Log in

 

updated 6:22 PM UTC, Mar 26, 2017
Headlines:

सुभारती में फिल्म निर्माण कार्यशाला का शुभारम्भ

मेरठ। सुभारती पत्रकारिता एवं जनसंचार संस्थान में पन्द्रह दिवसीय फिल्म निर्माण कार्यशाला का आज से शुभारम्भ किया गया। फिल्म निर्माण विशेषज्ञ संजय कुमार श्रीवास्तव का स्वागत करते हुए संस्थान के डीन एवं प्राचार्य डॉ. धर्मेन्द्र सिंह ने बताया कि कार्यशाला का मूल उद्देश्य पत्रकारिता एनं जनसंचार के विद्यार्थियों को अधिक से अधिक प्रायोगिक रूप से कार्यकुशल बनाना है और इंडस्ट्री की जरूरतानुसार उन्हें तैयार करना है।

 

पन्द्रह दिन तक चलने वाली इस कार्यशाला में विद्यार्थी फिल्म निर्माण के सभी चरणों का प्रायोगिक (प्रेक्टिकल) ज्ञान अर्जित कर सकेंगे, जिसमें आईडिया विकसित करने से लेकर फिल्म के सम्पादन तक का स्तर शामिल है। इस कार्यशाला का संचालन फिल्म निर्माण विशेषज्ञ संजय कुमार श्रीवास्तव करेंगे। पहले दिन उन्होंने विद्यार्थियों को आईडिया और विषय का बृह्द ज्ञान दिया साथ ही कई फिल्में भी दिखाई।


इस मौके पर विभाग  के डीन डॉ. धर्मेन्द्र सिंह ने बताया कि पांच-पांच विद्यार्थियों का समूह निर्माण कर कई फिल्में भी निर्मित की जायेगी जिनकी एक निश्चित तिथि पर स्क्रीनिंग की जाएगी। उन्होंने बताया कि विभाग का इस कार्यशाला के आयोजन में निहीत उद्देश्य है कि विभाग के विद्यार्थी अधिक से अधिक कार्यकुशल बनें और मीडिया इंडस्ट्री में जिस तरह के कुशल लोगों की जरूरत है उसी पैमाने पर विभाग उन्हें तैयार कर फील्ड में उतार सके। इस तरह की कार्यशाला विभाग पहले भी करता रहा और आगे भी आयोजित करने की योजना है। इस मौके पर विभाग के उप-प्राचार्य डॉ. नीरज कर्ण सिंह, सहायक प्राध्यापक प्रियंका गौतम, राकेश कुमार, कामिनी अलोरिया, मुद्दसिर सुल्तान सहित कई विद्यार्थी मौजूद थे।

दूरस्थ शिक्षा के क्षेत्र में तकनीकि का हो अधिकाधिक उपयोग-डॉ0 एन.के. आहुजा

मेरठ,दिनांक 24 एवं 25 दिसम्बर 2016 को दूरस्थ शिक्षा निदेशालय, स्वामी विवेकानन्द सुभारती विश्वविद्यालय, मेरठ के तत्वावधान में ”कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम’’ का आयोजन मदन मोहन मालवीय प्रेक्षाग्रह, सुभारती कॉलेज आॅफ टैक्नोलॉजी एवं इंजिनियरिंग, स्वामी विवेकानन्द सुभारती विश्वविद्यालय, मेरठ में किया गया।

 

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि माननीय कुलपति महोदय डॉ0 एन0के0 आहुजा जी ने माँ सरस्वती एवं स्वामी विवेकानन्द जी की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर अपने भाषण में उन्होने दूरस्थ शिक्षा के क्षेत्र में तकनीकी के अधिकाधिक उपयोग पर बल देते हुये इस दिशा में निदेशालय द्वारा किये जा रहे प्रयासों की सराहना की।

 

माननीय निदेशक महोदया द्वारा माननीय कुलपति महोदय एवं दूर दूर से आये प्रतिभागियों का स्वागत करते हुये निदेशालय द्वारा लाॅच की गयी विभिन्न आॅनलाईन मॉडयूल्स की जानकारी दी गयी। ई0 अमित कुमार द्वारा सभी प्रतिभागियों को उक्त मॉडयूल्स का सैद्धान्तिक एवं प्रयोगात्मक प्रशिक्षण प्रदान किया।

 

कार्यक्रम के अन्त में श्री राजीव अरोरा, सहायक निदेशक दूरस्थ शिक्षा निदेशालय द्वारा सभी आगन्तुकों का आभार व्यक्त किया गया। कार्यक्रम का संचालन नीरज उपाध्याय द्वारा किया गया। कार्यक्रम के आयोजन को सफल बनाने में डॉ0 जयंत शेखर, राहुल शर्मा, डॉ0 सूरजभान, प्रियंका, निशा पराशर, उषा सक्सेना, प्रेषित गुप्ता,शालिनी एवं अन्य निदेशालय स्टाफ आदि का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

‘A’ ग्रेड विश्वविद्यालय है सुभारती- NAAC

मेरठ। स्वामी विवेकानन्द सुभारती विश्वविद्यालय को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के स्वायत्त संस्थान राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद ने ‘ए’ ग्रेड से मान्यता दी है। विवि के कुलपति ड़ॉ. एन. के. आहूजा ने यह जानकारी देते हुए बताया कि नैक ने विश्वविद्यालय को सीजीपीए 3.08 देते हुए ‘ए’ ग्रेड प्रदान किया है। इस सूचना के बाद विश्वविद्यालय में खुशी की लहर दौड़ पड़ी। सभी ने एक दूसरे को बधाई दी।

 

11 में से सिर्फ चार को ए ग्रेड

 

कुलपति डॉ. आहूजा ने बताया कि नैक की अधिकारिक वैबसाईट पर इसकी घोषणा की गई है। नैक की 5 नम्बर 2016 को हुई 18वी स्टैंडिग कमेटी मीटिंग में अन्य विश्वविद्यालयो एवं शिक्षण संस्थानों के साथ स्वामी विवेकानन्द सुभारती विश्वविद्यालय को ‘ए’ ग्रेड ने नवाजा है। स्टैंडिग कमेटी की रिपोर्ट के मुताबिक देश के 11 विश्वविद्यालय को नैक ने मान्यता दी है परन्तु केवल चार को ए ग्रेड ने नवाजा है जिसमें से स्वामी विवेकानन्द सुभारती विश्वविद्यालय एक है।

 

सुभारती विश्वविद्यालय को नैक की ‘ए’ ग्रेड मान्यता

 

उल्लेखनीय है कि सुभारती विवि में नैक के 13 सदस्यों की पीयर टीम ने 18,19, 20 और 21 अक्टूबर चार दिन विवि के सभी विभागों का निरीक्षण किया और समयानुसार अलग-अलग विभागों का मूल्यांकन किया। नैक टीम के सदस्य विवि के विभिन्न विभागों, कक्षाओं,प्रवक्ताओं, विद्यार्थियों, स्टाफ सहित विश्वविद्यालय की कई महत्वपूर्ण जानकारियों के अलावा विवि द्वारा दी जाने वाली सुविधाओं जैसे खेल मैदान, लैब, लाईब्रेरी आदि का भी जायजा लिया था।

पीयर टीम ने हर स्तर पर विश्वविद्यालय का किया था मूल्यांकन

 

18 अक्टूबर से 21 अक्टूबर तक चलने वाले इस निरीक्षण में पीयर टीम ने विवि की शैक्षणिक और सह-शैक्षणिक गतिविधियों की गुणवत्ता की जानकारियां हासिल की थी। विवि की आधारभूत सुविधाओं,  अध्यापन,  शोध, सह-शैक्षणिक गतिविधियों, पुस्तकालय आदि का मूल्यांकन एवं सत्यापन करते हुए पीयर टीम हर स्तर पर विश्वविद्यालय का मूल्यांकन किया था। जिसके बाद नैक ने विश्वविद्यालय को ‘ए’ ग्रेड मान्यता दी है। जैसे ही यह सूचना कुलपति कार्यालय में प्राप्त हुई उसके बाद से विवि में खुशी का माहौल है और हर्ष मनाया जा रहा है। विवि के कुलपति डॉ. आहूजा ने कहा कि नैक से ‘ए’ ग्रेड हांसिल करने के बाद विवि और अधिक सकारात्मक ऊर्जा के साथ अपने ध्यैय शिक्षा, सेवा, संस्कार और राष्ट्रीयता को प्राप्त करने का कार्य करेगा।

सुभारती विवि में चार दिवसीय नेक पीयर टीम का दौरा सम्पन्न

मेरठ। स्वामी विवेकानन्द सुभारती विश्वविद्यालय में नैक पीयर टीम का चार दिवसीय दौरा आज शुक्रवार को सम्पन्न हो गया। नेक निरीक्षण के चौथे दिन टीम ने सुभारती विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एन.के.आहूजा से भेट की और उन्हें निरीक्षण की रिपोर्ट साझा की। इसके बाद विश्वविद्यालय की परम्परा के अनुसार विवि परिसर में अतिथियों द्वारा पौधारौपण कराया गया।

 

गौरतलब है कि नेक पीयर टीम पिछले तीन दिनों से विश्वविद्यालय के सभी विभागों का बारिकी से निरीक्षण कर रही थी। इस दौरान उन्होंने विश्वविद्यालय के सभी विभागों, विभागों के विद्यार्थियों, पूर्व - विद्यार्थियों, अभिभावकों सहित शैक्षणिक और गैर-शैक्षणिक गतिविधियों का निरीक्षण कर विवि के समस्त कर्मचारियों से भी बातचीत की। विवि के कुलपति डॉ. एन.के.आहूजा ने कहा कि विवि अपने स्तर पर बेहतर काम कर रहा है, साथ ही टीम का जो भी सुझाव प्राप्त होगा उन सभी को ध्यान में रखते हुए विवि उन्नत शिक्षा, सेवा, संस्कारों के साथ समस्त छात्रों में राष्ट्रीयता की भावना को जागृत करने का काम करेंगा। विवि में कार्यरत समस्त पदाधिकारी, प्राचार्यों, प्राध्यापकों और कर्मचारी का अहम योगदान के लिए लिए कुलपति ने सभी को धन्यवाद ज्ञापित किया।

नैक टीम ने एल्युमिनी और अभिभावकों से जानकारियां जुटाई

मेरठ  स्वामी विवेकानन्द सुभारती विश्वविद्यालय में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की स्वायत्त संस्था राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद (नैक) की टीम ने दूसरे दिन 20 अक्टूबर को भी निरीक्षण व मूल्यांकन किया। नैक टीम अपने निश्चित समय सारिणी के अनुसार प्रातः 8 बजे विश्वविद्यालय के कुलपति के ऑफिस में साधारणतयः मुलाकात के बाद प्रातः 9 बजे से 12 बजे के मध्य नैक की पूरी टीम 3 टीमों में बँटकर विवि के विभागों का निरीक्षण किया। नैक की पहली टीम ने विश्वविद्यालय के द्वारा चलाए जा रहे ग्रामीण व शहरी स्वास्थ्य केंन्द्रों का निरीक्षण व अवलोकन कर स्वास्थ्य केन्द्र के द्वारा दी जा रही सुविधाओं से जुड़े दस्तावेजों को देखा।

 

   नैक पीयर टीम की दूसरी टीम नेस्टूडेण्ट्स अफेयर्स के निदेशक से मीटिंग की साथ ही कैरियर गाइडेंस, काउण्सिलिंग सर्विसेज व प्लेसमेण्ट सेल गए व ब्वायज् होस्टल का भ्रमण किया। इनसे जुडी सुविधाओं के बारे में जानकारी ली तथा होस्टल में छात्रों को दी जा रही सुख-सुविधाओं का भी निरीक्षण किया। नैक की तीसरी टीम ने विवि की आईटी सर्विसेज़, खेलकूद संबंधी सुविधाओं, एनसीसी. एनएसएस और छात्र क्लबों के निरीक्षण करने के पश्चात् विवि के पर्यावरण को बचाए रखने में सहायक प्लांट्स सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट, बायो हज़ार्डस वेस्ट डिस्पोजल, रैन वाटर हार्वेस्टिंग का भ्रमण के साथ गर्ल्स होस्टल भी निरीक्षण व अवलोकन किया।12 बजे के बाद विवि के सारे दस्तावेजों का सत्यापन किया। विवि के होटल मैनेजमेण्ट ने टीम हॉस्पिटालिटी से लेकर लंच की सुविधा मुहैया कराई।

 

लंच के बाद तीनों टीमों ने विवि में सेवा प्राप्त कर रहे छात्र-छात्राओं व सेवा कर रहे टीचिंग व नॉन-टीचिंग स्टाफ से बातचीत की। पहली टीम ने फैकल्टी ऑफ मेडिसिन, डेण्टल, पेरा-मेडिकल साइंस व नर्सिंग, दूसरी टीम ने फैकल्टी ऑफ फार्मेसी, इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नॉलोजी व साइंस व तीसरी टीम ने फैकल्टी ऑफ मेनेजमेण्ट एण्ड कॉमर्स, लॉ, जर्नालिजड्म एण्ड मॉस कम्युनिकेशन, एजुकेशन, फाइन आर्ट्स व आर्ट्स एण्ड सोशल साइंसके छात्र-छात्राओं से बातचीत की। 3 बजे से नैक की टीमों ने क्रमशः एल्युमिनी और विद्यार्थियों के माता-पिता, विवि के रजिस्ट्रार व इसके स्टाफ से बातचीत की और विवि के केन्द्रीय रिसर्च सुविधाओं का निरीक्षण किया। साथ ही नॉन-टीचिंग स्टॉफ, फाइनेंस ऑफिसर व उसके स्टाफ और एग्जामिनेशन यूनिट से भी बातचीत की।

 

इसके उपरांत टीमें विवि के कुलपति के साथविवि में नैक की टीम के द्वारा किए गए निरीक्षण को व उनके द्वारा दी जाने वाली सलाह को साझा किया। कुलपति से मिलने के बाद नैक पीअर टीम ने अपने ठहरने की जगह पर जाकर ड्राफ्ट रिपोर्ट को तैयार की।

सुभारती विश्वविद्यालय में नैक टीम ने किया निरीक्षण

मेरठ। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की स्वायत्त संस्था राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद (NAAC) की टीम ने मंगलवार को स्वामी विवेकानन्द सुभारती विश्वविद्यालय में निरीक्षण व मूल्यांकन किया। नैक टीम 19, 20 और 21 अक्टूबर को भी विवि के विभागों का निरीक्षण करेगी।

 

 सुभारती विवि में निरीक्षण के लिए पहुंची 13 सदस्यों की पीयर टीम ने आज (मंगलवार) फैक्ल्टी ऑफ मेडिसिन, फैक्ल्टी ऑफ डेन्टिस्ट्री, फैक्ल्टी ऑफ नर्सिंग, फैक्ल्टी ऑफ इंजीनियरिंग एवं टेक्टनोलॉली, फैक्ल्टी ऑफ आर्ट्स एंड सोशल साइंस और फैक्ल्टी ऑफ एजुकेशन आदि का निरीक्षण किया। पीयर टीम के सदस्यों ने विवि के विभिन्न विभागों में शैक्षणिक और सह-शैक्षणिक गतिविधियों की गुणवत्ता की जानकारियां हासिल की।

 

 

 

विवि की आधारभूत सुविधाओंअध्यापनशोध आदि गतिविधियों का मूल्यांकन किया। शाम के समय सुभारती विश्वविद्यालय में सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति भी दी गई। जिसमें विवि के विभिन्न संकायों के छात्र-छात्राओं ने सुभारती गान “ जहा भी अंधेरा हो दीप तू जलाता चल, राजस्थानी लोक नृत्य घूमर, भंगड़ा, चतुरंग नामक सांस्कृतिक समूह गान प्रस्तुत किया गया। इसी दौरान हिंदुस्तान बोल रहा हूं मैं नामक नुक्कड़ नाटक भी प्रस्तुत किया गया।

 

इन सभी सांस्कृतिक कार्यक्रमों की थीम सेवा, शिक्षा, संस्कार और राष्ट्रीयता पर आधारित रही। कार्यक्रम को आयोजित करने में आयोजन समीति का महत्वपूर्ण योगदान रहा। इस दौरान नैक पीयर टीम के माननीय चेयरमैन एवं सदस्य, विवि के संस्थापक डॉ. अतुल कृष्ण और डॉ. मुक्ति भटनागर, सुभारती के.के.बी चेरिटेबल ट्रस्ट की अध्यक्षा डॉ. शल्या राज, विवि के कुलाधिपति डॉ. जी.सी.श्रीवास्तव, कुलपति डॉ.एन.के.आहूजा, पूर्व कुलपति डॉ.वी.बी.सहाय, कुलसचिव पी.के. गर्ग, विवि के समस्त पदाधिकारी, प्राचार्य, प्राध्यापक और सैकड़ो छात्र-छात्राएं मौजूद रहे।

छात्रों ने दिया शिक्षा, सेवा, संस्कार और राष्ट्रीयता का सन्देश

मेरठस्वामी विवेकानन्द सुभारती विश्वविद्यालय में बृस्पतिवार को सुभारती टैक्नालाजी एवं इंजीनियरिंग विभाग में शिक्षा, सेवा, संस्कार और राष्ट्रीयता के विषय पर विश्वविद्यालय के विभिन्न विभागों के छात्रों के समूहों ने नुक्कड़ नाटक प्रस्तुत किए तथा फाइन आर्ट्स विभाग में पेंटिंग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।

 

सुभारती विश्वविद्यालय में तीन दिवसीय सांस्कृतिक महोत्सव चल रहा है जिसके अन्तर्गत विभिन्न प्रकार के जैसे नृत्य, गायन, नाटक आदि कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाते हैं। इसी कार्यक्रम के चलते वृहस्पतिवार को विभिन्न विभागों के छात्रों के समूहों द्वारा सुभारती टैक्नॉलॉजी एवं इंजीनियरिंग विभाग में नुक्कड़ नाटक प्रस्तुत किए गए। इस कार्यक्रम में कुल 6 कालिजों की टीमों ने हिस्सा लिया। जिनमें सुभारती पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग, सुभारती मेडिकल कॉलिज,सुभारती नर्सिंग कॉलिज, सुभारती फार्मेसी कॉलिज,सुभारती फैकल्टी ऑफ साइंसकॉलिज व सुभारती फिजियोथेरेपिस्ट कॉलिज शामिल थे।

 

सभीकॉलिज की टीमों ने शिक्षा, सेवा, संस्कार और राष्ट्रीयता को ध्यान में रखते हुए दिल को छू लेने वाली कहानियों को अपने अभिनय के माध्यम से प्रस्तुत की। जिनमें एक लड़की का पढ़ाई के लिए संघर्ष, शिक्षा का सिस्टम, स्वच्छ भारत-स्वस्थ भारत, विदेश में जाकर भी अपने संस्कारों को याद रखना और सरहद पर अपनी जान की परवाह न कर देश की सेवा करने वालेवीर सेनानियों के सेवा भाव और उनको श्रध्दांजलि देते हुए नाटक प्रस्तुत किए गए।

 

इस प्रतियोगिता मेंसुभारती पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग (प्रथम),सुभारती फैकल्टी ऑफ साइंसकॉलिज (द्वितीय) वसुभारती फिजियोथेरेपिस्ट कॉलिज ने तृतीय स्थान प्राप्त किया।

नुक्कड़ नाटक प्रतियोगिता का आयोजन सुभारती टैक्नालाजी एवं इंजीनियरिंग विभाग की सुमन मिश्रा और फिजियोथेरेपिस्ट कॉलिज की मंजू अधिकारी मे किया।कार्यक्रमकी शुभारम्भ विभाग के डॉयरेक्टर डॉ जैन शेखर ने किया। कार्यक्रम में निर्णायक फाइन आर्टस के परवेज़ राणा और मैंनेजमैंट विभाग की पदमा मिश्रा रही तथा पेंटिंग प्रतियोगिता का आयोजन नेहा सिंह, शशि व पिंकी देवी ने किया। उनहोंने छात्रों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि यह एक अच्छी कोशिश थी। जो जीते उन्हें उन्होंने बधाई दी और जो नहीं जीते उनका हौंसला बढ़ाते हुए उन्होंने कहा कि किसी भी प्रतियोगिता में भाग लेना जरूरी होता है। इसलिए कोशिश करते रहना चाहिए। 

सास्कृतिक कार्यक्रम “स्पन्दन” का हुआ आगाज़

मेरठ। स्वामी विवेकानंद सुभारती विश्वविद्यालय में बुधवार से तीन दिवसीय वार्षिक सांस्कृतिक कार्यक्रमों स्पन्दन का शुभारंभ हुआ। कार्यक्रम के पहले दिन फेस पेंटिग प्रतियोगिता, फोटोग्राफी प्रतियोगिता और मेहंदी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इन प्रतियोगिता के प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं को पुरस्‍कार के लिए चुना गया।

 

कार्यक्रम का शुभारंभ सुभारती के.के.बी.चेरिटेबल की अध्यक्षा शल्या राज और विवि के कुलपति डॉ. एन.के.आहूजा ने मां सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्जवलन और माल्यार्पण कर किया गया। सुभारती के इस वार्षिक सास्कृतिक कार्यक्रम के प्रथम दिन फेस पेंटिग प्रतियोगिता में विवि के आठ कॉलेज की टीमों ने भाग लिया। इसमें विभिन्न कॉलेज के छात्र-छात्रा आकाश सिंह, सैफ अली, दिग्विजय, अंशिका, प्राची चौधरी, पुलकित राठी, जैसमिन व उदिता अग्रवाल आदि ने भाग लिया।

 

 

प्रतियोगिता का विषय ‘पर्यावरण बचाओ, पृथ्वी बचाओ’ रहा, जिसमें प्रतिभागियों ने पर्यावरण के विभिन्न पहलुओं को रंगों के माध्यम से प्रस्तुत किया। डॉ. रफत ख़ान और डॉ. पूजा गुप्ता निर्णायक मण्डल में रही। प्रतियोगिता के संयोजक रीना विश्‍नोई व डॉ. सरताज रहे। प्रतियोगिता में प्रथम स्थान लॉ कॉलेज की छात्रा उदिता अग्रवाल और फेकल्टी ऑफ साइंस के छात्र दिग्विजय और अंशिका ने दूसरे स्थान प्राप्त किया। वहीं मेंहदी प्रतियोगिता में सुभारती विवि के सभी कॉलेजों की छात्राओं ने प्रतिभाग किया।

 

मेंहदी प्रतियोगिता की थीम करवा चौथ रही। डॉ. अंजलि खरे व बरखा भारद्वाज ने निर्णायक मण्डल की भूमिका निभाई। प्रतियोगिता को संयोजक मुमताज शेख और मंजू खरे रहीं। प्रथम स्थान एजुकेशन विभाग की छात्रा आयुषि ने तथा दूसरा स्थान सुभारती इंस्टीट्यूट ऑफ फाइन आर्ट्स की छात्रा दिव्या यादव ने व तीसरा स्थान सुभारती इंस्टीट्यूट ऑफ फाइन आर्ट्स की छात्रा शिव प्रसाद ने हासिल किया।

 

इस तीन दिवसीय वार्षिक सांस्कृतिक कार्यक्रमों स्पन्दन के दूसरे दिन यानि शुक्रवार को कई कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। जिसमें बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं विषय पर पेंटिंग प्रतियोगिता और शिक्षा, सेवा, संस्कार और राष्ट्रीयता विषय पर नुक्कड़ नाटक का मंचन भी किया जाएगा। इस कार्यक्रम को आयोजित कराने में सुभारती विवि के संस्कृतिक विभाग की अध्यक्ष डॉ. भावन ग्रोवर और संस्कृतिक विभाग की समिति का अहम योगदान रहा। इस कार्यक्रम के दौरान विभिन्न विभागों के डीन, प्राचार्य, विभागाध्यक्ष और प्रवक्ता मौजूद रहे।

Subscribe to this RSS feed
loading...

New Delhi

Banner 468 x 60 px