Log in

 

updated 5:35 PM UTC, Apr 26, 2017
Headlines:

"टुल्ली" होकर सडक पर नागिन की तरह लोटी पियक्कड लडकी,पुलिस बनी तमाशबीन-देखें वीडियो

गौरव शर्मा/सीतापुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने भले ही इस बात पर जोर दिया हो की महिलाओ का सम्मान और उनकी सुरक्षा उनकी सरकार की प्राथमिकता है लेकिन जनपद सीतापुर के पिसावां थाना क्षेत्र में थाने से चंद कदमो की दूरी पर एक शराबी महिला घण्टो गिरती और रगड़ती रही लेकिन वहां मौजूद पुलिस और सैकड़ो की संख्या में खड़े लोग तमाशबीन नजर आये।

vlcsnap-2017-03-26-01h03m01s563.png

वही मौके पर मौजूद पुलिस ने इस बात की भी जहमत नहीं उठायी की महिला पुलिस को बुलाकर उस शराबी महिला को थाने या अन्य किसी सुरक्षित स्थान पर पहुचाया जाय।  घंटो लोग सड़क पर इस महिला का नाच गाना और उसके गिरने पर ठहाका और मजे लेते नजर आये।

vlcsnap-2017-03-26-01h02m48s199.png

पत्रकारों के पहुचने के बाद  पुलिस टीम ने बताया कि यह महिला दोपहर में दो युवकों के साथ तहरीर लेकर थाने गयी थी लोगों के अनुसार इस महिला के साथ दो व्यक्ति थे, वह भी काफी  नशे में थे. वे लोग इसे चौराहे पर इसे छोड कर चले गए। जानकारी करने पर पता चला की महिला थाना क्षेत्र की है जिसे पत्रकारों की पहल पर पुलिस द्वारा गांव की  दो महिलाएं बुला कर उसे उसके गाँव तक ले जाया गया। जिसके बाद से ये मामला लोगो में चर्चा का विषय बना हुआ है।

प्रतिबंधित मीट की दावत में दबिश,बिरयानी ले गई पुलिस

नीरज मिश्रा/पीलीभीत। यूपी के सीएम् की सख्ती के बाद भी पीलीभीत जनपद के पूरनपुर थाना क्षेत्र में प्रतिबंधित मीट की दावत अरेंज की गई। सूचना पाकर जब पुलिस ने छापा मारा तो दाबत में भगदड़ मच गई। लोग खाना छोड़कर इधर उधर भाग लिए। पुलिस ने मौके से कथित रूप से प्रतिबंधित मीट की बिरियानी बरामद कर मुक़दमा दर्ज कर लिया है। इसी के साथ दावत के आयोजक की तलाश की जा रही है।

 

पुलिस ने बताया कि पूरनपुर कोतवाली क्षेत्र के गांव गहलुईया में कल्लू के बेटे की शादी की ख़ुशी में गुरुवार को दावत-ए-वलीमा कार्यक्रम रखा गया था। इसमें मेहमानों के लिए मीट की बिरियानी भी बनाई गई थी। पुलिस को जब सूचना मिली कि बिरियानी में प्रतिबंधित मीट का इस्तेमाल हुआ है। तुरन्त ही प्रभारी कोतवाल एमएस बिष्ट ने कल्लू के घर पर छापा मार दिया। दावत में भगदड़ मच गई,लोग इधर-उधर भाग लिए। पुलिस ने बताया कि दावत का सयोजक कल्लू भी गायब हो गया।

 

पुलिस को मौके से 40 किलो प्रन्धिब न्धित मीट की बिरयानी कब्जे में ले ली। कोतवाल ने बताया कि प्रतिबंधित मीट की बिरियानी तैयार कराने के मामले में आरोपी कल्लू पर रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। उसकी तलाश तेज़ी से हो रही है।

मणिपुर में बीजेपी सरकार ने जीता विश्वासमत,32 विधायकों ने किया समर्थन

नयी दिल्ली, मणिपुर भारतीय जनता पार्टी की सरकार आज सदन में फ्लोर टेस्ट में पास हो गई है विधानसभा चुनाव 2017 में नंबर कांग्रेस पार्टी से 7 सीटें कम जीतने के बावजूद बीजेपी ने बहुमत हासिल कर सरकार बना ली थी। 15 मार्च को बीरेन सिंह को मणिपुर की गवर्नर नजमा हेपतुल्ला ने पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई थी जिसके बाद बीरेन सिंह को विश्वास मत हासिल करने का 5 दिन का वक्त मिला था ।

 

बीरेन सरकार ने ध्वनिमत से विश्वास प्रस्ताव जीत लिया है। गौरतलब है कि मणिपुर में कांग्रेस को 28 ,भाजपा को 21,आॅल इंडिया तृणमूल कांग्रेस को 01,नागा पीपुल्स फ्रंट को 04,लोक जनशक्ति पार्टी को 01,नेशनल पीपल्स पार्टी 04,और एक सीट निर्दलीय को मिली है। चूँकि बहुमत किसी को नही था इसलिए बीजेपी मणिपुर में सरकार बनाने की कोशिशों में लगी थी और दूसरे नंबर की पार्टी होने के बाद भी सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया था। नागा पीपुल्स फ्रंट ने अपनी 04 सीटों के साथ बीरेन सरकार को समर्थन दिया है।

 ram madav Biren Singh Manipur CM.jpg

मणिपुर में अब तक 16 मुख्यमंत्री बने हैं, जिनमें भाजपा का मणिपुर में पहला मुख्यमंत्री बीरेन सिंह के रुप में मिला है। मणिपुर बीजेपी प्रभारी राम माधव ने बीजेपी का मुख्यमंत्री के विश्वास मत हासिल करने के बाद खुशी जताई है।

  • Published in Recent

भोपाल-उज्जैन एक्सप्रेस ट्रेन में धमाका, 6 यात्री घायल

मध्य प्रदेश के शुजालपुर में चलती ट्रेन में धमाका होने से सनसनी मच गई. इस हादसे में 6 यात्रियों के घायल होने की खबर हैं. ब्लास्ट की वजह का खुलासा नहीं हो सका है. सूत्रों का कहना है कि ट्रेन में मोबाइल फोन चार्जिंग के दौरान यह धमाका हुआ है। बताया जा रहा है कि ट्रेन नंबर 59320 भोपाल से उज्जैन जा रही थी। इस दौरान जोरदार धमाका हुआ। यह धमाका सुबह करीब 10 बजे हुआ है।

11111_1488866212.jpg

भोपाल पीआरओ सिद्दीकी ने बताया कि ट्रेन अपने निर्धारित समय सुबह 8 :10 बजे भोपाल से उज्जैन के लिए रवाना हुई थी। सुबह करीब 10 बजे ट्रेन के एक डिब्बे में अचानक धमाका हो गया। रेलवे के अनुसार धमाके से 4 लोग घायल हुए जबकि लोगों के मुताबिक़ घायलों की संख्या 6 है।

 

सिद्दीकी के अनुसार अभी धमाके के कारण का खुलासा नहीं हो पाया है। ट्रेन में सवार यात्रियों का कहना है कि धमाका डिब्बे की लाइट में या किसी यात्री के मोबाइल में हुआ था। अभी इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है। घायलों को कालापीपल के अस्पताल में भर्ती किया गया है। स्थानीय पुलिस के साथ जीआरपी और आरपीएफ की टीमें जांच में जुट गई हैं।

  • Published in Recent

काश पहले पता होतीं ये 6 वेबसाईट बड़े काम की

इंटरनेट पर आज करोड़ों वेबसाइट्स उपलब्ध हैं और हर रोज हजारों नई वेबसाइट्स तैयार होती हैं। मगर वेबसाइट्स के इस महासागर में कुछ ही वेबसाइट्स ऐसी हैं, जो अलग सी सर्विसेज ऑफर करती हैं। हम बताने जा रहे हैं 6 ऐसी ही वेबसाइट्स के बारे में, जो बहुत काम की हैं। आप कहेंगे कि काश इनके बारे में पहले पता होता।

 

1. Savr.com

हम सभी कई सारे डिवाइसेज पर काम करते हैं, मगर उनके बीच फाइल्स को शेयर करना आसान नहीं है। अगर आप चाहते हैं कि यूएसबी ड्राइव के बिना या खुद को ही ईमेल भेजे बिना फाइल्स शेयर की जा सकें तो Savr.com को ट्राई करें। यह आपको कॉमन क्लिपबोर्ड और कॉमन स्पेस देता है, जहां आप फाइल्स स्टोर कर सकते हैं। यह पीसी और मोबाइल पर भी काम होती है। 25 MB तक की फाइल्स शेयर की जा सकती हैं।

 

2. Printfriendly.com

कभी ब्राउजर से किसी वेबपेज को डायरेक्ट प्रिंट करने की कोशिश की है? अजीब सा प्रिंट आता है, जिसमें तस्वीरें, लिंक वगैरह नजर आते हैं। अगर आप चाहते हैं कि मुख्य टेक्स्ट ही प्रिंट हो, इसके लिए आपको उस पेज का URL लेकर Printfriendly.com में पेस्ट करना होगा। कुछ ही सेकंड्स में यह प्रिंटेबल पेज दिखा देता है, जहां से आप प्रिंट दे सकते हैं। Firefox, Chrome, Internet Explorer और Safari के लिए प्रिंटफ्रेंडली के एक्सटेंशन भी उपलब्ध हैं।

 

3. Spreeder.com

अगर आप जल्दी-जल्दी सबकुछ पढ़ना शुरू कर दें तो बहुत सी जानकारी जुटा पाएंगे। पढ़ने की स्पीड अभ्यास से बढ़ाई जा सकती है। Spreeder.com पर आप किसी टेक्स्ट का हिस्सा पोस्ट कीजिए। यह एक-एक शब्द आपके सामने डिस्प्ले करना शुरू कर देगा, जिसे आप पढ़ सकते हैं। आप टेक्स्ट वगैरह को कस्टमाइज कर सकते हैं और अपनी स्पीड माप सकते हैं। स्पीड वगैरह को भी अजस्ट कर सकते हैं। इस तरह आप किसी भी पैरा को जल्दी पढ़ सकते हैं।

 

4. Pdfunlock.com

कुछ PDF फाइल्स प्रॉटेक्टेड होती हैं। अगर आपके पास प्रॉटेक्टेड फाइल का पासवर्ड भी है, तब भी आप इसमें बदलाव नहीं कर पाएंगे। प्रॉटेक्शन को रिमूव करने के लिए PDUnlock पर जाएं, पासवर्ड डालकर अनलॉक करें और यह वेबसाइट आपको अनप्रॉटेक्टेड PDF डाउनलोड करने को दे देगी।

 

5. AccountKiller.com

ज्यादातर सोशल नेटवर्क वेबसाइट्स अकाउंट क्लोज करने की प्रक्रिया को जटिल बनाकर रखती हैं। अगर आप अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स को डिलीट करना चाहते हैं तो AccountKiller.com पर जाएं। यह आपको बताएगी कि कौन सी वेबसाइट से अकाउंट हटाना कितना मुश्किल है। क्लिक करने पर यह डिऐक्टिवेशन के लिए डायरेक्ट लिंक दे देता है।

 

6. PrivNote.com

कई बार आप किसी निजी जानकारी को किसी के साथ शेयर करना चाहते हैं, मगर सेफ्टी की चिंता होती है। जैसे कि मान लीजिए किसी को एटीएम पिन, बैंक पासवर्ड या ईमेल अड्रेस वगैरह बताना हो। ऐसी स्थिति में SMS, चैट या ईमेल का इस्तेमाल करना पूरी तरह सुरक्षित नहीं है। इसलिए आप PrivNote का इस्तेमाल करते हैं। इसके जरिए आप ईमेल या चैट के जरिए टेक्स्ट नोट भेज सकते हैं, जो सामने वाले द्वारा पढ़ लिए जाने के बाद डिलीट हो जाता है। आप नोट को एनक्रिप्ट भी कर सकते हैं।

  • Published in Recent

गिनीज बुक में दर्ज हो गई विश्व की सबसे बडी रंगोली

मिर्जापुर, राष्टीय मतदाता दिवस पर आज लोगो को मतदान करने के लिए जागरुकता का  संदेश  देने के लिए मिर्ज़ापुर के  पालटेक्निक मैदान में विश्व रिकार्ड रंगोली बनाया गया जिसमें  कुल 50 विद्यालय के करीब 4 हजार बच्चो ने भाग लिया। यह विशाल रंगोली को 39 हजार स्क्वायर मीटर  में बनाया गया है। इस रंगोली में 1 लाख किलो से अधिक रंगों का प्रयोग किया गया है ।रंगोली स्थल पर 4 ड्रोन कैमरों से नजर रख्खी जा रही थी।

 

रंगोली को पुणे महाराष्ट में बनाये गए 24 हजार स्क्वायर मीटर का रिकार्ड तोड़ने के लिए बनाया गया।पालटेक्निक  ग्राउंड पर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड की टीम भी मौके पर पहुची थी ।जो रंगोली को देख रही है।वही मौके पर मौजूद डीएम का कहना है कि मतदान के  प्रति जागरूकता अभियान के तहत  वर्ल्ड रिकॉर्ड रंगोली बनाया जा रहा है। वही मौके पर मौजूद गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड दर्ज करने वाली संस्था के प्रतिनिध का कहा था कि इस रंगोली को दो हप्ते में वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज कर लिया जाएगा।

इटली की अतिथि ग्रेको लावरा हजारीबाग के डोड़वा गांव में

ईटली की रोम युनिवर्सिटी की छात्रा ग्रेको लावरा इन दिनों हजारीबाग के कटकमसांडी प्रखंड अंतर्गत डोड़वा गांव में है। वह गांव के मूल निवासी एवं युवा ब्लॉगर संजय मेहता के विशेष आमंत्रण पर डोड़वा  पधारी है। ग्रेको लावरा आदिवासियों के ग्राम्य जीवन स्तर को नजदीक से समझने में रूचि रखने वाली एक छात्रा है। वर्तमान में वे आदिवासी जीवनषैली की वेदना और कठिनाइयों को नजदीक से जानने की कोशिश कर रही हैं।

 

क्या है डोड़वा रेसीडेंसी ?

 frf.jpg

डोड़वा रेसीडेंसी संजय मेहता द्वारा शुरू किया गया एक रेसीडेंसियल कार्यक्रम है। इसके माध्यम से ग्राम्य जीवन स्तर , आदिवासी जीवन शैली , गांवों के परंपरागत रीति-रिवाज को नजदीक से जानने एवं समझने की कोशिश की जा रही है। इस रेसीडेंसी में देश - विदेश से वैसे अतिथियों को आमंत्रित किया जाएगा जो ग्राम्य जीवन स्तर के विकास के लिए अपने-अपने स्तर से रचनात्मक एवं ज़मीनी कार्य कर रहे हैं। इस क्षेत्र में रूचि रखने वालों को यह रेसीडेंसियल कार्यक्रम निःशुल्क अवसर उपलब्ध कराएगा। संजय मेहता  द्वारा इस कार्यक्रम की शुरूआत बिना किसी सरकारी सहायता के व्यक्तिगत तौर पर की गई है। ग्रेको लावरा इस रेसीडेंसी की पहली अतिथि है। डोडवा रेसीडेंसी के बारे में बताते हुए संजय मेहता ने कहा कि यह अनोखा कार्यक्रम इस मायने में भी खास है कि जो भी अतिथि हमारे यहां विदेश से पधारेंगे वे अतिथि नहीं बल्कि एक घरेलू सदस्य होंगे। उन्हें रेसीडेंसी में गांव के मौलिक जीवन स्तर के बीच समय बिताना होगा साथ ही भोजन भी गांव की शैली में ही करना होगा। इसके पीछे उद्देश्य यह है कि जो भी इस विषय को समझने की कोशिश करें उन्हें विषय की सत्यता और भावनात्मकता से अंदर तक जोड़ा जाए। उन्होंने बताया कि यह एक ऐसा प्रयास है जिसके माध्यम से गांव की संस्कृति को दूसरे देशों से परिचय कराना है।

 

 

क्या है रेसीडेंसी का लक्ष्य ?

 

रेसीडेंसी के रचनात्मक प्रयासों के माध्यम से आदिवासियों एवं ग्रामीणों के जीवन स्तर को बेहतर बनाने की कोशिश की जाएगी। अतिथि अपने अनुभवों को लिखेंगे। उनके अनुभवों एवं विचारों के आधार पर एक बेहतर कार्ययोजना तैयार करने का लक्ष्य है। रिसर्च के माध्यम से रेसीडेंसी देश - विदेश के लोगों से जुड़कर कार्य  करेगा।

 

कौन हैं संजय मेहता

 

 

हजारीबाग जिला निवासी 23 वर्षीय युवा संजय मेहता राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर के साथ काम कर चुके हैं। लॉ की पढ़ाई के कारण फिलहाल राजनीतिक प्रबंधन के काम से दूर हैं। पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्नात्कोत्तर किया है। वर्तमान में युनिवर्सिटी लॉ कॉलेज,हजारीबाग के छात्र हैं। ‘अपनी दरिया’नाम से ब्लॉग लिखते हैं। ऑल इंडिया लेखन प्रतियोगिता  में इन्हें 2012 में मुंबई में सम्मानित किया जा चुका है। आदिवासी एवं ग्राम्य जीवन स्तर के उत्थान के लिए लगातार प्रयासरत हैं। आदिवासियों पर रिसर्च कर रहे हैं। सामाजिक दायित्वों के निर्वहन के लिए लगातार नवीन पहल करने के लिए प्रयासरत हैं।

 

कार्यस्थल पर महिलाओं के यौन उत्पीड़न मामले में 30 दिनों में पूरी होगी जाँच, ये हैं नये नियम

नयी दिल्ली, केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका संजय गांधी कार्यस्थल पर महिलाओं का यौन उत्पीड़न (रोकथाम, निषेध और निवारण) अधिनियम, 2013 के बारे में एक समीक्षा बैठक का आयोजन किया। बैठक के दौरान विभिन्न मंत्रालयों/ विभागों में यौन उत्पीड़न के लंबित मामलों की भी जांच की गई। विचार-विमर्श के आधार पर यह निर्णय लिया गया था कि डीओपीटी नए निर्देश जारी करेगा ताकि कुछ मुद्दों को उचित रूप से हल किया जा सके।  

 

लिए गए निर्णयों के आधार पर डीओपीटी ने कार्यस्थल पर महिलाओं के यौन उत्पीड़न के संबंध में नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। कार्यालय ज्ञापन के अनुसार मंत्रालयों/ विभागों और आंतरिक शिकायत समितियों को निम्नलिखित दिशा-निर्देशों का अनुपालन करना है :

 

कार्यस्थल पर महिलाओं के यौन उत्पीड़न के अधिनियम के कार्यान्वयन के बारे में  संक्षिप्त विवरण में प्राप्त होने वाले और निपटाए जाने वाले मामलों की संख्या भी शामिल होगी। यह कॉलम सभी मंत्रालयों/ विभागों और प्राधिकारियों की वार्षिक रिपोर्ट का हिस्सा होगा।

 

मामले की जांच 30 दिनों में और विशेष परिस्थितियों में शिकायत मिलने की तारीख के 90 दिनों के भीतर पूरी हो जानी चाहिए।

 

मंत्रालयों/ विभागों को शिकायतकर्ता के बारे में यह नजर रखनी चाहिए कि उसे शिकायत करने के कारण किसी भी तरह से प्रताड़ित न किया जा सके। अगर पीड़ित महिला को यह लगे कि उसकी शिकायत के कारण उसे प्रताड़ित किया जा रहा है तो उसे अपना अपना प्रतिवेदन सचिव या संगठन के प्रमुख को भेजने का विकल्प भी दिया गया है। संबंधित अधिकारी को उसकी शिकायत का 15 दिनों के भीतर निपटान करना आवश्यक हो जाएगा।

 

सभी मंत्रालयों/ विभागों को मासिक प्रगति रिपोर्ट महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के पास भेजना आवश्यक होगा ताकि इस बारे में हुई प्रगति पर नजर रखी जा सके।

 

 

मेनका संजय गांधी ने बहुत जल्द जारी किए गए दिशा-निर्देशों के लिए डीओपीटी की सराहना करते हुए कहा कि महिला एवं बाल विकास मंत्रालय कार्यस्थल पर महिलाओं के यौन उत्पीड़न से संबंधित मुद्दों पर लगातार काम करेगा और अगर उसे किसी अन्य क्षेत्रों में भी जरूरत पड़ती है तो इस बारे में आगे विचार-विमर्श करेगा। महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने केन्द्र सरकार के मंत्रालयों/ विभागों के तहत आंतरिक शिकायत समिति के प्रमुखों को प्रशिक्षित करने के लिए एक व्यापक योजना तैयार करेगी।   

Subscribe to this RSS feed
loading...

New Delhi

Banner 468 x 60 px