यूपी में कोरोना टेस्टिंग हुई और तेज एक दिन में 1,36,803 सैम्पल की जाँच

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर प्रदेश में कोविड-19 टेस्टिंग का कार्य तेजी से किया जा रहा है। प्रदेश में कल एक दिन में 1,36,803 सैम्पल की जांच की गयी। जिनमें से 90,262 एन्टीजन, आर0टी0पी0सी0आर0 तथा ट्रुनेट के माध्यम से की गयी है। प्रदेश में अब तक कुल 60,50,450 सैम्पल की जांच की गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में विगत 24 घंटें में कोरोना के 5,776 नये मामले आये है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 57,598 कोरोना के एक्टिव मामले हैं, जिसमें 29,588 लोग होम आइसोलेशन में है, जो की कुल का 50 प्रतिशत से अधिक है।

प्रदेश में अब तक 1,85,812 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके है, अब तक कुल 1,11,453 लोग होम आइसोलेशन में थे, जिनमें 81,865 लोग होम आइसोलेशन की अवधि पूर्ण कर चुके है और वह स्वस्थ्य है। उन्होंने बताया कि निजी चिकित्सालयों में 2,588 लोग ईलाज करा रहे है तथा सेमी पेड में 255 लोग ईलाज करा रहे है। उन्होंने बताया कि होम आइसोलेशन में रहने वाले लोग थर्मामीटर तथा पल्स आॅक्सीमीटर साथ रखें। उन्होंने बताया कि यदि किसी को खांसी, बुखार या सांस फूले तो तत्काल हेल्पलाइन नं0 हेल्पलाइन नं0 18001805145 अथवा सी0एम0 हेल्पलाइन नं0 1076 पर सम्पर्क करें। 

प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में सर्विलांस टीम के माध्यम से 85,904 क्षेत्रों में 3,11,589 टीम दिवस के माध्यम से 2,10,52,372 घरों के 10,54,19,256 लोगों का सर्वेक्षण किया गया है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में लगातार ई-संजीवनी पोर्टल का प्रयोग किया जा रहा है। कल 1,978 लोगों ने 24 घंटे में ई-संजीवनी पोर्टल के माध्यम से परामर्श लिया, अब तक 57,189 लोगों ने चिकित्सीय परामर्श पोर्टल के माध्यम से प्राप्त किया। 

अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि कोविड-19 संक्रमण के कारण बच्चों के टीकाकरण का कार्य प्रभावित हुआ है उन्होंने बताया कि सभी प्राथमिक व सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पूरी तरह से खुल गये है सभी अभिभावक अपने बच्चों को ले जाकर टीकाकरण का कार्य अवश्यक करा दे ताकि अन्य बिमारियों से भी वह सुरक्षित रह सके।

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी के निर्देश से क्रिटिकल केयर बेड की संख्या लगातार बढ़ायी जा रही है। किसी को भी कोविड संक्रमण के लक्षण होने पर तत्काल सरकारी व्यवस्था का लाभ उठाये जो पूरी तरह से निशुल्क है। उन्होंने कहा कि यदि सूंधने, स्वाद, बुखार, खांसी, सांस फूलने आदि के लक्षण दिखते है तो तत्काल जांच करायें या विभाग की हेल्पलाइन पर फोन करके चिकित्सीय सलाह ले सकते है।

उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष 01 जून से 02 सितम्बर के मध्य 64,887 मेजर आपरेशन हुये थे, इस वर्ष भी इसी क्रम में कोविड संक्रमण के दौरान 43,960 मेजर आपरेशन हुए है। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष इस दौरान 99,255 माइनर आपरेशन हुए थे, इस वर्ष भी इसी क्रम में कोविड संक्रमण के दौरान 69,049 माइनर आपरेशन हुए थे। निजी चिकित्सकों के फीस की संशोधित दरें आज जारी हो जायेगी। उन्होंने कहा कि अस्पतालों में सभी प्रकार की दवाईयां उपलबध है। 

Leave a Reply