सत्ता प्राप्ति की आपाधापी से उपजी समस्याएं, चुनाव आने पर ही क्यों उछलते हैं मुद्दे

सत्ता प्राप्ति की आपाधापी से उपजी समस्याएं, चुनाव आने पर ही क्यों उछलते हैं मुद्दे

On

चुनाव आते ही किसान आन्दोलन, शिलांग में हिंसा, रामजन्म भूमि विवाद, कावेरी जल, नक्सलवाद, कश्मीर मुद्दा आदि ऐसी समस्याएं हैं, जो चुनाव के निकट आते ही मुखर हो जाती है। ये मुद्दे एवं समस्याएं आम भारतीय नागरिक को भ्रम में डालने वाली…

विश्व कल्याण, भारतीय संस्कृति और भारतीय मीडिया का रुख

विश्व कल्याण, भारतीय संस्कृति और भारतीय मीडिया का रुख

On

संस्कृति, मानव जीवन की विधि या विधान का दूसरा नाम है। परिष्कृत संस्कार या संस्करों की रचना किसी सभ्यता की संस्कृति का अर्थ कहे जा सकते हैं। हालांकि संस्कृति को विभिन्न विद्वानों ने अपने अपने ढ़ंग से परिभाषित किया है परंतु कोई…

अखिल भारतीय संत समिति ने पीओके स्थित शारदा तीर्थयात्रा के पुन: खोलने की उठाई माँग

अखिल भारतीय संत समिति ने पीओके स्थित शारदा तीर्थयात्रा के पुन: खोलने की उठाई माँग

On

अखिल भारतीय संत समिति, विभिन्न धार्मिक संगठनों और मठों के एक समूह ने आज नई दिल्ली में पीओके स्थित शारदा शक्तिपीठ तीर्थयात्रा के पुन: खोलने की आवाज़ उठाई। पिछले 70 सालों से बंद शारदा तीर्थयात्रा को फिर से खोलने के लिए सेव शारदा…

किसान जब अपने खेतों में काम करता है तो वह न हिन्दू होता है न मुसलमान

किसान जब अपने खेतों में काम करता है तो वह न हिन्दू होता है न मुसलमान

On

भारत के लोकतन्त्र की सबसे बड़ी विशेषता यह रही है कि चुनाव के समय मतदाता ही बादशाह होता है।जब-जब इन मतदाताओं को नजरअंदाज किया गया, राजनैतिक दलों को मुंह की खानी पड़ी है। हाल में सम्पन्न हुए कई राज्यों के विधानसभा व…

तम्बाकू निषेध दिवस-तम्बाकू मुक्ति से ही स्वस्थ राष्ट्र का निर्माण संभव

तम्बाकू निषेध दिवस-तम्बाकू मुक्ति से ही स्वस्थ राष्ट्र का निर्माण संभव

On

विश्व की गम्भीर समस्याओं में प्रमुख है तम्बाकू और उससे जुड़े नशीले पदार्थों का उत्पादन, तस्करी और सेवन में निरन्तर वृद्धि होना। नई पीढ़ी इस जाल में बुरी तरह कैद हो चुकी है। आज हर तीसरा व्यक्ति किसी-न-किसी रूप में तम्बाकू का…

2004 तक वेदांता समूह में बतौर निदेशक पी चिदंबरम और उनके पुत्र का महाघोटालों का खेल

2004 तक वेदांता समूह में बतौर निदेशक पी चिदंबरम और उनके पुत्र का महाघोटालों का खेल

On

मैं पालनिअप्पन चिदंबरम शपथ लेता हूं कि मैं संविधान को ठेंगे पर रखूंगा। मंत्री पद का उपयोग स्वहित में करूंगा। सरकार की संपत्ति को अपनी संपत्ति समझूंगा और उसका उपभोग अपने परिवार के भरण-पोषण में करूंगा। जो कोई भी इसमें बाधा उत्पन्न करेगा,…