Log in

 

updated 1:07 PM UTC, Jan 21, 2017
Headlines:

गोल्ड मॉनेटाइजेशन स्कीम ब्लूप्रिंट तैयार

अगर आपके कपबोर्ड और बैंक लॉकर्स में सालों से आपका सोना और जूलरी बेकार पड़ा हुआ है तो उसे बाहर निकाल लीजिए, अब मुनाफा कमाने का समय आ गया है। अगर आप सरकार की गोल्ड मॉनेटाइजेशन स्कीम में हिस्सा लेंगे तो सोने के अलावा हर तरह की जूलरी से आप अच्छी कमाई कर सकते हैं। गोल्ड मॉनेटाइजेशन स्कीम के विवरण की शीघ्र ही घोषणा की जाएगी।

इस स्कीम को तैयार करने वाले वित्त मंत्रालय के अधिकारियों का कहना है कि इस बात का कोई डर नहीं है कि टैक्स अधिकारी आपसे उस जूलरी पर वेल्थ टैक्स मांगेगा। सरकार इस स्कीम को सबके लिए रुचिकर बनाना चाह रही है जिस कारण इस प्रकार का कोई खतरा नहीं है। वित्त मंत्रालय एक क्रांतिकारी योजना के ब्लूप्रिंट को अंतिम रूप देने में लगा हुआ है जिसके तहत भारतीय नागरिक से अपने बेकार पड़े स्वर्ण भंडार का कम से कम एक भाग बेचने के लिए प्रेरित किया जाएगा।भारतीय नागरिक सोने के दुनिया के सबसे बड़े उपभोक्ताओं में एक हैं। 31 मार्च 2015 को समाप्त हुए वित्त वर्ष में कम से कम करीब 3.43 करोड़ डॉलर सोने का भारत में आयात किया गया है।

प्रस्तावित स्कीम के तहत जमा कीमती धातुओं को पिघलाया जाएगा और जूलरी में गोल्ड जितना होगा उसे जमाकर्ता के नाम में क्रेडिट किया जाएगा। जमाकर्ता को जमा करने के दिन से ही सोने के मूल्य पर ब्याज मिलेगा। अगर कोई निवेशक स्कीम से वापस निकलना चाहेगा या इसकी मच्योरिटी पर उसे उस दिन सोने की कीमत के बराबर नकदी राशि का भुगतान किया जाएगा।

इस स्कीम से उन लोगों को फायदा होगा जिन लोगों ने अपने पास सोना जमा कर रखा है। इससे जहां उनकी कमाई होगी वहीं सोना में उन्होंने जो निवेश किया, वह सुरक्षित रहेगा। इससे मंदिर ट्रस्टों जैसे संगठनों और कंपनियों को भी मदद मिलेगी और साथ ही देश में जमा सोना सर्कुलेशन में आने से बाहर से इंपोर्ट कम होगा। सोने का आयात न होने से देश की इकॉनमी को फायदा पहुंचेगा।

Subscribe to this RSS feed
loading...

New Delhi

Banner 468 x 60 px