Recent News
श्रवण कुमार बन कर दिल्ली के बुजुर्गों को मुफ्त में रामलला के दर्शन कराएंगे अरविंद केजरीवाल

– केजरीवाल कैबिनेट ने मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना के तहत दिल्ली के बुजुर्गों को अयोध्या ले जाकर रामलला के दर्शन कराने के प्रस्ताव को दी मंजूरी

– ‘मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा’ योजना के तहत बुजुर्गों को अयोध्या ले जाकर रामलला के दर्शन करवाने में आने वाला पूरा खर्च दिल्ली सरकार उठाएगी- अरविंद केजरीवाल

– जगन्नाथपुरी, उज्जैन, शिरडी, अमृतसर, जम्मू, द्वारका, तिरुपति, रामेश्वरम्, हरिद्वार, मथुरा और बोधगया के बाद अब अयोध्या भी तीर्थ स्थलों की सूची में शामिल- अरविंद केजरीवाल

– अब तक हम 35 हजार लोगों को तीर्थ यात्रा करवा चुके हैं, मेरी कोशिश है कि सभी बुजुर्गों का श्रवण कुमार बनकर उनको रामलला के दर्शन करवाऊं- अरविंद केजरीवाल

– कोरोना के चलते पिछले डेढ़ दो साल से यह योजना बंद थी, लेकिन अब कोरोना की स्थिति में काफी सुधार है- अरविंद केजरीवाल

– हमारी कोशिश है कि अगले एक महीने में तीर्थ यात्रा फिर से चालू हो जाए, सभी लोग तीर्थ यात्रा के लिए पंजीकरण कर सकते हैं- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल दिल्ली के सभी बुजुर्गों का श्रवण कुमार बनकर उनको मुफ्त में रामलला के दर्शन करवाएंगे। मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल की अध्यक्षता में दिल्ली सचिवालय में आज हुई बैठक में कैबिनेट ने ‘मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा’ योजना के तहत बुजुर्गों को अयोध्या ले जाकर रामलला के दर्शन कराने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी।

 इस अहम निर्णय की जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमने ‘मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा’ योजना को विस्तार देते हुए अब उसमें अयोध्या को भी शामिल कर लिया है। इस योजना के तहत बुजुर्गों को अयोध्या ले जाकर रामलला के दर्शन करवाने में आने वाला पूरा खर्च दिल्ली सरकार उठाएगी। अभी तक हम 35 हजार लोगों को विभिन्न तीर्थ स्थलों की यात्रा करवा चुके हैं। मेरी कोशिश है कि एक तरह से सभी बुजुर्गों का श्रवण कुमार बनकर उनको रामलला के दर्शन करवाऊं।

 मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कोरोना के चलते पिछले डेढ़-दो साल से यह योजना बंद पड़ी थी, लेकिन अब कोरोना की स्थिति में काफी सुधार है। हमारी कोशिश है कि अगले एक महीने में तीर्थ यात्रा फिर से चालू हो जाए। इसलिए सभी लोग तीर्थ यात्रा के लिए पंजीकरण कर सकते हैं।

‘मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा’ योजना के तहत यात्रा का पूरा खर्च दिल्ली सरकार उठाती है’

मुख्यमंत्री श्री  अरविंद केजरीवाल ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि मुझे सभी दिल्ली वासियों को बताते हुए यह खुशी हो रही है कि कैबिनेट की मीटिंग में यह प्रस्ताव मंजूर किया गया है कि जो हमारी दिल्ली की मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना है, उसमें अयोध्या को भी शामिल कर लिया गया है। अभी तक इस योजना में जगन्नाथपुरी, उज्जैन, शिरडी, अमृतसर, जम्मू, द्वारका, तिरुपति, रामेश्वरम्, हरिद्वार, मथुरा और बोधगया स्थान शामिल थे। अब इसके अंदर अयोध्या को भी शामिल कर लिया गया है। यानि कि हमारे दिल्ली के जो-जो बुजुर्ग अयोध्या में रामलला के दर्शन करना चाहेंगे, उनको दिल्ली सरकार फ्री में अयोध्या में रामलला के दर्शन करवा कर लाएगी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में हमारी मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना के तहत दिल्ली के बुजुर्गों के तीर्थ यात्रा का पूरा खर्च दिल्ली सरकार उठाती है। घर से लेकर तीर्थ यात्रा तक जाने और आने का, एसी ट्रेन से लेकर जाया जाता है, वहां पर अच्छे एसी होटल में उनको रूकवाया जाता है, उनको खाने का और उनके स्थानीय यात्रा का पूरा खर्चा दिल्ली सरकार उठाती है। वो बुजुर्ग अगर अपने साथ मदद करने के लिए अपने परिवार के किसी सदस्य को लेकर जाना चाहें, तो उसका भी पूरा खर्चा दिल्ली सरकार उठाती है।

अभी तक हम 35 हजार लोगों को तीर्थ यात्रा करवा चुके हैं

मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अभी तक इस योजना के तहत 35 हजार लोगों को तीर्थ यात्रा हम करवा चुके हैं। आज मुझे इसका एलान करते हुए मुझे बहुत खुशी हो है। मैं खुद कल रामलला के दर्शन करके अयोध्या से लौटा हूं। मैंने भगवान श्रीराम से यही मांगा कि आपने मुझे बहुत कुछ दिया है। मैं जितना कुछ मेरी ताकत और क्षमता में है, मैं पूरी कोशिश करूंगा कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को अयोध्या ले जाकर रामलला के दर्शन करवाउं। एक तरह से सबका श्रवण कुमार बनकर सबको रामलला के दर्शन करवाउं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कोरोना की वजह से पिछले डेढ़ दो साल से यह योजना बंद पड़ी थी, लेकिन अब कोरोना की स्थिति में काफी सुधार हुआ है। इसलिए इस तीर्थ यात्रा योजना को फिर से लागू किया जाएगा। सभी अधिकारी अपनी पूरी कोशिश कर रहे हैं कि अगले एक महीने के अंदर फिर से ट्रेन तीर्थ यात्रियों को लेकर जगह-जगह जाना चालू होंगी। आप सभी लोग तीर्थ यात्रा के लिए फिर से पंजीकरण कर सकते हैं। मैं उम्मीद करता हूं कि हमारे जितने बुजुर्ग तीर्थ यात्रा पर जाएंगे, उनकी तीर्थ यात्रा बहुत अच्छी रहेगी।

‘मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा’ योजना के बारे में’

केजरीवाल सरकार ने दिल्ली के बुजुर्गों को भारत में स्थित ख्याति प्राप्त तीर्थ स्थलों की निःशुल्क यात्रा करावाने के उद्देश्य से 9 जनवरी 2018 को ‘मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा’ की शुरूआत की थी। इस योजना के तहत दिल्ली के बुजुर्गों को फ्री में कई तीर्थ स्थलों की यात्रा करवाई जाती है और यात्रा पर आने वाला पूरा खर्च दिल्ली सरकार उठाती है। इस योजना के तहत तीर्थ यात्रा पर जाने वाले बुजुर्ग अपने साथ एक अटेंडेंट भी साथ लेकर जा सकते हैं। एसी ट्रेन से सभी तीर्थ यात्रियों को लेकर जाया जाता है और एसी होटल में ही ठहरने की व्यव्स्था की जाती है। ट्रेन का टिकट, खाने, ठहरने, स्थानीय यात्रा आदि पर जो भी खर्च आता है, वह पूरा खर्च दिल्ली सरकार खुद उठाती है।

चार दिनों की होगी अयोध्या में रामलला की दर्शन यात्रा

दिल्ली सरकार ने 9 जनवरी 2018 को छह तीर्थ स्थलों से मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना की शुरूआत की थी। बाद में सरकार ने नए तीर्थ स्थलों को इसमें शामिल कर लिया और कुल 12 रूटों पर ट्रेन के जरिए तीर्थ यात्रियों को भेजा जा रहा था। दिल्ली कैबिनेट ने आज तीर्थ स्थलों की सूची में अयोध्या को भी शामिल करने का निर्णय लिया है, जिसके बाद यह बढ़कर अब 13 तीर्थ स्थल हो गए हैं। दिल्ली से अयोध्या और अयोध्या से दिल्ली तक की तीर्थ यात्रा चार दिनों की होगी।

13 तीर्थ स्थालों के रूट और यात्रा का समय

यात्रा/रूट                                                       समय

1- दिल्ली-मथुरा-वृंदावन-आगरा-फतेहपुर सीकरी-दिल्ली               05 दिन

2- दिल्ली-हरिद्वार-ऋषिकेश-नीलकंठ-दिल्ली                                04 दिन

3- दिल्ली-अजमेर-पुष्कर-नाथद्वारा-हल्दीघाटी-उदयपुर-दिल्ली          06 दिन

4- दिल्ली-अमृतसर-वाघा बार्डर-आनंदपुर साहिब-दिल्ली                04 दिन

5- दिल्ली-वैष्णो देवी-जम्मू-दिल्ली                                             05 दिन

6- दिल्ली-रामेश्वरम-मदुरै-दिल्ली                                               08 दिन

7- दिल्ली-तिरुपति बालाजी-दिल्ली                                            07 दिन

8- दिल्ली-द्वारकाधीश-नागेश्वर-सोमनाथ-दिल्ली                           06 दिन

9- दिल्ली- जगन्नाथ पुरी-कोणार्क-भुवनेश्वर-दिल्ली                      07 दिन

10- दिल्ली-शिरडी-शनि शिंगलापुर-त्रियामकेश्वर-दिल्ली                 05 दिन

11- दिल्ली-उज्जैन-ओंकारेश्वर-दिल्ली                                         06 दिन

12-दिल्ली-बोधगया-सारनाथ-दिल्ली                                          06 दिन

13- दिल्ली-अयोध्या-दिल्ली                                                     04 दिन

‘मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा’ योजना के लिए इस तरह करें आवेदन’

‘मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा’ योजना का लाभ दिल्ली में रहने वाले सभी बुजुर्ग उठा सकते हैं। इसके लिए पात्र लोगों को ऑनलाइन आवेदन करना होता है। यह आवेदन डिविजन कमिश्नर ऑफिस, क्षेत्रीय विधायक कार्यालय या तीर्थ यात्रा कमिटी के ऑफिर जाकर भी ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। पात्र आवेदकों का ड्रॉ के जरिए चयन होता है और क्षेत्रीय विधायक यह सर्टिफिकेट देते हैं कि व्यक्ति दिल्ली का निवासी है।

तीर्थ यात्रा योजना के लिए आवेदन करने का तरीका

स्टेप 1- मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना की ऑफिशल साइट https://edistrict.delhigovt.nic.in/ पर जाएं।

स्टेप 2- वेबसाइट के होमपेज पर “Registration in e-District Delhi” सेक्शन में जाकर “New User” पर क्लिक करें।

स्टेप 3- आधार कार्ड या वोटर कार्ड चुनें और उसका नंबर डालें।

स्टेप 4- Click on to Continue विकल्प पर क्लिक करें. इसके बाद एक फॉर्म खुल जाएगा।

स्टेप 5- फॉर्म में बाकी की जानकारी भरें और ज़रूरी डॉक्युमेंट की स्कैन की गई फोटो डालें।

स्टेप 6- आवेदन फॉर्म सब्मिट करें और अपना रजिस्ट्रेशन आईडी और पासवर्ड याद रखें।

स्टेप 7- अब साइट पर लॉग इन करें और मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना के लिए आवेदन करें।

आवेदन करने के लिए आवश्यक कागजात

1- तय फॉर्मेट में आवेदन फॉर्म और सेल्फ डिक्लेरेशन फॉर्म

2- मेडिकल सर्टिफिकेट की स्वयं प्रमाणित कॉपी, जिसमें यह दिया गया हो कि आवेदनकर्ता/पति-पत्नी मानसिक/शारीरिक रूप से इस यात्रा के लिए फिट हैं।

3- दिल्ली के वोटर आईडी कार्ड की स्वयं प्रमाणित कॉपी (आवेदनकर्ता/पति-पत्नी के लिए)

4- क्षेत्रीय विधायक या दिल्ली के किसी मंत्री या चेयरमैन, दिल्ली की तीर्थ यात्रा विकास समिति से मिले सर्टिफिकेट की कॉपी

मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना के लिए योग्यता एवं शर्तें

1- आवेदनकर्ता राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली का निवासी होना चाहिए।

2- आवेदनकर्ता की उम्र 60 साल हो (जिस साल के लिए आवेदन किया जा रहा हैं, उस साल 1 जनवरी को 60 साल की उम्र होनी चाहिएं)

3- आवेदनकर्ता केंद्रीय, राज्य या स्थानीय,  इकाई में कर्मचारी न हो।

4- आवेदनकर्ता ने पहले इस योजना का लाभ न लिया हो।

5- आवेदनकर्ता की सालाना आय 3 लाख से कम होनी चाहिए।

6- आवेदनकर्ता के अटेंडेंट की उम्र कम से कम 21 साल होनी चाहिए।

News Reporter
पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना करियर बनाने वाली निकिता सिंह मूल रूप से उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ से ताल्लुक रखती हैं पिछले कुछ सालों से परिवार के साथ रांची में रह रहीं हैं और अब देश की राजधानी दिल्ली में अपनी सेवा दे रहीं हैं। नेशनल ब्रॉडकास्टिंग अकादमी से पत्रकारिता में स्नातक करने के बाद निकिता ने काफी समय तक राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के न्यूज़ पोर्टल्स में काम किया। उन्होंने अपने कैरियर में रिपोर्टिंग से लेकर एंकरिंग के साथ-साथ वॉइस ओवर में भी तजुर्बा हासिल किया। वर्त्तमान में नमामि भारत वेब चैनल में कार्यरत हैं। बदलती देश कि राजनीती, प्रशासन और अर्थव्यवस्था में निकिता की विशेष रुचि रही है इसीलिए पत्रकारिता की शुरुआत से ही आम जन मानस को प्रभावित करने वाली खबरों पर पैनी नज़र रखती आ रही हैं। बेबाकी से लिखने के साथ-साथ खाने पीने का अच्छा शौक है। लोकतंत्र के चौथे स्तंभ में योगदान जारी है।

Leave a Reply

error: Content is protected !!