69000 शिक्षक भर्ती आरक्षण घोटाला छात्रों ने बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी का घेरा आवास

पंकज चतुर्वेदी। लखनऊ69000 शिक्षक भर्ती में हुए आरक्षण घोटाले के विरोध में आज पीड़ित छात्रों ने बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी के आवास का घेराव किया है आरक्षित वर्ग केअभ्यर्थियों का आरोप है कि 69 हजार पदों की भर्ती मे ओबीसी को 27 फीसदी की जगह 4 फीसदी से भी कम आरक्षण मिला. इसी तरह एससी के अभ्यर्थियों को भी पूरा आरक्षण न मिलने का आरोप लगा रहे हैं.
अपनी मांग रखते हुए अभ्यर्थियों ने कहा कि जल्द से जल्द राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग की रिपोर्ट को पूरी तरह से लागू की जाए तथा राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग में जितने भी अभ्यर्थियों ने लिखित में शिकायत दर्ज कराई है, उन सभी अभ्यर्थियों को समायोजित भी किया जाए।


गौरतलब है कि राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग ने परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में 69000 सहायक अध्यापक भर्ती में आरक्षण की अनदेखी मानी है आयोग के उपाध्यक्ष डॉ लोकेश कुमार प्रजापति की अंतरिम रिपोर्ट के अनुसार राज्य सरकार की ओर से प्रस्तुत जिला वार सूची का उद्धरण यह दर्शाता है कि अनारक्षित उम्मीदवारों को आरक्षित उम्मीदवारों के बजाय नियुक्तियां दे दी गई हैं चयन प्रक्रिया में आरक्षण नीति का घोर उल्लंघन हुआ है आयोग के समक्ष राज्य का उत्तर विरोधाभास ओं से भरा है वर्तमान चयन प्रक्रिया में आरक्षण नियमों को कैसे और किस तरह से लागू किया गया है यह दिखाने में राज्य विफल रहा है अंतिम चयन सूची में चयनित उम्मीदवारों की श्रेणी का उल्लेख नहीं किया गया हालांकि जब सूचियों को जिला बार प्रकाशित किया गया था तब चयनित उम्मीदवारों की श्रेणी का उल्लेख किया गया था

29 अप्रैल को जारी आरक्षण घोटाले की अंतरिम रिपोर्ट पर सरकार ने राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग को 65 दिन बाद भी कोई जवाब नहीं दिया है. राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग ने अपनी अंतरिम रिपोर्ट में माना, 5844 सीटों का आरक्षण घोटाला हुआ है. आयोग ने अपनी अंतरिम रिपोर्ट में कहा है कि रिपोर्ट में OBC वर्ग को 21% आरक्षण नहीं मिला तथा OBC की कोटे की 18598 सीट में से OBC वर्ग को मात्र 2637 सीट मिली हैं.

शिक्षा मंत्री ने कहा नहीं हुआ कोई घोटाला

बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी ने मंत्री सतीश द्विवेदी ने कहा, शिक्षक भर्ती पूरी तरह पारदर्शी है, इसमें कहीं आर इसमें कहीं आरक्षण घोटाला नहीं हुआ. इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग से भी कोई पत्र नहीं मिला. शिक्षा मंत्री ने इस मामले में प्रमुख सचिव को आयोग से संपर्क करने के लिए कहा है. सतीश द्विवेदी ने कहा, आयोग जो रिपोर्ट देगा, हम उस पर जवाब देंगे 

News Reporter
पंकज चतुर्वेदी 'नमामि भारत' वेब न्यूज़ सर्विस में समाचार संपादक हैं। मूल रूप से गोंडा जिले के निवासी पंकज ने अपना करियर अमर उजाला से शुरू किया। माखनलाल लाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय से पत्रकारिता में परास्नातक पंकज ने काफी समय तक राष्ट्रीय राजधानी में पत्रकारिता की और पंजाब केसरी के साथ काम करते हुए राष्ट्रीय राजनीति को कवर किया है। लेकिन मिट्टी की खुशबू लखनऊ खींच लाई और लोकमत अखबार से जुड़कर सूबे की सियासत कवर करने लगे। 2017 में पंकज ने प्रिंट मीडिया से इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की तरफ रुख किया। उत्तर प्रदेश के प्रतिष्ठित चैनल न्यूज वन इंडिया से जुड़कर पंकज ने प्रदेश की राजनीतिक हलचलों को करीब से देखा समझा। 2018 से मार्च 2021 तक जनतंत्र टीवी से जुड़े रहें। पंकज की राजनीतिक ख़बरों में विशेष रुचि है इसीलिए पत्रकारिता की शुरुआत से ही पॉलिटिकल रिपोर्टिंग की तरफ झुकाव रहा है। वह उत्तर प्रदेश की राजनीति की बारीक समझ रखते हैं।

Leave a Reply