Log in

 

updated 4:51 PM UTC, Feb 19, 2018
Headlines:

साढ़े नौ मुख्यमंत्री होने से यूपी को नहीं मिल पा रहा नया डीजी--रामगोविंद चौधरी

मनोज श्रीवास्तव/लखनऊ: सीआईएसएफ के महानिदेशक ओपी सिंह का यूपी पुलिस का मुखिया बनाने की घोषणा के 17 दिन बाद भी राज्य को नया डीजी नहीं मिलने से भाजपा सरकार की किरकिरी हो रही है। अब विपक्ष सरकार की चुटकी लेते हुए कह रहा है कि प्रदेश में साढ़े नौ मुख्यमंत्री होने के कारण घोषणा तो हो जाती है लेकिन क्रियान्वयन में पसीने छूट जा रहे हैं।

 

30 दिसंबर को जब राज्य सरकार ने ओपी सिंह को डीजीपी बनाने का ऐलान कर उन्हें केंद्रीय प्रतिनियुक्ति से रिलीव करने का पत्र लिखा था। उस समय किसी को अंदाजा नहीं था कि इसमें इतनी मुश्किलें आएंगी। नए डीजीपी के नाम का ऐलान हुए एक पखवारा बीत चुका है, लेकिन वह अभी केंद्र से रिलीव नहीं हुए हैं।

 

सूत्रों की मानें तो अब राज्य सरकार नए नाम की तलाश में जुटी है। बताते हैं कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आगरा लौटने के बाद आज शाम सीएम और प्रमुख सचिव यूपी के नए डीजीपी के नाम को लेकर चर्चा करेंगे। देर शाम यूपी के नए डीजीपी के लिए फाइनल घोषणा कर दी जाएगी।

 

यूपी के इतिहास में यह पहला मौका होगा, जब डीजीपी के लिए नाम का ऐलान होने के बाद किसी अफसर की 15 दिन बाद भी केंद्र से रिलीविंग नहीं हो पाई है। एक वरिष्ठ अधिकारी की मानें तो 30 दिसंबर को ओपी सिंह को रिलीव करने का जो पत्र यूपी सरकार ने केंद्र में भेजा, उसमें दो गलतियां हुईं।

 

एक तो उसमें लिखा गया कि ओपी सिंह को डीजीपी बनाया गया है, इसलिए उन्हें कार्यमुक्त किया जाए। दूसरी गलती यह कि वह पत्र गलत सेक्शन में चला गया। हालांकि, राज्य सरकार ने दूसरे पत्र में दोनों गलतियों में सुधार कर लिया है।

 

जब कि सत्ता से जुड़े सूत्रों की मानें तो ओपी सिंह सीएम की सीधी पसंद नहीं हैं। संगठन के एक बड़े नेता की सिफारिश पर उनके नाम की घोषणा कर दी गई थी। इसीलिए सीएम ने अचानक दिल्ली जाकर प्रधानमंत्री से मुलाकात की और अपना पक्ष रखा था। उसी मुलाकात के बाद से ओपी सिंह की रिलीविंग लटक गई। चूंकि घोषणा के तुरंत बाद डीजीपी का नाम बदले जाने से प्रदेश में गलत संदेश जाता। इसलिए रिलीविंग में देरी की जा रही है। ताकि, लंबे समय तक कुर्सी खाली न छोड़ने को आधार बनाकर नए डीजीपी के नाम की घोषणा की जा सके।

 

इस संदर्भ में नेता विरोधी दल रामगोविंद चौधरी ने कहा कि यूपी में साढ़े नौ मुख्यमंत्री हैं इस लिए मुख्यमंत्री की घोषणाओं पर अमल होने में बार-बार फजीहत होती है। जब उनसे पूंछा गया कि कौन-कौन साढ़े नौ मुख्यमंत्री हैं तो उन्होंने कहा कि यह में सदन में बता चुका हूं। भाजपा के लोगों से ही पूंछ लीजिये।

 

 

 

Last modified onTuesday, 16 January 2018 11:54

Latest from Namamibharat Reporter

Leave a comment

Make sure you enter the (*) required information where indicated. HTML code is not allowed.

loading...

New Delhi

Banner 468 x 60 px