Log in

 

updated 5:35 PM UTC, Apr 26, 2017
Headlines:

समानता की ओर अग्रसर होती महिलाएं

मंगलयान मिशन और एक साथ लॉंच किए गए 104 उपग्रहों को लेकर भारतीय महिला वैज्ञानिकों के योगदान की  प्रशंसा न केवल भारत द्वारा की जा रही है बल्कि पूरी दुनिया में भारतीय महिला वैज्ञानिकों की सराहना हो रही है। डॉ. के.सी.थॉमस, एन वलारमती, मिनाल संपथ, अनुराधा टीके, रितू करिधल, मोमिता दत्ता और नंदनी हरिनाथ जैसे वैज्ञानिकों ने हर भारतीय को गौरवान्वित किया है।

 

        इन वैज्ञानिकों की तरह ही अनेक महिलाएं हैं जिन्होंने मिशाल कायम की है। वे विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्टता और ज्ञान के उदाहरण हैं। लेकिन यह आइना का एक पहलू है। यह पहलू शिक्षित, सफल और सशक्त भारतीय महिलाओं की स्थिति की है। दूसरी ओर महिलाओं की बड़ी आबादी आज भी यौनवाद, भेदभाव और दमन झेल रही है। ऐसी महिलाएं जीवन और समाज में अपने उचित स्थान की मांग करने से काफी दूर हैं। ऐसी महिलाएं भारत के संविधान में दिए गए समानता का अधिकार (अनुच्छेद 14) सहित अपने मौलिक अधिकारों का उपयोग नहीं कर पाती। इस स्थिति में एकमात्र रास्ता दोनों पहलुओं के बीच की खाई को पाटना और संतुलन बनाना है। सौभाग्यवश, हम सही रास्ते पर हैं, लैंगिक समानता के सिद्धांतों पर काम कर रहे हैं। कार्यबल तथा निचले स्तर पर राजनीतिक क्षेत्र में महिलाओं के योगदान और भागीदारी से भारत ने 2016 के वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की वैश्विक लैंगिक अंतर रिपोर्ट में 21 स्थानों की छलांग लगाई हैं। भारत का स्थान 2016 में 87वां हो गया है जबकि 2015 में भारत 108वें पायदान पर था। शिक्षाप्राप्ति, आर्थिक भागीदारी तथा अवसर, स्वास्थ्य तथा राजनीतिक सशक्तिकरण के कारण यह सुधार हुआ है

(स्रोत : https://reports.weforum.org/global-gender-gap-report-2016/economies/#economy=IND)।

 

विश्व में राजनीतिक सशक्तिकरण के बारे में भारत का स्थान 9वां है। यह बड़ी उपलब्धि होने के साथ-साथ अपने देश द्वारा अपनाए गये लोकतान्त्रिक मॉडल की अंतर्निहित शक्ति का संकेतक करता है। लेकिन दो राय नहीं कि लैंगिक समानता के संबंध में लंबा रास्ता तय करना है और इस रास्ते की सबसे बड़ी बाधा यह है कि हमारा समाज महिला को किस रूप में देखता है। हालांकि विभिन्न क्षेत्रों की महिलाओं के अधिकारों की रक्षा के लिए कानूनी और संवैधानिक ढांचा सशक्त बनाने वाले हैं लेकिन इऩ प्रावधानों के बारे में उदार और प्रगतिशील चेतना की भारी कमी है। कानूनी चेतना के बावजूद किसी भी सामान्य पुरूष और महिला के लिए न्याय तक पहुंचना और लंबी लड़ाई लड़ना कोई सहज काम नहीं है।

 

इसी तरह लैंगिक असंतुलन तथा लैंगिक भेदभाव के कारण 1961 के बाद से देश की महिला आबादी में कमी आ रही है। यह भारत की विकासगाथा पर एक धब्बा है। इस समस्या के समाधान के लिए यानी महिलाओं की गिरती आबादी की प्रवृति बदलने के लिए प्रधानमंत्री द्वारा 2015 में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना लाँच की गयी। महिलाओं की कम होती संख्या कहानी के एक भाग को दिखाती है। यह केवल महिलाओं और लड़कियों की निम्न सामाजिक स्थिति का एक लक्षण है, गंभीर लक्षण। यह दिखाता है कि किस तरह भारत में पितृसत्ता का ढांचा अनादर, दुर्व्यवहार, असमानता और भेदभाव से एक महिला के जीवन चक्र को संचालित करता है। ऐसा भेदभाव और बुनियादी मानवाधिकारों का उल्लंघन सभी वर्गों तथा आबादी की महिलाओं के साथ किया जाता है।

 

आज भी महिलाओं को टी.वी देखने या रेडियो सुनने से रोकने के उदाहरण मिलते हैं। इस तरह के भेदभाव गंभीर या छोटे हो सकते हैं, अपमानजनक हो सकते हैं लेकिन कोई इसके विरोध की आवश्यकता महसूस नहीं करता। स्त्रीद्वेष तथा महिलाओं तथा लडकियों के प्रति हिंसा तेजी से बढ़ रही है।

 

महिला और बाल विकास मंत्रालय का #WeAreEqual  अभियान  

इस स्थिति में महिलाओं और लड़कियों के लिए समानता हासिल करने के लिए जागरूकता, सोच में परिवर्तन तथा सामाजिक और व्यवहारिक परिवर्तन की आवश्यक है। इस प्रक्रिया में पुरूषों और लड़कों के साथ भागीदारी आवश्यक हो जाती है। पुरुष और लड़के हमारे समाज को दर्पण दिखाते हैं और यौनवाद, असमानता और लैंगिक भेदभाव के विरुद्ध लड़ाई में बराबर के सहयोगी हैं।

 

जागरूकता बढ़ाने के लिए महिला और बाल विकास मंत्रालय ने 13 फरवरी को सोशल मीडिया अभियान #WeAreEqual  प्रारंभ किया। इसका उद्देश्य शिक्षा, स्वास्थ्य, पोष्टिकता और सम्मान के क्षेत्र में महिलाओं को समान अवसर की आवश्यकता के बारे में जागरूकता बढ़ाना है। यह अभियान नारी शक्ति पुरस्कार समारोह सहित 8 मार्च, 2017 को मनाये जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का हिस्सा है। इस अभियान का कहना है “आप और मैं, हम एक हैं। इस अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर समानता का अपना नारा साझा करें और परिवर्तन में शामिल हों। ”

 

यह अभियान सोशल मीडिया पर लोकप्रिय हो रहा है। इसमें सेलेब्रेटी, खेल जगत के लोग और अभिनेता शामिल हो रहे हैं। लैंगिक समानता के लिए पुरूष और महिला सोशल मीडिया पर #WeAreEqual संदेश पोस्ट कर रहे हैं। लोग अपनी निजी कहानियां बता रहे हैं और लैंगिक रूप से समतामूलक समाज बनाने की दिशा में प्रयास कर रहे हैं। यह अभियान न केवल लैंगिक समानता के महत्व और आवश्यकता का संकेत दे रहा है बल्कि लोगों को परिवर्तन लाने की जिम्मेदारी लेने को भी कह रहा है।

 

महिला और बाल विकास मंत्रालय के संकेत के अनुसार लोकप्रिय अभिनेता आलिया भट्ट और भारतीय क्रिकेट कप्तान विराट कोहली अभियान को समर्थन देंगे। सुपरस्टार अमिताभ बच्चन, पहलवान संग्राम सिंह, ओलंपिक बॉक्सर मैरि कॉम, दियामिर्जा और इसरो वैज्ञानिक के.थेनमोजी सेल्वी, सुभा वरियर तथा मिनाल रोहित ने इस अभियान को अपना समर्थन दिया है। समाज को प्रभावित करने वाले इस तरह के लोग परिवर्तन के लिए प्रेरणा दे सकते हैं।

अभियान के लिए मैरि कॉम ने पोस्ट किया है “मैं चाहती हूं कि हर लड़की को अपने सपनों को पूरा करने की आजादी हो, खेल में उन्हें और अधिक मान्यता दी जाये”।

 

अमिताभ बच्चन ने #WeAreEqual संदेश देते हुए घोषित किया है कि “मेरे निधन पर मेरी संपत्ति, मेरी बेटी और मेरे बेटे के बीच समान रूप से साझा की जाएगी! #genderequality #WeAreEqual.” । कहने की आवश्यकता नहीं की यह संदेश पुरूष और महिलाओं की समान संपत्ति अधिकारों की कारगर वकालत करता है।

 

साधारणजन अपनी निजी कहानियां साझा कर रहे हैं और इस # टैग के साथ अपना संदेश दे रहे हैं। लोगों द्वारा रोजाना महिलाओं के यौनवाद का शिकार होने की बात स्वीकार की जा रही है।

 

निःसंदेह भारत को लैंगिक समानता की लक्ष्य प्राप्ति तथा लैंगिक भेदभाव मुक्त समाज बनाने की अपनी गति जारी रखनी होगी। ऐसा लैंगिक भेदभाव मुक्त समाज जिसमें सभी संसाधनों और अवसरों के मामले में पुरूष और महिलाओं की समान पहुंच होगी। हर प्रयास, हर अभियान और हर पहल मायने रखती है और प्रत्येक हितधारक को इसमें विश्वास रखना होग।

 

-लेखक स्वतंत्र पत्रकार हैं अभी एसओएस चिलड्रेन विलेजेज ऑफ इंडिया की कम्युनिकेशन प्रमुख हैं। लेख में व्‍यक्‍त किए गए विचार उनके निजी विचार हैं।

कभी गुमनाम जिंदगी जी रही केसर देवी, नानू देवी जैसी लाखों महिलायें अब हैं 'पॉवरफुल वुमेन'

स्त्री शक्ति के जरिये परिवार,समाज और राष्ट्र को सशक्त तथा समृद्ध बनाने की राजस्थान की विभिन्न कल्याण योजनाओ से लगभग डेढ करोड़ परिवार की महिलाओ के'पॉवरफुल वुमेंन' बनने की दिशा में एक सकारात्‍मक कदम है। गुमनाम सी अंधेरी जिंदगी जी रही जयपुर की केसर देवी, बीकानेर की नानू देवी  जैसी लाखों महिलाओं को 'भामाशाह योजना' के तहत परिवार की मुखिया बना कर उन्‍हें अधिकार सम्पन्न बनाने से उनके परिवार लाभान्वित हो रहे हैं।

  दरअसल राजस्थान में इन दिनो महिला सशक्तिकरण को लेकर क्रांति हो रही है। प्रदेश की 'भामाशाह योजना' से दूर दराज के गांव, शहर की महिलायें 'पॉवरफुल वुमेंन' बन रही है। इसका अर्थ यह है कि अब लगभग एक करोड़ 30 लाख परिवारों के अहम फैसलों में मुखिया होने के नाते उनकी भूमिका खास बनती जा रही है। इस योजना के तहत आवश्यक जानकारियों के सत्यापन के बाद परिवार की महिला मुखिया के नाम से बहु उद्देशीय भामाशाह परिवार कार्ड बनाया जाता है। जानकारों का मानना है कि देश में महिला और उनके वित्तीय सशक्तीकरण की सबसे बड़ी भामाशाह योजना से राजस्थान में­ महिला आत्मनिर्भरता के एक नये युग का सूत्रपात हो रहा है। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे का यह 'ड्रीम प्रोजेक्ट' है जिसके तहत महिलाओं को परिवार की मुखिया बना सरकार की विभिन्न योजनाओं के तहत मिलने वाले नगद लाभ सीधे उनके बैंक खातों में जमा करवाने और गैर नगद लाभ दिलवाने की अभिनव पहल है। भामाशाह योजना शुरू होने से राजस्थान में युगान्तरकारी परिवर्तन होने जा रहा है। यह योजना देश में अपनी तरह की पहली सीधी लाभ हस्तान्तरण योजना है।

 

खास बात यह है कि भामाशाह योजना में राज्य के सभी परिवार अपना नामांकन करवा सकते हैं। भामाशाह योजना में नामांकन और भामाशाह कार्ड बनवाने को लेकर लोगों में अक्सर यह भ्रान्ति रहती है कि यह सुविधा केवल बीपीएल, बीपीएल महिला या किसी वर्ग विशेष के लिए है, जबकि वास्तविकता में इस योजना में राज्य के सभी परिवार अपना नामांकन करा सकते है। साथ ही यदि नामांकन में­ कोई त्रुटि अथवा अपूर्णता रह जाती है तो उसे संशोधित भी करवाया जा सकता है। इसी प्रकार भामाशाह कार्ड की यह विशेषता है कि यदि कार्ड गुम जाए अथवा चोरी हो जाता है तो भी कोई इसका दुरूपयोग नही कर पाएगा। चूंकि भामाशाह कार्ड बायोमैट्रिक पहचान सहित कोर बैंकिंग सुविधा युक्त है अतः यह पूरी तरह सुरक्षित है और लाभार्थी के खाते में जमा राशि उसके अलावा अन्य किसी के द्वारा निकालना संभव नही है। नामांकित परिवारों को संबंधित ग्राम पंचायत/शहरी निकाय के माध्यम से भामाशाह कार्ड

 

निःशुल्क देने का प्रावधान है। सूत्रो के अनुसार  ऐसे परिवार जिनका भामाशाह योजना में ­ नामांकन होना है अथवा जिन्हे भामाशाह कार्ड जारी नही हुआ है उन परिवारों अथवा सदस्यों को सभी राजकीय सेवाएं आगामी आदेश तक पूर्व की तरह ही मिलती रहें­गी।

 

राज्य सरकार द्वारा भामाशाह योजना में­ आवश्यक बदलाव कर इसे अधिक बड़े रूप में­ और अधिक व्यापक स्तर पर लागू किया जा रहा है और इसे प्रधानमंत्री की जन-धन योजना से भी जोड़ा गया है। भामाशाह योजना का उद्देश्य सभी राजकीय योजनाओं के नगद एवं गैर नगद लाभ सीधा पारदर्शी रुप से प्रत्येक लाभार्थी को पहुंचाना है। यह योजना के अंतर्गत राशन कार्ड, पेन्शन, उच्च एवं तकनीकी शिक्षा के लिए छात्रावृत्ति पाने वाले लाभार्थियों को भी सम्मिलित किया जायेगा। यह योजना परिवार को आधार मानकर उनके वित्तीय समावेश के लक्ष्य को पूरा करती है और इसके तहत हर परिवार को भामाशाह कार्ड दिया जाएगा जो उनके बैंक खातों से जुड़े होंगे। यह बैंक खाता परिवार की मुखिया,जो कि महिला होगी के नाम से होगा और वह ही इस खाते की राशि को परिवार के उचित उपयोग में­ कर सकेगी। यह कार्ड बायो-मैट्रिक पहचान सहित कोर बैकिंग को सुनिश्चित करता है। इसके अन्तर्गत, प्रत्येक परिवार का सत्यापन किया जाएगा और पूरे राज्य का एक समग्र डेटाबेस बनाया जाएगा। इसके माध्यम से जाली कार्डों की भी जांच की जाएगी। विभिन्न विभागों द्वारा पात्राता के लिए सभी जनसांख्यिकी और सामाजिक मापदण्डों को भी इसमें सम्मिलित किया जाएगा।

 

आधिकारिक आंकड़ो के अनुसार अब तक राज्य के एक करोड़ 35 लाख परिवारों के 4 करोड़ 62 लाख व्यक्तियों का नामांकन हो चुका है एवं उन्हे बहुउद्देश्यीय भामाशाह परिवार पहचान कार्ड आवंटित किए जाने की प्रक्रिया चल रही है।  इस के तहत बैंक खातों में 4700 करोड़ रूपये का लाभ हस्तातंरित हो चुका है।

 

जयपुर जिले की ग्राम पंचायत जमवारगढ़ की बीपीएल परिवार की बुजुर्ग श्रीमती केसर देवी मानती है भामाशाह कार्ड ने उन्हें एक नई पहचान दी है। अब भामा शाह कार्ड उनके लिये जादुई चिराग बन गया है क्‍योंकि केवल भामाशाह कार्ड के जरिए ही विभिन्न सरकारी योजनाओं का लाभ प्राप्‍त किया जा सकता है। इसी तरह बीकानेर पंचायत समिति की बंबलू ग्राम पंचायत की बैसाखियों के सहारे चलने वाली नानू देवी  मानती है भामाशाह कार्ड उनकी लाठी है, भले ही वह चलने फिरने से लाचार हैं, लेकिन यह कार्ड उन्हें हर काम में सहारा देता है, चाहे वह पेंशन प्राप्‍त करना हो या कोई और कार्य। कार्ड के कारण उनमें नया आत्म विश्वास से भर गया है।

आधिकारिक जानकारी के अनुसार यह सुविधा अटल सेवा केन्द्र तथा ई-मित्र केन्द्रों पर स्थाई रूप से उपलब्ध है। जहां किसी परिवार के सभी सदस्य एक साथ जाकर आधार कार्ड व बैंक खाता संख्या के अलावा आवश्यक जानकारी देकर नामांकन करा सकते हैं। यदि किसी परिवार का बैंक खाता नही हो तो उसे भी ई-मित्र केन्द्र पर खुलवाने की सुविधा उपल्ब्ध है। ई-मित्र केन्द्र या भामाशाह योजना की वेबसाइट के माध्यम से ऑनलाइन नामांकन भी कराया जा सकता है। नामांकन और कार्ड से संबंधित समस्याओं व शिकायतों के समाधान के लिए भामाशाह का प्रबंधक जिला कलेक्टर और सांख्यिकी अधिकारियों को इसका अधिकारी और उपखंड अधिकारियों को नोडल अधिकारी बनाया गया है।

परिवार का कोई भी सदस्य अगर अपना व्यक्तिगत कार्ड बनवाने का इच्छुक हो तो वह 30 रुपये का शुल्क जमा करवाकर यह कार्ड बनवा सकता है। बीपीएल परिवार की महिला मुखिया को सरकार द्वारा भामाशाह कार्ड बनवाने पर दो किश्तों में 2 हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि दी जाती है जो महिला मुखिया के खाते में­ जमा करवा दी जाती है। इसकी पहली किश्त के रुप में­ एक हजार रुपये तथा छः महीने बाद दूसरी किश्त के रुप में लाभार्थी के खाते में एक हजार रुपये डालने का प्रावधान किया गया है।

भामाशाह योजना में पें­शन और छात्रावृति जैसे नगद लाभ तथा राशन सामग्री जैसे गैर नगद लाभों के वितरण की शुरूआत हो चुकी है। परिवारों के नामांकन के बाद सत्यापन और भामाशाह परिवार कार्ड बनने की प्रक्रिया के बीच पें­शन, छात्रावृति व राशन कार्ड से जुड़े महत्वपूर्ण विभागों के आंकड़ों के साथ भामाशाह के आंकड़ों का मिलान करते हुए इनमें एकरूपता लाई जा रही है। इससे परिवारों के बारे में दर्ज जानकारी से पें­शन, छात्रावृति व राशन सामग्री के पात्र वर्ग को 'नगद और गैर नगद लाभ’ का पारदर्शी तरीके से वितरण सुनिश्चित होगा। भविष्य में­ इस दूरदर्शी योजना में­ विभिन्न विभागों के अलग-अलग लाभ भी जोड़े जाएंगे। सूत्रो के अनुसार दरअसल इस योजना की परिकल्पना श्रीमती राजे ने अपने पिछले शासनकाल वर्ष 2008 में­ 'आधार कार्यक्रम' से बहुत पहले की थी।

मुख्यमंत्री श्रीमती राजे ने दिसम्बर, 2013 में पुनः मुख्यमंत्री बनने के बाद भामाशाह योजना का कार्यान्‍वयन फिर से शुरु करने का निर्णय लिया और इसी क्रम में­ भामाशाह योजना का पुनः शुभारंभ गत वर्ष 15 अगस्त को इतिहास पुरूष महाराणा प्रताप को अपना सर्वस्व न्यौछावर करने वाले महान दानवीर भामाशाह की पवित्र धरा मेवाड़ के खुबसूरत शहर उदयपुर में­ हुआ। भामाशाह योजना के प्रभावी कार्यान्‍वयन के लिये भारत सरकार द्वारा वर्ष 2015-16 में राष्ट्रीय-ई-गवर्नेंस का "स्वर्ण पुरस्कार" राजस्थान को प्रदान किया गया था।  सूत्रों के अनुसार अब इस योजना के लाभ व्यापक पैमाने पर नजर आने लगा है।

 

विशेष लेख अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2017

प्राचीन काल से ही भारतीय इतिहास में महिलाएं महत्वपूर्ण भूमिका निभाती रही हैं। हमें पता है कि वैदिक या उपनिषद् युग में मैत्रेयी, गार्गी और अन्य महिलाओं ने ब्रह्म के ऊपर विचार करने की योग्यता के आधार पर ऋषियों का स्थान प्राप्त किया था। हजारों ब्राह्मणों की उपस्थिति में विदुषी गार्गी ने ब्रह्म के ऊपर शास्त्रार्थ करने की चुनौती याज्ञवल्क्य को दी थी।

 

स्वतंत्रता पूर्व समय में महिलाओं ने शिक्षा और सामाजिक उन्नति के उद्देश्य के लिए नेतृत्व किया था। वर्ष 1950 में भारत दुनिया के ऐसे कुछ देशों में गिना जाता था जिन्होंने अपने नागरिकों को सार्वभौमिक वयस्क मताधिकार प्रदान किया था। महिलाओं ने युवा भारत के विकास का मार्ग प्रशस्त किया। और, आज हम देख रहे हैं कि महिलाएं सरकार, व्यापार, खेल, सशस्त्र बलों और यहां तक कि वास्तविक रॉकेट विज्ञान में भी अग्रणी भूमिका निभा रही हैं। महिलाओं ने समस्त मानक तोड़ दिये हैं और प्रतिदिन नए-नए मानक स्थापित कर रही हैं।

 

नारी शक्ति पुरस्कार 1999 में गठित किया गया था ताकि उन महिलाओं का सम्मान किया जा सके जिन्होंने उम्मीदों से बढ़कर काम किया, बंधे-बंधाये ढर्रे को चुनौती दी और महिला सशक्तिकरण में अविस्मरणीय योगदान किया। भारत सरकार ये पुरस्कार उन व्यक्तियों और संस्थानों को प्रदान करती है जिन्होंने महिलाओँ के लिए अभूतपूर्व सेवा की हो। महिला विकास और उन्नयन के क्षेत्र में शानदार योगदान करने के लिए यह पुरस्कार प्रदान किए जाते हैं। इस वर्ष नारी शक्ति पुरस्कार विभिन्न क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करने वाली महिलाओं और संस्थानों को दिया जा रहा है। उल्लेखनीय है इस संबंध में बहुत सारे आवेदन प्राप्त हुए थे, जिसके मद्देनजर महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने उन उम्मीदवारों का चयन किया है जो सामाजिक उद्यमिता, कला, बागवानी, योग, पर्यावरण संरक्षण, पत्रकारिता, नृत्य, सामाजिक कार्य, विज्ञान और प्रौद्योगिकी जैसे विभिन्न क्षेत्रों में अग्रणी भूमिका निभाई है। महिलाओं ने इन सभी क्षेत्रों में राष्ट्रीय और अंतर्राषट्रीय स्तर पर अपनी छाप छोड़ी है तथा पूरी दुनिया के सामने यह साबित कर दिया है कि सफलता के लिए लैंगिक सीमा का कोई अस्तित्व नहीं होता। समस्त पुरस्कृत लोग सामाजिक उद्यमिता निर्माण, जैविक खपत को प्रोत्साहन देने और सतत पर्यावरण के निर्माण जैसे नए और उभरते हुए क्षेत्रों में योगदान कर रहे हैं। यह देखना बहुत उत्साहवर्धक है कि इन सभी क्षेत्रों में महिलाएं नेतृत्व कर रही हैं, जिससे भावी विकास कि रूपरेखा तय होगी।

 

इन पुरस्‍कार विजेताओं ने अंतरिक्ष अनुसंधान, रेलवे, मोटरसाइक्लिंग और पवर्तारोहण जैसे क्षेत्रों में अपनी मौजूदगी दर्ज कराकर महिलाओं से जुड़ी रूढ़ीवादी सोच को चुनौती दी है। इन्‍होंने न केवल चुनौती दी है बल्कि उन क्षेत्रों में उत्‍कृष्‍टता प्राप्ति की है जहां इतिहास में कभी महिलाओं की भागीदारी नहीं देखी गई। इसरो के वैज्ञानिकों और इंजीनियरों, पहली डीजल ट्रेन चालक सुश्री मुमताज काजी, मोटरसाइक्लिस्‍ट सुश्री पल्‍लवी फौजदार और पर्वतारोही सुश्री सुनीता चोकेन ऐसे युवा भारतीयों के लिये एक उदाहरण हैं जो अपने सपनों को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। ये विजेता बदलते वैश्विक भारत की एक अलग तस्‍वीर पेश करते हैं।

सरकार ने उन महिलाओं और संस्‍थानों को सम्‍मानित किया है जो कमजोर और पीडि़त महिलाओं के लिए कार्य कर रहे है और जिन्‍हें हिंसा का सामना करना पड़ रहा है। इसके अलावा देश के सुदूरवर्ती इलाकों में लिंग अनुपात में सुधार के लिए महिलाओं को आर्थिक स्‍वतंत्रता के प्रति प्रोत्‍साहित करने, महिला किसानों के लिए विकास कार्य करने तथा वास्‍तविक विकास के लिए प्रयास किये जा रहे हैं। छांव फाउण्‍डेशन और शिक्षित रोजगार केन्‍द्र प्रबंधक समिति, साधना महिला संघ जैसे संस्‍थानों तथा डॉ. कल्‍पना शंकर ने अपनी संस्‍था ‘हैंड इन हैंड’ के जरिये समाज में महिलाओं की उन्‍नति के लिए जमीनी स्‍तर पर कार्य किया है।

इन पुरस्‍कार विजेताओं ने यह साबित किया है कि नये विचार अक्‍सर स्थितिजन्‍य बाधाओं को पार कर सकते हैं। वित्तीय अवसरों की कमी का सामना कर रही महिलाओं ने धन जुटाने के लिए सोशल मीडिया का उपयोग किया है। प्राकृतिक आपदाओं के बाद उन्‍हें स्‍थानीय लोगों के पुनर्वास के लिए अनूठे तरीके मिल गये हैं। आर्थिक अवसरों की कमी के साथ महिलाओं ने डिजिटल अर्थव्‍यवस्‍था में प्रवेश किया है। पुरस्‍कार विजेताओं में से एक ‘शरन’ की स्‍थापक डॉ. नन्‍दि‍ता शाह का उद्देश्‍य मधुमेह मुक्‍त भारत बनाना है। एक टैक्‍सटाइल डिजाइनर सुश्री कल्‍याणी प्रमोद बालाकृष्‍णन ने पारंपरिक शिल्‍प को बढ़ावा देकर गरीब बुनकरों की मदद की है।

सरकारी और गैर-सरकारी संगठनों ने अपने-अपने क्षेत्रों में जीवन में सुधार लाने के लिए दशकों तक काम किया है। लोगों ने अपने घरों के आराम को छोड़कर लोगों के कल्याण के लिए संघर्ष किया है और उनका साथ दिया है। परिवर्तन धीरे-धीरे आता है लेकिन इन महिलाओं और संस्थानों ने यह साबित कर दिया है कि संगठित प्रयत्नों से सकारात्मक बदलाव आता है। इन लाभार्थियों ने यह साबित किया है कि कोई भी व्यक्ति अगर ठान ले तो कुछ भी संभव है। सुश्री टीयाशा अद्या और सुश्री बानो हरालु ने मत्स्य विडाल के शिकार पर रोक लगाने के लिए संघर्ष किया। सुश्री वी.नानाम्ल ने योग की शिक्षा देने के लिए बेहतरीन योगदान दिया। आज उनके विद्यार्थी देशभर में योग की शिक्षा देने के कार्य में जुटे हुए हैं।

इस वर्ष के नारी शक्ति पुरस्कार ने हमारे देश के एक अलग स्तर को प्रमाणित किया है ये पुरस्कार पाने वाली जीवट महिलाएं अपने समर्पण, विश्वास और प्रेरणा के लिए मिशाल हैं। इन महिलाओँ ने यह साबित किया है कि यदि कोई व्यक्ति सही दिशा में कार्य करे तो लाखों लोगों के जीवन में सुधार लाया जा सकता है। आइए हम लोगों को प्रेरित करें कि वे श्रेष्ठ भारत के लिए जनकल्याण के कार्य जारी रखें।

 -लेखिका महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की सचिव हैं, लेखक में प्रस्तुत उनके विचार निजी हैं

यस्य पूज्यंते नार्यस्तु तत्र रमन्ते देवता-महिला दिवस की शुभकामनाएं

भारतीय संस्कृति में नारी के सम्मान को बहुत महत्व दिया गया है। संस्कृत में एक श्लोक है- 'यस्य पूज्यंते नार्यस्तु तत्र रमन्ते देवता:। अर्थात्, जहां नारी की पूजा होती है, वहां देवता निवास करते हैं। किंतु वर्तमान में जो हालात दिखाई देते हैं, उसमें नारी का हर जगह अपमान होता चला जा रहा है। उसे 'भोग की वस्तु' समझकर आदमी 'अपने तरीके' से 'इस्तेमाल' कर रहा है। यह बेहद चिंताजनक बात है। लेकिन हमारी संस्कृति को बनाए रखते हुए नारी का सम्मान कैसे किय जाए, इस पर विचार करना आवश्यक है।

 

माता का हमेशा सम्मान हो

मां अर्थात माता के रूप में नारी, धरती पर अपने सबसे पवित्रतम रूप में है। माता यानी जननी। मां को ईश्वर से भी बढ़कर माना गया है, क्योंकि ईश्वर की जन्मदात्री भी नारी ही रही है। मां देवकी (कृष्ण) तथा मां पार्वती (गणपति/ कार्तिकेय) के संदर्भ में हम देख सकते हैं इसे।

किंतु बदलते समय के हिसाब से संतानों ने अपनी मां को महत्व देना कम कर दिया है। यह चिंताजनक पहलू है। सब धन-लिप्सा व अपने स्वार्थ में डूबते जा रहे हैं। परंतु जन्म देने वाली माता के रूप में नारी का सम्मान अनिवार्य रूप से होना चाहिए, जो वर्तमान में कम हो गया है, यह सवाल आजकल यक्षप्रश्न की तरह चहुंओर पांव पसारता जा रहा है। इस बारे में नई पीढ़ी को आत्मावलोकन करना चाहिए।

 

बाजी मार रही हैं लड़कियां

अगर आजकल की लड़कियों पर नजर डालें तो हम पाते हैं कि ये लड़कियां आजकल बहुत बाजी मार रही हैं। इन्हें हर क्षेत्र में हम आगे बढ़ते हुए देखा जा सकता है । विभिन्न परीक्षाओं की मेरिट लिस्ट में लड़कियां तेजी से आगे बढ़ रही हैं। किसी समय इन्हें कमजोर समझा जाता था, किंतु इन्होंने अपनी मेहनत और मेधा शक्ति के बल पर हर क्षेत्र में प्रवीणता अर्जित कर ली है। इनकी इस प्रतिभा का सम्मान किया जाना चाहिए। कंधे से कंधा मिलाकर चलती नारी

नारी का सारा जीवन पुरुष के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलने में ही बीत जाता है। पहले पिता की छत्रछाया में उसका बचपन बीतता है। पिता के घर में भी उसे घर का कामकाज करना होता है तथा साथ ही अपनी पढ़ाई भी जारी रखनी होती है। उसका यह क्रम विवाह तक जारी रहता है।

उसे इस दौरान घर के कामकाज के साथ पढ़ाई-लिखाई की दोहरी जिम्मेदारी निभानी होती है, जबकि इस दौरान लड़कों को पढ़ाई-लिखाई के अलावा और कोई काम नहीं रहता है। कुछ नवुयवक तो ठीक से पढ़ाई भी नहीं करते हैं, जबकि उन्हें इसके अलावा और कोई काम ही नहीं रहता है। इस नजरिए से देखा जाए, तो नारी सदैव पुरुष के साथ कंधेसे कंधा मिलाकर तो चलती ही है, बल्कि उनसे भी अधि‍क जिम्मेदारियों का निर्वहन भी करती हैं। नारी इस तरह से भी सम्माननीय है।

विवाह पश्चात

विवाह पश्चात तो महिलाओं पर और भी भारी जिम्मेदारि‍यां आ जाती है। पति, सास-ससुर, देवर-ननद की सेवा के पश्चात उनके पास अपने लिए समय ही नहीं बचता। वे कोल्हू के बैल की मानिंद घर-परिवार में ही खटती रहती हैं। संतान के जन्म के बाद तो उनकी जिम्मेदारी और भी बढ़ जाती है। घर-परिवार, चौके-चूल्हे में खटने में ही एक आम महिला का जीवन कब बीत जाता है, पता ही नहीं चलता। कई बार वे अपने अरमानों का भी गला घोंट देती हैं घर-परिवार की खातिर। उन्हें इतना समय भी नहीं मिल पाता है वे अपने लिए भी जिएं। परिवार की खातिर अपना जीवन होम करने में भारतीय महिलाएं सबसे आगे हैं। परिवार के प्रति उनका यह त्याग उन्हें सम्मान का अधि‍कारी बनाता है

 

इतिहास उठाकर देखें तो मां पुतलीबाई ने गांधीजी व जीजाबाई ने शिवाजी महाराज में श्रेष्ठ संस्कारों का बीजारोपण किया था। जिसका ही परिणाम है कि शिवाजी महाराज व गांधीजी को हम आज भी उनके श्रेष्ठ कर्मों के कारण आज भी जानते हैं। इनका व्यक्तित्व विराट व अनुपम है। बेहतर संस्कार देकर बच्चे को समाज में उदाहरण बनाना, नारी ही कर सकती है। अत: नारी सम्माननीय है।

 

अभद्रता की पराकाष्ठ

आजकल महिलाओं के साथ अभद्रता की पराकाष्ठा हो रही है। हम रोज ही अखबारों और न्यूज चैनलों में पढ़ते व देखते हैं, कि महिलाओं के साथ छेड़छाड़ की गई या सामूहिक बलात्कार किया गया। इसे नैतिक पतन ही कहा जाएगा। शायद ही कोई दिन जाता हो, जब महिलाओं के साथ की गई अभद्रता पर समाचार न हो।

 

क्या कारण है इसका?

प्रिंट व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में दिन-पर-‍दिन अश्लीलता बढ़ती‍ जा रही है। इसका नवयुवकों के मन-मस्तिष्क पर बहुत ही खराब असर पड़ता है। वे इसके क्रियान्वयन पर विचार करने लगते हैं। परिणाम होता है दिल्ली गैंगरेप जैसा जघन्य व घृणित अपराध। नारी के सम्मान और उसकी अस्मिता की रक्षा के लिए इस पर विचार करना बेहद जरूरी है, साथ ही उसके सम्मान और अस्मिता की रक्षा करना भी जरूरी है।

 

अशालीन वस्त्र भी एक कारण

कतिपय 'आधुनिक' महिलाओं का पहनावा भी शालीन नहीं हुआ करता है। इन वस्त्रों के कारण भी यौन-अपराध बढ़ते जा रहे हैं। इन महिलाओं का सोचना कुछ अलग ढंग का हुआ करता हैं। वे सोचती हैं कि हम आधुनिक हैं। यह विचार उचित नहीं कहा जा सकता है। अपराध होने यह बात उभरकर सामने नहीं आ पाती है कि उनके वस्त्रों के कारण भी यह अपराध प्रेरित हुआ है।

 

‍इतिहास से

देवी अहिल्याबाई होलकर, मदर टेरेसा, इला भट्ट, महादेवी वर्मा, राजकुमारी अमृत कौर, अरुणा आसफ अली, सुचेता कृपलानी और कस्तूरबा गांधी आदि जैसी कुछ प्रसिद्ध महिलाओं ने अपने मन-वचन व कर्म से सारे जग-संसार में अपना नाम रोशन किया है। कस्तूरबा गांधी ने महात्मा गांधी का बायां हाथ बनकर उनके कंधे से कंधा मिलाकर देश को आजाद करवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

इंदिरा गांधी ने अपने दृढ़-संकल्प के बल पर भारत व विश्व राजनीति को प्रभावित किया है। उन्हें लौह-महिला यूं ही नहीं कहा जाता है। इंदिरा गांधी ने पिता, पति व एक पुत्र के निधन के बावजूद हौसला नहीं खोया। दृढ़ चट्टान की तरह वे अपने कर्मक्षेत्र में कार्यरत रहीं। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति रोनाल्ड रेगन तो उन्हें 'चतुर महिला' तक कहते थे, क्योंकि इंदिराजी राजनीति के साथ वाक्-चातुर्य में भी माहिर थीं।

 

अंत में..

 

अंत में हम यही कहना ठीक रहेगा कि हम हर महिला का सम्मान करें। अवहेलना, भ्रूण हत्या और नारी की अहमियत न समझने के परिणाम स्वरूप महिलाओं की संख्या, पुरुषों के मुकाबले आधी भी नहीं बची है। इंसान को यह नहीं भूलना चाहिए, कि नारी द्वारा जन्म दिए जाने पर ही वह दुनिया में अस्तित्व बना पाया है और यहां तक पहुंचा है। उसे ठुकराना या अपमान करना सही नहीं है। भारतीय संस्कृति में महिलाओं को देवी, दुर्गा व लक्ष्मी आदि का यथोचित सम्मान दिया गया है अत: उसे उचित सम्मान दिया ही जाना चाहिए, क्योकि ये नारी नही चिंगारी है ये भारत मे सम्मान की अधिकारी है.

 

नेत्रम आई फाउंडेशन के न्यू आई सेंटर का शुभारम्भ

नेत्रम आई फाउंडेशन के न्यू आई सेंटर का शुभारम्भ स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक डॉ जगदीश प्रसाद के द्वारा ( I-1791, C R Park, New Delhi-110019) में किया गया। इस मौके पर नेत्रम आई फाउंडेशन की सचिव डॉ अंचल गुप्ता, अध्यक्ष संदीप सहगल और कोषाध्यक्ष सत्तन शर्मा के नेतृत्व में शुभारम्भ किया गया। जिसे स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक डॉ जगदीश प्रसाद ने हरी झंडी दिखाया इस अवसर पर नगर निगम पार्षद वीरेंदर कसना, श्री दीपक सिंह (कल्चर एम्बेसडर ऑफ़ गवर्नमेंट ऑफ़ सेय्चेल्लेस), मिस पौलिने फेरारी (कल्चर आत्ताचे, एम्बेसी ऑफ़ रयूप्लीक ऑफ़ सेय्चेल्लेस) आदि मौजूद थे।

WhatsApp Image 2017-03-02 at 9.04.44 PM (1).jpeg

 

डॉ जगदीश प्रसाद ने नेत्रम आय फाउंडेशन के रौशनी (नेत्र जाँच वाहन) प्रोजेक्ट के बारे में बताया की इस योजना से गरीब बच्चों को लाभ मिलेगा। यह बहुत ही अच्छी पहल है और साथ ही नेत्र दान का भी बहुत लोगों संकल्प लिया। नगर निगम पार्षद जी ने भी अपनी नेत्र दान करने का संकल्प लिया और नेत्रम आई फाउंडेशन के द्वारा हर महीने दिल्ली / एनसीआर में नि:शुल्क नेत्र जाँच का शिविर लगाया जाता है, जिस से जनता को बहुत लाभ मिलता है।



अब यू पी में प्रशांत का ‘काम बोलता है’

समाजवादी पार्टी के मुखिया और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश की सभाओं का अंदाज कुछ बदला बदला सा है। भैय्याजी अपनी सभाओं में विरोधियों पर तलवार नहीं तान रहे, बल्कि बड़ी सहजता से अपने ऊपर हो रहे हमलों का जवाब दे रहे हैं। दरअसल ये एक पूरी रणनीति के तहत किया जा रहा है, जिससे अखिलेश को इन चुनावों में जीत दिलायी जा सके।

पीएम मोदी और सीएम अखिलेश सीधे आमने सामने है और उनका ये टकराव दिलचस्प बनता जा रहा है। उत्तर प्रदेश के इन चुनावों में एक ओर पीएम मोदी अखिलेश पर हमला  कर रहे हैं तो अखिलेश पलटवार की जगह आरोपों का जवाब दे रहे हैं। सवालों जवाबों के इस टकराव के बीच प्रदेश की राजनीति का एजेंडा तय किया जा रहा है। इस रणनीति के तहत अखिलेश को मोदी पर तीखा हमला करने से भी मना किया गया है।

प्रशांत का प्लान

कांग्रेस और सपा दोनों के लिए पीके की ही टीम पूरी जी-जान से जुटी है। इस गठबंधन को शुरू कराने से लेकर इसे चलाने तक की रणनीति का हर हिस्सा तैयार करने की ज़िम्मेदारी पीके की ही है। प्रशांत अपनी पुरानी 2014 के लोकसभा चुनाव वाली पॉलिसी पर ही काम कर रहे हैं। इसी पॉलिसी को उन्होंने बिहार में नीतीश के लिए भी अपनाया था। प्रशांत चाहते हैं कि, उनका नेता हर हाल और किसी भी सूरत में राजनीति के केंद्र बिंदु में ही रहे। इसके लिए टीम ऑफ़ प्रशांत अपनी रणनीति को कुछ घंटे पहले अपडेट करती है। फिर उसे अखिलेश तक पहुंचाया जाता है, जिसे अखिलेश चुनावी सभा में अपने खास अंदाज में पेश करते हैं। जैसे कि हाल ही में मोदी ने अखिलेश पर ताबड़-तोड़ हमले किये। जिसमें उन्होंने समाजवादी के चुनावी नारे 'काम बोलता है' को 'कारनामा बोलता है' कहकर संबोधित किया।

इसी तरह से बिखरा कुनबा और दो कुनबों के मिलन वाले पीएम के बयान को भी अखिलेश ने बड़ी ही सादगी से पेश किया है। इसी तरह से खराब क़ानून व्यवस्था के मुद्दे पर भी सीएम ने आंकड़ों को सबके सामने रखा। अपने काम का हिसाब देते हुए अखिलेश ये भी नहीं कि बचकर निकलते हों वो जाते जाते अपनी बड़ी प्रतिद्वंदी पार्टी बीजेपी पर व्यंग हमला कर ही जाते हैं।अखिलेश को प्रशांत ने माया पर हमला करने से भी रोक रखा है। जिससे दलित-मुस्लिम की सहानुभूति माया को न मिल सके। मायावती इसी बात से तिलमिला कर अपनी हर रैली में मुस्लिमों को अपनी तरफ खींचने की पूरी कोशिश करती है। माया पर हमला न करने की एक वजह ये भी है कि नतीजे अगर त्रिशंकू विधानसभा के रहते हैं तो बसपा से गठबंधन करके बीजेपी को सत्ता से दूर रखा जा सके।

रणनिति अखिलेश की जीत का ख़ास मंत्र

इस पूरे काम के पीछे कांग्रेस के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर की पूरी टीम काम कर रही है। इस टीम ने मोदी की हर रणनीति पर पैनी नज़र रखी हुई है। किस तरह से पीएम के भाषण पर अखिलेश को जवाब देना है। कौनसा मुद्दा किस तरह सामने लाना है, टीम पीके इस पर पूरी तरह से लगी है। मोदी के हर हमले का जवाब हल्के चुटीले अंदाज में देने की सलाह अखिलेश को दी गई है। जिससे मोदी की टीम ज़्यादा आक्रमकता के साथ अखिलेश और उनके काम पर हमला न कर सके।

पीके की रणनीति को ग़ौर किया जाए तो बिजली, श्मशान, कब्रिस्तान जैसे मुद्दों पर युवा सीएम ने आपा खोकर आक्रमक होने की जगह पीएम को मज़ाकिया अंदाज में जवाब दिया। जैसे ही प्रधानमंत्री मोदी ने बिजली का मुद्दा छेड़ा तो समाजवादी सोशल टीम ने तुरंत ईद-दिवाली के दौरान बिजली सप्लाई के आंकडे़ें सोशल साइट पर डाल दिये। अखिलेश को पूरी तरह से विकासवादी राजनीति पर फोकस करने को कहा गया है।

महाशिवरात्रि पर पूरी होगी हर मनोकामना अगर करेंगे इन मंत्रों का जाप

आज महाशिवरात्रि का महापर्व है इस दिन व्रत करने से और पूजा करने से सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। देश के शिवालयों में तैयारियां जोरों से शुरू हो चुकी हैं, इस दिन जो भगवान शिव की पूजा करते हैं उन्हें ग्रहों से होने वाली दिक्कतों तथा भूत-प्रेत और मानसिक पीड़ा जैसे कष्ट दूर होते हैं। जानिए क्या है पूजा करने के विधि बतातें हैं किस तरह से भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए।

 

भगवान शिव की पूजा करने के लिए सबसे पहले मिट्टी के बर्तन में पानी भरें, ऊपर से बेलपत्र धतूरे का फल और चावल डालकर शिवलिंग का अभिषेक करें। इस दिन शिव पुराण का पाठ करना तथा सुनना चाहिए। शिव पुराण के अनुसार जो लोग चार पहर की पूजा करते हैं, उन्हें शिव की अनंत कृपा प्राप्त होती है। इस पूजा में शिव का बार-बार रुद्राभिषेक होता है शिव पुराण में शिवरात्रि को दिन-रात पूजा के बारे में कहा गया है।

 

अगर आप चार प्रहर का पूजन करते हैं तो आपको नमः शिवाय (शिव पंचाक्षर) का जाप करना चाहिए। रूद्र, उग्र, पशुपति, सर्व, भव, भीम, ईशान और महान इन आठ नाम से फुल आर्पित करते हुए, शिव की आरती और परिक्रमा करें। अगर आप व्रत नही रखते हैं तो आप सामान्य पूजा भी कर सकते हैं, जिसमे शिवलिंग को दूध मधु और पवित्र गंगा जल से स्नान कराएँ शिव को बेलपत्र स्पर्श कराकर धूपबत्ती और दीपक जलाएं। इस से सभी कष्ट दूर होंगे आपकी मनोकामना पूरी होगी।

 

इन दो मंत्रो का करें जाप    

     

महामृत्युञ्जय मंत्र-

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।

उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

 

शिव वंदना

ॐ वन्दे देव उमापतिं सुरगुरुं, वन्दे जगत्कारणम्।

वन्दे पन्नगभूषणं मृगधरं, वन्दे पशूनां पतिम्।।

वन्दे सूर्य शशांक वह्नि नयनं, वन्दे मुकुन्दप्रियम्।

वन्दे भक्त जनाश्रयं च वरदं, वन्दे शिवंशंकरम्।।

 

नमामि भारत की तरफ से आप सभी को महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें।

अगस्ता का राज खोलेंगे त्यागी ?

क्या पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी. त्यागी ने मुखबिर बनने का मन बना लिया है? सवाल चौंकाने वाला है, लेकिन चर्चा यही चल रही है। कहा जा रहा है कि इसलिए कांग्रेस आक्रामक हो गई है। उसने कोई छह महीने से धूल खा रहे सहारा डायरी के कागजों को झाड़-पोंछ कर बाहर निकाल लिया है। नौ दिसंबर से पहले कांग्रेस को उन कागजों पर बात करना सही नहीं लगता था। लेकिन जैसे ही एसपी.त्यागी को सीबीआई गिरफ्तार करती है, वैसे ही सहारा डायरी के चंद टुकड़ों का महत्व कांग्रेस के लिए बढ़ जाता है। राजनीतिक गलियारों में बैठे लोगों का कहना है कि कांग्रेस उन टुकड़ों के जरिए सरकार को डराने की कोशिश कर रही है। क्या बात बनेगी? उन लोगों की माने तो सरकार कोशिश में है कि पूर्व वायुसेना प्रमुख मुखबिर बन जाएं। अगर ऐसा हो जाता है तो असली दोषी नहीं बच पाएगा। माना जा रहा है कि अगस्ता का मामला बोफोर्स से अलग है। वजह इसमें इटली कोर्ट का निर्णय भीबतौर सबूत पेश किया जा सकता है। उसमें ‘सिगनोरिया’, ‘एपी’ जैसे कई नामों का जिक्र है। उसे डी-कोड़ करने का प्रयास हो रहा है। सूत्रों की माने तो यदि त्यागी का सहयोग मिल जाए तो घोटाले के सूत्रधार तक पहुंचा जा सकता है। चर्चा है कि इसी वजह से कांग्रेसी खेमे में खलबली मची हुई है। कांग्रेस में इस तरह के हालात 2 मई, 2016 से बने हुए हैं। इसी दिन सीबीआई ने एसपी.त्यागी को तलब किया था। हालांकि ऐसा नहीं है कि उस दिन सीबीआई ने त्यागी को पहली बार बुलाया था। उससे पहले भीसीबीआई एसपी.त्यागी को कई बार बुला चुकी है। वे हर बार गए, लेकिन तब कांग्रेस में इस तरह की हलचल नहीं हुई थी। फिर दो मई को ऐसा क्या हो गया था कि दरबारी परेशान हो गए थे। उस दिन जहां एक ओर त्यागी सीबीआई के सवालों का जवाब दे रहे थे, वहीं दूसरी ओर कांग्रेसियों के पसीने छूट रहे थे। पार्टी के लोग हरकत में आ गए थे। सूत्रों की माने तो सब एसपी.त्यागी का बयान हासिल करने के जुगाड़ में लगे थे। खोजबीन चल रही थी कि किससे संपर्क किया जाए? अचानक सीबीआई के एक सेवानिवृत्त इंस्पेक्टर के बारे में जानकारी मिलती है।

विश्वस्त सूत्र के मुताबिक कांग्रेस के एक दिग्गज नेता उस अधिकारी के घर पहुंच गए। वे वहां दो घंटे तक रहे। उसे हर तरह से समझाने-बुझाने की कोशिश की गई। वे चाहते थे कि वह अधिकारी किसी तरह एसपी.त्यागी के बयान की कॉपी मुहैया करा दे। उसने सहजता से कहा कि यह मेरे बस की बात नहीं है। उसके इनकार करने के बाद भीउस कांग्रेसी ने हार नहीं मानी। वे उसे राजी करने में लगे रहे। लेकिन वह तैयार नहीं हुआ। उसी दौरान कांग्रेसी नेता के पास आलाकमान से फोन आता है। वह आलाकमान को यथास्थिति से अवगत कराता है। उसके फोन पर मौजूद एसपीजी सुरक्षाधारी ने सीबीआई के सेवानिवृत्त अधिकारी से बात की। उन्होंने उससे मिलने की इच्छा जाहिर की। सूत्रों के मुताबिक  सेवानिवृत्त अधिकारी ने मिलने से इनकार कर दिया। उसने कहा ‘‘आप एसपीजी सुरक्षाधारी हैं। आपके आने पर बिना वजह बखेड़ा खड़ा हो जाएगा। वैसे भीमैं आपका काम नहीं कर सकता।’’ अगले दिन सुबह उसके घर कांग्रेस के नजदीकी रहे सीबीआई के एक पूर्व निदेशक आए। उन्होंने भीमान-मुनव्वल की, पर बात नहीं बनी।  सवाल यह है कि एसपी.त्यागी ऐसा कौन सा राज जानते हंै? जिसके खुल जाने का डर कांग्रेसियों को सता रहा है। कहीं सत्ता के गलियारों में चल रही सुगबुगाहट सच तो नहीं है। क्या वाकई कांग्रेस आलाकमान अगस्ता घोटाले में शामिल हैं? यह ऐसा सवाल है जो हमेशा उठता है। कोई भीरक्षा घोटाला हो, संदेह के घेरे में कांग्रेस आलाकमान होता है। लेकिन गाज हमेशा प्यादों पर गिरती है। दिलचस्प बात यह है कि प्यादे हमेशा ‘आलाकमान’ के करीबी होते हैं। क्या यह महज इत्तेफाक है?

जो भीहो पूर्व राष्ट्रपति आर.वेंकटरमण ने अपनी आत्मकथा ‘माई प्रेसिडेंशियल इयर्स’ में बहुत सनसनीखेज खुलासा किया है। माना जाता है कि उस किताब में उन्होंने जो लिखा है उसके बाद दस जनपथ से उनका संबंध खराब हो गया था। वे लिखते हैं कि ‘‘एक दिन घनश्याम दास बिड़ला उनसे मिलने आए। उन्होंने आर. वेंकटरमण से पूछा आज कल कांग्रेसी हमसे चंदा नहीं मांगते। लगता है रक्षा सौदों से ही काम चल जा रहा है।’’  पूर्व वायुसेना प्रमुख एवाई.टिपनिस ने अपने एक लेख में उसी बात को आगे बढ़ाया है। उनके मुताबिक यह खुला रहस्य है कि रक्षा सौदे सत्ताधारी दल के लिए आय का बड़ा साधन होता है। जितने का सौदा होता है, उसका एक हिस्सा बतौर दलाली सत्ताधारी दल को मिलता है। एवाई.टिपनिस आगे लिखते है कि  यह काम राजनेता खुद नहीं करते। उसके लिए वे किसी और को चुनते हंै, ताकि ठगी के धंधे पर पर्दा डाला जा सके। अगर उनके दावे को सही माना जाए तो क्वात्रोची से लेकर अभिषेकवर्मा और एसपी.त्यागी तक महज मुखौटा हैं। संभवभीहै। इसकी वाजिब वजह है। बात चाहे बोफोर्स घोटाले के क्वात्रोची की हो या फिर अगस्ता घोटाले के आरोपी क्रिश्चियन मिशेल की, सब की पहुंच कांग्रेस आलाकमान तक थी। कमोवेश यही बात अभिषेकवर्मा पर भीलागू होती है। क्वात्रोची के बारे में काफी लिखा जा चुका है। कांग्रेस आलाकमान से उनकी नजदीकी की चर्चा भीखूब रही है। जहां तक बात अगस्ता घोटाले के आरोपी क्रिश्चियन मिशेल की है तो उसका भीसंबंध कांग्रेस के उस रसूखदार गलियारे में रहा है। क्रिश्चियन को यह संबंध विरासत में मिला था। इटालियन अखबार 'लेट्टेरा 43' की माने तो मिशेल के पिता बोल्फगैंग रिचर्ड मिशेल का भारतके रक्षा सौदों में दखल रहा है। यह सिलसिला 1980 के दशक से बना हुआ है। 1984 में जो वेस्टलैंड चॉपर सौदा हुआ था, उसमें रिचर्ड मिशेल ने मुख्य भूमिका निभाई थी। उस समय राजीव गांधी प्रधानमंत्री हुआ करते थे। कहा जाता है की ब्रिटेन की तत्कालीन प्रधानमंत्री मारगेट थैचर की भीइस सौदे में दिलचस्पी थी। चॉपर खरीदी गई। उससे इतनी दुर्घटनाएं हुई कि पायलट उसमें बैठने से खौफ खाते थे। वे उसे उड़ाने से परहेज करते थे। बाद में उसे सेवा से हटा लिया गया था। उस दौर में रिचर्ड मिशेल ने कांग्रेस आलाकमान से जो संबंध बनाया था उसे क्रिश्चियन  मिशेल ने संजोए रखा। सूत्र बताते हैं कि आलाकमान जब लंदन जाती हैं तो मिशेल के आवास पर ही ठहरती हैं। खुफिया एजेंसी रॉ के पूर्व अधिकारी की माने तो आलाकमान का रक्षा दलालों के साथ पुराना संबंध है। लिहाजा जब कोई रक्षा सौदा होता है तो बिचौलियों को काफी सुविधा होती है। मिशेल भीएक बिचौलिया है। उसका भीअपने पिता रिचर्ड मिशेल की तरह भारतके रक्षा सौदे में हस्तक्षेप है। वह सिर्फ चॉपर समझौते में बिचौलिया नहीं था, बल्कि 2000 से लेकर 2014 तक जितने बड़े रक्षा समझौते हुए हैं, उसमें क्रिश्चियन मिशेल शामिल रहा है। 2000 में जो मिराज विमान समझौता फ्रांस के साथ हुआ था, उसमें भीइसकी मुख्य भूमिकाथी। यह बात 2004 में सामने आई। हुआ यह कि क्रिश्चियन  ने डसाल्ट कंपनी पर मुकदमा कर दिया। उसका दावा था कि उसने ही कंपनी के मिराज विमान का समझौता भारतसे कराया था। उसके बदले जो कमीशन बनता है, कंपनी ने नहीं दिया। हालांकि, अदालत ने क्रिश्चियन के मुकदमे को खारिज कर दिया था। बाद में दोनों ने कोर्ट के बाहर समझौता कर लिया। 'लेट्टेरा 43' ने राफेल सौदे में क्रिश्चियन  मिशेल की भूमिकाका जिक्र किया है। अखबार का दावा है कि दुनिया के सबसे बड़े रक्षा सौदे को क्रिश्चियन  मिशेल ने ही अंजाम तक पहुंचाया।

कमोवेश यही बात चॉपर समझौते में देखने के मिल रही है। जांच एजेंसियों ने छानबीन में पाया है कि मिशेल मार्च.2005 में भारतआया था। यही वह समय था जब संप्रग सरकार अगस्ता वेस्टलैंड का पक्ष लेने के लिए नियम-कानून में बदलाव कर रही थी। संसद में मनोहर पर्रिकर ने कहा कि मार्च 2005 में वीवीआईपी हेलीकाप्टर को अगस्ता वेस्टलैंड के पक्ष में करने के लिए कई बदलाव किए गए। जांच एजेंसी की माने तो मिशेल की भारतमें कई बेनामी संपत्तियां हैं। चॉपर समझौते के लिए दी जाने वाली दलाली का कुछ हिस्सा मिशेल की कंपनियों के जरिए भीआया था। उन दो कंपनियां की जांच एजेंसी ने पहचान की है। इनमें एक का नाम ‘मीडिया एक्जिम प्राइवेट लिमिटेड’ है। इसे 2005 में मिशेल ने स्थापित किया। यह अगस्ता वेस्टलैंड के लिए दिल्ली, मुंबई और बंैगलुरु में मीडिया प्रबंधन करने का काम करती थी। दूसरी कंपनी सिंगापुर स्थित 'मूर बैंक ईस्ट इंडिया' है। इसका काम अगस्ता वेस्टलैंड को सलाह देना था, ताकि भारतके साथ समझौता हो सके। ये दोनों कंपनियां भारतमें मौजूद अन्य कंपनी के जरिए दलाली का पैसा बांटने का काम किया करती थी।  जांच एजेंसियों की माने तो अगस्ता समझौता कराने के लिए मिशेल सकैड़ों बार भारतआया था। लेकिन एक व्यक्ति ऐसा भीथा जो भारतमें है और तिहाड़ में उसकी खातिरदारी हो रही है। हालांकि वह तिहाड़ अगस्ता मामले में नहीं गया है, किन्तु अगस्ता वेस्टलैंड मामले से वह भीजुड़ा है। उसका नाम अभिषेकवर्मा है। उनके पिता श्रीकांत वर्मा इंदिरा गांधी के अच्छे मित्र हुआ करते थे। वे कांग्रेस के प्रवक्ता भीरह चुके हैं। उनकी पत्नी और अभिषेककी मां वीना वर्मा 14 साल कांग्रेस की सांसद रह चुकी है। खुद अभिषेकने भीपार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ा। वह कांग्रेस के लिए प्रचार भीकर चुके हैं। मगर यह आधा परिचय नहीं है। उनका असल धंधा दलाली का है। उनकी गिनती बड़े रक्षा दलालों में होती है। फिलहाल वे ‘नेवी वॉर रूम लीक’ मामले में आरोपी हैं और तिहाड़ में बंद हैं। उन पर आरोप है कि उन्होंने नेवी से जुड़ी कई संवेदनशील जानकारी लीक की है। दावा यह भीकिया जाता है कि अभिषेकस्कॉर्पिन पनडुब्बी बनाने वाली थेल्स डिफेंस कंपनी से बतौर कांग्रेस के कार्यकर्ता मिले थे। इस सौदे में दलाली के रूप उन्हें 175 मिलियन डॉलर मिला था। यह आरोप किसी और ने नहीं बल्कि भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण अडवाणी ने लगाया था। 2012 में तो अभिषेकवर्मा के खिलाफ उनके ही सहयोगी सी.अडमांड एलेन ने 118 पेज का दस्तावेज जांच एजेसियों और संबंधित मंत्रालयों  को दिया था। उसी के आधार पर अभिषेकवर्मा को दोबारा गिफ्तार किया गया था। उसमें जो दस्तावेज लगे हैं उसे जांच एजंसियों ने सही माना था। उनमें जो लिखा है वह तत्कालीन सरकार और कांग्रेस आलाकमान को कटघरे में खड़ा करता है। उन दस्तावेजों से यही बात निकलती है कि अभिषेकवर्मा तत्कालीन सरकार में बैठे लोगों की तरफ से दलाली का धंधा चलाते थे।  शुरुआत ईसीआई टेलीकॉम लि. से करते हैं। दिसंबर 2010 में भारतसरकार ने इस पर 100 मिलियन डॉलर का जुर्माना ठोक दिया था। इसे लेकर ईसीआई टेलीकॉम लि. बेहद परेशान था। उसने गनटोन इंडिया प्राइवेट लि. से संपर्क किया। यह गनटोन प्राइवेट लि. की सब्सिडरी है। इस कंपनी के निदेशक सी. एडमांड एलेन हैं। माना जाता है कि यह कंपनी अभिषेकवर्मा की है, जिसमें एडमांड एलेन महज मुखौटा है। खैर, जो भीहो ईसीआई टेलीकॉम लि. ने गनटोन इंडिया से कहा कि अगर वह जुर्माने को समाप्त करा दे तो कंपनी को बतौर दलाली एक मिलियन डॉलर मिलेगा। इस बाबत दोनों कंपनियों के बीच समझौता हुआ। यह तब हुआ जब इजराइल सरकार की गुजारिश पर भीभारतसरकार ईसीआई टेलीकॉम लि. से जुर्माना हटाने के लिए तैयार नहीं हुई। मामले की जानकारी एडमांड ने तत्कालीन वाणिज्य मंत्री आनंद शर्मा को दी। लेकिन उन्होंने इस पर कोई कार्रवाई करना उचित नहीं समझा। वह तो हाथ पर हाथ रखे बैठे रहे। यही काम ईमनादारी का ढोल पीटने वाले तत्कालीन रक्षा मंत्री एके.एंटनी ने भीकिया।

एलमांड एलेन ने 28 मार्च 2012 को एंटनी के पास शिकायत भेजीथी। उसमें उसने सनसनीखेज खुलासा किया था। उसमें दावा किया गया था कि सेना के लिए जिस कंपनी से बंदूक खरीदी जा रही है उस कंपनी ने कांटैक्ट हासिल करने के लिए गनटोन लि. को 10 प्रतिशत की दलाली दी थी। बावजूद इसके सभीखामोश रहे। हद तो तब हो गई जब गनटोन लि. से अगस्ता वेस्टलैंड ने चॉपर का कांटैक्ट दिलाने के लिए संपर्क किया। दोनों के बीच समझौता हुआ। दलाली की रकम तय हुई। सवाल यह है कि अगस्ता ने गनटोन लि. से संपर्क क्यों किया? ऐसे बहुत से सवाल हैं, जिनका जवाब जांच पूरी होने के बाद सामने आए। लेकिन इस बीच अगस्ता घोटाले के आरोपी पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी.त्यागी ने सीबीआई से जो सवाल किया है उसने सभीको चौका दिया है। उन्होंने सीबीआई से पूछा है कि मुझे तीन साल बाद क्यों गिरफ्तार किया गया? मेरे खिलाफ एफआईआर 2013 में ही दर्ज किया गया था। तब से सीबीआई क्या कर रही थी? कानून को जाने-समझने वाले कहते हैं कि पूर्व वायुसेना प्रमुख ने ठीक सवाल पूछा है। उन लोगों की माने तो सीबीआई किसी भीमामले में पहले प्राथमिकी दर्ज करती है। फिर आरोपों की गहन जांच-पड़ताल करती है। जब उसे आरोपी के खिलाफ पुख्ता सबूत मिलते हैं तब एजेंसी एफआईआर करती है।

सवाल यह है कि अगर अगस्ता जांच में भीसीबीआई ने उसी प्रक्रिया का पालन किया तो उस समय एसपी.त्यागी को हिरासत में क्यों नहीं लिया गया? कहीं ऐसा तो नहीं कि अगस्ता घोटाले की आंच से कांग्रेस आलाकमान को बचाने के लिए संप्रग सरकार ने एसपी.त्यागी को फंसा दिया हो। पूर्व वायुसेना प्रमुख एवाई.टिपनिस का तो यही दावा है। वे लिखते है- ‘‘एसपी.त्यागी को साजिश के तहत फंसाया गया है। अगर ऐसा नहीं होता तो तत्कालीन रक्षा सचिव, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहाकार और प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव को पूछताछ के लिए बुलाया जाता है।’’ लेकिन ऐसा नहीं किया गया। वह भीतब जबकि एसपी.त्यागी ने अपने बयान में कहा है कि वीवीआईपी चॉपर की निविदा में तकनीकी बदलाव करने का आदेश प्रधानमंत्री कार्यालय से आया था।

 

पूर्व वायुसेना प्रमुख एवाई.टिपनिस के मुताबिक जिसे भीसरकारी कामकाज के बारे में थोड़ी सी जानकारी होगी उसे मालूम होगा कि किसी भीतरह का बदलाव रक्षा मंत्रालय की अनुमति के बिना संभवनहीं है। कोई भीसेना प्रमुख अपनी अनुशंसा मंत्रालय को भेज सकता है। उसे मानना या न मानना मंत्रालय का अधिकार है। एवाई.टिपनिस कहते हंै कि अगर वीवीआईपी चॉपर की खरीद में किसी भीतरह की गड़बड़ी हुई है तो उसके लिए वायुसेना प्रमुख और रक्षा मंत्रालय दोनों जिम्मेदार है।

 

--जितेन्द्र चतुर्वेदी (यथाावत से साभार)

देश की सीमाओं पर मोदी सरकार बनाएगी भारतमाला

दिल्ली
अटल बिहारी वाजपेयी ने स्वर्णिम चतुर्भुज बनाने का कदम बढ़ाया था। नरेंद्र मोदी भारतमाला बनाना चाहते हैं। भारतमाला मोदी सरकार की एक महत्वाकांक्षी योजना का नाम है। इसके तहत भारत के पूरब से पश्चिम तक यानी मिजोरम से गुजरात तक सीमावर्ती इलाकों में सड़क बनाई जाएगी। इस पर करीब 14,000 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इस सड़क को महाराष्ट्र से पश्चिम बंगाल तक तटीय राज्यों में एक रोड नेटवर्क से जोड़ा जाएगा।

केंद्रीय सड़क सचिव विजय छिब्बर ने ईटी को बताया, 'हमारी योजना अपनी सीमाओं, खासतौर से उत्तरी सीमाओं पर सड़कें बनाने की है। हमने इसे भारतमाला नाम दिया है।' छिब्बर ने बताया कि सभी जरूरी मंजूरियां मिल जाने पर इस साल काम शुरू हो सकता है।

मोदी का इस प्रोजेक्ट पर खास जोर है, लिहाजा मिनिस्ट्री को उम्मीद है कि अगले कुछ महीनों में एक विस्तृत प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार कर ली जाएगी। अधिकारियों ने बताया कि सरकार को पूरब से पश्चिम तक भारत की पूरी सीमा को कवर करने के लिए लगभग 5,300 किमी़ की नई सड़कें बनानी होंगी और इस पर 12,000-14,000 करोड़ रुपये का खर्च आएगा। सरकार को पांच साल में यह प्रोजेक्ट पूरा करने की उम्मीद है।


प्रोजेक्ट पर काम गुजरात और राजस्थान से शुरू होगा। फिर पंजाब और जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड का नंबर आएगा। इसके बाद उत्तर प्रदेश और बिहार के तराई क्षेत्र में काम पूरा करने के बाद सिक्किम, असम, अरुणाचल प्रदेश से होते हुए मणिपुर और मिजोरम में भारत-म्यांमार बॉर्डर तक सड़कें बनाई जाएंगी।

भारतमाला प्लान में रणनीतिक पहलू भी है। इससे सीमावर्ती इलाकों से बेहतर कनेक्टिविटी संभव होगी, जिनके एक बड़े हिस्से के उस पर चीन का शानदार रोड इंफ्रास्ट्रक्चर है। सड़कें बेहतर होने पर मिलिट्री ट्रांसपोर्ट बेहतर हो सकेगा। अधिकारियों ने कहा कि ये सड़कें बन जाने पर बॉर्डर ट्रेड भी बढ़ेगा।

साथ ही, कई राज्यों में बेहतर सड़कों से आर्थिक गतिविधियों में तेजी आएगी। इस योजना में सड़कों का ज्यादातर हिस्सा पहाड़ी राज्यों में बनेगा, जहां कनेक्टिविटी और इकनॉमिक ऐक्टिविटी का मामला कमजोर है।

रोड्स डिपार्टमेंट का कहना है कि इसमें फंडिंग की दिक्कत नहीं आएगी क्योंकि उसे हर साल कम से कम एक लाख करोड़ रुपये खर्च करने का अधिकार दिया गया है। विभाग का हालांकि मानना है कि लैंड एक्विजिशन और पर्यावरण से जुड़ी मंजूरियां हासिल करना चुनौती भरा होगा।

रोड सेक्रेटरी ने कहा कि भारतमाला एक तरह से एक और बड़े प्रोजेक्ट सागरमाला को कनेक्ट करेगा। सागरमाला के तहत बंदरगाहों और तटीय इलाकों को रेल और रोड नेटवर्क के जरिये देश के भीतरी क्षेत्रों से जोड़ने का प्लान है

Subscribe to this RSS feed
loading...

New Delhi

Banner 468 x 60 px