Log in

 

updated 5:57 PM UTC, Feb 23, 2017
Headlines:

हिस्ट्रीशीटर के डर से पीड़ित परिवार ने लगाई एसपी से गुहार

गोंडा, गम्भीर अपराधों के दो दर्जन मुकद्दमों का आरोपी हिस्ट्रीशीटर मनकापुर पुलिस के शह पर क्षेत्र में छुट्टा घूम रहा है और गम्भीर अपराधों को खुल्लमखुल्ला अंजाम दे क्षेत्रवासियों को भयभीत करता फिर रहा है। यही नहीं वो धड़ल्ले से अवैध कार्यों का धन्धा भी करता फिर रहा है, इसमें मनकापुर पुलिस बकायदा हिस्सेदारी भी करती है। शायद इसका खुलासा भी न होता किन्तु यह बात तब सामने आयी जब एक दबंग के अत्याचार से पीड़ित एक व्यवसायी परिवार ज़िले के एसपी से गुहार लगाने पुलिस कार्यालय पहुंचा।

 

नवाबगंज रोड पर मनकापुर कोतवाली के निकट स्थित बनगहा गॉव निवासी सरिया सीमेन्ट व्यवसायी विकास जायसवाल की भाभी को अजय सिंह नाम के हिस्ट्रीशीटर ने बुरी तरह मारपीटकर कपड़े फाड़कर सरेआम अर्धनग्न कर डाला। बीच बचाव कराने आयी विवाहिता की वृद्ध सास को इतनी बुरी तरह मारा कि उसका हाथ भी टूट गया। विवाहिता का आरोप है कि हिस्ट्रीशीटर ने उसके साथ रेप करने का भी प्रयास किया, हिस्ट्रीशीटर के मनकापुर पुलिस से मधुर सम्बन्धों का ये आलम है कि जब पीड़ित ने 1090 व डॉयल 100 पर कॉल किया तब कहीं कोतवाली में एफआईआर दर्ज हो पाया। इससे पूर्व शिकायत लेकर पहुंची पीड़ित महिलाओं को कोतवाल सदाकान्त सिंह ने धमकाकर भगा दिया था।

 

ज़िले के मनकापुर कोतवाली क्षेत्र के एक व्यवसायी परिवार की महिलाओं को क्षेत्र के ही हिस्ट्रीशीटर दबंग अजय सिंह ने जमकर पीटा है। इस व्यसायी परिवार की ज़मीन पर जबरन कब्जा करने कीं नीयत से अजय अक्सर इन्हें धमकाता रहता था किंतु पांच दिन पूर्व हिस्ट्रीशीटर इस परिवार की महिलाओं पर कहर बनकर टूट पड़ा। परिणाम यह हुआ कि जहां वृद्धा का हाथ टूट गया वही घर की युवा बहू के अंगों जाँघों आदि पर घातक चोटें ही नहीं आईं बल्कि उसके कपड़े फाड़कर हिस्ट्रीशीटर अजय ने इसे अर्धनग्न भी कर डाला और इसका बलात्कार भी करने का प्रयास किया। पीड़ित विकास जायसवाल ने बताया कि कोतवाली पुलिस से नजदीकियों के कारण पुलिस उसे सहयोग करती है। यही नहीं 1090 व यूपी 100 के माध्यम से दर्ज एफआईआर की पैरवी करने से नाराज़ मनकापुर कोतवाल हिस्ट्रीशीटर के विरूद्ध कार्यवाही करने के बजाए उलटे उसे ही धमकाते हुए कहते हैं कि उनके तरफ लाश गिर जाऐगी। वहीं मनकापुर सीओ विजय आनन्द ने कहा कि मामले की जांच हो रही है, जांच होने के बाद जो बात सामने निकलकर आएगी उस पर कार्यवाही की जाएगी।

जिसने अपनी बीवी छोड दी, वो तीन तलाक की बात न करे-नसीमुद्दीन

बलरामपुर, नसीमुद्दीन सिद्दीकी आज बलरामपुर में अपने पार्टी के प्रत्याशी के लिए प्रचार करने आए थे बसपा के स्टार प्रचारक ने बीजेपी और सपा पर जमकर हमला बोला। नसीमुदुदीन ने प्रधानमंत्री पर भी तंज कसा और अखिलेश यादव पर भी। नसीमुद्दीन ने अशिलेश पर निशाना साधते हुए बोले कि जो अपने बाप का नही हुआ वो जनता का क्या होगा, अखिलेश मुस्लिम विरोधी हैं, मुलायम सिंह यादव खुद ही इस बात को स्वीकारते हैं l समाजवादी सरकार और अखिलेश के काम बोलता है के नारे पर तंज़ कसते हुये आरोप लगाया अगर 5 साल काम किया है तो गठबंधन की क्या जरूरत पड़ी। सहारे की जरूरत कमजोरों को होती है।

 

नसीमुद्दीन ने कांग्रेस को डूबती नाव बताते हुए कहा कि 27 साल यूपी बेहाल का नारा देने वाली कांग्रेस, ने यूपी को बेहाल करने वाले सपा से सत्ता के लिए हाथ मिला लिया। कांग्रेस की खाट खड़ी और बिस्तर गोल है। कांग्रेस शासन के राम मंदिर का ताला खोला गया सपा के चुनावी घोषणापत्र को दिखाते हुए कहा आरक्षण के नाम पर धोखा दिया।

 

नोटबंदी से कम से कम 200 लोगों की जान चली गयी।किसानों,मजदूरों,कर्मचारियों ,व्यापारियों और गरीबों को अपने मेहनत से कमायें हुये पैसों के लिये लाइन मे लगना पड़ा ।मोदी को देश को बताना चाहिये कि चाय बेचने वाले के पास कपड़े पहनने के लिये अस्सी करोड़ रुपये कहा से आये। प्रधानमंत्री मोदी को नसीहत देते हुए कहा कि अपना घर त्यागने वालों को तीन तलाक की बात नही करनी चाहिये l

 

मोदी को उनके घमण्ड का जनता 2017 के इस चुनाव में जनता करारा जवाब देगी l उन्होने कहा कि दलित समाज  बसपा के साथ है l इस बार प्रदेश में बसपा की पूर्ण बहुमत की सरकार बनेगी और मायावती मुख्यमंत्री होंगी l सभा में मुख्य अतिथि के पहुंचने पर माल्यार्पण कर स्वागत किया गया सभा की अध्यक्षता जिला अध्यक्ष हरिराम ने किया इस दौरान  प्रत्याशी राम सागर अकेला,अलाउद्दीन खाँ, परबेज उमर, के.के सचान, राजा राम गौतम, अतहर खान, पवन कुमार गौतम, श्रीराम, लालमणि, श्याम किशोर गौतम, सगीर उस्मानी, फिदा मोहम्मद प्रभाकर सिंह,राम सूरत चौधरी ने अपने विचार रखे।

कांग्रेस के मंत्री बीजेपी में शामिल कहा “कांग्रेस में अब सिर्फ कचरा ही रह गया है”

गौरव शर्मा/सीतापुर कांग्रेस का एक और नेता ने बीजेपी ज्वाईन कर लिया है। अपनी पूरी जिंदगी में कांग्रेस के लिए राजनीति करते हुए गुजार देने वाले पूर्वमंत्री रामलाल राही ने कांग्रेस से नाता तोड लिया है। बतौर राही कांग्रेस पार्टी में उनका सम्मान नही किया जा रहा था जबकि रामलाल राही कांग्रेस सरकार में गृहमंत्री के पद पर भी रह चुके थे। हर जगह पार्टी के द्वारा उनकी उपेक्षा करी जाती थी उसके बावजूद वह पार्टी से जुड़े रहे लेकिन लगातार उपेक्षा से खिन्न हो कर रामलाल राही ने अब भाजपा का दामन पकड़ लिया है। आज सीतापुर में अपने आवास पर की गयी पत्रकार वार्ता में उन्होंने बताया कि कांग्रेस में अब कोई राजनीति करने वाला बचा ही नहीं है वहाँ तो वो लोग है जिन्हें पार्टी का सत्यानाश करना है। इसीलिये मैने विचारहीन पार्टी कांग्रेस से नाता तोड़ भाजपा का साथ पकड़ लिया है।

राही जी ने बताया मोदी जी की विचारधारा से मै प्रभावित था भाजपा में सभी का सम्मान होता है और भाजपा विचारो की पार्टी है इसी जगह कांग्रेस खत्म होने की कगार पर है।

नमामि भारत के संवाददाता ने जब राही से पूछा कि राहुल गाँधी का कहना है कि जो कचरा कांग्रेस पार्टी फेंक देती है बीजेपी उसे अपने में शामिल कर लेती है इस पर आपका क्या कहना है तो जवाब में राही जी ने कहा कि कांग्रेस में अब सिर्फ कचरा ही रह गया है। ना कांग्रेस में अब विचार शक्ति रह गयी है और न पुरानी वाली कांग्रेस। इसीलिये हमने कांग्रेस का त्याग कर दिया है रही बात सपा और कांग्रेस के गठबंधन की तो कांग्रेस अगर 5 सीट भी जीत जाये तो कांग्रेस के लीये बड़ी उपलब्धि होगी।

जाति, धर्म पर वोट मांगने पर निरस्त होगा निर्वाचन

गोण्डा, जिला निर्वाचन अधिकारी ने सभी प्रत्याशियों को साफ शब्दों में निर्देश दिए कि किसी भी दशा में आदर्श चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन स्वीकार नहीं होगा इसिलए सभी प्रत्याशी चाहे वे किसी राजनैतिक दल के हों अथवा निर्दलीय उम्मीदवार हों उन्हें भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार आदर्श आचार संहिता का अनुपालन करना ही होगा। उन्होने स्पष्ट किया कि मतदताओं को किसी भी प्रकार के प्रलोभन देने की शिकायतों को गम्भीरता से लिया जाएगा और नियमानुसार कठोरतम कार्यवाही की जाएगी। किसी भी प्रत्याशी को जाति, धर्म, लिंग सम्प्रदाय के आधार पर वोट मांगने पर उनकी उम्मीदवारी निरस्त करने की भी कार्यवाही की जा सकती है।

जिलाधिकारी ने स्पष्ट किया कि किसी भी प्रत्याशी को आयोग के निर्देशानुसार एक साथ तीन से अधिक वाहन लेकर चलने की अनुमति नहीं होगी। वाहनों पर मात्र एक झण्डा एवं एक ही वैनर लगा सकेगें। इसके अतिरिक्त जिन वाहनों पर स्पीकर लगाने की अनुमति दी गई होगी उन्हीं वाहनों पर ही स्पीकर लगाए जा सकेगें साथ ही किसी भी वाहन का स्वरूप कतई चेन्ज नहीं किया जाएगा। अनुमति प्राप्त वाहनों पर सिर्फ ओरिजनल पास ही चस्पा करना होगा अन्यथा की दशा में वाहन सीज कर दिया जाएगा। अनुमति प्राप्त एक गाड़ी में ड्राइवर सहित कुल पांच व्यक्ति ही चल सकेगें।

 

इसके अतिरिक्त प्रत्याशियों को अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्रों में चुनाव कार्यालय खोलने की अनुमति अनिवार्य होगी और चुनाव कार्यालय किसी भी धार्मिक स्थल से कम से कम दो सौ मीटर की दूरी पर ही खोले जाएगें। अनुमति हेतु प्रत्याशियों को प्रथम आवक प्रथम पावक के तहत अनुमति दी जाएगी।

इस जिले की 3 सीटों पर सपा-कांग्रेस गठबंधन आमने सामने संयुक्त प्रचार पर भी सपा ने किया विरोध

बलरामपुर,नाम वापसी का समय सीमा समाप्त होने तक बलरामपुर जनपद के तुलसीपुर विधानसभा क्षेत्र से समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के उम्मीदवारों ने अपना पर्चा वापस न लेने से प्रदेश में समाजवादी और कांग्रेस के बीच चल रहे गठबंधन धर्म को तोड़ते हुए दोनों पार्टियों के प्रत्याशी अपने अपने चुनाव चिन्ह पर मैदान में आमने सामने डटे हुए हैं। उत्तरौला, बलरामपुर और गैसड़ी से एक एक उम्मीदवारों ने अपना नाम वापस ले लिया इस प्रकार तुलसीपुर से 15 गैसड़ी से 14 बलरामपुर सदर से 11 और उतरौला विधानसभा से 13 प्रत्याशी तथा जिले के चारों विधानसभा मिला कर 53 प्रत्याशी मैदान मैं एक दूसरे को कड़ी टक्कर देने के लिए रात दिन एक किए हुए है।

जनपद के चारों विधानसभाओ से 13 फरवरी को विभिन्न दल व निर्दल प्रत्याशियो द्वारा दाखिल पर्चे की वापसी के बाद शेष उम्मीदवारों को चुनाव चिन्ह आवंटित किया गया आवंटन के बाद चुनाव चिन्ह लेकर बाहर निकले तुलसीपुर सपा विधायक व प्रत्याशी ने निर्वाचन अधिकारी को शिकायत पत्र देकर गठबंधन के सहयोगी कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार सपा कांग्रेस का संयुक्त झंडा और चुनाव चिन्ह वा बैनर पोस्टरों पर सपा के मुख्यमंत्री और चुनाव चिन्ह के प्रयोग पर रोक लगाने की मांग की है।

zeba rizwan.jpg

विधानसभा चुनाव के लिए चारों विधानसभाओ में कुल 59 प्रत्याशियो ने अपना नामांकन पत्र भरा था। जिसमे जांच के दौरान 10 फरवरी को तीन प्रत्याशियो का पर्चा खारिज हो गया तथा 13 फरवरी को नाम वपासी में गैसडी विधानसभा से निर्दल संतोष आनंद उतरौला  से मो0 एहसान तथा बलरामपुर सदर से मनोज ने अपना पर्चा वापस ले लिया। इस प्रकार अब चारो विधान सभा में कुल 53 प्रत्याशी मैदान में है। जिसके क्रम में बलरामपुर (सु0)सदर से भाजपा पलटू को कमल सपा व कांग्रेस के गठंधन  को पंजा, बीएसपी से रामसागर को हाथी, पीस पार्टी से शिवकुमार को गिलास, मदनलाल को गले का हार, मेवालाल को अलमारी ,रामदास को चारपाई ,हरि राम को  क्लीनर, दद्दन को  एयर कंडीशनर,  बालमुकुंद को  ऑटोरिक्शा, श्रीराम को गुब्बारा चुनाव चिन्ह आवंटित किया गया।

गैसडी विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के शैलेन्द्र कुमार सिंह को कमल ,समाजवादी से डॉक्टर एसपी को साइकिल, बसपा से अलाउद्दीन को हाथी ,सज्जाद हुसैन राष्ट्रीय लोक दल को हैंडपंप, मुक्ति यार भारतीय सुभाष सेना को  क्लीनर, ए आई एम आई एम तो मंजूर आलम को पतंग, स्वयंबर प्रसाद निर्बल इंडियन सोशलिस्ट आम दल को खाने से भरी थाली, डॉक्टर अनुराग यादव निर्दलीय उम्मीदवार को छड़ी ,नंद कुमार को कैंची ,महेश कुमार को बाल्टी ,मुिस्तयक खाँ को दूरबीन ,रामदुलारे को ऑटो रिक्शा, रामनिवास को रोड रोलर , वाहिद को मेज आवंटित किया गया।

तुलसीपुर विधानसभा से भाजपा के कैलाश नाथ को कमल ,सपा से मो0 मसूद खां, को साइकिल ,कांग्रेस से जेवा रिजवान को पंजा, बसपा से डा0 कृष्ण कुमार सचान को हाथी ,पीस पार्टी से अरमान खान को गिलास, विनीता यादव को हैंडपंप ,आत्माराम  को क्लीनर ,महबूब आलम को खेत जोतता किसान, तथा निर्दल उम्मीदवार राजेश्वर मिश्र को ट्रैक्टर चलाता किसान ,अब्दुल रहमान को अलमारी, परवेज खान को एयर कंडीशनर ,रेनू को ऑटो रिक्शा, विजय प्रताप  को गुब्बारा , सोहेल अहमद  को कैंची तथा संतोष कुमार को चूड़ियां चुनाव चिन्ह आवंटित किया।

 

उतरौला विधानसभा क्षेत्र से  भाजपा के राम प्रताप वर्मा को कमल,सपा से आरिफ अनवर को साइकिल ,बहुजन समाज पार्टी  से परवेज अहमद को हाथी ,पीस पार्टी से धर्मेन्द्र गौड को गिलास ,नंदलाल को  क्लीनर ,निजाम उल्लाह खाँ को  पतंग ,ज्ञानचंद वर्मा को मोमबत्ती  अफरोज को फलो से भर टोकरी पारसी गाइड को कप प्लेट,राजेश्वरी प्रसाद को  फूलगोभी ,रामखेलावन को ट्रैक्टर ,हीरालाल को अनन्नास का चुनाव चिन्ह आवंटित किया गया है।

299 तरबगंज गोंडा- कैबिनेट मंत्री को कडी टक्कर दे रहे बीजेपी के प्रेमनरायन पांडे

श्यामलाल शुक्ल/गोंडा, 299 तरबगंज विधान सभा गोंडा की राजनीति मे बर्षों से कब्जा जमाये सांसद कैसरगंज ब्रजभूषण सिंह व विनोदकुमार सिंह ने जो चाहा किया। अलग अलग दलो में रहकर समय समय पर ये दोनों राजनीति मे एक दूसरे को वाॅकओवर देते रहे। ऊपर से भले ही दोनो अलग अलग दिखते रहे मगर राजनीति में एक दूसरे के लिए काम भी करते रहे। दोनो नेताओं ने सिर्फ जाति बिशेष के लिए राजनीति की और अपने आने वाली पीढियों के राजनैतिक जमीन के लिए भी दोनो ने मिलकर एक दूसरे का सपोर्ट किया। मगर इस बार जहाँ गोण्डा सदर राजनीति में महेश तिवारी के बीजेपी से बगावत करने से ब्रजभूषण के पुत्र का खेल बिगड गया है वहीं गोण्डा सदर की सीट छोड तरबगंज सीट पर अपनी दावेदारी ठोंक रहे पंडित सिंह पर भी हार का डर देखा जा रहा है।

सपा सरकार द्वारा गोंडा में विकास की बाढ लाने की बात जो मंत्री पूरे 5 साल तक करते रहे वही मंत्री योजना के तहत सीट बदल कर गोंडा से तरबगंज चले गए हैं विकास के नाम पर वोटों की दावेदारी गोंडा में नही कर पा रहे हैं। कैबिनेट मंत्री सपा सरकार के मुखिया के करीब रहकर सरकार व सरकारी तंत्र का खुलेआम मजाक बनाकर जनता को बार बार याद दिलाते रहे कि न “खाता न बही जो पंडित कहे वही सही”।

बहरहाल तरबगंज में काँटे की लडाई में सपा सरकार के कैबिनेट मंत्री का क्या होगा यह तो वक्त ही बताएगा मगर तरबगंज की सीटपर इस बार मंत्रीजी को कडी टक्कर मिल रही है।

कहा जा रहा है कि समाजवादी पार्टी ने अन्तिम समय में यहां के लोकप्रिय विधायक अवधेश कुमार उर्फ मंजू का टिकट काट दिया जिससे नाराज होकर उन्होंने भाजपा से मिलकर कैबिनेट मंत्री को शिकस्त देने में पूरा जोर लगा दिया है। बसपा ने इंद्रबहादुर सिंह ऊर्फ पप्पू परास को टिकट देकर सपा के लिए मुश्किलें खडी कर दिया हैं वहीं ब्रहमण नेता राम भजन चौबे पहले बसपा में फिर भाजपा में रहकर टिकट की तलाश करते रहे लेकिन भाजपा से टिकट न मिलने पर नाराज होकर पिछले दस सालों से जिस दल को पानी पी पीकर कोसते रहे उसी की शरण में हो लिए।

वहीं शशि सौरभ तिवारी जो कि लखनऊ हाईकोर्ट के अधिवक्ता हैं भी भाजपा से टिकट की आश में रहे। अपने आपको युवा हिन्दूवादी नेता बताने वाले शशि भी भाजपा से टिकट न मिलने पर नाराज हैं और इन्होंने कहा है कि मैं विचारधारा से समझौता नहीं करूंगा मगर पार्टी जरुर बदल सकता हूँ। शशि सौरभ ने कट्टर हिन्दूवादी नेता कमलेश तिवारी के साथ मिलकर एक नई दिशा में हिन्दू समाज पार्टी को सक्रिय कर हिन्दू समाज की स्मिता की लडाई लडते रहने का निर्णय लिया है।

राप्ती अंचल के 20 हजार ग्रामवासियों में मतदान के बहिष्कार का किया एलान

कन्हैयालाल यादव/बलरामपुर, लोकतंत्र के पर्व  विधान सभा सामान्य निर्वाचन 2017 मे शत प्रतिशत मतदान के लिए जिला प्रशासन जागरूकता रैली,नुक्कड़ नाटक और अन्य प्रचार माध्यमों से जागरूकता कार्यक्रम चला कर आम जनता को अपने मताधिकार के प्रयोग तथा शत प्रतिशत मतदान के लिए प्रोत्साहित कर रही है। वहीं दूसरी तरफ जनप्रतिनिधियों और जिला प्रशासन की अनदेखी उपेक्षा के शिकार राप्ती नदी के अंचल में बसने वाले ग्रामीणों ने 27 फरवरी को होने वाले मतदान का बहिष्कार करने का ऐलान किया है।

 

पांचवें चरण के चुनाव के लिए  नामांकन की प्रक्रिया खत्म हो चुकी है और चुनाव की तिथि दिन प्रति दिन करीब आ रही है।तो वही बलरामपुर सदर विधानसभा क्षेत्र का एक बड़ा बाढ़ प्रभावित इलाका(राप्ती नदी के किनारे बसे गाँव)के लोगो द्वारा चुनाव बहिष्कार का एलान कर प्रशासन के गले की फाँस बनने जा रहा है । राप्ती नदी के किनारे बसे बाढ ग्रस्त गाँव भिठौढी चन्दापुर पचौथा लखमा बभनपुरवा  क्यामजोत मझारी केरावगढ आदि गांव की जनता चुनाव बहिष्कार कर के प्रशासन को नाक से चने चबाने जैसा काम जनता कराने वाली है । लगभग आधा दर्जन गांवो की बीस हजार आबादी का यह क्षेत्र चुनाव बहिष्कार करने का ऐलान किया है।जिसको लेकर कई औऱ गांवो में ग्रामीणो ने प्रदर्शन कर चुनाव बहिष्कार का ऐलान किया है।

bycott of polling in Balrampur9.jpg

 

 

सूत्रों के अनुसार जिला पंचायत सदस्य चन्द्र प्रकाश पांडेय, ग्राम सभाओ के प्रधान विनोद कुमार, सन्तराम, रोहित सिंह, विजय कुमार, व संयोजक आशीष श्रीवास्तव एडवोकेट आदि लोगों ने क्षेत्र की समस्याओं पर एक पम्पलेट छपवाकर लोगों ने प्रशासन पर भष्ट्राचार और लापरवाही का इल्जाम लगाकर चुने हुए जनप्रतिनिधियों की अनदेखी और तानाशाही के खिलाफ जन आन्दोलन कर चुनाव वहिष्कार करने का ऐलान किया है । पम्पलेट के द्वारा उठाए गए मुद्दों मे मुख्य मुद्दे बाढ से राहत का उपाय, बाँध मे गई जमीनो का मुवावजा, टूटी सडको की मरम्मत ,पात्रों को पेंशन, राशन, किसानों को गन्ने का भुगतान आदि मुद्दे शामिल है ।

 

क्षेत्रो की विभिन्न समस्याओं को लेकर ग्रामीणो में काफी आक्रोश व्याप्त है और चुनाव में एक वोट भी न डालने की अपील ग्रामवासियों से की है।ग्रामीणों ने जब तक समस्याओं का निस्तारण नही किया जाता तो चुनाव का बहिष्कार पूर्ण रूप से किया जायेगा। जहाँ शान्ति पूर्ण ढंग से मतदान कराने व सत् प्रतिसत मतदान के लिए जागरूक कर रहा है।वहीं इस बाढ़ ग्रस्त क्षेत्र और विधान सभा बलरामपुर सदर का एक बड़े क्षेत्र से यहाँ कि समस्याओं का कई वर्षों से निस्तारण न होना और लोगों का चुनाव के समय उठे इस विधान सभा के बड़े मुद्दे से प्रसासन की नींद उडती दिखाई पड रही है ।जिससे प्रशासन की चुनौती बढ़ गई है ।

 

300 मनकापुर सीट, बसपा भाजपा की होगी सीधी टक्कर

श्यामलाल शुक्ल/गोंडा, मनकापुर विधानसभा दो माननियों की प्रतिष्ठा से जुडी सुरक्षित सीट है गत 2012 विधान सभा चुनाव में समाजवादी पार्टी के बाबूलाल कोरी ने ब स पा के रामेश गौतम से छीनी थी। पिछली बार प्रमुख रूप से सपा, बसपा,भाजपा,कांग्रेस व पीस पार्टी ने अपना प्रत्याशी उतारा था पिछले चुनाव में बसपा के रमेश गौतम के खिलाफ जबरदस्त आक्रोश सवर्ण मतदाताओं में रहा जिसके चलते इन्हें रोकने के लिए वोटिंग करके सपा को जीत दी गई।

 

सपा के बाबूलाल उतना ही निष्क्रिय रहे जितना पहले गौतम सवर्णों के खिलाफ सक्रिय थे बीते पांच साल मनकापुर विधायक का अता पता नहीं रहा लेकिन बसपा के रमेश गौतम हार के बाद अपने क्षेत्र में लगे रहे। भाजपा ने पिछले चुनाव में डा. राम किशोर बरवार को टिकट दिया जिन्हें कुल 6000 मतों से संतोष करना पडा फिर भाजपा पिछले दो सालों से टिकट के नाम पर कई लोगों को दौडाती रही। जिसमें पल्टू राम,रमापति शास्त्री स्वयं रमेश वरवार जो पिछले चुनाव में पीस पार्टी के उम्मीदवार रहे जसवंत लाल सोनकर डा राम किशोर सभी सालों साल रैली कराते रहे और अंत में माननीयों का प्रभाव चला तो बलरामपुर से रमापति शास्त्री को मनकापुर लाकर और पल्टूराम को बलरामपुर की सीट से टिकट दे दिया गया।

 

युवा तेज पेशे से अधिवक्ता रमेश बरवार का टिकट पार्टी ने काट कर उनकी सारी मेहनत को दिन में देखा गया सपना बना दिया। आखिर शास्त्री कद्दावर नेता हैं पिछली बार बलरामपुर भेज दिया गया फिर वापसी कैसे ? ये बात समझ में नहीं आ रही । टिकट के नाम पर कार्यकर्ताओं का अन्त समय में आक्रोश थम नहीं रहा। पूरे क्षेत्र में भा ज पा का परचम लहराने वाले टिकटों के अन्य दावेदार कहां चले गये उनका गायब होना आम जनता में खराब संदेश दे रहा है।

 

सपा ने पूर्व विधायक राम विसुन आजाद को टिकट दिया पर मनकापुर में सपा का कोई असर नहीं दिख रहा। कांग्रेस ने भी समझौते को दरकिनार कर हनोमान को उतार दिया यही नहीं निर्वाचन आयोग की कडाई के बावजूद निर्दलीयों के रूप में भाजपा बसपा के कई डमी उम्मीदवार मैदान में हैं।

 

मनकापुर सुरक्षित सीट पर भाजपा और बस की सीधी टक्कर बनी है भाजपा ने लोक सभा में अच्छा प्रदर्शन किया पर अब मोदी फैक्टर कमजोर होता दिख रहा है। भाजपा उम्मीदवार पूर्व कैबिनेटमंत्री रहे माननीयों का साथ है वहीं बसपा उम्मीद्वार खुद हर मतदाता से मुखातिव होकर अपने ऊपर लगे सवर्ण उत्पीडन की दाग लगी छवि को साफ कर रहे हैं। गांव से शहर तक व्यापारी व किसान केंद्र सरकार की नोटबंदी से परेशान है सडकों का बुरा हाल है उतरौला मनकापुर नवाबगंज सडक पर चलना दूभर है। भाजपा नेता ने कभी आम जनता के लिए एक भी आन्दोलन नहीं किया तरह तरह की रैलियां करते रहे कुल मिला कर मनकापुर सु सीट पर बसपा व भाजपा में कांटे का टक्कर है।

2012-की स्थिति

BABULAL-SP-78311

RAMESH CHANDRA-BSP-51141

RAMKISHOR-BJP-6756

VIJAY-INC-5294

RAMESH KUMAR-PECP-3599

 

RAMAYAN DAS-IND-3307

 

Subscribe to this RSS feed
loading...

New Delhi

Banner 468 x 60 px