Log in

 

updated 5:35 PM UTC, Apr 26, 2017
Headlines:

चोरी कर भाग रहे चोर को पकड की धुनाई, एलसीडी बरामद

बुलंदशहर/ कविश अग्रवाल, गुलावठी क्षेत्र में किसान के घर से एलसीडी टीवी चोरी कर जा रहे चोर को किसान के पुत्र ने रंगे हाथ पकड लिया और ग्रामीणों ने धुनाई कर दी। चोर को पुलिस के सपुर्द कर दिया।

 

ग्राम बराल स्टेशन की मडैया निवासी किसान जगत सिंह के परिजन छत पर सो रहे थे कि बुद्धवार की देर रात को एक चोर घर में घुस गया और कमरे में लगे एलसीडी टीवी को चोरी कर जा रहा था कि आहट की आवाज सुनकर किसान का पुत्र अजय जाग गया और चोर को देख शोर मचा पकड लिया। थाना प्रभारी निरीक्षक भूपेन्द्र सिंह ने बताया कि अजय ने मुजम्मिल पुत्र सगीर निवासी बुलन्दशहर के खिलाफ चोरी का माला दर्ज कराया है। एलसीडी टीवी बरामद कर लिया गया है। आरोपी को जेल भेजा दिया गया।

Tagged under

योगी की आस में जान की बाजी लगाकर बैठे आंदोलनकारी

गणेश दूबे/सोनभद्र,  सूबे में सपा सरकार के कार्यकाल के दौरान सत्ता के दम पर करोड़ों रुपये की बंदरबांट करने वाले भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ अब जनता न केवल सडको पर उतरने लगी है बल्कि अपने जान की भी बाजी लगाने को तैयार हो गयी है। सत्ता  परिवर्तन के बाद  सरकार के तेवर को देख जनता को अब उम्मीद हो गयी है कि भ्रष्ट अधिकारियो की जगह जेल होगी। ऐसा ही कुछ देखने को मिल रहा है सोनभद्र में जहाँ एक छोटे से ओबरा नगर पंचायत की जनता अपने भ्रष्ट ईओ को हटाने की मांग को लेकर पांच दिनों से भूख हड़ताल पर बैठी है। पांचवे दिन अनशनकारियों ने भ्रष्टाचारी ईओ की प्रतीकात्मक शव यात्रा निकाली और सिर मुंडवाकर शासन को सचेत किया कि भ्रष्ट ईओ को तत्काल निलंबित कर दंडनात्मक कार्यवाही करे अन्यथा वे अनशन स्थल पर ही अपने प्राण त्याग देंगे।

 

क्या है मामला

 

कभी समूचे एशिया में अपने विशाल बिजलीघर के लिए मशहूर ओबरा के नगर पंचायत में विकास कार्यो के नाम पर इस कदर लूट हुई कि देश के बड़े घोटालों में शामिल कामनवेल्थ घोटाला भी इसमें सामने छोटा पद गया है। नगर पंचायत में सोलर मिनी हाई मास्ट लाइट लगाने में 159140 रुपये खर्च किये गए तो इसकी सफाई के नाम और 188160 रुपये खर्च कर दिए गए।  विकास कार्यो में करोड़ो के किये गए भ्रष्टाचार के खिलाफ सामाजिक प्रगति परिषद द्वारा नगर के सुभाष तिराहे पर भूख हड़ताल किया जा रहा है आज पांचवे दिन भ्रष्टाचारी ईओ का अनशनकारियों ने प्रतीकात्मक शव यात्रा निकाली और नगर में भ्रमण करने के बाद उसे अर्द्ध जली हालत में एक नाले में  प्रवाहित कर दिया।

 

अनशनकारियों का कहना है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ी जा रही है लेकिन जिला प्रशासन उनकी आवाज को अनसूना करने में लगा है आज भ्रष्ट ईओ का शव यात्रा निकाल कर सिर मुंडवाया गया है और आगे तेरही का कार्यक्रम भी किया जायेगा।वही पांच दिनों से भूख हड़ताल पर बैठे अनशनकारीयों का कहना है कि ओबरा नगर पंचायत में बड़े पैमाने पर विकास कार्यो में करोड़ो रूपये की धांधली की गयी जिसकी भी कराई जा चुकी पर जिला प्रशासन दोषी पाए गए भ्रष्ट ईओ पर कोई कार्यवाही नही कर रहा है। यहां ऐसा प्रतीत होता है कि ईओ जिलाधिकारी पर भारी पड़ रहा है।

दरिंदे ने की नाबालिक से बलात्कार, पाक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज

गोंडा, एक नाबालिक लड़की से गांव के ही एक दरिंदे ने तब बलात्कार किया जब वह उसको घर में पानी पिलाने गयी थी पुलिस ने पाक्सो समेत बलात्कार की धारा के तहत मुकदमा दर्ज किया है। और लड़की का मेडिकल करवाया है पुलिस अधीक्षक के मुताबिक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और विधिक कार्यवाही की जा रही है। लड़की के अनुसार वह खेत में गेंहू दवा रही थी तभी गांव के ही ननकना ने कहा की घर चलो पानी पिला दो फिर पानी पीने  के बाद उसने दुष्कर्म किया घटना करनैलगंज कोतवाली अंतर्गत एक गांव की है।

 

 

करनैलगंज थाना क्षेत्र में रहने वाली वह मासूम बालिका है जो दोपहर में अपने चाची के खेत में सभी के साथ गेंहू दवा रही थी। आरोप है कि तभी गांव के ही रहने वाले ननकना ने उससे कहा की प्यास लगी है चाची से घर की चाभी ले लो और पानी पिला लाओ। बालिका घर में पानी पिलाने आयी पानी पीने के बाद उस दरिंदे ने उसके साथ बलात्कार किया और भाग गया।

मजदूरों का ऑनलाइन डाटा बनाने की उठी मांग

गणेश दूबे/सोनभद्र, उत्तर प्रदेश की नई सरकार द्वारा अवैध खनन पर कार्यवाही एक सरहानीय पहल है लेकिन उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में खनन क्षेत्र में कार्य कर रहे दस हजार मजदूरों के सामने इन दिनों रोजी रोटी की भी समस्या उत्पन्न हो रही है। आदिवासी क्षेत्र के कई इलाकों एव कई राज्यो से आए मजदूर इन दिनों दर दर की ठोकर खाने को मजबूर दिख रहे है। उनका केवल यही कहना है साहब मेरा क्या कसूर।

 

ओबरा के बिल्ली खनन क्षेत्र में नागरिक सेवा मंच भारत द्वारा मजदूरों की समस्या को लेकर पोस्टर प्रदर्शन किया गया जिसमें खनन क्षेत्र में कार्य कर रहे दर्जनों मजदूर भी शामिल रहे । जिलाधिकारी से मांग की गई कि साहब हम कहा जाए ,हमारा क्या कसूर ,हमे रोजगार दीजिये। मंच के राहुल श्रीवास्तव एव संतोष सिंह ने कहा कि जिलाधिकारी द्वारा खनन क्षेत्र में मेडिकल कैम्प लगवा कर मजदूरों का इलाज किया जा रहा है यह एक अच्छी पहल है । लेकिन हमारा संगठन जिलाधिकारी का ध्यान मजदूरों की ओर आकर्षित करता है कि कई खदान एव क्रेशर प्लांट बन्द होने से मजदूरों के सामने बेरोजगारी की समस्या उतपन्न हो गई है। हमारा संगठन जिलाधिकारी से मांग करता है कि जो भी खदाने मानक को देखते हुए चलने योग नही है उसको बन्द कर दिया जाए, लेकिन जल्द से जल्द उन खदानों के मानकों को सही करवा कर सुरक्षित खदानों को पुनः चालू किया जाए और नई खदाने जो कि कुछ महीने पहले लीज की प्रक्रिया को पूर्ण कर के चालू हुई है उनको पुनः चालू किया जाए।  जिससे मजदूरों के सामने रोजगार की समस्या उतपन्न ना हो सके।

 

 

मजदूरों के सुरक्षा को देखते हुए सभी मजदूरों का ऑनलाइन रिकॉर्ड रखा जाए मजदूरों का खदान में काम करते वक्त दुर्घटना होने पर मौत हो जाती है तो दस लाख और दुर्घटना होती है तो दो लाख मुवावजा और इलाज करवाया जाए। हम प्रशासन से यह भी मांग करते है कि खनन क्षेत्र में कार्य कर रहे मजदूरों के लिए एक निगरानी टीम गठित हो जो खनन क्षेत्र में कार्य कर रहे मजदूरों के सुरक्षा की निगरानी करे। संगठन मजदूरों के हित के लिए सदैव आवाज़ उठाते रहेगा। वही खदान में कार्य करने वाले मजदूर कलावती देवी,मुन्नी कुमारी,दसरत का कहना है कि लम्बे समय से हम सब इन खदानों एवं क्रेसरो में कार्य करते थे लेकिन खदान और क्रेसर बन्द होने से हम सब को अपना और अपने बच्चो को पेट पालने में कठिनाई आ रही है हमारे पास दूसरा कोई रोजगार नही है हम कहा जाए ।

बदला शासन बदला प्रशासन, कोर्ट के आदेश के तीन साल बाद हटा कब्जा

गोंडा, सूबे में आदित्यनाथ योगी की सरकार बनते ही नियमों व माननीय न्यायालयों के आदेशों के सख्ती से पालन होने भी आरम्भ हो गए। इसमें उन मामलों पर भी कार्यवाहियां होने लगीं जिनमें सपा सरकार में न्यायालय के आदेशों के बावजूद सत्ता के दबाव में पालन नहीं कराए गए थे। इसी क्रम में आज ज़िले के नगर कोतवाली क्षेत्र में बहराइच-इलाहाबाद स्टेट हाईवे पर आवास विकास के बीच पीडब्ल्यूडी की भूमि पर चले आ रहे अवैध कब्जे को आज नगर प्रशासन ने हाई कोर्ट के आदेश का पालन करते हुए हटा दिया कब्जा हटाने के दौरान जहां अवैध कब्जेदार महिला-पुरषो के विरोध को भी झेलना पड़ा

 

इस अवैध कब्जे को हटाने के लिये पूर्व की सपा सरकार व उसके स्थानीय नेता कैबिनेट मंत्री पंडित सिंह के अनियमित सत्ता का रौब व इनके दबाव में काम करने वाले तत्कालीन प्रशासनिक अधिकारियों की दोष पूर्ण कार्य शैली भी उजागर हुई। क्योंकि पीडब्ल्यूडी की जिस भूमि से आज जो अवैध कब्जा हटा है उसके ठीक पीछे आवास विभाग की कमर्सिअल भूमि है जिसके आवंटी ने इस अवैध कब्जे को हटाने के लिये सन 2014 में हाईकोर्ट से आदेश प्राप्त कर लिया था किंतु अनियमितताओं, खराब कानून व्यवस्था व अवैध कब्जों के लिये नाम कमा चुकी पूर्व अखिलेश सरकार के कृषि कैबिनेट मंत्री पंडित सिंह दबाव में तत्कालीन गोण्डा प्रशासन ने हाई कोर्ट के आदेशों की धज्जी उड़ाते हुए अवैध कब्जा नही हटाया । मजबूरन याची को कोर्ट ऑफ कंटेम्प्ट करना पड़ा जिसके क्रम मे पुनः हाई कोर्ट के आदेश पर आज प्रशासन ने यह अवैध कब्जा हटा कर आवास विकास के कामर्शियल

Tagged under

अवैध शराब बिक्री पर ग्रामीण करेगें थाने का घेराव

बुलंदशहर, ग्रामीणों ने पंचायत कर पुलिस पर अवैध तरीके से बेची जा रही तस्करी की शराब पर रोक न लगाने का आरोप लगाते हुए कार्रवाई न करने पर 25 अप्रैल को थाने का घेराव कर प्रदर्शन करने का एलान किया है। ग्राम कुरली में प्रधान ओवीर सिंह के आवास पर मांगेराम डागर की अध्सक्षता में पंचायत हुई, जिसमें ग्रामीणों ने गांव में तस्करी करके लायी जा रही शराब बेचे जाने पर रोष जताया, महिलाओं ने कहा कि शराब गृह क्लेश का प्रमुख कारण बन रही है। गांव में शराब की बिक्री नही होनी चाहिए। यही नही पूर्व में गांव से कई मोटर चोरी हो चूकी है, जिनका अभी तक पुलिस ने खुलासा नही किया है।

 

 

पंचायत में सर्व सम्मति से निर्णय लिया गया कि गांव में शराब बिक्री बन्द नही हुई और चोरियां नही खुली तो 25 अप्रैल को ग्रामीण थाने का घेराव कर प्रदर्शन करेगे। प्रचायत में राजेश कुमार, इन्द्रजीत, बीरपाल, सुभाष, सोरन सिंह, रतीपाल सिंह, ब्रहम्मपाल सिंह, हरेन्द्र सिंह डागर, कुसमपाल सिंह, कुवंरपाल सिंह, महीपाल सिंह, नीरज, मनवीर, प्रकाश आदि अनेक ग्रामीण मौजूद रहे।

Tagged under

यूपी का एक विद्यालय, जहाँ 300 छात्रों पर है सिर्फ एक शिक्षक

औरंगाबाद : जहांगीराबाद ब्लाक क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय ईलना का बुरा हाल है। विद्यालय में 300 बच्चे होने के बावजूद मात्र एक शिक्षक तैनात है। बुधवार को ग्रामीणों ने शिक्षा विभाग पर बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगाते हुए हंगामा किया और जल्द ही शिक्षकों की तैनाती न होने पर स्कूल में तालाबंदी की चेतावनी दी है।

 

बता दें कि औरंगाबाद-जहांगीराबाद मार्ग स्थित प्राथमिक विद्यालय ईलना में पिछले डेढ़ माह से एक ही शिक्षक तैनात होने पर बुधवार को ग्रामीणों का गुस्सा फूट पड़ा। 10-15 ग्रामीण एकत्रित होकर विद्यालय परिसर में पहुंचे और वहां हंगामा करना शुरू कर दिया। ग्रामीणों का कहना था कि विद्यालय में 300 बच्चे होने के बावजूद मात्र एक शिक्षक तैनात है। ऐसे में उक्त शिक्षक 300 बच्चों को कैसे पढ़ा सकता है। शिक्षा विभाग बच्चों के साथ खुले आम शोषण कर रहा है।


विद्यालय में पढ़ाई न होने के कारण बच्चों का भविष्य खतरे में है। ग्राम प्रधान योगेन्द्र सिंह ने बताया कि इस बाबत बीएसए से मिलकर कई बार लिखित शिकायत की गई। लेकिन अभी तक समस्या का समाधान नहीं हो सका है। ग्रामीणों ने चेतावनी दी कि यदि एक सप्ताह के भीतर शिक्षकों को तैनात नहीं किया गया तो विद्यालय की तालाबंदी की जायेगी। हंगामे में जोगपाल सिंह, नन्हें सिंह, भरत सिंह, बिजेन्द्र सिंह, सलीम खां, धर्मपाल सिंह, रूपकिशोर, हीरा सिंह आदि मौजूद रहे। बीएसए से फोन पर संपर्क करने का प्रयास किया गया तो उनका मोबाइल स्विच ऑफ मिला।  

औचक निरीक्षण में गायब 17 अध्यापकों को बीएसए ने किया निलंबित, 37 का रोका वेतन

बहराइच। जिले के प्राथमिक और जूनियर विद्यालयों में खंड शिक्षा अधिकारियों ने औचक निरीक्षण किया। इस दौरान बड़े पैमाने पर शिक्षकों की लापरवाही सामने आई। जिसके चलते समीक्षा बैठक के बाद बुधवार देर शाम बीएसए ने १७ शिक्षक शिक्षिकाओं को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। जबकि ३७ शिक्षक-शिक्षिकाओं का वेतन रोकते हुए उनसे स्पष्टीकरण तलब किया है।

 

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी डॉ. अमरकांत सिंह ने बताया कि बुनियादी शिक्षा के स्थलीय सत्यापन के लिए खंड शिक्षा अधिकारियों को एकसाथ छापेमारी के निर्देश दिए गए थे। उसी के तहत चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने आई है। प्राथमिक विद्यालय रेवली चित्तौरा में प्रभारी प्रधानाचार्य शारदा जायसवाल व सहायक शिक्षिक अर्चना अग्रवाल अनुपस्थित मिलीं। छात्रसंख्या काफी कम थी। इस पर उन्हें निलंबित कर दिया गया। इसके अलावा प्राथमिक विद्यालय भेटिया में सहायक शिक्षक विनोद अनुपस्थित मिले। अवकाश का प्रार्थना पत्र नहीं था। उनके खिलाफ भी निलंबन की कार्रवाई हुई। यही स्थिति प्राथमिक विद्यालय हड़हापुरवा में मिली। यहां प्रधान शिक्षिका इशरत जहां एक अप्रैल से अनुपस्थित पायी गयीं। प्राथमिक विद्यालय सुहेलनगर में प्रधानाध्यापिका रागिनी सिन्हा अनुपस्थित मिलीं। अवकाश चढ़ा नहीं था। उन्हें भी निलंबित कर दिया गया है। जूनियर विद्यालय सुहेलनगर में सहायक शिक्षिक अनीसा बानो, कालेपुरवा प्राथमिक विद्यालय की सहायक शिक्षिका रुमाना कुद्दूस, मुर्गिया की इंचार्ज प्रधानाध्यापक रूमा बेगमू, सहायक शिक्षक मोहम्मद इरशाद, जवाहिरपुरवा की इंचार्ज प्रधानाध्यापक वंदना सिंह, इंदिरापुर की सहायक शिक्षिका ऋतंभरा पांडेय, जूनियर विद्यालय की सहायक शिक्षिका आरती मिश्रा, प्राथमिक विद्यालय बनवारी की शिक्षिका रेशमा, करेहनावान गिरंट की प्रधान शिक्षिका जैनब बानो, खैराहसन के सहायक अध्यापक नीरज सिंह, जीनत खातून को निलंबित कर दिया गया है। जबकि सुहापारा प्राथमिक विद्यालय सुबह ८:२१ बजे बंद मिला। यहां पूरा स्टाफ निलंबित हुआ है। वहीं प्राथमिक विद्यालय विशुनपुर रहवा की प्रधान शिक्षिका मंजू पांडेय, प्रधानाध्यापक बीना कुमारी व गुंजा जायसवाल के अनुपस्थित मिलने पर उनके खिलाफ भी निलंबन की कार्रवाई की गई है। बीएसए ने बताया कि प्राथमिक विद्यालय इटौझा की नसरा बानो, सहायक शिक्षिका राधा, अनुचर गोविंद नारायण, प्राथमिक विद्यालय की भारी भरौंवा की सहायक रीना कुमारी, प्राथमिक विद्यालय रायपुर की प्रधान शिक्षिका गायत्री देवी, सहायक ममता तिवारी, अमरजीत कौर, समीना परवीन, कोरियनपुरवा प्राथमिक  विद्यालय की इंचार्ज प्रधान शिक्षिका समां, सहायक शालिनी यादव, ममता मौर्या, बरौंवा प्राथमिक विद्यालय की प्रधानाध्यापक किरन, सहायक रेनू सिंह, रीना मोदी, प्राथमिक विद्यालय बरौंवा की रेनू जायसवाल, आरती गौड़, रीना विष्ट, जूनियर विद्यालय बलदीपुरवा के अनीस अहमद, अंजनी कुमार पांडेय, प्राथमिक विद्यालय धोबिहा की चंपा देवी, राखी दीक्षित, हर्षा सेठ, प्राथमिक विद्यालय टेड़िया की तरन्नुम, सुनीता सहाय, पूर्णिमा सिंह, स्नेहलता, दिव्या श्रीवास्तव, जूनियर विद्यालय रामपुर गोड़वा के बाबत प्रसाद, परवेज अंसारी, पयागपुर सुहेलवा की विमलेश, अमृता कुमारी, इंदिरापुर की गीता देवी पांडेय, मीरपुर कस्बा की फिरोज बानो, अल्पना देवी, प्रगत श्रीवास्तव, शमशीर फातिमा, अहमदी बेगम, प्राथमिक विद्यालय गोपालपुर झांसा के जावेद अहमद अंसारी, रोली मिश्रा, प्राथमिक विद्यालय रिसिया जमाल के जबीहउल्ला अंसारी, नमृता बाजेपई, समसा तरहर प्राथमिक विद्यालय की प्रेमलता पाल, अर्चना चौहान, सोनिया जेम्स, संध्या, दरख्शा, सिसई सलोन द्वितीय प्राथमिक विद्यालय की सरला श्रीवास्तव, निशा, प्राथमिक विद्यालय सिसई प्रथम की सीमा जायसवाल, मधु श्रीवास्तव, रश्मि मिश्रा, खैरा हसन जूनियर विद्यालय के गुलाम शब्बीर, अदीला खान, प्राथमिक विद्यालय इटकौरी मधुमिता रस्तोगी, शीबा खान, प्राथमिक विद्यालय कुड़िया की हुमैरा खातून, अर्चना गुप्ता, शादाब अमीन, प्राथमिक विद्यालय बहादुरचक की सुमन शर्मा, अर्चना सक्सेना, प्रज्ञेश मिश्र, जूनियर विद्यालय बहादुरचक की अर्चना पाठक, जौली अग्निहोत्री, प्राथमिक विद्यालय टेड़वा के प्रभात श्रीवास्तव, सरस्वती, देवी, श्वेता मिश्र, प्राथमिक विद्यालय कुसौर के सियाराम यादव, निर्मला, विभा मिश्रा, कल्पीपारा की समर फिरदौस, असमतुननिशा, शैलजा मिश्रा, रमा पांडेय, उजरा साहीन, जूनियर विद्यालय हटवा राय में छविलाल शुक्ला, संजय कुमार, प्राथमिक विद्यालय पकड़ी में नीलम गुप्ता, गीता श्रीवास्तव, अनीता सिंह, प्राथमिक विद्यालय बघौड़ा में विजय कुमारी, अफसा बेगम, वंदना राय, सुचित्रा, प्राथमिक विद्यालय बेहननपुरवा में आयशा खातून, पूनम मिश्रा, विमला देवी, जूनियर विद्यालय वजीरपुर में मलका सहनाज, नौरीन फातिमा, बेवजी कायनात और जूनियर विद्यालय परसौरा में प्रधान शिक्षिका मंजर सुल्ताना, इकबाल जहां, रेहाना यास्मीन और नंदिनी सिंह को लापरवाही के चलते इन सभी का वेतन रोक दिया गया है। स्पष्टीकरण तलब किया गया है। बड़े पैमाने पर हुई कार्रवाई से शिक्षकों में हड़कंप मचा हुआ है।

Subscribe to this RSS feed
loading...

New Delhi

Banner 468 x 60 px