Log in

 

updated 6:53 PM UTC, Jan 16, 2018
Headlines:

गुटका व्यापारी रसिकलाल एम धारीवाल की कैंसर से हुई मौत

दिल्ली: मानिकचंद ग्रुप के अध्यक्ष रसिकलाल एम धारीवाल का मंगलवार की रात अस्पताल में निधन हो गया। वह 78 वर्ष के थे। धारीवाल पिछले लगभग दो महीनों से खासे बीमार थे वह कैंसर का इलाज करा रहे थे। वह रुबी हॉल क्लिनिक अस्पताल में भर्ती थे। अस्पताल में डॉक्टरों ने बताया, धारीवाल को पेरोटिड कैंसर था और मल्टी ऑर्गन फैल्यूर के चलते उनकी मौत हो गई।

 

अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर डॉ संजय पठारे ने कहा धारीवाल को 4 सितंबर को अस्पताल में भर्ती कराया गया था और मंगलवार को रात 8.15 बजे उनका निधन हो गया। उन्हें एक साल पहले पेरोटिड कैंसर का पता चला था और बेंगलुरु के एचसीजी कैंसर अस्पताल और पुणे के रूबी हॉल क्लिनिक में इलाज किया जा रहा था।

 

मानिकचंद समूह भारत में उद्योगों का एक समूह है जो मुख्य रूप से तंबाकू उत्पादों का उत्पादन करने वाली कंपनी के रूप में शुरू हुआ था। धारीवाल ने अपने पिता से बीड़ी कारोबार को विरासत में लेने के बाद एक तंबाकू व्यापारी के रूप में उद्योग शुरू किया था।

 

वह बाद में भारत में तंबाकू उत्पाद के सबसे बड़े गुटका उत्पादक और एक निर्माता बन गए।

"लाईफलाइन एक्सप्रेस" ट्रेन में हुई कैंसर की सर्जरी

मुंबई, लाईफलाइन एक्सप्रेस में भारत के पहले कैंसर सर्जरी को अंजाम दिया गया। इस सर्जरी को अंजाम दिया विश्व के जाने माने कैंसर रोग विशेषज्ञ डाॅक्टर पंकज चतुर्वेदी और उनकी टीम ने। यह अपनी तरीके का बिल्कुल अलग आॅपरेशन था क्योंकि कैंसर के पेसेंट की सर्जरी में कई तरीके के विशेष सामान और डायग्नाॅस्टिक की जरुरत होती है।6 दिसंबर को ही 25 साल पहले लकडी के डिब्बों से शुरु हुई लाईफ लाइन एक्सप्रेस में 2 डिब्बे कैंसर के इलाज के लिए जोडे गए थे।

 

इम्पैक्ट इंडिया फाउंडेशन रेलवे तथा स्वास्थ्य मंत्रालय से हाथ मिला कर मुहिम के तौर पर लाइफ लाइन एक्सप्रेस चलाई है। लाइफ लाइन एक्सप्रेस नाम की इस गाड़ी में कैंसर और परिवार-नियोजन सेवा के लिए नए डिब्बे जोड़े गए हैं। यह चलता-फिरता अस्पताल देश के दूरदराज के इलाकों में पहुंचता है। रेलवे से मिली जानकारी के मुताबिक, अब तक लाइफ लाइन एक्सप्रेस से छोटी-बड़ी मिलाकर दस हजार सर्जरी की गई। करीब 20 से 25 दिन एक इलाके में रुक कर मरीजों का इलाज करता है। अब से पहले मोतियाबिंद व दूसरी छोटी-मोटी बीमारियों की सर्जरी की जाती रही है। ट्रेन में विशेषज्ञ चिकित्सकों, नर्सों और नकनीकी कर्मचारियों के अलावा सफाई कर्मियों का पूरा दल मौजूद है।

Subscribe to this RSS feed
loading...

New Delhi

Banner 468 x 60 px