Log in

 

updated 1:03 PM UTC, Aug 18, 2017
Headlines:

Exclusive Interview - पीएम ने फोन पर पूछा था कैसा लग रहा है..? -सर्बानंद सोनोवाल

असम में बीजेपी ने पहली बार भगवा परचम फहराया है। बीते दिनों उत्तराखंड में सियासी उठापटक के बीच असम की जीत बीजेपी के लिए कई सौगात लेकर आई है। मुख्ममंत्री चेहरे के रूप में सर्वानंद सोनोवाल ने बीजेपी के कांग्रेस मुक्त भारत के सपने को एक कदम और आगे बढ़ाया है। असम में ऐतिहासिक जीत पर राज्य के बीजेपी के पहले मुख्यमंत्री के रूप में सर्वानंद सोनोवाल ने कमान संभाल ली है। तमाम मुददो पर उनसे विस्तृत बातचीत की रमेश ठाकुर ने।

सवालः  ”आपके जीवन में आनंद लाना है इसलिए असम में सर्वानंद लाना है” प्रधानमंत्री मोदी के इस बयान पर असम की जनता ने मुहर लगा दी है। आपकी प्रतिक्रिया?

भारतीय जनता पार्टी ने पूरे असम में पिछले कई सालों से आम लोगों की बुनियादी सुविधाओं का ही मुद्दा उठाया है। चुनाव प्रचार के दौरान ही प्रधानमंत्री मोदी ने यह बातें कहीं थी। अब असम की जनता ने आशीर्वाद देकर भाजपा को  बहुत बड़ी जिम्मेदारी दी है। हम असम की जनता की उम्मीदों पर खरा उतरने की हर संभव कोशिश करेंगे। चुनाव में जिस तरह असम की जनता ने बीजेपी पर विश्वास जताया है उसका मैं तहेदिल से आभारी रहूंगा। साथ ही जनता को बुनियादी जरूरतों को मुहैया कराने के लिए मैं हमेशा तत्पर था और आगे भी रहूंगा।

सवालः- बिहार और दिल्ली विधानसभा चुनाव में असफलता के बाद बीजेपी ने किसी चेहरे के आसरे असम चुनाव लड़ा था, यह रणनीति पूरी तरह से सार्थक सिद्ध हुई, क्या आगे यह रणनीति जारी रहेगी।  

असम की जनता ने भारतीय जनता पार्टी पर विश्वास जताया है। किसी भी प्रदेश में चुनाव रणनीति को लेकर पार्टी आलाकमान चिंतन मनन करता है। इसके बाद ही कोई फैसला लिया जाता है। बीजेपी में तो छोटे से छोटा कार्यकर्ता भी पार्टी में अपनी भागीदारी रखता है। पार्टी में मुझ जैसे कार्यकर्ता को जिम्मेदारी दी थी, इसके लिए मैं पार्टी का आभार व्यक्त करता हूं, हालांकि पार्टी कब कहां और कैसे चुनाव लड़ेगी यह पार्टी आलाकमान ही तय करता है। आदेश को मेरे जैसे कार्यकर्ताओं स्वीकार करके मैदान में उतरते हैं।

सवाल- असम बांग्लादेषी घुसपैठियों से परेशान है। पार्टी ने इस समस्या को दूर करने का मुख्य चुनावी मुद्दा बनाया था। जीत के बाद अब घुसपैठ पर नियंत्रण कैसे लगाया जा सकेगा?

जी हां, असम में बांग्लादेशी घुसपैठ बहुत बड़ी समस्या रही है। प्रदेश में कई बार विरोध भी होता रहा है। मैं ही असम में बांग्लादेशी घुसपैठ मामले को सुप्रीम कोर्ट तक ले गया था। दरअसल, बांग्लादेश से होने वाली अवैध घुसपैठ बड़ा संवेदनशील मुद्दा है। आपको पता होगा कि इंदिरा गांधी के समय आईएमडीटी एक्ट लागू होने से बाहरी लोगों को राहत मिल गई थी, जिससे कई अवैध बांग्लादेशी असम में बस गए थे। हालांकि कानूनी लड़ाई के बाद इस कानून को निरस्त कर दिया गया था। बांग्लादेशी घुसपैठ को रोकने के लिए ब्लूप्रिंट तैयार कर लिया गया है और उस ब्लू प्रिंट के अनुसार काम भी शुरु हो गया है जल्द ही असर देखने को मिलेगा।

4- आपके जगह अगर सीएम किसी और को बनाया जाता तो आपका फैसला क्या होता..?

मुझे कभी भी पद-प्रतिष्ठा की चाह नहीं रही है। मुझे गरीब असहाय लोगों की सेवा करने का मौका मिल रहा है, यही मेरे लिए किसी पद से कम नहीं है। मैं एक आम आदमी हूं, साथ ही पार्टी का कार्यकर्ता होने के नाते मुझे पार्टी हाईकमान कर हर फैसला मंजूर होता।  रिजल्ट आने के बाद मेरी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी से बात हुई थी। उन्होंने सबसे पहले मुझे यही कहा कि कैसा महसूस कर रहे हो। तो मैं मैंने उनसे कहा सर आपके प्रयास से ही यह सब संभव हुआ है। उनका गार्जियन की तरह हमें प्यार मिल रहा है। 

5-सवालः- सरकार चलाने की आपकी प्राथमिकताएं क्या हैं ?

पार्टी का नारा है सबका साथ, सबका विकास! इस युक्ति के जरिए हम राज्य में आगे बढेंगे। इस जीत का हमें ज्यादा उल्लास नहीं मनाना है। जीत को पचाना है जीत की खुशी राज्य की जनता में बांटेगे। यही उनकी जीत है। मैं राज्य की जनता को विश्वास दिलाना चाहूंगा कि राज्य में अब वर्षों से रूका हुआ विकास शुरू होगा। और उसकी गति आगे सालों तक बरकरार रहेगी। रही बात मुख्य प्राथमिकताएं की तो यहां रोजगार के असाधन मुहैया कराने का पहना प्रयास होगा। उससे पलायन रूकेगा। असम में रोजगार की बहुत समस्या है। इस मुद्दे पर हमारा सबसे ज्यादा फोकस रहेगा

Leave a comment

Make sure you enter the (*) required information where indicated. HTML code is not allowed.

loading...

New Delhi

Banner 468 x 60 px