी भी ₹2800000 की धनराशि शौचालयों के निर्माण के निमित्त अवशेष पड़ी हुई है ग्राम प्रधान एवं सचिव की लापरवाही से शौचालयों को निर्मित नहीं कराया जा पा रहा है साथ ही स्वच्छाग्रही द्वारा भी लाभार्थियों को प्रेरित किए जाने में लापरवाही बरती गई है जिस हेतु सभी को शीघ्र ही नोटिस निर्गत की जाएगी, सत्यापन के समय सहायक विकास अधिकारी पंचायत श्री ओम प्रकाश यादव ग्राम पंचायत सचिव उमाशंकर मिश्रा खंड प्रेरक आशीष श्रीवास्तव तथा प्रियंका यादव एवं स्वच्छाग्रही सूर्यभान सिंह तथा ग्राम पंचायत के ग्राम वासी उपस्थित थे।

Leave a Reply