Log in

 

updated 4:51 PM UTC, Feb 19, 2018
Headlines:

Cartosat-2 Series उपग्रह, ‘आसमान में भारत की एक और आंख’

तृप्ति रावत...दिल्ली..।..ISRO ने आज एक साथ 31 सैटेलाइट की कामयाब लॉन्चिंग की है। PSLV-C40 रॉकेट की मदद से अंतरिक्ष में स्थापित किए गए कार्टोसेट-2 सीरीज के इन सभी सैटेलाइट का कुल वजन 1 हजार 323 किलोग्राम है। जिसमें भारत के अलावा कनाडा, फिनलैंड, फ्रांस, ब्रिटेन और अमेरिका के सैटेलाइट भी शामिल हैं। इसमें भारत के कार्टोसेट-2 सीरीज सैटेलाइट का वजन 710 किलोग्राम है। जबकि बाकी के 30 सैटेलाइट का वजन 613 किलोग्राम है।

भारत के कार्टोसेट-2 सीरीज, सैटेलाइट को आई इन द स्काई यानी आसमान में भारत की आंख भी कहा जाता है। ये एक Earth Obervation सैटेलाइट है, जो धरती की तस्वीरें लेता है। इस सीरीज के सैटेलाइट में स्टेट ऑफ द आर्ट पैनक्रॉमेटिक कैमरा लगा हुआ है। इसकी मदद से ली गई तस्वीरों के आधार पर डाटा इकट्ठा किया जाता है। इसका इस्तेमाल Urban और Rural Infrastruvture Development के अलावा भौगोलिक स्थिति से जुड़ी जानकारियां हासिल करने के लिए होता है। इसका इस्तेमाल भारत की पूर्वी और पश्चिमी सीमा के इलाकों में दुश्मनों पर नजर रखने के लिए भी किया जाता है।

सहम गया है पाकिस्तान

इस पर पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने कहा है कि भारत भी उपग्रहों पर एक्सपेरिमेंट कर रहा है। इससे वह दोहरी नीति अपनाने की कोशिश कर रहा। इन उपग्रहों को नागरिक और सैन्य उद्देश्य के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए ये जरुरी है कि इसका इस्तेमाल सैनिक क्षमताओं के लिए नहीं किया जाए। ऐसा होता है तो इसका बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

 

2018 की यह पहली अंतरिक्ष परियोजना

 31 अगस्त 2017 को भी इसी तरह एक प्रक्षेपास्त्र पृथ्वी की कक्षा में देश के आंठवे नेविगेशन उपग्रह को लांच करने में सफल रहा था। PSLV-C 40, 2018 की पहली परियोजना है। अन्नादुराई ने इसको लेकर कहा है कि PSLV 39 हमारे लिए बहुत बड़ा झटका था। क्योंकि हीट शील्ड एक दूसरे से अलग नहीं हो पाए थे.

 

 

उरी में पाक की नापाक हरकत,फिर किया सीजफायर

तृप्ति रावत...दिल्ली..।कड़ी चेतावनी के बावजूद भी पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। पाकिस्तानी सेना ने एक बार फिर सीजफायर का उल्लंघन करते हुए भारतीय सीमा पर गोलीबारी की। शुक्रवार सुबह भी पाकिस्तान ने बॉर्डर पर उरी सेक्टर में गोलीबारी की। गोलीबारी में किसी बड़े नुकसान की खबर नही है।

सूत्रो के मुताबिक पाकिस्तान की गोलाबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया गया है। पाकिस्तान सेना ने गुरुवार शाम से ही उरी सेक्टर के कमलकोट इलाके में बिना उकसावे के गोलीबारी शुरु कर दी। सेना अधिकारी ने कहा कि आधी रात के बाद दो बजे गोलीबारी थोड़ी थमी लेकिन पाकिस्तानी सैनिकों ने तड़के में फिर गोलाबारी शुरु कर दी।

आपको बता दें कि बीते साल जून में भी पाकिस्तान ने उरी सेक्टर में 48 घंटे में दो बार घुसपैठ की कोशिश की थी। लेकिन भारतीय सेना ने घुसपैठ की हर कोशिश को नाकाम कर दिया था। भारतीय सेना ने 28-29 सितंबर 2016 की रात को नियंत्रण रेखा के पार जाकर सात आतंकी शिविरों पर सर्जिकल स्ट्राइक से कुछ दिनों पहले उरी हमले में 19 जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद ही भारत ने कायरों की तरह हमला करने वाले आतंकियों को सबक सिखाने का मन बना लिया था। भारत के जांबाज सैनिकों ने एलओसी के पार जाकर आतंकियों के ठिकानों को तहस-नहस कर दिया।

बीते साल पाकिस्तान की तरफ से तीन गुना ज्यादा संघर्ष विराम का उल्लंघन किया गया। वहीं 2016 में 228 बार पाकिस्तानी सेना ने बिना किसी कारण के गोलाबारी की तो इस साल उसके हौसले और ज्यादा बढ़ गए है। 2017 में 871 बार सीजफायर का उल्लंघन किया गया है।

 

 

Tagged under

अब आधार कार्ड की जगह वर्चुवल आईडी करेगा काम

तृप्ति रावत..दिल्ली.|.आधार कार्ड की सुरक्षा को और बेहतर करने के लिए कदम उठाया जा रहा है। इसके लिए सरकार ने वर्चुअल आईडी से आधार को सुरक्षित करने की घोषणा की है। वर्चुअल आईडी की सुविधा 1 मार्च से मिलनी शुरु हो जाएगी। जो कि 1 जून से सभी एजेंसियों के लिए अनिवार्य हो जाएगा कि वह वर्चुअल आईडी को स्वीकार करे। यदि कोई एजेंसी वर्चुअल आईडी स्वीकार करने से इन्कार करती है, तो उस पर आर्थिक जुर्माना भी लगाया जाएगा।

दरअसल वर्चुअल आईडी 16 अंको का कोड होगा। जो आधार नंबर की जगह उपयोग किया जा सकेगा। लोगों को सुविधा का लाभ लेने के लिए 12 अंको के आधार नंबर के बदले में वर्चुअल आईडी का इस्तेमाल कर सकेंगे। साथ ही केवाईसी के वक्त वर्चुअल आईडी से वैरीफीकेशन होगा। हालांकि वैरीफिकेशन के वक्त आधार नंबर नहीं देना होगा।

वर्चुअल आईडी की इस नई व्यवस्था से आधार नंबर ज्यादा सुरक्षित रहेगा और असली नंबर गलत हाथों में जाने से बचेगा। साथ ही अपने ग्राहक को जानोकी सुविधा को भी सीमित किया जाएगा। अब वर्चुअल आईडी हर जगह आधार नंबर देने की मजबूरी खत्म कर देगी। जहां आधार के विवरण मसलन नाम, उम्र, पता, आदि भी सुरक्षित रखे जा सकेंगे।

आधार की जगह वर्चुअल आईडी जनरेट करने के लिए आधार कार्ड धारक को यूआईडीएआई की वेबसाइट पर जाना पड़ेगा। जहां वेबसाइट पर एक टैब दिया जाएगा जिसके माध्यम से अपना वर्चुअल आईडी जनरेट कर सकेंगे। यह वर्चुअल आईडी अनगिनत बार जनरेट किया जा सकेगा और नया आईडी जनरेट होते ही पुराना बेकार हो जाएगा। इसकी खास बात यह रहेगी की वर्चुअल आईडी की नकल नहीं की जा सकेगी।

 

 

जैविक कृषि विश्व कुंभ मेले में शामिल होगें 110 देश

दिल्ली, केन्द्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ग्रेटर नोएडा में 9 से 11 तक चलने वाले जैविक कृषि विश्व कुंभ 2017 का उद्घाटन करेंगे। यह आयोजन ग्रेटर नोयडा के इंडिया एक्सपो सेंटर में हो रहा है। इस आयोजन में विश्व के 110 देशों के 1400 प्रतिनिधि और 2000 भारतीय प्रतिनिधि शामिल होंगे। कृषि विश्व कुंभ का आयोजन तीन साल में एक बार दुनिया के किसी देश में होता है। इस बार यह भारत में हो रहा है। पिछला कुंभ 2014 में इस्तांबुल में हुआ था। आयोजन को इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ ऑर्गेनिक फार्मिंग मूवमेंट्स (आईफोम) और ओएफआई मिलकर कर रहा है। इस आयोजन में भारत के 15 राज्यों से 55 बीज समूहों द्वार 4000 प्रकार के बीजों की प्रदर्शनी का आयोजन करेंगे।

 

इस वर्ष कुंभ का लक्ष्य जैविक भारत से जैविक विश्व की ओर बढना है। श्री राधा मोहन सिंह का मानना  है कि यह जानने समझने की जरूरत है कि भारत परंपरागत रूप से दुनिया का सबसे बड़ा जैविक कृषि करने वाला देश है। यहां तक कि आज के वर्तमान भारत के बहुत बड़े भू-भाग मे परंपरागत ज्ञान के आधार पर जैविक खेती की जाती है ।

 

आर्गेनिक वर्ल्ड कांग्रेस का एक मुख्याकर्षण पीढ़ियों से संरक्षित स्वदेशी बीजों के किस्मों की प्रदर्शनी है। इस उदघाटन समारोह में भूटान के कृषि मंत्री येशी दोरजी, केन्द्रीय वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभू,सिक्किम के मुख्य मंत्री पवन कुमार चामलिंग, केन्द्रीय कृषि राज्य मंत्री कृष्णा राज, हरियाणा के कृषि मंत्री ओम प्रकाश धनकड़, उड़ीसा के कृषि मंत्री दामोदर राउत, केरल के कृषि मंत्री वीएस सुनील के अलावा दुनिया भर के जैविक कृषि के किसान, वैज्ञानिक और व्यापारी भाग लेंगे।

भारत–रूस का सैन्‍य अभ्‍यास ‘इन्‍द्र-2017’ सफलतापूर्वक समाप्‍त

दिल्ली, भारत–रूस के बीच तीनों सेनाओं का संयुक्‍त अभ्‍यास ‘इन्‍द्र 2017’ का सफलतापूर्वक संचालन 19 से 29 अक्‍टूबर 2017 तक रूस के ब्‍लादिबोस्‍तक में हुआ। इस अभ्‍यास के लिए इन्‍द्र का नाम इंडिया के आईएनडी और रसिया के आरए से लिया गया है। अब तक इन्‍द्र अभ्‍यास के दौरान तीनो सेनाओं – थल, वायु व नौसेना  के अभ्‍यास अलग - अलग होते थे। 2003 से लेकर अब तक रूसी डिफेंस फोर्स के साथ 17 ऐसे अभ्‍यास हो चुके हैं। इन्‍द्र 2017 के तहत पहली बार भारत और रूस के तीनों सेनाओं का संयुक्‍त अभ्‍यास हुआ। रूस ने भी पहली बार अपनी जमीन पर तीनों सेनाओं के संयुक्‍त अभ्‍यास का संचालन किया।

indra8-744862.jpg

इन्‍द्र 2017 की थीम थी – ‘यूएन की इच्‍छा के अनुरूप किसी देश के अनुनय पर अंतरराष्‍ट्रीय आतंकवाद गतिविधियों पर कार्रवाई के लिए संयुक्‍त बल द्वारा मुहिम तैयार करना और संचालन करना। इस संयुक्‍त अभ्‍यास में भारतीय सेना, नौसेना और वायु सेना के 900 सैन्‍यकर्मियों ने तथा रूस के 1000 सैन्‍यकर्मियों ने हिस्‍सा लिया। इस अभ्‍यास का संचालन सर्गेवेस्की संयुक्त शस्त्र प्रशिक्षण रेंज, केप क्लर्क प्रशिक्षण क्षेत्र और जापान के समुद्र में किया गया।

 

यह एक एतिहासिक अवसर था जब विश्‍व के दो महान सशस्‍त्र सेनाओं ने हाथ मिलाया और संयुक्‍त अभ्‍यास किया। दोनों देशों की सेनाओं को एक - दूसरे द्वारा उपयोग में लाई जाने वाली सर्वोत्‍तम अभ्‍यासों की जानकारी मिली। तीनों सेनाओं के पहले भारत-रूस संयुक्‍त अभ्‍यास के दौरान जमीन पर, समुद्र में और हवा में प्रशिक्षण और प्रतिप्रशिक्षण अभ्‍यास किये गये। यह अभ्‍यास दोनों सेनाओं के बीच लक्ष्‍य की प्राप्ति के लिए आपसी तालमेल का उदहारण है।

गोरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी जारी

दिल्ली: गोरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी की नई घटना सामने आइ है, शुक्रवार को दिल्ली से सटे फ़रीदाबाद में लगभग सौ लोगों की एक भीड़ ने कथित तौर पर गोसी गांव के पास ऑटो रिक्शा चालक सहित गोमांस तस्करी के संदेह में पांच लोगों की बुरी तरह पीटाई कर दी। हालाँकि चार लोगों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है, घायलों में से एक अस्पताल में भर्ती कर रहा है।

 

पुलिस के अनुसार, भीड़ ने ऑटो रिक्शा चालक सहित चार लोगों को घेर लिया और गोमांस ले जाने पर संदेह पर उनकी बुरी तरह पिटाई करदी। हमलावरों ने मोबाइल फोन पर पूरी घटना दर्ज की मुजसेर पुलिस थाने में इस संबंध में दो प्रथम एफआईआर दर्ज की गई हैं।

 

मुजसेर पुलिस स्टेशन के स्टेशन हाउस ऑफिसर, विनोद कुमार ने कहा कि हमले में शामिल आरोपी की पहचान की जा रही है और उसे गिरफ्तार करने के प्रयास किए जा रहे हैं। हम वीडियो क्लिप के आधार पर आरोपी की पहचान करने की कोशिश कर रहे हैं।कुमार ने कहा, उनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया है और कोई भी बख्शा नहीं जाएगा।

 

इसके साथ ही पीड़ितों के खिलाफ गौमांस तस्करी के संदेह के मामला दर्ज किया गया है और मांस के नमूने फॉरेंसिक परीक्षण के लिए भेजे गए हैं। चूंकि हरियाणा में गाय का वध करना एक अपराध है, इसलिए पांच लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ‘तीव्र मिशन इंद्रधनुष’ करेगा लांच

दिल्ली, पूर्ण टीकाकरण कवरेज में तेजी लाने और निम्‍न टीकाकरण कवरेज वाले शहरी क्षेत्रों एवं अन्‍य इलाकों पर अपेक्षाकृत ज्‍यादा ध्‍यान देने के लिए स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय ने वर्ष 2018 तक लक्ष्‍य हासिल करने हेतु एक आक्रामक कार्य योजना तैयार की है। योजना के मुताबिक राज्‍य 07 अक्‍टूबर, 2017 से निरंतर चार महीनों तक हर माह की सात तारीख से सात कार्य दिवसों के दौरान तीव्र मिशन इंद्रधनुष अभियान चलाएगी, जिसमें रविवार, अवकाश दिवस एवं सामान्‍य टीकाकरण दिवस शामिल नहीं हैं। तीव्र मिशन इंद्रधनुष के तहत कुल मिलाकर 118 जिलों, 17 शहरी क्षेत्रों और पूर्वोत्‍तर राज्‍यों के 52 जिलों को लक्षित किया जाएगा।

J-P-Nadda-18032015.jpg

तीव्र मिशन इंद्रधनुष के तहत उन शहरी क्षेत्रों पर अपेक्षाकृत ज्‍यादा ध्‍यान दिया जाएगा, जिन पर मिशन इंद्रधनुष के तहत फोकस नहीं किया जा सका था। शहरी क्षेत्रों में इससे वंचित रही आबादी के मानचित्रण और इन क्षेत्रों में टीकाकरण सेवाएं मुहैया कराने के लिए एएनएम की आवश्‍यकता आधारित तैनाती के जरिए यह काम पूरा किया जाएगा। शहरों के इन क्षेत्रों के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी तैनाती के लिए क्षेत्रीय कर्मचारियों को आवाजाही संबंधी सहायता मुहैया कराई जाएगी।

 

सभी स्‍तरों पर गहन निगरानी एवं सुदृढ़ जवाबदेही व्‍यवस्‍था स्‍थापित की जा रही है। राष्‍ट्रीय स्‍तर पर कैबिनेट सचिव और राज्‍य स्‍तर पर मुख्‍य सचिव इस दिशा में हो रही तैयारियों एवं प्रगति की समीक्षा करेंगे। तीव्र मिशन इंद्रधनुष के लिए चिन्हित प्रत्‍येक जिले पर संबंधित भागीदार प्रत्‍येक जिले हेतु चिन्हित मुख्‍य व्‍यक्ति के जरिए करीबी नजर रखेंगे। इसके अलावा, तीव्र मिशन इंद्रधनुष के विभिन्‍न चरणों के पूरा हो जाने के बाद तीव्र मिशन इंद्रधनुष के सत्रों को सामान्‍य टीकाकरण सूक्ष्‍म योजनाओं के साथ एकीकृत करने पर भी विशेष जोर दिया जाएगा। इन सत्रों के एकीकरण पर संबंधित भागीदार और वरिष्‍ठ सरकारी अधिकारी करीबी नजर रखेंगे।

 

तीव्र मिशन इंद्रधनुष की एक विशिष्‍ट खूबी यह है कि इसके तहत अन्‍य मंत्रालयों/विभागों विशेषकर महिला एवं बाल विकास, पंचायती राज, शहरी विकास, युवा मामले, एनसीसी इत्‍यादि से जुड़े मंत्रालयों एवं विभागों के साथ सामंजस्‍य बैठाने पर अपेक्षाकृत ज्‍यादा ध्‍यान दिया जा रहा है। विभिन्‍न विभागों के जमीनी स्‍तर वाले कामगारों जैसे कि आशा, एएनएम, आंगनवाड़ी कर्मचारियों, एनयूएलएम के तहत जिला प्रेरकों, स्‍वयं सहायता समूहों के बीच समुचित सामंजस्‍य तीव्र मिशन इंद्रधनुष के सफल क्रियान्‍वयन के लिहाज से अत्‍यंत आवश्‍यक है।

Tagged under

1050 मेगावाट पवन ऊर्जा के लिए ऊर्जा खरीद समझौतों पर हस्ताक्षर

दिल्ली, ऊर्जा राज्‍य मंत्री पीयूष गोयल ने आज यहां नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय के अधीन प्रथम विंड ऑक्‍शन योजना के तहत 1050 मेगावाट पवन ऊर्जा की खरीद के लिए ऊर्जा खरीद समझौतों पर हस्ताक्षर होने वाले कार्यक्रम की अध्यक्षता की।  इन समझौतों पर कारोबारी कंपनी पीटीसी इंडिया लिमिटेड और सफल पवन ऊर्जा डेवलपर्स के बीच हस्ताक्षर किए गए।

 

समझौतों के अनुसार माईत्रह एनर्जी, इनॉक्‍स विंड और ऑस्‍ट्रो कच्‍छ विंड प्राइवेट लिमिटेड में से प्रत्‍येक 250 मेगावाट क्षमता की पवन ऊर्जा की आपूर्ति करेंगे। इसके अलावा ग्रीन इन्‍फ्रा 249.9 मेगावाट और अडानी ग्रीन एनर्जी 50 मेगावाट अन्‍तर्राज्‍यीय पारेषण प्रणाली के जरिये पवन ऊर्जा उपलब्‍ध कराएंगे। यह समझौते खुली और पारदर्शी नी‍लामी प्रक्रिया के जरिये किये गये हैं। पीटीसी इंडिया ने कई राज्‍यों के डिस्‍कॉम के साथ पवन ऊर्जा की बिक्री हेतु समझौता किया है। इसके तहत उत्‍तर प्रदेश को 449.9 मेगावाट, बिहार 200 मेगावाट, झारखंड 200 मेगावाट, दिल्‍ली 100 मेगावाट, असम 50 मेगावाट और ओडिशा को 50 मेगावाट बिजली प्राप्‍त होगी।

 

नवीकरणीय ऊर्जा की कीमतों में भारी कमी लाने संबंधी प्रयासों के लिए पीयूष गोयल ने सभी हितधारकों को बधाई दी। मंत्री ने कहा कि विभिन्‍न नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों के लिए नवीकरणीय ऊर्जा खरीद शर्तों को अलग-अलग लागू किया जाए और राज्‍यों को यह आजादी हो कि वे अपनी ऊर्जा आवश्‍यकताओं को ध्‍यान में रखते हुए नवीकरणीय ऊर्जा का चयन कर सकें। गोयल ने कहा कि पवन ऊर्जा संबंधी बोली प्रक्रिया हर महीने की जाए। उन्‍होंने मंत्रालय के अधिकारियों को सुझाव दिया कि वे नवीकरणीय ऊर्जा को सस्‍ती दरों पर आम आदमी तक पहुंचाने की दिशा में काम करें।

 

2 अक्‍टूबर तक छह राज्‍यों के 1,137 शहर हो जाएगें ओडीएफ

छह राज्‍यों मध्‍य प्रदेश, महाराष्‍ट्र, छत्तीसगढ़, झारखंड, केरल और तेलंगाना के समस्‍त 1,137 वैधानिक शहरों एवं कस्‍बों को इस वर्ष 2 अक्‍टूबर तक खुले में शौच मुक्‍त (ओडीएफ) घोषित कर दिया जाएगा। यह राज्‍यों/केन्‍द्र शासित प्रदेशों से नियमित तौर पर प्राप्‍त हो रही रिपोर्टों पर आधारित है। इस वर्ष 2 अक्‍टूबर को ही स्‍वच्‍छ भारत मि‍शन के तीन साल पूरे हो रहे हैं।

 

आंध्र प्रदेश, गुजरात और चंडीगढ़ ने अपने क्षेत्राधिकार वाले समस्‍त 281 शहरों और कस्‍बों को पहले ही ओडीएफ घोषित कर दिया है। इन शहरों एवं कस्‍बों को मिलाने के बाद इस वर्ष अक्‍टूबर तक कुल मिलाकर 1,418 शहर एवं कस्‍बे खुल में शौच मुक्‍त हो जाएंगे। मिशन के तहत तय 2 अक्‍टूबर, 2019 की समय सीमा से दो साल पहले ही यह लक्ष्‍य हासिल हो जाएगा। मिशन के तहत शामिल कुल 4,041 शहरों एवं कस्‍बों में इन नौ राज्‍यों की हिस्‍सेदारी 39 फीसदी है।

 

सचिव डी. एस. मिश्रा द्वारा कल की गई स्‍वच्‍छ भारत मिशन की प्रगति की समीक्षा के दौरान यह जानकारी मिली। मिशन में शामिल शहरों एवं कस्‍बों की संख्‍या महाराष्‍ट्र में 384, मध्‍य प्रदेश में 378, छत्तीसगढ़ में 168, केरल में 93, तेलंगाना में 73 और झारखंड में 41 है।

 

 

पीएसएलवी-सी38 ने एक साथ अंतरिक्ष में भेजे 31 उपग्रह

श्रीहरिकोटा, इसरो ने आज अपने प्रमुख रॉकेट प्रक्षेपण यान पीएसएलवी से 712 किलोग्राम के कार्टोसैट-2 श्रृंखला के एक उपग्रह और 30 नैनो उपग्रहों को कक्षा में स्थापित किया। प्रक्षेपण श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से किया गया। यह पीएसएलवी का लगातार 39वां सफल मिशन था। पीएसएलवी-सी38 योजना के अनुसार पहले लॉन्च पैड से सुबह नौ बजकर 29 मिनट पर उड़ा और कुछ मिनटों बाद इसने उपग्रहों को कक्षा में प्रक्षेपित कर दिया। पीएसएलवी द्वारा लॉन्च कुल भारतीय उपग्रहों की संख्या अब 48 हो गई है।

 

 

आने वाले दिनों में उपग्रह अपने पैनक्रोमैटिक और मल्टीस्पेक्ट्रल कैमरों की मदद से कई तरह की रिमोट सेंसिंग सेवाएं देगा। पीएसएलवी के साथ गए उपग्रहों में एक नैनो उपग्रह तमिलनाडु स्थित कन्याकुमारी जिले की नूरुल इस्लाम यूनिवसर्टिी द्वारा डिजाइन और विकसित किया गया। यह एनआईयूसैट फसलों के निरीक्षण और आपदा प्रबंधन के सहयोगी अनुप्रयोगों के लिए तस्वीरें उपलब्ध करवाएगा। अन्तरिक्ष में अमेरिका 10 और ब्रिटेन के तीन नैनो उपग्रह भेजे गए। दो भारतीय उपग्रहों के अलावा पीएसएलवी के साथ गए 29 नैनो उपग्रह 14 देशों के हैं। ये देश हैं- ऑस्ट्रिया , बेल्जियम , चिली , चेक रिपब्लिक , फिनलैंड , फ्रांस , जर्मनी, इटली , जापान , लातविया , लिथुआनिया , स्लोवाकिया । आज के सफल प्रक्षेपण के साथ विदेशों से भारत के पीएसएलवी द्वारा कक्षा में स्थापित किए गए ग्राहक उपग्रहों की कुल संख्या 209 पहुंच गई है।

Subscribe to this RSS feed
loading...

New Delhi

Banner 468 x 60 px