Log in

 

updated 1:03 PM UTC, Aug 18, 2017
Headlines:

सीतापुर प्रदर्शनकारी शिक्षा मित्रों और पुलिस में संघर्ष, कई घायल

गौरव शर्मा/समूचे उत्तर प्रदेश की तरह आज सीतापुर जनपद में भी हजारों की संख्या में शिक्षा मित्रों ने सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन और नारेबाजी की पुलिस ने व्यवस्था की थी की प्रदर्शन शांति पूर्णरूप से खत्म हो जाये लेकिन प्रदर्शनकारियों के अड़ियल रुख के चलते पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच संघर्ष हो गया।

vlcsnap-2017-07-27-19h08m45s170.png

आज सुबह से ही बड़ी संख्या में शिक्षा मित्र शहर के जी आई सी मैदान में एकत्र होने लगे और देखते ही देखते कई हजार शिक्षा मित्र मैदान में आकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करने लगे वही मोके पर कई थानों की पुलिस भी आ गयी और पुलिस बल ने मैदान को छावनी में बदल दिया। प्रदर्शनकारियों से शांति पूर्ण रूप से प्रदर्शन खत्म करने के लिए पुलिस ने नसीहत भी दी

 vlcsnap-2017-07-27-19h08m34s974.png

पुलिस और प्रदर्शन कर्मियों में तय हुआ की सभी लोग शहर के प्रमुख मार्ग से होते हुए महाराणा प्रताप प्रतिमा पर माल्यार्पण करके प्रदर्शन को समाप्त कर देंगे। महाराणा प्रताप प्रतिमा पर पहुँच कर कुछ प्रदर्शनकारियो ने पुलिस पर पथराव कर दिया। जिसमें कुछ मीडिया कर्मी सहित पुलिस कर्मियों के चोट भी आई जवाब में पुलिस ने प्रदर्शन कारियो पर  बल प्रयोग कर मौके से तीतरबितर करके मामले को शांत कराया ।

रसूकदार पर कार्यवाई से क्यों बचती है सीतापुर पुलिस

गौरव शर्मा /उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार बनने के पहले से आज तक  सूबे के मुख्यमन्त्री यही कहते चले आ रहे है कि हमारे राज्य में अपराध  करने वालों को कतई बख्सा नहीं जायेगा लेकिन सीतापुर जनपद में योगी जी के जिम्मेदार कानून के रखवाले योगी जी की इस कथनी की हवा निकालने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते है।

 

जनपद में पुलिस अधिकारियो की कार्य शैली देख तो यही लगता है की सीतापुर जनपद में कानून सिर्फ गरीबों पर लागू होता है या उन लोगो को कानून का डर है जो कानून के दायरे में अपने सारे काम करते हैं और अगर रसूकदारों की बात की जाये तो जनपद की पुलिस कार्यवाई के नाम पर बगले झांकती नजर आती है। सीतापुर पुलिस की इस तरह की कार्यशैली देख शायद यह कहना गलत नहीं होगा की यहाँ तो कानून सिर्फ गरीबों के लिए है।

 

जाने क्या है मामला

सीतापुर में बड़ा रसूक रखने वाले सीतापुर शिक्षण संस्थान के मालिक ललित मेहरोत्रा के कारनामे जिलाधिकारी कार्यालय से लेकर पुलिस अधीक्षक कार्यालय तक सभी अधिकारी जानते हैं। इनके खिलाफ धोखे से जमीन पर कब्जा करवाने जालसाजी करके चलते हुए दूसरे के भट्ठे को अपने नाम करवाने और तो और देश के भविष्य कहे जाने वाले बच्चों के साथ धोखाधड़ी करके सरकारी योजनाओं का पैसा हड़प करने के जैसे तमाम मामलो में पीड़ितों ने जनपद के सभी दरवाजे खटखटाने के बाद मुख्यमन्त्री दरबार में भी जा कर अपनी आप बीती बताई है।लेकिन इतनी शिकायतों के बाद भी प्रशासन और पुलिस के कानों में जूँ नही रेंग रही।

 

ललित मेहरोत्रा पर थाना इमलिया क्षेत्र के काजीकमालपुर में मालिक सुरेश कुमार का चलता हुआ ईट भट्ठा अपने नाम करा लेने का मामला 2 वर्षो से कोर्ट में है जिसमे कोर्ट ने भी कई बार सीतापुर पुलिस को फटकार लगाई है किंतु इस मामले में भी पुलिस ललित मेहरोत्रा और उनके साथियों पर कुछ भी कार्यवाही करने के नाम पर सिर्फ मामले को टालती नजर आती है।  आलम यह है की अभी तक ललित मेहरोत्रा और साथियों पर किसी भी मामले में सीतापुर पुलिस ने कोई भी कार्यवाई न कर अपने ही पुलिसिंग पर ही सवालिया निशान उठा दिये है।

शव के साथ अमानवीय व्यवहार, प्रशासन की लापरवाही

गौरव शर्मा/सीतापुर। यूपी के जनपद सीतापुर में मानवता को शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आयी है, जहाँ पर पोस्टमार्टम हाउस से पोस्टमार्टम के बाद लाश को एक ठेले पर लादकर उसे गत्ते से दबा दिया गया। इतना ही नही ठेलिया पर इस बेकदरी से लदी लाश को खुलेआम शहर में भीड़ भाड़ वाले इलाके से ले जाकर लाश का तमाशा बना दिया गया। ये ठेलिया नगर के काशीराम कालोनी के सामने हाईवे के नजदीक सड़क पर घंटो खड़ी रही।

 

गौरतलब बात ये है की जिला अस्पताल में लाश को ढोने के लिए शव वाहन की व्यवस्था मौजूद है जो की निःशुल्क है , इसके बावजूद लावारिस लाश पर गत्ता लादकर उसे ढ़ोने का ये मामला खुद ब खुद दर्शा रहा है की जिम्मेदार पदों पर बैठे अधिकारी अपने कर्तव्यों के प्रति कितने संजीदा है।


इस मामले में जब नमामि भारत ने स्वास्थ विभाग से पूछताछ की तो बताया गया ये जिम्मेदारी पुलिस विभाग की होती है। मामले में जब नमामि भारत ने पुलिस अधीक्षक सौमित्र यादव से बात की गयी तो उन्होंने भी इस घटना की अमानवीय घटना करार देते हुए मामले की जांच के आदेश देते हुए जनपद के सभी थानों को निर्देशित किया और बताया इस तरह की अमानवीय घटना कतई बर्दाश्त की जायेगी जो भी दोषी पाया जायेगा उसके विरुद्ध कड़ी कार्यवाही की जायेगी।

"टुल्ली" होकर सडक पर नागिन की तरह लोटी पियक्कड लडकी,पुलिस बनी तमाशबीन-देखें वीडियो

गौरव शर्मा/सीतापुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने भले ही इस बात पर जोर दिया हो की महिलाओ का सम्मान और उनकी सुरक्षा उनकी सरकार की प्राथमिकता है लेकिन जनपद सीतापुर के पिसावां थाना क्षेत्र में थाने से चंद कदमो की दूरी पर एक शराबी महिला घण्टो गिरती और रगड़ती रही लेकिन वहां मौजूद पुलिस और सैकड़ो की संख्या में खड़े लोग तमाशबीन नजर आये।

vlcsnap-2017-03-26-01h03m01s563.png

वही मौके पर मौजूद पुलिस ने इस बात की भी जहमत नहीं उठायी की महिला पुलिस को बुलाकर उस शराबी महिला को थाने या अन्य किसी सुरक्षित स्थान पर पहुचाया जाय।  घंटो लोग सड़क पर इस महिला का नाच गाना और उसके गिरने पर ठहाका और मजे लेते नजर आये।

vlcsnap-2017-03-26-01h02m48s199.png

पत्रकारों के पहुचने के बाद  पुलिस टीम ने बताया कि यह महिला दोपहर में दो युवकों के साथ तहरीर लेकर थाने गयी थी लोगों के अनुसार इस महिला के साथ दो व्यक्ति थे, वह भी काफी  नशे में थे. वे लोग इसे चौराहे पर इसे छोड कर चले गए। जानकारी करने पर पता चला की महिला थाना क्षेत्र की है जिसे पत्रकारों की पहल पर पुलिस द्वारा गांव की  दो महिलाएं बुला कर उसे उसके गाँव तक ले जाया गया। जिसके बाद से ये मामला लोगो में चर्चा का विषय बना हुआ है।

आशिक की पिटाई लाइव अकेले लडकी ने जमकर मारे थप्पड

गौरव शर्मा/सीतापुर यूपी के सीतापुर में शादी से मना करने पर एक युवक युवती को परेशान करने लगा जिसके चलते वह रोज युवती का पीछा करता था वही ये युवती भी इस आशिक से परेशान हो चुकी थी। लेकिन आज शायद इस आशिक का समय खराब चल रहा था जिसके चलते आज युवक की बीच सड़क पर तमाशबीनों के सामने जमकर धुनाई हो गयी।

 

आपको बता दे की रोज रोज युवती का पीछा करने वाले इस आशिक युवक ने सारी हदे पार करते हुये युवती का सरेराह रास्ता रोक लिया और छेड़छाड़ करने लगा। युवक की हरकतों से परेशन होकर जब युवती मौके से भागने लगी तो युवक ने उसका हाथ पकड़ लिया। शहर के व्यस्तम इलाके रोडवेज बस स्टॉप के पास हो रहे युवक युवती के विवाद को देखते हुये लोगो का हुजूम एकत्र हो गया।इसी बीच युवक युवती का मोबाइल छीन लिया।

 

फिर क्या था युवती ने परेशान होकर युवक की थप्पड़ो से पीट दिया।इस पर युवक मौके से भागने लगा लेकिन युवती ने युवक को पकड़ लिया।इस बीच लोगो की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुँच गई।युवती ने पुलिस की मौजूदगी में भी युवक की पिटाई जारी रक्खी मौके पर आयी पुलिस ने मौके की नजाकत को समझते हुए आशिक युवक को हिरासत में लेकर कोतवाली ले गई।

 

वही इस मामले पर युवती का कहना था की उसकी इस युवक से शादी तय हुई थी लेकिन घर वालो के मना कर देने के बाद युवक उसका लगातार पीछा करता चला आ रहा था और जबरन शादी के लिये दबाव बना रहा था और हम इससे बहुत परेसान हो गए थे इसी लिए आज आशिकी का भूत उतारना जरुरी था।

नैमिषारण्य में उमड़ेगा आस्था का जनसैलाब

गौरव शर्मा/सीतापुर - समस्त संसार में हमारा भारत वो मात्र एक देश है जहा के कण कण में भगवान के दर्शन किये जाते है और भारत देश के हर निवाशी के मन में भगवान के प्रति आस्था सर चढ़ कर बोलती है और दिखाई पड़ती है सायद इसी कारण जब भी भगवान को पृथ्वी पर आने का अवसर मिला तो भगवान ने भी समस्त संसार में सिर्फ भारत वर्ष को ही चुना सायद भगवान भी भारत वर्ष में निवास करने वाले लोगो के प्रति अपनी आस्था रखते है यू तो पूरा भारत वर्ष ही एक तीर्थ है जहाँ के हर कोने में भगवन होने की आस्था हम सभी रखते है ऐसे ही भारत देश में उत्तर प्रदेश की राजधानी से लगभग 100 किलोमीटर दुरी पर सीतापुर जनपद में नैमिषारण्य नामक स्थान है जिसको सभी तीर्थों का राजा कहा जाता है।

 

नैमिषारण्य क्षेत्र वह स्थान है जहाँ 84 हजार ऋषियों ने तपस्या करी थी साथ भगवान विष्णु का चक्र भी इसी स्थान पर गिरा था नैमिष की धरती को लेकर हमारे धार्मिक ग्रंथों में कई मान्यताये है जो नैमिष क्षेत्र को सभी तीर्थों में श्रेष्ठ साबित करती है सनातन धर्म में कहा जाता है कि सारे तीर्थ बार बार और नैमिषारण्य एक बार अर्थात मानव चाहे कितने भी तीर्थ स्थानों में दर्शन कर ले जब तक मानव नैमिष धाम के दर्शन नहीं करता इस संसार से मोक्ष नहीं प्राप्त कर सकता है इन्ही आस्थाओ के साथ यहा प्रतिदिन देश विदेश से हजारो की संख्या में श्रद्धालू यहा स्थित चक्र तीर्थ में आस्था की डुबकी लगाते है।

 

सीतापुर जनपद के नैमिष क्षेत्र में कल दिनांक 27 फरवरी से 84 कोशी परिक्रमा का आरम्भ होने जा रहा है लोगो में ये मान्यता है की नैमिष क्षेत्र में होने वाली ये परिक्रमा हजारो सालो से चली आ रही है जो आज तक जारी है लोगो की ये भी मान्यता है भगवान राम ने भी अपने परिवार के साथ इस 84 कोषी परिक्रमा को यहा की पावन धरती पर आकर पूरा किया था।

 

नैमिष और मिश्रिख तीर्थो में होने वाली ये परिक्रमा कुल 15 दिनों में पूरी की जाती है इस परिक्रमा में 11 पड़ाव होते है 15 दिनों तक लोग नँगे पैर 84 कोष की परिक्रमा करते है जो आखरी दिन मिश्रिख तीर्थ पहुच कर पूर्ण मानी जाती है इस परिक्रमा में शामिल होने के लिये देश विदेश से लाखों की संख्या में श्रद्धालू यह एकत्र होते है लोगो की मान्यता है की इस परिक्रमा को पूरा करने वाला इंसान सांसारिक जीवन की 84 लाख योनियों से मुक्ति पाकर मोक्ष की प्राप्ति करता है।

अमीषा पटेल के आते ही रेउसा में "गदर"

सीतापुर,जनपद में चुनाव प्रचार का अंतिम दिन था इस दिन का ज्यादा से ज्यादा फायदा उठाकर जनता को रिझाने के प्रयाश में सेउता विधान सभा में लोकदल के उम्मीदवार रामपाल यादव ने एक जन सभा का आयोजन किया जिसमें अधिक भीड़ जुटाने के लिए लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुनील सिंह के साथ फिल्म अभिनेत्री अमीषा पटेल को भी बुलाया गया था अमीषा पटेल आयी और उनको देखने के लिए भारी संख्या में जनता भी जुटी और अमीषा ने रामपाल के लिये जनता से वोट भी मांगे लेकिन जनसभा मे गदर भी मचा।

 

आपको बतादे जब जनसभा में अमीषा का हेलीकाप्टर पहुँचा तो स्वागत के लिए विधायक पुत्र और उनके साथियों में होड़ मच गयी हैलीकाप्टर के पायलट ने सभी को हैलीपैड से थोड़ा दूर हटने को बोला विधायक पुत्र सीतापुर जिला पंचायत अध्यक्ष् जितेंद्र यादव और उनके साथी की इसी बात को लेकर हैलीपैड पर ही कहा सुनी होने लगी । बात इतनी बढ़ गयी की मोके पर धक्का मुक्की भी होने लगी, रेउसा में मची गदर को गदर फ़िल्म की हीरोइन अमीषा भी हैलीकाप्टर में बैठे बैठे देख रही थी। रेउसा की गदर देख अमीषा भी हैलीकाप्टर से बाहर निकलने की हिम्मत नहीं जुटा पायी मौके पर सब देख मौजूद पुलिस ने मामले को शांत कराया तब जा कर अमीषा मंच पर जनता को सम्बोधन करने पहुँची।

 

बात यही नहीं खत्म हुई जन सभा के समापन के बाद हैलीकाप्टर का पायलेट जिद्द पर अड़ गया की अब हैलीकाप्टर तब उड़ान भरेगा जब विधायक पुत्र माफ़ी मांगेगे विवाद ज्यादा बढता देख विधायक रामपाल ने पायलेट से माफ़ी मांगी और चुनाव का हवाला दे कर मामले को शांत किया तब अमीषा पटेल का हैलीकाप्टर रेउसा से उड़ान भर पाया।

कांग्रेस के मंत्री बीजेपी में शामिल कहा “कांग्रेस में अब सिर्फ कचरा ही रह गया है”

गौरव शर्मा/सीतापुर कांग्रेस का एक और नेता ने बीजेपी ज्वाईन कर लिया है। अपनी पूरी जिंदगी में कांग्रेस के लिए राजनीति करते हुए गुजार देने वाले पूर्वमंत्री रामलाल राही ने कांग्रेस से नाता तोड लिया है। बतौर राही कांग्रेस पार्टी में उनका सम्मान नही किया जा रहा था जबकि रामलाल राही कांग्रेस सरकार में गृहमंत्री के पद पर भी रह चुके थे। हर जगह पार्टी के द्वारा उनकी उपेक्षा करी जाती थी उसके बावजूद वह पार्टी से जुड़े रहे लेकिन लगातार उपेक्षा से खिन्न हो कर रामलाल राही ने अब भाजपा का दामन पकड़ लिया है। आज सीतापुर में अपने आवास पर की गयी पत्रकार वार्ता में उन्होंने बताया कि कांग्रेस में अब कोई राजनीति करने वाला बचा ही नहीं है वहाँ तो वो लोग है जिन्हें पार्टी का सत्यानाश करना है। इसीलिये मैने विचारहीन पार्टी कांग्रेस से नाता तोड़ भाजपा का साथ पकड़ लिया है।

राही जी ने बताया मोदी जी की विचारधारा से मै प्रभावित था भाजपा में सभी का सम्मान होता है और भाजपा विचारो की पार्टी है इसी जगह कांग्रेस खत्म होने की कगार पर है।

नमामि भारत के संवाददाता ने जब राही से पूछा कि राहुल गाँधी का कहना है कि जो कचरा कांग्रेस पार्टी फेंक देती है बीजेपी उसे अपने में शामिल कर लेती है इस पर आपका क्या कहना है तो जवाब में राही जी ने कहा कि कांग्रेस में अब सिर्फ कचरा ही रह गया है। ना कांग्रेस में अब विचार शक्ति रह गयी है और न पुरानी वाली कांग्रेस। इसीलिये हमने कांग्रेस का त्याग कर दिया है रही बात सपा और कांग्रेस के गठबंधन की तो कांग्रेस अगर 5 सीट भी जीत जाये तो कांग्रेस के लीये बड़ी उपलब्धि होगी।

Subscribe to this RSS feed
loading...

New Delhi

Banner 468 x 60 px