Log in

 

updated 6:45 PM UTC, Feb 20, 2018
Headlines:

मुंबई: पवन हंस हेलिकॉप्टर हुआ क्रैश, 3 शव बरामद

मुंबई में ओएनजीसी कर्मचारियों को ले जा रहा पवन हंस हेलिकॉप्टर क्रैश हो गया। यह घटना तट से 30 नॉटिकल मील की दूरी पर एयर ट्रैफिक कंट्रोल से संपर्क टूट जाने के कारण हुआ। इस हेलिकॉप्टर पर 7 लोग सवार थे। बताया जा रहा है कि हेलिकॉप्टर 10 बजकर 20 मिनट पर उड़ान भरी थी। हेलिकॉप्टर को 10 बजकर 58 मिनट पर लैंड करना था।

 

कोस्ट गार्ड ने ट्वीट करके जानकारी दी थी हेलिकॉप्टर का कुछ मलबा बरामद कर लिया है। अब तक समुद्र से तीन शव बरामाद हुए हैं। इनमें से एक शव की पहचान यात्री पंकज गर्ग के रूप में हुई है।

 




नेवी ने सक्रियता दिखाते हुए लापता हेलीकॉप्‍टर की खोज के लिए दो हेलीकॉप्‍टरों को तुरंत तैनात कर दिया और साथ ही नेवी ने ट्वीट कर जानकारी दी, एरिया में पहले से पेट्रोलिंग के लिए तैनात किए गए 2X ISVs को लापता हेलिकॉप्‍टर के खोज व राहत कार्य के लिए लगा दिया गया है।

 



इसरो का सैटेलाइट्स शतक

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने शुक्रवार श्रीहरिकोटा के सतीश धवन स्पेस सेंटर से अपना शतक पूरा करते हुए सफलतापूर्वक 100वें उपग्रह को लॉन्च किया। इसरो की ओर से पीएसएलवी सी-40 रॉकेट के जरिए लॉन्च किए गए 31 उपग्रहों में 28 विदेशी और 3 स्वदेशी उपग्रह शामिल हैं।  

जिसमें 100 किलोग्राम का माइक्रो और 10 किलोग्राम का नैनो उपग्रह भी शामिल हैं। विदेशो से उपग्रह की बात की जाए तो इनमें कनाडा, फिनलैंड, फ्रांस, दक्षिण कोरिया, ब्रिटेन और अमेरिका के उपग्रह शामिल हैं। यह उपग्रह सुबह के 9:28 बजे लॉन्च किया गया था।

 

इसरो के उपग्रह केंद्र (आइएसएसी) के निदेशक एम. अन्नादुरई ने कहा कि पीएसएलवी-सी40 के जरिए मौसम की निगरानी करने वाले कार्टोसेट-2 श्रृंखला के उपग्रह सहित 31 उपग्रह प्रक्षेपित किए गए। कार्टोसेट-2 सीरीज के इस मिशन के सफल होने के बाद तस्वीरों का इस्तेमाल, भू मानचित्र बनाने,सड़क नेटवर्क की निगरानी, जल वितरण में होगा।  

 

गौरतलब है कि पिछले साल 31 अगस्त को इसी तरह के रॉकेट से नौवहन उपग्रह आईआरएनएसएस-1 एच लॉन्च किया गया था, लेकिन हीट शील्ड न खुलने की वजह से यह रॉकेट के चौथे चरण में असफल हो गया था।



हर्षोल्लास के साथ मनाया गया गुरु गोविन्द सिंह का जन्मदिवस

पीपीगंज/गोरखपुर: दिनांक 05/01/2018 दिन शुक्रवार को दिग्विजयनाथ इन्टर कालेज चौकमाफी गोरखपुर में सिक्खो के दशवे गुरु, गुरुगोविन्द सिंह साहेब के जन्म दिन बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया. जिसकी अध्यक्षता  विद्यालय के प्रधानाचार्य श्री केशव प्रसाद तिवारी जी ने किया. कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए विद्यालय के वरिष्ठ अध्यापक श्री अश्विनी कुमार मिश्र ने बताया कि गुरु गोविन्द सिंह के बचपन का नाम गोविन्द राय सोधी था इनका जन्म 05 जनवरी सन 1666 पटना साहिब, भारत में हुआ. श्री मिश्र  जी इनके उत्कृष्ठ कार्यो का वर्णन करते हुए कहा कि गुरु गोविन्द सिंह साहेब ने खालसा पन्थ की स्थापना की तथा सिक्ख पुरुषों को अपने साथ तलवार रखने का अधिकार दिलाए.  गुरु गोविन्द सिंह जी, सिख समुदाय के आखिरी गुरु थे, उन्हे इसी कारण गुरु ग्रंथ साहिब के नाम से जाना जाता है. तत्पश्चात विद्यालय के प्रधानाचार्य श्री केशव प्रसाद तिवारी जी विद्यालय के छात्रों /छात्राओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि गुरु गोविन्द सिंह साहेब अपने पिता तेग बहादुर, माता गुजरी देवी के इकलौते पुत्र थे . अपने मृत्यु के पहले ही तेग बहादुर ने गुरु गोविन्द सिंह साहेब को अपना उत्राधिकारी नियुक्त कर दिया . बाद में 29मार्च 1676में गोविन्द सिंह 10वे गुरु बन गये. इन्होंने कई युद्ध मुगलो से लडे. श्री केशव प्रसाद तिवारी जी ने कहा कि सिरहिन्द के मुस्लिम गवर्नर इनके माता और दो पुत्रो को बन्दी बना लिया . इनके पुत्रो को इस्लाम धर्म कबूल न करने पर जिन्दा दफ़ना दिया जिससे दुखी होकर इनके माता  का निधन हो गया. गुरु शोभा के अनुसार गुरु गोविन्द सिंह साहेब के दिल पर गहरी चोट के कारण 07अक्तूबर 1708 में 42 वर्ष में ही इनकी मृत्यु हो गई . कार्यक्रम में विद्यालय के वरिष्ठ अध्यापक श्री मुक्तनाथ, ओम प्रकाश चौधरी, आशुतोष कुमार त्रिपाठी, सुबास चंद  गुप्ता, घनश्याम मौर्य, दिनेश कुमार वर्मा आदि शिक्षक उपस्थित रहे

 

जम्मू-कश्मीर के IED ब्लास्ट में चार पुलिस वाले शहीद

जम्मु कश्मिर: बारामुला के सोपोर में हुए IED धमाके में 4 जवान शहिद हो गए और एक जवान की हालत गंभीर है। यह विस्फोट पुलिस के पेट्रोलिंग करने के दौरान हुई। आतंकियो ने पुलिस को निशाना बनाते हुए गोल मार्केट सोपोर में एक दुकान के पास बंम प्लांट किया था। इस ब्लास्ट में दुकाने भी बुरी तरह से क्षतीग्रस्त हो गई।

1993 को सोपोर में 50 से अधीक ज्यादा नागरिको की  मौत हो गई थी. इसी घटना के विरोध में अलगाववादियों ने शनिवार को सोपोर बंद कर रखा है. बंद होने कि वजह से पुलिसकर्मी यहां अलगाववादियों द्वारा प्रायोजित हड़ताल को देखते हुए इलाके में गश्त लगा रहे थे.

 

जम्मु कश्मिर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने आईईडी विस्फोट में शहिद हुए पुलिस कर्मियों की मौत पर गहरा दुख जताया है.

 

मां का हत्यारा, उसका दुलारा बेटा

राजकोट: दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है जहां एक प्रोफेसर बेटे ने अपनी बीमार 64 वर्षीय मां को छत से धकेल कर हत्या कर दी थी। पुलिस के मुताबिक यह हत्या 3 महीने पहले संदीप नथवानी (36) ने 29 सितंबर को अपनी मां जयश्रीबेन को छत से धकेल कर हत्या कर दिया था.  

 

डी सी पी ने बताया कि चिट्ठी द्वारा हमें पता चला कि यह आत्महत्या नहीं बल्कि हत्या है और पुलिस की तहकिकात करने पर सी सी टी वी फुटेज में मिली जानकारी के मुताबिक संदीप ने अपनी मां को छत पर ले जाकर धक्का दिया फिर वहां से अपनी मां के चप्पल पहनकर लिफ्ट से वापिस घर के अंदर आ गया।

 

जयश्रीबेन पहले एक टिचर रह चुकीं हैं , इन्हें दिमागी बीमारी थी यहां तक की उनका अस्पताल में इलाज भी चल रहा था लेकिन संदिप सेवा करके थक चुका था और अंत में उसने अपनी मां की हत्या करने का फैसला लिया।

 

फिलहाल आरोपी संदिप गिरफ्तार कर लिया गया है और पुलिस ने नथवानी के खिलाफ आईपीसी की धारा 302 (हत्या के लिए सजा) के तहत प्राथमिकी दर्ज की है.

 

 

 

Subscribe to this RSS feed
loading...

New Delhi

Banner 468 x 60 px