कानों में ठूसी रूई और आंखों पर चिपकी टेप, 9 प्रश्न खड़े कर रहा बुराड़ी केस
429

नितिन उपाध्याय/रवि..राजधानी दिल्ली के संत नगर बुराडी में रविवार को एक ऐसी घटना घटी जिसने देशभर की निगाहों को अपनी ओर खींच लिया।संत नगर में एक ही परिवार के 11 लोगों की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गयी।मौत भी ऐसी जिसने सामूहिक आत्महत्या या खुदखुशी कहे इस बात को भी पुलिस के लिए अनसुलझी गुत्थी बना दिया है।

यह अभी तक  अनसुलझी गुत्थी बना बुराड़ी केस बहुत सारे प्रश्न खड़े कर रहा है अगर यह आत्महत्या है तो परिवार के 11 लोग एक साथ कैसे तैयार हो गये।अगर यह हत्या है तो उनके कानों में रूई और आंखों पर चिपकी चेप क्यों चिपका था।बहरहाल पहली पोस्टमार्टम रिपोर्ट तो यही कहती है कि यह सामूहिक आत्महत्या है क्योंकि शरीर पर किसी भी प्रकार का संघर्ष का कोई निशान नहीं पाया गया है।

ये 9 प्रश्न बुराड़ी केस को उलझा रहे है।

1.अगर यह सामूहिक आत्महत्या है तो एक साथ परिवार के 11 लोग कैसे राजी हो गये।अगर यह आत्महत्या है तो कानों ठूसी रूई और आंखों पर चिपकी टेप की वजह क्या है।बाद में मरने वालों ने ऐसा क्यों किया।

2.अगर आत्महत्या भी 11 लोगों ने एक साथ किया तो फिर सुसाइड नोट कहां है।सभी एक जैसी हालत में क्यों पाए गए।

3.गले में ज्यादातर लोगों के चुन्नी लटकी हुई थी जिसमें धार्मिक बातें लिखी हुई थी।

4.पास पड़ोस के लोग तो यहीं कहते है कि मरने वाले दोनों भाइयों के परिवारों के बीच बहुत अच्छा तालमेल था तो फिर आत्महत्मा का सवाल तो पैदा ही नहीं होता।

5.घर की सबसे बुजुर्ग महिला के गले पर निशान मिले जबकि पुलिस इसे बेल्ट का निशान मानकर चल रही है।तो फिर महिला का गला घोंटा गया होगा।

6.जांच अधिकारी बताते है कि इन सबका टायलेट इसलिए निकला हुआ था क्योंकि इन्होंने फंदा लगाया हुआ था। जहर खाने खिलाने का कोई सवाल नहीं है।

7.पड़ोसी बताते है कि घर के पास बिजली का खँभा है रात 11 बजे बाद बिजली नहीं थी घर में।

8.घर बनाने वाला ठेकेदार कह रहा है कि घर की दीवारें में पाइप लगवाए गए थे।

9.मृतक मुखिया की बहन कहती है कि किसी ने प्रॉपर्टी के लालच में पूरे परिवार की हत्या करवाई है।

इन बातों के सामने आने पर बुराड़ी के संतनगर का केस दिन प्रतिदिन पेचीदा होता जा रहा है।इस केस ने देशभर की निगाहों को अपनी ओर खींच लिया है।आए दिन बुराड़ी का यह केस नए नए सवालों को जन्म दे रहा है।

News Reporter

Leave a Reply